आधुनिक युग में संस्कृत की ओर बढ़ती जागरूकता और महत्व

जौनपुर

 17-05-2022 02:09 AM
ध्वनि 2- भाषायें

"संस्कृत" विश्व की महान तथा रोचक भाषाओं में से सबसे प्राचीन और उत्तम भाषा है, इसे भारत में देवताओं की भाषा के रूप में जाना जाता है। इसके ज्ञान का भंडार, दुनिया का नायाब और अमूल्य खजाना है। इसे भारतीय भाषाओं की जननी के रूप में भी जाना जाता है। यह भारतीय परंपरा और विचार का सच्चा प्रतीक है, जिसने सत्य की खोज में पूर्ण स्वतंत्रता प्रदर्शित की है और विश्वव्यापी सत्य के प्रति उदारता दिखाई है। यह शास्त्रीय भाषा हमारी पुरानी सांस्कृतिक विरासत के एक बड़े हिस्से का भंडार भी है, इसमें विज्ञान या ज्ञान सभी प्रकार की विद्याएं हैं।
भाषाई और भाषाशास्त्र के विशेषज्ञों द्वारा एक भाषा के रूप में संस्कृत को संचार का एक आदर्श माध्यम माना जाता है। व्यावहारिक धरातल पर व्याकरण, ध्वनि-शास्र, शब्दावली और देवनागरी लिपि के संदर्भ में, संस्कृत संचार का एक कुशल माध्यम बन गया है। आधुनिक युग में संस्कृत को विश्व की वैज्ञानिक भाषाओं में से एक माना जाता है, जिसकी देवनागरी लिपि कंप्यूटर के विभिन्न कार्यक्रमों में आसानी से उपलब्ध है। हाल के आनुभविक अध्ययनों से, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग और संचालन में उपयोग के लिए विभिन्न भाषाओं और लिपियों की सापेक्ष उपयुक्तता के बारे में संकेत मिलता है, कि देवनागरी लिपि में संस्कृत न केवल सुविधाजनक थी बल्कि उपयोग के लिए एक सर्वोत्तम माध्यम के रूप में हर ज़रूरत को पूरी तरह से संतुष्ट करती है। अब आधुनिक शिक्षा के क्षेत्र में, समाज में लोगों की सभी प्रकार की प्रगति के लिए वैश्विक क्रांति के एक नए युग की शुरुआत करने में, कंप्यूटर शक्तिशाली उपकरण के रूप में उभर रहे हैं। संस्कृत अध्ययन के उद्देश्य से, संयुक्त शिक्षा के इन नए उपकरणों द्वारा होने वाले लाभों को भारत और विदेशों में भी अपनाया जा रहा है। पारंपरिक संस्कृत अध्ययनों को संरक्षित करने, लोकप्रिय बनाने और प्रचारित करने के लिए, कंप्यूटर प्रौद्योगिकी का सही उपकरण के रूप में उपयोग किया जा रहा है। वर्तमान समय में, वैदिक ग्रंथ, महाभारत, रामयण, और पुराण जैसे कई संस्कृत ग्रंथ इंटरनेट पर उपलब्ध हैं। ये ग्रंथ इंटरनेट पर रोमन (Roman) लिपि में विशेषक चिह्नों के साथ मौजूद हैं। इनके अलावा कुछ तांत्रिक और अन्य दुर्लभ ग्रंथ भी इंटरनेट पर उपलब्ध हैं। भारतीय विरासत के रूप में ताड़ के पत्तों (Palm leaves) और भुरजा के पत्तों (Bhurja leaves ) जैसी संस्कृत हस्तलिपियों को माइक्रोफिल्म्स (Microfilms) और डिज़िटाइज़ेशन (digitization) प्रणालियों के माध्यम से संरक्षित किया जा रहा है, इन्हें सीडी (CD) और अन्य संबंधित प्रौद्योगिकी के माध्यम से कंप्यूटर में भी देखा और पढ़ा जा सकता है।
योग के बाद अब संस्कृत को, विषयों और सीमाओं से परे इसके महत्व के साथ, भारत से शेष दुनिया में अगले सबसे बड़े सांस्कृतिक निर्यात के रूप में माना जा रहा है। कई लोगों का मानना है कि, भारत में फली-फूली प्राचीन और मध्यकालीन भाषा, आधुनिक दुनिया में अपना सही स्थान पाने के लिए तैयार है। संस्कृत में कई पहलू हैं, जो भाषा विज्ञान से लेकर तर्कशास्त्र और आयुर्वेद से लेकर सौंदर्यशास्त्र तक विभिन्न क्षेत्रों में इसके महत्व को रेखांकित करते हैं। राष्ट्रीय हस्तलिपि मिशन (National Mission for Manuscripts) द्वारा पहचानी गई 45 लाख हस्तलिपियों में से 25 लाख से अधिक हस्तलिपियां संस्कृत में हैं। संस्कृत विद्वान और अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन स्टडीज (American Institute of Indian Studies) प्रोफेसर, मधुरा गोडबोले (Madhura Godbole) जो पश्चिमी पीएचडी (PhD) छात्रों को प्रशिक्षण देने के लिए प्रशंसित हैं, उन्होंने कहा "संस्कृत एक ऐसी माला है जिस पर भारतीय सभ्यता के मोती जड़े हुए हैं"। संस्कृत-कातालान (Sanskrit-Catalan) और संस्कृत-स्पेनिश (Sanskrit-Spanish) शब्दकोशों को लिखने वाले पुजोल (Pujol) कहते हैं कि, पहले मध्य युग में और फिर 19 वीं शताब्दी में, दुनिया में ज्ञान में क्रांति लाने के बाद, संस्कृत एक "तीसरी क्रांति" की शुरुआत कर रही है। पहली क्रांति में, संस्कृत का अरबी (Arabic) और स्पेनिश (Spanish) में अनुवाद देखा गया था। पुजोल कहते हैं, "संस्कृत ने न केवल अरबी, बल्कि कई यूरोपीय भाषाओं को प्रभावित किया और पुनर्जागरण के लिए आधार तैयार किया।" दूसरी क्रांति 19 वीं शताब्दी में शुरू हुई, जब पश्चिमी लोगों ने संस्कृत सीखना शुरू किया, जिससे पश्चिम में भाषाओं के अध्ययन का तरीका बदल गया। पुजोल का मानना है कि तीसरी क्रांति में मनोविज्ञान, सौंदर्यशास्त्र, व्याकरण, अभिकलनात्मक भाषाविज्ञान, तर्कशास्त्र, व्याख्या का विज्ञान और चेतना के अध्ययन जैसे क्षेत्र शामिल होंगे।
इंटरनेट फर्म (internet firm) अपनी ऑनलाइन बहुभाषी अनुवाद सेवा (online multilingual translation service) द्वारा समर्थित क्षेत्रीय भाषाओं की संख्या में वृद्धि जारी रखे हुए है, इसलिए गूगल ने संस्कृत सहित आठ भारतीय भाषाओं को भी गूगल अनुवाद (Google Translate) में जोड़ा है। गूगल रिसर्च (Google Research) के वरिष्ठ सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software engineer) इसहाक कैसवेल (Isaac Caswell) ने एक विशिष्ट साक्षात्कार में ईटी (ET) को बताया कि, गूगल ट्रांसलेट में संस्कृत नंबर वन, सबसे ज्यादा अनुरोधित की जाने वाली भाषा है और हम इसे आखिरकार जोड़ रहे हैं। गूगल अनुवाद के नवीनतम संस्करण में, संस्कृत के अलावा अन्य भारतीय भाषाओं में असमिया (Assamese), भोजपुरी (Bhojpuri), डोगरी (Dogri), कोंकणी (Konkani), मैथिली (Maithili), मिज़ो (Mizo) और मेइतिलोन (मणिपुरी) (Meiteilon (Manipuri)) शामिल हैं। इंटरनेट की दिग्गज कंपनी ने 11 मई को अपने वार्षिक डेवलपर सम्मेलन "Google I/O 2022" में घोषणा की, कि गूगल अनुवाद में, आठ नई भारतीय भाषाओं सहित 24 नई भाषाओं को जोड़ा गया है, यह अब दुनिया भर में अनुवाद सेवा द्वारा उपयोग की जाने वाली कुल 133 भाषाओं का समर्थन करता है। कंपनी ने बताया कि इन नई जोड़ी गई 24 भाषाओं का इस्तेमाल 300 मिलियन से अधिक लोग अपनी पहली या दूसरी भाषा के रूप में करते हैं, उदाहरण के लिए: पूर्वोत्तर भारत में, मिज़ो लगभग 800,000 लोगों द्वारा बोली जाती है और वैसे ही पूरे मध्य अफ्रीका (Central Africa) में, लिंगाला (Lingala) 45 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा बोली जाती है।
गूगल ने कहा कि वह इस अपडेट के हिस्से के रूप में पहली बार अमेरिका (Americas) की स्वदेशी भाषाओं जैसे क्वेशुआ (पेरू, बोलीविया, इक्वाडोर) (Quechua (Peru, Bolivia, Ecuador)), गुआरानी (पराग्वे और बोलीविया, अर्जेंटीना और ब्राजील) (Guarani (Paraguay and Bolivia, Argentina and Brazil)), आयमारा (बोलीविया, चिली और पेरू) (Aymara (Bolivia, Chile and Peru)) और एक अंग्रेजी-आधारित बोली क्रियो (सिएरा लियोन) (Krio (Sierra Leone)) को भी सेवा में जोड़ रहा है। गूगल ने बताया कि यहां जीरो-शॉट मशीन ट्रांसलेशन (Zero-Shot Machine Translation) नामक अनुवाद तकनीक का उपयोग करके जोड़ी गई भाषाओं का पहला सेट भी है, जहां मशीन लर्निंग मॉडल (machine learning model), बिना किसी उदाहरण अनुवाद को देखे, केवल एक ही भाषा में ग्रंथों को देखकर किसी अन्य भाषा में अनुवाद करना सीखता है।

संदर्भ:

https://bit.ly/37NJYGA
https://bit.ly/3Mcm1HW
https://bit.ly/3w9EDT8
https://bit.ly/38sfOJd

चित्र संदर्भ
1  दिमागी हिस्सों के संस्कृत में वर्णन को दर्शाता एक चित्रण (lookandlearn)
2. संस्कृत में लिखी धार्मिक पुस्तक को दर्शाता एक चित्रण (PixaHive)
3. एमएस संस्कृत 391. स्वामी हमसस्वरूप द्वारा लिखित, 1900 के दशक में। संस्कृत और हिंदी में तांत्रिक योग के छह चक्रों का चित्रण। को दर्शाता एक चित्रण (lookandlearn)
4. भगवद गीता, स्क्रेवेट पा संस्कृत मेलोम, 400 और 200 को दर्शाता एक चित्रण (snl.no)



RECENT POST

  • अंतरिक्ष में कैसे उग रही है बिना मिट्टी की ताज़ा और पौष्टिक सब्जियां ?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:06 AM


  • 8वीं शताब्दी की भव्य बौद्ध संरचना है, इंडोनेशिया में स्थित बोरोबुदुर मंदिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 11:01 AM


  • कैसे उठें मौत के खौफ से ऊपर ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:10 AM


  • जगन्नाथ रथ पर्व के अवसर पर जानिए जगन्नाथ पुरी के रथों की उल्लेखनीय निर्माण प्रक्रिया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:29 AM


  • पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड की प्राकृतिक सुंदरता व नागा जनजातियों की विविध जीवनशैली का दर्शन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:40 AM


  • कोविड सहित मंकीपॉक्स रोग के दोहरे बोझ से बचने के लिए जरूरी उपाय करना आवश्यक है
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:22 AM


  • शानदार शर्की वास्तुकला की गवाही देती हैं, अटाला सहित जौनपुर की अन्य खूबसूरत मस्जिदें
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:21 AM


  • फैशन जगत में अपना एक नया स्‍थान बना रहा है मछली का चमड़ा
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:29 AM


  • शरीर पर घने बालों के साथ भयानक ताकत और स्वभाव वाले माने जाते थे गोरिल्ला
    शारीरिक

     26-06-2022 10:13 AM


  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id