तापमान वृद्धि से घटते काम करने के घण्‍टे, सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला क्षेत्र है कृषि

जौनपुर

 11-05-2022 09:11 PM
जलवायु व ऋतु

एक रिपोर्ट के अनुसार 2030 तक भारत में काम करने के घण्‍टों की संख्‍या में काफी गिरावट आएगी क्‍योंकि तब तक गर्मी का स्‍तर लगभग 15 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा। मैकिन्से (McKinsey) की रिपोर्ट के अनुसार यह अनुमानित 2.5 प्रतिशत से 4.5 प्रतिशत या $ 150 बिलियन से $ 250 बिलियन में बदल जाएगा, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद के लिए एक बहुत बड़ा जोखिम होगा। विश्व स्तर पर इससे सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला क्षेत्र कृषि है। दुनिया भर में 940 मिलियन लोग कृषि क्षेत्र में काम करते हैं। वर्ष 2030 तक गर्मी के बढ़ने के कारण वैश्विक कामकाजी घंटों में अनुमानत: 60 प्रतिशत तक की कमी होगी। निर्माण क्षेत्र भी गंभीर रूप से प्रभावित होगा, उसी समय तक वैश्विक काम के घंटों को अनुमानत: 19 प्रतिशत का नुकसान झेलना पड़ेगा।
जेनेवा (ILO समाचार) (GENEVA (ILO News)) - अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) (ILO) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, ग्लोबल वार्मिंग (global warming) के परिणामस्वरूप तापमान में वृद्धि से वर्ष 2030 में 80 मिलियन पूर्णकालिक नौकरियों के बराबर वैश्विक उत्पादकता हानि होने की संभावना है।इस सदी के अंत तक वैश्विक तापमान में 1.5 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि पर आधारित अनुमान बताते हैं कि 2030 में, उच्च तापमान के कारण दुनिया भर में कुल कामकाजी घंटों का 2.2 प्रतिशत हिस्‍सा कम हो जाएगा, जो कि 80 मिलियन पूर्णकालिक नौकरियों के बराबर होगा। यह 2,400 अरब अमेरिकी डॉलर के वैश्विक आर्थिक नुकसान के बराबर होगा।यह प्रभाव दुनिया भर में असमान रूप से वितरित होगा। सबसे अधिक काम के घंटे की हानि होने वाले क्षेत्रों में दक्षिण एशिया (South Asia) और पश्चिमी अफ्रीका (West Africa) शामिल हैं, जहां 2030 में लगभग 5 प्रतिशत काम के घंटे कम होन की उम्मीद है, जो क्रमशः लगभग 43 मिलियन और 9 मिलियन नौकरियों के बराबर है।इसके अलावा, इससे सबसे गरीब क्षेत्र के लोगों को सबसे अधिक आर्थिक नुकसान होगा।
निम्न-मध्यम और निम्न-आय वाले देशों को सबसे अधिक नुकसान होने की उम्मीद है, खासकर जब उनके पास बढ़ी हुई गर्मी को प्रभावी ढंग से अनुकूलित करने के लिए कम संसाधन उपलब्‍ध होंगे। इसलिए गर्मी के तनाव के आर्थिक नुकसान पहले से मौजूद आर्थिक नुकसान को मजबूत करेंगे।
गर्म और संभावित आर्द्र परिस्थितियों में काम करना स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती के जोखिम पैदा करता है जो कि ग्रह के गर्म होने पर बढ़ जाएगा। यह माना जा रहा है कि यदि श्रमिक दोपहर की बजाए ठंडे घंटों में अपने काम को स्‍थानांतरित करते हैं तो यह बढ़ते तापमान के अनुकूल हो सकते हैं। वर्तमान परिस्थिति में कार्यदिवस में वैश्विक भारी श्रम हानि का लगभग 30% दिन के सबसे गर्म घंटों से श्रम को स्थानांतरित करके पुन:प्राप्त किया जा सकता है। हालांकि, विशेष रूप से वर्कशिफ्ट (workshift) अनुकूलन क्षमता ग्लोबल वार्मिंग (Global warming) के लगभग 2% प्रति डिग्री की दर से कम हो जाती है क्योंकि सुबह की गर्मी का जोखिम निरंतर काम के लिए असुरक्षित स्तर तक बढ़ जाता है, उच्च वार्मिंग स्तरों के तहत कार्यकर्ता उत्पादकता हानि में तेजी आती है।हर साल लाखों लोग पहले से ही असुरक्षित स्तर की गर्मी और संभावित उच्च आर्द्रता के संपर्क में रहते हैं। आर्द्र गर्मी विशेष रूप से खतरनाक होती है क्योंकि उच्च आर्द्रता के साथ परिवेश का उच्च तापमान पसीने से बाष्पीकरणीय शीतलन द्वारा शरीर की गर्मी को निष्‍कासित करने की क्षमता को बाधित करता है।उच्च आर्द्रता और तापमान में, बाहरी श्रमिकों को काम धीमा करना चाहिए, उन्‍हें स्‍वयं को हाइड्रेट (hydrate) करना चाहिए, और छाया में विश्राम करना चाहिए ताकि शरीर ठंडा हो सके और शरीर का एक सुरक्षित आंतरिक तापमान बना रह सके। बुनियादी अनुकूलन उपाय बाहरी श्रमिकों के लिए भविष्य में बढ़ती गर्मी के प्रभावों को कम करने में मदद कर सकते हैं। नई दिल्ली स्थित एनबीसी एडवाइजर्स (NBC Advisors) की प्रबंध निदेशक रुचिका भगत का कहना है कि भारत "जलवायु परिवर्तन के कारण सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है" और इसकी अर्थव्यवस्था को "आने वाले वर्षों में जलवायु परिवर्तन के कारण खरबों डॉलर का नुकसान" हो सकता है।खाद्य कीमतों में वृद्धि की उम्मीद है क्योंकि चिलचिलाती गर्मी कृषि क्षेत्र पर अपना असर डालेगी।भारत की लगभग आधी आबादी अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है। जो कि सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 20 प्रतिशत हिस्सा है।इंडियन बायोगैस एसोसिएशन (Indian Biogas Association) के अध्यक्ष गौरव केडिया कहते हैं, "अर्थव्यवस्था पर जलवायु परिवर्तन का समग्र प्रभाव कई गुना है क्योंकि यह कृषि, बुनियादी ढांचे, साथ ही मानव स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा।" पहले से ही "गर्मी के तनाव के कारण काम के घंटों में महत्वपूर्ण गिरावट" है। कृषि, भारतीय सकल घरेलू उत्पाद में प्रमुख योगदान कर्ताओं में से एक, "खतरे में" है क्योंकि अत्यधिक गर्मी गेहूं सहित फसल उत्पादन को प्रभावित करेगी। कृषि प्रौद्योगिकी कंपनी क्रॉपिन (Cropin) के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कृष्ण कुमार कहते हैं, "जलवायु परिवर्तन खाद्य उत्पादन को बढ़ाने की हमारी क्षमता को बिगाड़ता है।" "कई अन्य क्षेत्रों के विपरीत, कृषि क्षेत्र की चुनौतियां मानव नियंत्रण से परे हैं।"उन्होंने कहा कि स्थिति का प्रबंधन करने के लिए, इस क्षेत्र को "वर्तमान पैदावार बनाए रखने, उत्पादन और खाद्य गुणवत्ता बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण निवेश करने" की आवश्यकता है।विशेषज्ञों का कहना है कि गर्मी की लहर ने भारत के बिजली क्षेत्र की अपर्याप्तता और संकट की भयावहता को भी रेखांकित किया है।
भीषण गर्मी में घरों और कार्यालयों को ठंडा रखने के लिए एयर कंडीशनर (air conditioner) के उपयोग में उल्लेखनीय वृद्धि हुयी है, जब से कोविड -19 प्रतिबंध हटाए गए हैं तब से बिजली की मांग पहले से ही बढ़ गयी है, जिससे कुछ क्षेत्रों में बिजली कटौती की जा रही है।भारत अपनी अधिकांश बिजली उत्‍पादन के लिए कोयले पर निर्भर है,कोयला अत्यधिक प्रदूषणकारी जीवाश्म ईंधन के रूप में कार्बन उत्सर्जन और जलवायु परिवर्तन की समस्या का हिस्सा है। भारत विश्व स्तर पर तीसरा सबसे बड़ा ग्रीनहाउस (Greenhouse) गैस उत्सर्जक है।देश पहले से ही अपनी बढ़ती बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त कोयले के आयात के लिए संघर्ष कर रहा था, यूक्रेन (Ukraine) में रूस (Russia) की सैन्य कार्यवाही के बाद जीवाश्म ईंधन की आपूर्ति पर दबाव के कारण कीमतों में और भी अधिक वृद्धि हुई है।
बिजली संकट से उत्पन्न अन्य जोखिम भी हैं।कैपिटल इकोनॉमिक्स (capital economics) के अर्थशास्त्री एडम होयस (Adam Hoyce) कहते हैं, "भारत में चल रही गर्मी की लहर और संबंधित बिजली की कमी ने विकास के लिए एक नकारात्मक जोखिम पैदा कर दिया है, लेकिन हमें लगता है कि सबसे बड़ा जोखिम मुद्रास्फीति के लिए है।"भारत एक कृषि अर्थव्यवस्था होने के नाते पहले से ही जनसंख्या वृद्धि के बोझ तले दब गया है, जलवायु परिवर्तन को गंभीरता से लेने की जरूरत है। "इस निकटस्थ जलवायु संकट को धीमा करने के लिए उपचारात्मक उपाय करने के लिए, दृढ़ और कारगर प्रयासों को तुरंत शुरू करने की आवश्यकता है।देश के ऊर्जा मिश्रण में नवीकरणीय ऊर्जा का अनुपात बढ़ाना जलवायु चुनौती से निपटने का एक तरीका है। आईएलओ की एक नई रिपोर्ट में तापमान वृद्धि से बढ़ने वाले जोखिमों को दूर करने और श्रमिकों की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय नीतियों को डिजाइन, वित्त और लागू करने के लिए अधिक से अधिक प्रयास करने की आवश्‍यकता है।
इनमें गर्मी से संबंधित खतरों से निपटने के लिए डिजाइन नीतियों में मदद करने हेतु पर्याप्त बुनियादी ढांचे और गर्मी की घटनाओं के लिए बेहतर प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली, और व्यावसायिक सुरक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय श्रम मानकों के बेहतर कार्यान्वयन शामिल हैं।नियोक्ताओं और श्रमिकों को जोखिम का आकलन करने और कार्यस्थल पर उचित कार्रवाई करने के लिए सबसे अच्छी स्थिति में रखा गया है ताकि श्रमिक उच्च तापमान का सामना कर सकें और अपना काम जारी रख सकें। नियोक्ता पेयजल प्रदान कर सकते हैं, और गर्मी के तनाव को पहचानने और प्रबंधित करने के लिए प्रशिक्षण दे सकते हैं। सामाजिक संवाद घर के अंदर और बाहर काम करने के तरीकों, काम के घंटों, ड्रेस कोड (dress code) और उपकरणों को अपनाने, नई तकनीकों के उपयोग, छाया और आराम के ब्रेक पर आम सहमति तक पहुंचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

संदर्भ:
https://bit।ly/3ssvMdc
https://go।nature।com/39FfqqU
https://bit।ly/397iBYa
https://bit।ly/37vL0Xo

चित्र संदर्भ
1  खेत में काम करती महिला को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. खेत में लगे तापमान मापक यंत्र को दर्शाता एक चित्रण (Max Pixel)
3. धान कटती महिला को दर्शाता एक चित्रण (PixaHive)
4. भारत में कोयला उत्पादन को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM


  • आधुनिक युग में संस्कृत की ओर बढ़ती जागरूकता और महत्व
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:09 AM


  • पर्यावरण की सफाई में गिद्धों की भूमिका
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:40 PM


  • मानव हस्तक्षेप के संकटों से गिरती भारतीय कीटों की आबादी, हमें जागरूक होना है आवश्यक
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:13 AM


  • गर्मियों में नदियां ही बन जाती हैं मुफ्त का स्विमिंग पूल, स्थिति हमारी गोमती की
    नदियाँ

     13-05-2022 09:33 AM


  • तापमान वृद्धि से घटते काम करने के घण्‍टे, सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला क्षेत्र है कृषि
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id