जलवायु परिवर्तन से जानवरों तथा मनुष्‍य के बीच बढ़ सकता है नए वायरस द्वारा रोग संचरण

जौनपुर

 10-05-2022 09:04 AM
कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

एक नए अध्ययन में भविष्यवाणी की गई है कि 2070 तक जलवायु परिवर्तन से हजारों नए वायरस कई प्रकार के जानवरों में फैल जाएंगे। शोधकर्ताओं का कहना है कि इस तरह के प्रसार से जानवरों से मनुष्यों में आने वाली नई बीमारियों का खतरा बढ़ जाएगा। इन जानवरों में 3,000 प्रकार के स्तनधारी, बिल्लियां, चमगादड़, व्‍हेल और मनुष्‍य शामिल होंगे। वैज्ञानिकों ने एक मॉडल तैयार किया जिसमें उन्‍होंने दर्शाया है कि यदि दुनिया 2 डिग्री सेल्सियस गर्म हो जाती है तो कैसे ये प्रजातियां अगले 50 वर्षों में प्रवास करेंगी और वायरस को साझा करेंगी। हाल के शोध ने सुझाव दिया है कि इस तरह के तापमान में वृद्धि संभव है।वर्तमान में फैली महामारी कोविड -19 इसकी एक छवि हमारे समक्ष प्रस्‍तुत कर चुकि है, इसको तीन वर्ष पूरे होने जा रहे हैं और अबतक यह दुनिया भर में छह मिलियन से अधिक लोगों की जान ले चुका है, इस महामारी का मुख्‍य कारक भी जानवर ही है।
लगभग 10,000 वायरस प्रजातियां मनुष्‍य को संक्रमित करने की क्षमता रखती हैं, लेकिन वर्तमान में, इनमें से विशाल संख्‍या जंगली स्तनधारियों में निष्क्रिय रूप से विचरण कर रही हैं।जहां पर यह प्रजातियां निवास करती है वहां पर जलवायु परिवर्तन हो रहा है। जैसे-जैसे तापमान बढ़ता है और वर्षा में परिवर्तन आता है, कुछ प्रजातियां जो इस परिवर्तन को सहन करने में सक्षम नहीं हैं वे अपने अनुकुल जलवायु परिस्थितियों वाले नए क्षेत्रों की तलाश करने के लिए मजबूर हो जाती हैं। (कुछ प्रजातियां जो अपना स्‍थान परिवर्तित करने में सक्षम नहीं हैं, वे विलुप्त होने के कगार पर खड़ी हैं।)हालांकि, जलवायु और भूमि उपयोग में बदलाव से वन्यजीवों की भौगोलिक स्थिति भी बदल रही है जिस कारण अलग-थलग पड़ी प्रजातियों के बीच वायरल साझाकरण के नए अवसर पैदा हो रहे हैं।कुछ मामलों में, यह जूनोटिक स्पिलओवर (zoonotic spillover)-वैश्विक पर्यावरण परिवर्तन और बीमारी के उद्भव के बीच एक यंत्रवत लिंक का कार्य करेगा।
वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि विभिन्‍न प्रजातियां व्‍यापक रूप से जैव विविधता वाले हॉटस्पॉट (Hotspot) में, और एशिया (Asia) और अफ्रीका (Africa) में उच्च मानव जनसंख्या घनत्व के क्षेत्रों में एकत्रित होंगी, जिससे उनके वायरस क्रॉस-प्रजाति संचरण का अनुमान 4,000 गुना बढ़ जाएगा।इनकी अद्भूत फैलाव क्षमता के कारण, चमगादड़ नोवल वायरल (novel viral) साझाकरण में प्रमुख भूमिका, निभाएंगे और विकासवादी मार्गों के माध्‍यम से वायरस साझा करेंगे, जो भविष्‍य में मनुष्यों को प्रभावित करेंगे।हैरानी की बात है, हम पाते हैं कि यह पारिस्थितिक संक्रमण पहले से ही चल रहा है, और सदी के भीतर 2 डिग्री सेल्सियस के नीचे तपमान रखने से भविष्य में वायरल साझाकरण कम नहीं होगा। शोधकर्ताओं ने कहा कि सभी वायरस मनुष्यों में नहीं फैलेंगे या कोविड-19 ( COVID-19) जैसी व्यापक महामारी का कारण नहीं बनेंगे। हालांकि, अध्ययन से पता चलता है कि क्रॉस-प्रजाति के वायरस की संख्‍या बढ़ने से इनका मनुष्यों में फैलने का खतरा बढ़ जाएगा।अध्ययन दुनिया भर में दो प्रमुख संकट जलवायु परिवर्तन और संक्रामक रोग के प्रसार की ओर इशारा करता है, जो जानवरों से मनुष्यों में बीमारियों के फैलने का कारण बन सकते हैं।पिछले शोधों में देखा गया है कि कैसे वनों की कटाई, प्रजातियों के लुप्त होने और वन्यजीवों के व्यापार से पशु-मानव रोग फैलने का कारण बना था। लेकिन इस बात पर कम शोध हुआ है कि जलवायु परिवर्तन इस तरह की बीमारी के प्रसार को कैसे प्रभावित कर सकता है।जलवायु परिवर्तन और संक्रामक रोग पर कई विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि एक तापमान बढ़ने से नए वायरस पैदा होने का खतरा बढ़ जाएगा।
2008 में, दुनिया भर में 40,000 प्रजातियों की एक वैज्ञानिक समीक्षा में पाया गया कि बदलती जलवायु परिस्थितियों के परिणामस्वरूप लगभग आधी पहले से ही अपना स्‍थान बदल चुकि हैं।सामान्य तौर पर, यह प्रजातियां ठंडे तापमान की तलाश में पृथ्‍वी के ध्रुवों की ओर बढ़ रही हैं। समीक्षा के अनुसार, भूमि के जानवर 10 मील प्रति दशक की औसत दर से ध्रुव की ओर बढ़ रहे हैं, जबकि समुद्री प्रजातियां प्रति दशक 45 मील की दर से आगे बढ़ रही हैं।शोध विशेष रूप से इस बात की जांच करता है कि जलवायु परिवर्तन नए क्षेत्रों में जाने पर पहली बार प्रजातियों के एक-दूसरे के संपर्क में आने की संभावना को कैसे प्रभावित कर सकता है।जलवायु परिवर्तन के कारण प्रजातियां नए संयोजनों में दिखाई देने वाली हैं और जब वे ऐसा करती हैं, तो यह उनके लिए एक दूसरे के साथ वायरस साझा करने का अवसर होता है।
रोगज़नक़ साझा करने के अलावा, प्रजातियों के बीच पहला संघर्ष भी नोवल वायरस को विकसित करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा।परिणाम बताते हैं कि "उत्सर्जन परिदृश्य की परवाह किए बिना, स्तनपायी प्रजातियों का विशाल समुह अपने संभावित भविष्य की सीमा में कहीं न कहीं कम से कम एक अपरिचित प्रजातियों के साथ ओवरलैप करेगा। अध्ययन में कहा गया है कि भविष्य के उत्सर्जन परिदृश्य के तहत, यह "300,000 से अधिक पहले संघर्ष को अनुमति देगा"।लेखकों का अनुमान है कि इन प्रजातियों के बीच पहले संघर्ष में कम से कम एक नोवल वायरस के न्‍यूनतम 15,000 क्रॉस-प्रजाति संचरण घटनाएं होंगी। इन निष्कर्षों से पता चलता है कि जलवायु परिवर्तन 2070 तक क्रॉस-प्रजाति वायरस संचरण के "आसानी से प्रमुख [मानव] चालक" बन सकता है।इन क्रॉस-प्रजातियों के संचरण की घटनाओं के संभावित स्थानों का मानचित्रण करके, लेखकों ने पाया कि वे जैव विविधता और अफ्रीका और एशिया के अत्यधिक आबादी वाले हिस्सों में केंद्रित होने की संभावना है।इसका एक प्रमुख कारण यह है कि चमगादड़ उड़ने में सक्षम एकमात्र स्तनधारियों में से एक है। ये तापमान परिवर्त की स्थिति में आसानी से नए क्षेत्रों में स्थानांतरित हो सकते हैा।लेखकों का कहना है कि स्तनधारियों के बीच वायरस साझाकरण में अभूतपूर्व वृद्धि निम्न और उच्च उत्सर्जन परिदृश्य दोनों के तहत होने की उम्मीद है - जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए त्वरित कार्रवाई का सुझाव जोखिम को कम करने के लिए बहुत कम सहायक होगा।
हम एंथ्रोपोसीन (Anthropocene) में रह रहे हैं। हम एक ऐसे युग में रह रहे हैं जहां प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र पर हमारे प्रभाव से और अधिक महामारियां पैदा होने वाली हैं। जो हो रहा है। इसे रोका नहीं जा सकता, यहां तक ​​​​कि सबसे अच्छी स्थिति में जलवायु परिवर्तन के परिदृश्य में भी और हमें पशु और मानव आबादी की रक्षा के लिए स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए उपाय करने की आवश्यकता है।गंभीर रूप से, इस मजबूत बुनियादी ढांचे को जंगली जानवरों, उनकी गतिविधियों और उनकी बीमारियों की सक्रिय निगरानी के साथ जोड़ा जाना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हम वैश्विक परिवर्तन की नब्ज पर अपनी उंगली रख सकें।

संदर्भ:
https://bit।ly/3kLkrk5
https://bit।ly/3LSd6ew
https://go।nature।com/38X7pgx

चित्र संदर्भ
1  निपाह वायरस के फैलाव को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. मनुष्यों में MARV रोगजनन। मानव शरीर में फैले संचरण और वायरस को को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. विभिन्न बैक्टीरिया वाइरस को दर्शाता एक चित्रण (pixabay)
4. प्रजातियों द्वारा इन्फ्लूएंजा वायरस की मेजबान श्रेणी। इन्फ्लूएंजा वायरस के संक्रमण का समर्थन करने वाले कई मेजबानों में से केवल चार (घोड़े, सील, आदमी और सुअर) को एक से अधिक प्रजातियों के लिए अतिसंवेदनशील माना जाता है। जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • अंतरिक्ष में कैसे उग रही है बिना मिट्टी की ताज़ा और पौष्टिक सब्जियां ?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:06 AM


  • 8वीं शताब्दी की भव्य बौद्ध संरचना है, इंडोनेशिया में स्थित बोरोबुदुर मंदिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 11:01 AM


  • कैसे उठें मौत के खौफ से ऊपर ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:10 AM


  • जगन्नाथ रथ पर्व के अवसर पर जानिए जगन्नाथ पुरी के रथों की उल्लेखनीय निर्माण प्रक्रिया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:29 AM


  • पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड की प्राकृतिक सुंदरता व नागा जनजातियों की विविध जीवनशैली का दर्शन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:40 AM


  • कोविड सहित मंकीपॉक्स रोग के दोहरे बोझ से बचने के लिए जरूरी उपाय करना आवश्यक है
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:22 AM


  • शानदार शर्की वास्तुकला की गवाही देती हैं, अटाला सहित जौनपुर की अन्य खूबसूरत मस्जिदें
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:21 AM


  • फैशन जगत में अपना एक नया स्‍थान बना रहा है मछली का चमड़ा
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:29 AM


  • शरीर पर घने बालों के साथ भयानक ताकत और स्वभाव वाले माने जाते थे गोरिल्ला
    शारीरिक

     26-06-2022 10:13 AM


  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id