नील नदी में रहने वाले मगरमच्छों से निकटता से जुड़े हैं सोबेक देवता

जौनपुर

 08-05-2022 07:41 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)
सोबेक (Sobek),प्राचीन मिस्र (Egypt) का देवता था जो नील (Nile) नदी में रहने वाले मगरमच्छों से निकटता से जुड़ा था। भगवान की मूर्तियां और पेंटिंग उन्हें या तो मगरमच्छ के सिर वाले व्यक्ति के रूप में या केवल मगरमच्छ के रूप में प्रदर्शित करती हैं।चूंकि नील नदी की बाढ़ मिस्र वासियों के जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करती थी, इसलिए सोबेक को शांत करना भी विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना गया था। जबकि अन्य शहरों के लोग मूर्तियों के रूप में सोबेक को बलिदान चढ़ाते थे, वहीं अरसीनो (Arsinoe) ( जिसे यूनानियों द्वारा क्रोकोडोपोलिस (Crocodopolis) कहा जाता है) में उपासकों ने भगवान को जीवित रूप में पाया। क्रोकोडोपोलिस में सोबेक के मंदिर में एक पवित्र मगरमच्छ रहता था,जिसे पेटसुचोस (Petsuchos)कहा जाता था। मंदिर के पुजारियों ने पालतू और पवित्र जानवर को हाथ से खाना खिलाया। ग्रीक भूगोलवेत्ता स्ट्रैबो (Strabo) बताते हैं, कि पेटसुचोस को कैसे प्रसाद खिलाया जाता था। पुजारी उसके पास जाते थे, कुछ उसका मुंह खोलते थे तथा कुछ उसके मुंह में प्रसाद डालते थे।फिर उसे मांस, मधु और दूध खिलाया जाता था। जब एक पेटसुचोस की मृत्यु हो जाती है, संभवतः एक अत्यधिक समृद्ध आहार के कारण, तब उसे ममीकृत किया जाता था तथा उसके लिए एक महंगा दफन तैयार किया जाता था। इन सबके बाद एक नए पेटसुचोस को चुना जाता है।

संदर्भ:
https://www.youtube.com/watch?v=LU_IeQT099I
https://www.youtube.com/watch?v=Fp5kjdGWrvk


RECENT POST

  • अंतरिक्ष में कैसे उग रही है बिना मिट्टी की ताज़ा और पौष्टिक सब्जियां ?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:06 AM


  • 8वीं शताब्दी की भव्य बौद्ध संरचना है, इंडोनेशिया में स्थित बोरोबुदुर मंदिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 11:01 AM


  • कैसे उठें मौत के खौफ से ऊपर ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:10 AM


  • जगन्नाथ रथ पर्व के अवसर पर जानिए जगन्नाथ पुरी के रथों की उल्लेखनीय निर्माण प्रक्रिया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:29 AM


  • पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड की प्राकृतिक सुंदरता व नागा जनजातियों की विविध जीवनशैली का दर्शन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:40 AM


  • कोविड सहित मंकीपॉक्स रोग के दोहरे बोझ से बचने के लिए जरूरी उपाय करना आवश्यक है
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:22 AM


  • शानदार शर्की वास्तुकला की गवाही देती हैं, अटाला सहित जौनपुर की अन्य खूबसूरत मस्जिदें
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:21 AM


  • फैशन जगत में अपना एक नया स्‍थान बना रहा है मछली का चमड़ा
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:29 AM


  • शरीर पर घने बालों के साथ भयानक ताकत और स्वभाव वाले माने जाते थे गोरिल्ला
    शारीरिक

     26-06-2022 10:13 AM


  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id