पीएम जन आरोग्य योजना के तहत लाभान्‍वित हो रहे जौनपुर शहर के नागरिक

जौनपुर

 27-04-2022 09:50 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

पीएम जन आरोग्य योजना के तहत नि:शुल्क इलाज योजना से कमजोर वर्ग के लोग व्‍यापक रूप से लाभान्वित हो रहे हैं। यह जौनपुर शहर के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए मरहम साबित हो रहा है। योजना के तहत पात्र परिवारों को 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। जौनपुर में अब तक योजना के तहत 14,973 लोगों का इलाज किया जा चुका है।जौनपुर में 23 सितंबर 2018 को जन आरोग्य योजना का शुभारंभ किया गया था। न सिर्फ जनपद में बल्कि बाहर भी अन्य प्रदेशों में सरकारी और सूचीबद्ध नीजि अस्पतालों में भी बीमारियों के उपचार के लिए पात्र परिवार को सुविधा मिल रही है।
इस योजना के अंतर्गत लगभग 1350 बीमारियों के उपचार का लाभ मिल रहा है। जौनपुर में उपचार के लिए अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है। इसमें लगभग 24 सरकारी अस्पताल तो वहीं 18 नीजि अस्‍पताल शामिल हैं। इस दौरान लगभग उपचार में 17,0 3,44,714 रुपये खर्च किए गए हैं।
भारत की जनसंख्‍या का एक बहुत बड़ा हिस्‍सा आज भी ग्रामीण क्षेत्रों में रहता है जिनमें से कई आज भी बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं, जिसमें स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं भी शामिल हैं। स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच पर एक नए अध्ययन से पता चलता है कि स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के मामले में ग्रामीण क्षेत्र काफी अविकसित हैं: भारत में लगभग आधे लोगों और ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकांश लोगों को स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचने के लिए 5 किमी से अधिक की यात्रा करनी पड़ती है।ग्रामीण निवासियों के साथ स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता शहरी केंद्रों जो देश की आबादी का केवल 28% हिस्सा हैं, की तुलना में तिरछी है, शहरी निवासी भारत के उपलब्ध अस्पताल के बिस्तरों का 66% तक उपयोग कर रहे हैं, जबकि शेष 72%, जो ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं, की पहुंच सिर्फ एक तिहाई बिस्तर तक ही है।सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं में अपर्याप्तता ने सामाजिक-आर्थिक स्तर के लोगों को निजी स्वास्थ्य सुविधाओं की ओर धकेल दिया है, यहां पर सामर्थ्‍य के अभाव के कारण लोगों को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। 2012 में, 61% ग्रामीण रोगियों और 69% शहरी रोगियों ने निजी रोगी सेवा प्रदाताओं को चुना, जो 1986-87 के सरकारी सर्वेक्षण में रिपोर्ट की तुलना में 40% से अधिक था।
जबकि निजी स्वास्थ्य सुविधाओं में इलाज की लागत सार्वजनिक सुविधाओं की तुलना में कम से कम 2 से 9 गुना अधिक है।आईएमएस इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थकेयर इंफॉर्मेटिक्स (IMS Institute for Healthcare Informatics) द्वारा किए गए अध्ययन में कहा गया है कि एक गरीब व्‍यक्ति अपनी पुरानी बिमारी के नियमित उपचार हेतु निजी अस्‍पताल की सुविधा के लिए अपने मासिक घरेलू खर्च का औसतन 44% प्रति उपचार खर्च करते हैं, जबकि सार्वजनिक सुविधा का उपयोग करने वालों के लिए यह 23% है।आईएमएस के अध्ययन के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में सुलभ स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी, परिवहन तक पहुंचने में कठिनाई और आय में क्षति के कारण मरीज अपना इलाज रोक देते हैं, या कम लागत वाली सुविधाओं को चुनते हैं। हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे को तीन स्तरीय प्रणाली के रूप में विकसित किया गया है। उप केंद्र: प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली और एचडब्ल्यू (एफ) / एएनएम (HW(F)/ANM) और एचडब्ल्यू (एम) (HW(m)) के साथ संचालित समुदाय के बीच सबसे परिधीय और पहला संपर्क बिंदु है,उपकेंद्रों को व्यवहार परिवर्तन लाने और मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, पोषण, टीकाकरण, डायरिया नियंत्रण और संचारी रोगों के नियंत्रण के संबंध में सेवाएं प्रदान करने के लिए पारस्परिक संचार से संबंधित कार्य सौंपे गए हैं।प्रत्येक उप केंद्र में कम से कम एक सहायक नर्स दाई (एएनएम) / महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता और एक पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता होना आवश्यक है। राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) (NRHM) के तहत अनुबंध के आधार पर एक अतिरिक्त एएनएम का प्रावधान है। एक महिला स्वास्थ्य परिदर्शक (एलएचवी) को छह उप केंद्रों के पर्यवेक्षण का कार्य सौंपा गया है।
भारत सरकार एएनएम (ANM) और एलएचवी (LHV) का वेतन वहन करती है जबकि पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता का वेतन राज्य सरकारों द्वारा वहन किया जाता है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) (PHC) :पीएचसी ग्राम समुदाय और चिकित्सा अधिकारी के बीच पहला संपर्क बिंदु है। इसमें एक चिकित्सा अधिकारी प्रभारी और 14 अधीनस्थ पैरामेडिकल स्टाफ (paramedical staff) के साथ 6 उपकेन्द्रों 4-6 बिस्तरों के लिए एक रेफरल यूनिट (referral unit) शामिल हैं।प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की परिकल्पना ग्रामीण आबादी को एक एकीकृत उपचारात्मक और निवारक स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के लिए की गई थी, जिसमें स्वास्थ्य देखभाल के निवारक और प्रोत्साहन पहलुओं पर जोर दिया गया था। न्यूनतम आवश्यकता कार्यक्रम (एमएनपी)/बुनियादी न्यूनतम सेवाएं (बीएमएस) कार्यक्रम के तहत राज्य सरकारों द्वारा पीएचसी की स्थापना और रखरखाव किया जाता है।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी):एमएनपी/बीएमएस (MNP/BMS) कार्यक्रम के तहत राज्य सरकार द्वारा सीएचसी (CHCs) की स्थापना और रखरखाव किया जा रहा है। न्यूनतम मानदंडों के अनुसार, एक सीएचसी को चार चिकित्सा विशेषज्ञों अर्थात सर्जन, चिकित्सक, स्त्री रोग विशेषज्ञ और बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा 21 पैरामेडिकल और अन्य कर्मचारियों द्वारा समर्थित होना आवश्यक है। इसमें एक ओटी (OT), एक्स-रे (X-ray), लेबर रूम (Labor Room)और प्रयोगशाला सुविधाओं के साथ 30 इन-डोर बेड (in-door bed) शामिल हैं।यह 4 पीएचसी के लिए एक रेफरल केंद्र के रूप में कार्य करता है और प्रसूति देखभाल और विशेषज्ञ परामर्श के लिए सुविधाएं भी प्रदान करता है। तीन स्तरीय बुनियादी ढांचा निम्नलिखित जनसंख्या मानदंडों पर आधारित है: 31 मार्च, 2019 को एक उपकेंद्र, पीएचसी और सीएचसी द्वारा कवर की गई औसत जनसंख्या क्रमशः 5616, 35567 और 165702 थी।

संदर्भ:
https://bit।ly/3MgV0me
https://bit।ly/36HwED4
https://bit।ly/3EDvaX1

चित्र संदर्भ
1  प्रधानमंत्री जन आरोग्य केंद्र को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. जौनपुर वासियों को दर्शाता एक चित्रण (Prarang)
3. पीएम जन आरोग्य योजना मुहर को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM


  • आधुनिक युग में संस्कृत की ओर बढ़ती जागरूकता और महत्व
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:09 AM


  • पर्यावरण की सफाई में गिद्धों की भूमिका
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:40 PM


  • मानव हस्तक्षेप के संकटों से गिरती भारतीय कीटों की आबादी, हमें जागरूक होना है आवश्यक
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:13 AM


  • गर्मियों में नदियां ही बन जाती हैं मुफ्त का स्विमिंग पूल, स्थिति हमारी गोमती की
    नदियाँ

     13-05-2022 09:33 AM


  • तापमान वृद्धि से घटते काम करने के घण्‍टे, सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला क्षेत्र है कृषि
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id