Post Viewership from Post Date to 19-Feb-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
8956 281 9237

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति

जौनपुर

 20-01-2022 11:42 AM
स्तनधारी

अश्‍वधावन या घुड़दौड़ घोड़ों के वेग की एक प्रतियोगिता है जिसमें निर्धारित दूरी पर घुड़सवार (जॉकी (jockeys)) (या कभी-कभी सवारों के बिना संचालित) द्वारा दो या दो से अधिक घोड़ों को शामिल किया जाता है। यह सबसे प्राचीन खेलों में से एक है, क्‍योंकि इसमें दो या दो से अधिक घोड़ों में से कौन एक निर्धारित दूरी पर सबसे तेज़ प्रदर्शन कर रहा है इसकी जांच करने की पद्धति प्राचीन काल से ही अपरिवर्तित है। यद्यपि घुड़दौड़ कब और कहां से शुरू हुयी, इसका सटीक रूप से निर्धारण करना संभवत: कठिन कार्य है, लेकिन सबसे पहले दर्ज किए गए कुछ रिकॉर्डों का पता 700 से 40 ईसा पूर्व में ग्रीक ओलंपिक खेलों (Greek Olympic Games) में लगाया जा सकता है। उस दौरान प्रतिभागियों ने चार- हिच रथों और एकल घोड़े की पीठ पर सवार होकर दौड़ में हिस्‍सा लिया था। और जल्द ही यह चीन (China), फारस (Persia) और अरब (Arabia) के साथ-साथ मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका में फैलना शुरू हुआ, जहां घुड़दौड़ का विकास जारी रहा।
मध्ययुगीन इंग्लैंड में, संभावित खरीदारों को अपनी शीर्ष गति प्रदर्शित करने के लिए पेशेवर सवारों द्वारा घोड़ों की सवारी की जाती थी। इस दौरान शूरवीरों के साथ तीन मील की दौड़ के लिए 40 पाउंड का पहला रिकॉर्डेड पारितोष भी पेश किया गया था।घुड़दौड़ की लोकप्रियता में वृद्धि के साथ, संगठित घुड़दौड़ एक लोकप्रिय खेल बनने में ज्यादा समय नहीं लगा। किंग्स प्लेट रेस(kings plate race) चार्ल्स द्वितीय (Charles II) द्वारा शुरू की गई थी और यह पहली ज्ञात घुड़दौड़ में से एक थी जिसमें विजेताओं को पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने घुड़दौड़ नियमों के पहले रिकॉर्ड किए गए सेट को भी जन्म दिया, जिनमें से कई आज भी लागू होते हैं। घुड़दौड़ पर दांव लगाने की प्रथा का पता लुई XIV के शासनकाल से लगाया जा सकता है, इस दौरान यह विशेष रूप से प्रचलित था। संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America) में संगठित घुड़दौड़ संभवत: 1600 के दशक में न्यूयॉर्क (New York) शहर से शुरू हुयी, जिसमें लॉन्ग आइलैंड (long island) के मैदानी इलाकों में कई रेस कोर्स (race course) तैयार किए गए। इस दौरान गति के विपरीत सहनशक्ति घुड़सवारी की सफलता के लिए बेंचमार्क (Benchmark) बन गई।
यद्यपि कोई सार्वभौमिक समय सीमा नहीं है, आधुनिक घुड़दौड़ व्यापक रूप से 18वीं शताब्दी में शुरू हुई मानी जाती है। पहली आधुनिक घुड़दौड़ 1776 में इंग्लैंड में शुरू की गई थी और इसका नाम सेंट लेगर (St. Lager) रखा गया था। 1780 में इसे आगे बढ़ाया गया। ये घुड़दौड़ आज भी घुड़सवारी के प्रशंसकों के बीच सबसे लोकप्रिय बनी हुई है, जिसमें घुड़दौड़ अब दुनिया भर में लोगों की बढ़ती संख्या के लिए एक लोकप्रिय खेल है। ओएलबीजी (OLBG), जो घुड़दौड़ युक्तियाँ प्रदान करते हैं, आगामी दौड़ के लिए सहायक युक्तियों के अग्रणी प्रदाता हैं। घुड़दौड़ में प्रारूप व्यापक रूप से भिन्न होते हैं और कई देशों ने खेल के साथ अपनी विशेष परंपराएं भी विकसित की हैं।इस खेल की विविधताओं में विशेष नस्लों के लिए दौड़ को प्रतिबंधित करना, बाधाओं पर दौड़ना, अलग-अलग दूरी पर दौड़ना, अलग-अलग ट्रैकों पर दौड़ना और अलग-अलग चालों में दौड़ना शामिल है।कुछ दौड़ में, क्षमता में अंतर को दर्शाने के लिए घोड़ों को अलग-अलग भार दिए जाते हैं, यह एक प्रक्रिया है जिसे हैंडीकैपिंग (handicapping) के रूप में जाना जाता है। जबकि घोड़ों को कभी-कभी विशुद्ध रूप से खेल के लिए दौड़ाया जाता है, घुड़दौड़ की रुचि और आर्थिक महत्व का एक बड़ा हिस्सा इससे जुड़े जुए में है, यह एक गतिविधि है जिसने 2008 में लगभग 115 बिलियन अमेरिकी डॉलर (US Dollar) का विश्वव्यापी बाजार बनाया। अधिकांश उद्योगों, क्षेत्रों और खेलों की तरह, घुड़दौड़ भी हाल के वर्षों में तकनीकी प्रगति की श्रृंखला से प्रभावित हुई है। जबकि खेल ने अपने अधिकांश नियमों, विनियमों और परंपराओं को बरकरार रखा है, तथाकथित सूचना युग की शुरुआत से भी इसे लाभ हुआ है। दौड़ सुरक्षा घोड़ों और जॉकी के साथ सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तनों में से एक है, जो अब रेसट्रैक (race track) पर और बाहर अत्यंत सुरक्षा उपायों के अधीन है। उदाहरण के लिए, थर्मल इमेजिंग कैमरे (thermal imaging cameras) यह पता लगा सकते हैं कि कब कोई घोड़ा दौड़ के बाद गर्म हो रहा है, एमआरआई स्कैनर(MRI scanner), एक्स-रे (X-ray), और एंडोस्कोपी (endoscopy) कई छोटी या बड़ी स्वास्थ्य स्थितियों का पता लगा सकते हैं, और 3 डी प्रिंटिंग कास्ट (3D Printing Cast), स्प्लिंट्स (splints) का और यहां तक ​​कि घायल या बीमार घोड़ों के लिए कृत्रिम अंग भी उत्पादित कर सकती है।
मोबाइल स्पोर्ट्स बेटिंग (mobile sports betting) ने घुड़दौड़ उद्योग में भी क्रांति ला दी है और इसे बहु-अरब डॉलर के व्यवसाय में बदल दिया है। पैरी-म्यूचुअल टेलर (pari-mutual teller) या सट्टेबाजों के माध्यम से व्यक्तिगत रूप से सट्टेबाजी के विपरित, प्रशंसक अब अपने पसंदीदा घोड़े पर वास्तविक समय में अपने घर से भी दांव लगा सकते हैं, जिसमें अधिकांश दौड़ पूरी दुनिया में लाखों स्क्रीन (Screen) पर लाइव स्ट्रीम (live stream) की जाती हैं। परिणामस्वरूप, उपभोक्ता ऑड्स (odds) की तुलना भी कर सकते हैं, इलेक्ट्रॉनिक (electronic) भुगतान विधियों का उपयोग करके भुगतान कर सकते हैं, और एक सुविधाजनक स्थान पर अपनी बेटिंग (betting) पर्चियों का ट्रैक (track) रख सकते हैं। भारत में घुड़दौड़ 200 साल से अधिक पुरानी है। देश में पहला रेसकोर्स (racecourse) 1777 में मद्रास में स्थापित किया गया था। आज, भारत में भलि भांति स्थापित रेसिंग(racing) और प्रजनन उद्योग हैं, और यह खेल छह रेसिंग प्राधिकरणों द्वारा नौ रेसट्रैक (racetracks) पर आयोजित किया जाता है। प्रजनन उद्योग में दुनिया भर से आयातित घोड़े हैं। इंडियन स्टडीज बुक (Indian Studies Book) भारत में संपूर्ण प्रजनन गतिविधियों का रिकॉर्ड रखती है। भारत में पांच 'क्लासिक' (Classic) दौड़ हैं जो मूल ब्रिटिश क्लासिक (British classic) दौड़ के समानांतर हैं। भारतीय 1,000 गिनी (Indian 1,000 Guineas) और भारतीय 2,000 गिनी (Indian 2,000 Guineas) दिसंबर में आयोजित की जाती हैं। इंडियन ओक्स (Indian Oaks) जनवरी के अंत में आयोजित की जाती है। इंडियन डर्बी (Indian Derby) फरवरी के पहले रविवार को आयोजित की जाती है और इसमें ₹ 30,000,000 से अधिक का पारितोष होता है। अंत में, भारतीय सेंट लेगर (Indian St Leger) सितंबर में आयोजित की जाती है। सेंट लेगर के अलावा, ये सभी महालक्ष्मी रेसकोर्स, मुंबई में आयोजित की जाती हैं, सेंट लेगर पुणे में आयोजित की जाती है। मायावी पिम्परनेल (Elusive Pimpernel) (23 में से 22 शुरु) और स्क्वैंडरर (Squanderer) (19 में से 18 शुरू) को भारतीय टर्फ (Indian Turf) पर दौड़ने वाले सबसे महान घोड़े माना जाता है। दोनों घोड़ों को राशिद बायरामजी ने प्रशिक्षित किया था।
भारतीय घोड़ों ने अंतरराष्ट्रीय पटल पर अपनी पहचान बनाई है। मिस्टिकल (अलनासर अलवाशीक - मिस्टिक मेमोरी) Mystical (Al-nasr Al-washeek - Mystic Memory) ने दुबई रेसिंग कार्निवल (Dubai Racing Carnival) में दो रेस जीती। सैडल अप (Saddle Up) मलेशिया/सिंगापुर सर्किट (Malayasia/Singapore circuit) पर प्रशिक्षण में सबसे अच्छा घोड़ा था और उसने टुंकू गोल्ड कप (Tunku Gold Cup) जीता और साथ ही सिंगापुर अंतर्राष्ट्रीय कप में दूसरे स्थान पर रहा। अच्छा प्रदर्शन करने वाले अन्य घोड़े दक्षिणी रीजेंट (Southern Regent) रहे हैं, जिन्होंने 9 साल की उम्र में इंग्लैंड में दो बार जीत हासिल की थी। भारत सरकार की ओर से संगरोध प्रतिबंधों और उदासीनता ने विदेशों में दौड़ के इन अवसरों को बहुत कम रखा है। स्वयं की राय जिसने 1980 में जापान कप में 7 वर्ष की आयु में भारत का प्रतिनिधित्व किया और यद्यपि वह 13वें स्थान पर रहा, उसने रेस ट्रैक वामावर्त होने के बावजूद अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ दिया। भारत में पूल सट्टेबाजी और पारंपरिक सट्टेबाजों दोनों का मिश्रण है। भारतीय घुड़दौड़ लाइव शो (live shows) में स्पोर्ट ऑफ किंग्स (Sport of Kings) और रेसिंग 1 (Racing 1) शामिल हैं जो समीर कोचर और घुड़सवारी विशेषज्ञ चैती नरूला द्वारा प्रस्तुत किए गए हैं। आज यह खेल प्रभावित हो रहा है और भारत में सट्टेबाजी पर लगाए गए 28% जीएसटी के कारण राजस्व की हानि का सामना करना पड़ रहा है। पंटर्स (Punters) इसे आर्थिक रूप से अव्यवहारिक पाते हैं, जिससे खेल का पतन हो रहा है क्योंकि रेसिंग क्लबों (racing clubs) को भारी राजस्व नुकसान का सामना करना पड़ता है।
घुड़दौड़ सबसे पुराने और सबसे लोकप्रिय खेलों में से एक है और आज भी लाखों प्रशंसकों के बीच लोकप्रिय है। दुनिया के हर कोने में फैले एक समृद्ध इतिहास के साथ, इसने दशकों से खेल उद्योग पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। पहले रिकॉर्ड की गई घुड़दौड़, संगठित घुड़दौड़, आधुनिक घुड़दौड़, तकनीकी प्रगति और घुड़दौड़ सट्टेबाजी के इतिहास से खुद को परिचित करके, आप कुछ ही समय में घुड़दौड़ विशेषज्ञ बन सकते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3A6VC9e
https://bit.ly/3rgO5R2
https://bit.ly/3K5fNJf
https://bit.ly/3tmizDY

चित्र संदर्भ   
1. भारत से घुड़दौड़, कला के होनोलूलू संग्रहालय को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
2. कमोस में घुड़दौड़ को दर्शाता एक चित्रण (Metropolitan Museum of Art)
3. मेडेन कप 2006 को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4 .मैसूर टर्फ क्लब में घुड़दौड़ को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. भारतीय घुड़सवार को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM


  • आधुनिक युग में संस्कृत की ओर बढ़ती जागरूकता और महत्व
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:09 AM


  • पर्यावरण की सफाई में गिद्धों की भूमिका
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:40 PM


  • मानव हस्तक्षेप के संकटों से गिरती भारतीय कीटों की आबादी, हमें जागरूक होना है आवश्यक
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:13 AM


  • गर्मियों में नदियां ही बन जाती हैं मुफ्त का स्विमिंग पूल, स्थिति हमारी गोमती की
    नदियाँ

     13-05-2022 09:33 AM


  • तापमान वृद्धि से घटते काम करने के घण्‍टे, सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाला क्षेत्र है कृषि
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:11 PM


  • भारतीय नाटककार, प्रताप शर्मा द्वारा बड़े पर्दे पर प्रदर्शित मेरठ की शक्तिशाली बेगम समरू का इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     11-05-2022 12:13 PM


  • जलवायु परिवर्तन से जानवरों तथा मनुष्‍य के बीच बढ़ सकता है नए वायरस द्वारा रोग संचरण
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:04 AM


  • वर्ष 2030 में नौकरियों व् कौशल का क्या भविष्य होगा? फ़िल्हाल, शिक्षा में बड़े सुधार की ज़रुरत है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-05-2022 08:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id