शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय

जौनपुर

 15-01-2022 06:28 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

जौनपुर के सबसे पुराने कॉलेजों (colleges) में से एक, तिलक धारी सिंह स्नातकोत्तर महाविद्यालय की शुरूआत एक स्‍कूल के रूप में हुयी थी।इसमें स्नातकोत्तर डिग्री की शुरूआत 1970 से हुई लेकिन स्कूल की स्थापना तिलक धारी सिंहजी द्वारा 1914 में कर दी गयी थी।इनका जन्‍म 9 फरवरी, 1872 को जौनपुर जिले के ग्राम कुड्डुपुर में एक मध्यमवर्गीय क्षत्रिय परिवार में हुआ। तिलकधारी सिंह ने अपनी स्कूली शिक्षा आंशिक रूप से जौनपुर में और आंशिक रूप से उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के सेमारी में पूरी की। इन्होंने 1894 में लखनऊ विश्वविद्यालय के कैनिंग कॉलेज से स्नातक किया। स्नातक होने के बाद इन्होंने 1895 में कानून की डिग्री के लिए दाखिला लिया लेकिन अपने पिता की आकस्मिक मृत्यु के कारण इन्होंने अपनी पढ़ाई बंद कर दी। यह एक ऊर्जावान और होनहार युवक थे। यह जौनपुर शहर के प्रमुख वकीलों के संपर्क में आए और समाज के गरीब और उपेक्षित वर्गों को उनकी कानूनी समस्याओं में मदद की। यह हमेशा गरीबों की स्थिति को देखकर चिंतित रहा करते थे और इन्‍हें लगता था कि इसे तभी सुधारा जा सकता है जब वे ठीक से शिक्षित हों। इन्होंने सभी जाति और पंथ के लोगों के लिए सीखने की एक संस्था स्थापित करने का फैसला किया इस उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए उन्होंने वर्ष 1914 में किराए के परिसर में एक अंग्रेजी मध्य विद्यालय शुरू किया। तब लगाया गया पौधा अब एक बड़े बरगद के पेड़ के रूप में विकसित हो गया है। 1914 में मध्य विद्यालय के रूप में स्थापित, इस कॉलेज को 1916 में हाई स्कूल और 1940 में एक इंटरमीडिएट कॉलेज में अपग्रेड किया गया था। इसने आगरा विश्वविद्यालय से संबद्धता में जुलाई 1947 में एक डिग्री कॉलेज (Degree College) का दर्जा हासिल किया।इसके संस्थापक तिलक धारी सिंह थे जो कि जिले के पहले स्नातक थे, इन्‍होंने इसे एक डिग्री कॉलेज के रूप में अपग्रेड किया। 1956 में इसकी संबद्धता गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्थानांतरित हो गई। तत्कालीन प्रिंसिपल श्री एच एन सिंह के नेतृत्व में लंबे समय तक विरोध के बाद इसे 1970 में स्नातकोत्तर का दर्जा मिला।तिलक धारी कॉलेज न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि भारत के सभी प्रमुख संस्थानों में से एक है। इसमें करीब 200 योग्य शिक्षक हैं। उनमें से लगभग सभी पीएचडी (Ph.D) हैं, उनमें से कई विभिन्न फंडिंग एजेंसियों (funding agencies) द्वारा स्वीकृत छोटी और बड़ी परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं। जबकि कुछ विदेशों में अकादमिक असाइनमेंट (assignments) पर हैं। इनमें से लगभग 70% विभिन्न विभागों में शोध कार्य में लगे हुए हैं तथा कई ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में लेख और शोध पत्रों में अपना योगदान दिया है। इस कॉलेज में 12 हजार से ज्यादा छात्र हैं। यह शिक्षण के अपने नवीन तरीकों और अपने शोध कार्य की गुणवत्ता के लिए जाना जाता है। इसे सभी मामलों में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के कारण राज्य सरकार द्वारा प्रतिष्ठित पुरस्कार प्रदान किए गए हैं। इसके अधिकांश पूर्व छात्र न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी विभिन्न क्षेत्रों में इसका प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।यूपी की उत्कृष्टता के केंद्र जौनपुर के इस कॉलेज ने 150 से अधिक नौकरशाह तैयार किए हैं।जौनपुर के इस कॉलेज ने अपने 100 से अधिक वर्षों में आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS), आईएफएस (IFS) और पीसीएस (PCS) अधिकारियों सहित 150 से अधिक नौकरशाहों पर मंथन किया है। यही कारण है कि पूर्वी यूपी के कई छात्र इस कॉलेज में अध्‍ययन करने की ख्वाहिश रखते हैं। संस्थान, जो अपना शतक पार कर चुका है, कई मेधावी छात्रों को आकर्षित करता है जो उच्च शिक्षा के लिए दिल्ली या अन्य बड़े शहरों में जाने का जोखिम नहीं उठा सकते।पूर्व राजनयिक इंदु प्रकाश सिंह, यूपी के पूर्व डीजीपी (DGP) यशपाल सिंह, पूर्व शहरी विकास सचिव श्रीप्रकाश सिंह और किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (King George Medical University), लखनऊ के कुलपति, प्रो. एमएलबी भट्ट कॉलेज के कुछ प्रमुख पूर्व छात्र हैं।
लगभग 40 वर्षों तक कॉलेज में इतिहास पढ़ाने वाले प्रो सजल कुमार सिंह ने बताया कि जौनपुर में कई मेधावी छात्रों ने अपने सपनों को साकार किया है। सिंह ने कहा कि कॉलेज की सफलता का श्रेय इसके पहले प्राचार्य पंडित रामजीवन चटर्जी और उनके उत्तराधिकारी हृदयनारायण सिंह को जाता है। "चटर्जी, जिन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय (Cambridge University) में अध्ययन किया था, ने उत्कृष्टता का वातावरण बनाने के लिए शिक्षकों के बीच अनुशासन, प्रतिबद्धता और समय की पाबंदी पैदा की,". उनके उत्तराधिकारी ने इस परंपरा को आगे बढ़ाया। शिक्षकों ने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया और छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार किया। वे सेवानिवृत्ति के बाद भी छात्रों का मार्गदर्शन करते थे।
जौनपुर निवासी उमाशंकर मिश्रा ने कहा, "इस कॉलेज ने एक ऐसी संस्था की प्रतिष्ठा अर्जित की है जो छात्रों को नुशासित वातावरण में सर्वोत्तम संभव शिक्षा प्रदान करती है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3fjyYk5
https://bit.ly/3Fh1TA5
https://bit.ly/3tpkIP0
https://bit.ly/3tj1hYi

चित्र संदर्भ   
1. तिलक धारी सिंह महाविद्यालय को दर्शाता एक चित्रण (facebook)
2. तिलक धारी सिंहजी को दर्शाता एक चित्रण (facebook)
3. तिलक धारी सिंह महाविद्यालय के प्रवेश द्वार को दर्शाता एक चित्रण (facebook)



RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id