घरेलु पौधों अर्थात इंडोर प्लांट्स के लाभ एवं इतिहास

जौनपुर

 08-01-2022 06:49 AM
बागवानी के पौधे (बागान)

वर्ष 2020 से कोरोना महामारी के कारण पूरी दुनिया में लोगों के लिए अपने घरों में कैद रहना एक मजबूरी हो गई। हालांकि अधिकांश लोगों के लिए यह समय बेहद बोरिंग अथवा उदासीन रहा लेकिन लॉकडाउन का समय कई लोगों के लिए संभवतः जीवन के सबसे शानदार क्षणों में एक भी रहा। उदाहरण के तौर पर चूंकि इस दौरान लोगों के पास पर्याप्त समय था इसलिए कई लोगों ने इस समय को कुछ नया सीखने के सन्दर्भ उपयोग किया। वहीं दूसरी ओर यह कठिन समय प्रकृति प्रेमियों और पेड़-पोंधों से लगाव रखने वाले लोगों के लिए भी खासा यादगार रहा क्यों की महामारी के दौरान प्रकृति प्रेमियों को उनके घरों में लगे नन्हे पोंधों "हाउस प्लांट (houseplants) को करीब से जानने और उनके साथ समय बिताने का समय भी मिल पाया। दरअसल हमारे घरों और कार्यालयों के भीतर लगे नन्हे पौधों को हॉउसप्लांट्स (houseplants) कहा जाता है। हालांकि यह मुख्य रूप से सजावटी उद्देश्यों के लिए घर के भीतर उगाए जाते हैं, किंतु कई वैज्ञानिक अध्ययनों में शोधकर्ताओं ने इन्हे हमारे मानसिक स्वास्थ के लिए भी लाभदायक पाया है। यह घर के भीतर की वायु को भी शुद्ध करते हैं। हॉउसप्लांट्स की कुछ प्रजातियां प्रकृति अथवा मिट्टी में मौजूद रोगाणु, बेंजीन, फॉर्मलाडेहाइड और ट्राइक्लोरोइथिलीन (benzene, formaldehyde, and trichlorethylene) सहित वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों को अवशोषित करके इनडोर वायु प्रदूषण को कम करते हैं। दुनियाभर में घर के भीतर उगाए जाने वाले आम हाउसप्लांट आमतौर पर उष्णकटिबंधीय या अर्ध-उष्णकटिबंधीय एपिफाइट्स, रसीले या कैक्टि (epiphytes, succulents or cacti) होते हैं। घर के भीतर हॉउसप्लांट्स को उचित नमी, प्रकाश स्तर, मिट्टी के मिश्रण, तापमान और आर्द्रता की आवश्यकता होती है। जिसके बिना अधिकांश घरेलू पौधे आसानी से मुरझा जाते हैं। हॉउसप्लांट्स को उचित उर्वरक और सही आकार के बर्तनों की आवश्यकता होती है।
घर के भीतर हॉउसप्लांट्स उगाने की शुरुआत प्राचीन मिस्र और सुमेरियन वासियों ने की जो सजावटी कंटेनरों में सजावटी और फलदार पौधे उगाते थे। प्राचीन यूनानियों और रोमनों ने मिट्टी के बर्तनों में लॉरेल के पेड़ों की खेती की। प्राचीन चीन में, पौधों को 2,500 साल पहले उद्यान प्रदर्शनियों में प्रदर्शित किया गया। मध्ययुगीन काल के दौरान पर्याप्त जगह होने पर किचन गार्डन (kitchen gardens) में सौंफ, पत्ता गोभी, प्याज, लहसुन, लीक (Leek), मूली और पार्सनिप (Parnsnip), मटर, दाल और बीन्स जैसे सब्जी के पौधे भी उगाए जाते थे। पुनर्जागरण के दौरान इटली, नीदरलैंड (Netherlands) और बेल्जियम (Belgium) के सम्पन्न परिवारों और समृद्ध व्यापारियों ने एशिया माइनर और ईस्ट इंडीज से पौधों का आयात भी किया। प्राचीन मिस्र, भारत और चीन जैसी पुरानी सभ्यताओं ने भी आमतौर पर घर से बाहर अपने आँगन आदि में गमले में लगे पौधों का उपयोग किया, जहां पोंध अथवा फूल पात्रों के लिए, सर्वाधिक टेराकोटा का प्रयोग होता था।
जापानी, वियतनामी और चीनी संस्कृतियों में आज भी सजावटी उद्देश्यों के लिए बौने पेड़ों (dwarf trees) लगाने की अनूठी परंपराएं हैं, जिन्हें होन नॉन बो, पेनजिंग और बोन्साई (hon non bo, penjing and bonsai) के रूप में भी जाना जाता है।
आज भी आधुनिक इराक के बेबीलोन (Babylon) के हैंगिंग गार्डन (Hanging Garden) मौजूद हैं। जिसका निर्माण विशेष रूप से राजा नबूकदनेस्सर द्वितीय (Nebuchadnezzar II) की पत्नी के लिए किया गया था। इसमें खजूर के पेड़, देवदार और घास के मैदानों के साथ स्थानीय पोंधे रोपित किये गए थे। औद्योगीकरण और विक्टोरियन युग के दौरान लोगों ने इनडोर हाउसप्लांट की खेती शुरू की। जहाँ फ़र्न अपने घने, शानदार पत्ते के लिए असाधारण रूप से लोकप्रिय थे, और अक्सर उन्हें जार्डिनियर (jardiniers) नामक स्तंभ-शैली के कंटेनरों में रखा जाता था। 17 वीं और 18 वीं शताब्दी के अंत में पौधों के प्रजनन का विकास हुआ। पौधों की व्यापक रूप से खेती की गई।
शोधकर्ता और वनस्पतिशास्त्री दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया से 5,000 से अधिक पोंधों की प्रजातियों को यूरोप लाए। 18 वीं शताब्दी के अंत में नर्सरी फल-फूल रही थी, जिसमें साइट्रस, चमेली, मिग्नोनेट, बे, मर्टल, एगेव्स और एलो (mignonette, bay, myrtle, agaves, and aloe) सहित हजारों पौधों का भंडार मौजूद था।
विक्टोरियन युग में लोकप्रिय पौधों में ताड़, मेडेनहेयर फ़र्न, जेरेनियम, फ़र्न और एस्पिडिस्ट्रा (maidenhair ferns, geraniums, ferns and aspidistra) शामिल थे, जिन्हें अक्सर खिड़की के किनारों और शयन कक्ष में रखा जाता था। कांटेदार साइकैड (cycad (Encephalartos altensteini) दुनिया का सबसे पुराना गमले में उगाया गया पौंधा है, जिसे 1775 में दक्षिण अफ्रीका से यूके (UK) लाया गया था। साइकैड को वर्तमान में पाम हाउस, रॉयल बॉटनिकल गार्डन, केव, सरे, यूके (Palm House, Royal Botanical Gardens, Kew, Surrey, UK) में प्रदर्शित किया गया है। साइकाड द्विअर्थी होते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके नर और मादा प्रजनन संरचनाएं विभिन्न पौधों पर होती हैं, जिनमें बीज प्रजनन के माध्यम से प्राप्त होता है। वे आम तौर पर 4-7 मीटर (13-22 फीट) तक बढ़ते हैं।
घरों के भीतर पोंधों अर्थात हॉउसप्लांट की लोकप्रियता का केवल इनका सजावटी प्रयोग नहीं, बल्कि यह मनोवैज्ञानिक तौर पर भी हमारे लिए बेहद लाभदायक होते हैं। यह एक वैज्ञानिक तथ्य है कि, हरे भरे स्थानों के पास रहने और प्रकृति के साथ समय बिताने से मूड में सुधार हो सकता है, तनाव कम हो सकता है, और संज्ञानात्मक कौशल में वृद्धि हो सकती है।
हमारे दैनिक जीवन में प्रौद्योगिकी (technology) के उपयोग के कारण बहुत अधिक तनाव होता है, इसके साथ आने वाले तनाव का प्रबंधन करना कई लोगों के लिए मुश्किल होता है। 2015 में कोरिया (Korea) के शोधकर्ताओं, मिन-सन और जुयॉन्ग ली, बम-जीन पार्क (Min-sun and Juyoung Lee, Bum-jeon Park) और जापान के योशिफुमी मियाज़ाकी (Yoshifumi Miyazaki) ने एक यादृच्छिक अध्ययन किया और शोध-अध्ययन के परिणामों से पता चला कि कंप्यूटर कार्य के बाद पौधों से संबंधित कार्य करने से शरीर और दिमाग ने आरामदायक और शांत महसूस किया। शोध-अध्ययन के परिणामों ने निष्कर्ष निकाला कि इनडोर पौधों के साथ सक्रिय संपर्क, मानसिक कार्य की तुलना में शारीरिक और मनोवैज्ञानिक तनाव दोनों को कम कर सकता है।
हॉउसप्लांट्स कई संदर्भों में आपके लिए लाभदायक साबित होते हैं, जिनमे से कुछ क्रमशः दिए गए हैं।
1. पौधे चिंता और अवसाद की भावनाओं को कम कर सकते हैं। 2007 के एक अध्ययन में पौधे की मिट्टी में माइकोबैक्टीरियम वैकेई नामक एक जीवाणु पाया गया जो सेरोटोनिन (serotonin) को ट्रिगर करता है, जो चिंता को कम करता है।
2. इनडोर पौधे आपको अधिक उत्पादक बना सकते हैं, और आपकी रचनात्मकता को बढ़ा सकते हैं।
3. घर के अंदर हवा की गुणवत्ता बढ़ा सकते हैं। नासा (NASA) के अध्ययनों से पता चला है कि पौधे हवा कीगुणवत्ता में सुधार करते हैं उदाहरण के लिए, पौधे हवा में नमी जोड़ सकते हैं, जो शुष्क सर्दियों के महीनों में मदद करता है।
4. हाउसप्लांट आपको प्रकृति का स्वाद देते हैं। "हाउसप्लांट के साथ सक्रिय बातचीत, अर्थात, मिट्टी के साथ काम करना, छंटाई करना, छूना और सूंघना, जंगल में समय बिताने के समान आराम और तनाव कम करने वाला प्रभाव दिखाता है।
5. बेहतर एकाग्रता और स्मृति: मिशिगन विश्वविद्यालय के एक शोध अध्ययन के अनुसार पौधों के साथ समय बिताने से स्मृति प्रतिधारण में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि हो सकती है। वे एक विशिष्ट कार्य संबंधी स्मृति को बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3HIeDkR
https://bit.ly/34jkFtE
https://bit.ly/3n0D7Os
https://en.wikipedia.org/wiki/Houseplant

चित्र संदर्भ   
1. घर भीतर इंडोरप्लांट को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. विभिन्न इंडोरप्लांट को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. बोन्साई प्लांट को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
4. किताबों के साथ रखे गए इंडोरप्लांट को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)



RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id