आईये मिलकर करें जौनपुर जिले में जलपक्षियों की विविधता का संरक्षण व् विवरण

जौनपुर

 05-01-2022 10:25 AM
पंछीयाँ

जबकि गोमती नदी (गोमती नदी गंगा की सहायक नदी है।) हमारे जौनपुर शहर से होकर बहती है, हमारे शहर के चारों ओर न तो पक्षी अभयारण्य/आर्द्रभूमि है और हमारे निवासीजिले में आने वालेजलीय-पक्षियों की कई प्रजातियों (कई यूरोपीय (European) प्रवासी पक्षियों सहित) के फोटो दस्तावेजीकरण और पंजीकृत रखने में ज्यादा योगदान नहीं देते हैं।सदियों से अग्रणी प्रकृतिवादियों द्वारा यह देखा गया है कि कैसे दुनिया भर में जलपक्षी संरक्षण कैसे विकसित हुआ है और अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की स्थापना में शामिल रहे हैं।
जलीय पक्षी शब्द का उपयोग उन पक्षियों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है जो जल निकायों पर या उसके आसपास रहते हैं; वे ताजे पानी या समुद्री हो सकते हैं। लेकिन कुछ जल पक्षी दूसरों की तुलना में अधिक स्थलीय होते हैं, और उनके अनुकूलन उनके पर्यावरण के आधार पर भिन्न होते हैं।जलीय खरपतवारों, फाइटोप्लांकटन (Phytoplankton) और जूप्लंकटन (Zooplankton) के विकास के लिए जिम्मेदार कार्बनिक घटकों का संवर्धन, आर्द्रभूमि विभिन्न जलपक्षियों को मध्यम अनुपात में खाद्य सामग्री की उपलब्धता के लिए अच्छा आवास है।जलीय पक्षी अपनी प्रावधान सेवाओं जैसे कि कशेरुक और अकशेरुकी के लिए प्राकृतिक संकेतक के साथ-साथ आर्द्रभूमि पारिस्थितिकी तंत्र के महत्वपूर्ण घटकके लिए जाने जाते हैं। विश्व में पक्षियों की लगभग 9000 प्रजातियाँ हैं, जिनमें से भारत में पाई जाने वाली लगभग 23% (1340 में से 310) पक्षी प्रजातियाँ आर्द्रभूमि पर निर्भर मानी जाती हैं।पिछले कुछ दशकों से पक्षियों की आबादी लगातार घट रही है और पक्षियों की सौ से अधिक प्रजातियां या तो स्थानिक या लुप्तप्राय हैं। आर्द्रभूमि का वर्तमान अध्ययन आर्द्रभूमि की वर्तमान स्थिति को बहाल करने और बनाए रखने के लिए जलीय पक्षी के विवरण को बनाए रखने में मदद करता है। आर्द्रभूमि पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने और विभिन्न जीवन रूपों का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।साथ ही मनुष्य भी विभिन्न आजीविका सेवाओं के लिए आर्द्रभूमि पर निर्भर करता है लेकिन घरेलू और औद्योगिक मल द्वारा तीव्र औद्योगिक विकास और प्रदूषण के कारण आर्द्रभूमि के साथ यह संपर्क तेजी से अलग हो गया है।
वहीं लखनऊ में आर्द्रभूमि जलीय पक्षियों के लिए महत्वपूर्ण आवास रहे हैं। जैसे कि लखनऊ समुद्र तल से 123 मीटर ऊपर स्थित है।गर्मियों में तापमान 25-45 o Cके बीच होता है जबकि सर्दियों में 2- 20 o C से, औसत वार्षिक वर्षा लगभग 896.2 मिमी होती है।लखनऊ और इसके आसपास की आर्द्रभूमियाँ अभी भी जैव विविधता में बहुत समृद्ध हैं, लेकिन स्थानीय दबाव जैसे बढ़ती जनसंख्या और मानवजनित गतिविधियों के कारण आर्द्रभूमि को पुनर्वास रणनीति की आवश्यकता है।पक्षी आमतौर पर अक्टूबर-नवंबर-दिसंबर के सर्दियों के महीनों में प्रवास करते हैं। अक्टूबर और नवंबर महीने में अध्ययन अवधि के दौरान, काले सिर वाले आइबिस (Black- headed Ibis), सफेद गर्दन वाले सारस (White-necked stork), काले गर्दन वाले सारस (Black- necked stork), काले आइबिस (Black ibis), उत्तरी पिंटेल, गार्गनी (Garganey), आदिदेखे गए प्रवासी पक्षी थे। दर्ज किए गए आवासीय जलपक्षी हैं लिटिल ग्रीबे (Little grebe), लिटिल कॉर्मोरेंट (Little cormorant), इंडियन कॉर्मोरेंट (Indian cormorant), लिटिल एग्रेट (Little egret), लार्ज एग्रेट (Large egret), मेडियन एग्रेट (Median egret), कैटल एग्रेट (Cattle egret), इंडियन पोंड हेरॉन (Indian pond heron), चेस्टनट बिटर्न (Chestnut bittern), ब्लैक-क्राउन नाइट हेरॉन (Black-crowned night heron), व्हाइट-ब्रेस्टेड वॉटर हेन (White-breasted water hen), पर्पल मूरहेन (Purple moorhen), आदि शामिल हैं।
ऐसे ही हमें लखनऊ के निकट कुकरैल नाला (कुकरैल नाला गोमती नदी की बायीं ओर की सहायक नदी है।) क्षेत्र में गोमती नदी पर किए जा रहे कार्यों से प्रेरणा लेने की जरूरत है।कुकरैल नाला एक भूजल पोषित नाला है, जो कुकरैल आरक्षित वन से निकलती है और चौथे क्रम (मध्यम धारा) की सहायक नदी के रूप में गोमती नदी में मिलती है। कुकरैल नाले की कुल लंबाई इसके उद्गम से संगम स्थल तक लगभग 26 किमी (सरकारी विवरण के अनुसार) है।कुकरैल नाला में 200 मीटर चौड़ा बाढ़ का मैदान है और यह मध्य गंगा मैदान के अंतर्गत गोमती-घाघरा नदी के इंटरफ्लूव (Interfluve) क्षेत्र में स्थित है।साथ ही कुकरैल जलनिकाय प्रणाली ने ऐतिहासिक रूप से न केवल लखनऊ जिले के वर्षा जल को गोमती नदी में बहा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, बल्कि क्षेत्र में भूजल पुनर्भरण का एक प्रमुख स्रोत है। यह बारिश के पानी के प्रवाह और नालियों को गोमती में ले जाकर बाढ़ से बचाता हैऔर मिट्टी को समृद्ध करता है और गंगा बेसिन में जल प्रणाली को बनाए रखता है।लखनऊ की प्रचुर जैव विविधता का विवरण हमें यह संकेत देती है कि हमें जौनपुरकी जैव- विविधता पर ध्यान देने की आवश्यकता है। पक्षी निरीक्षक और पक्षी-फ़ोटोग्राफ़ी (Bird-Photography) के शौकीनों को फेसबुक (Facebook)और अन्य ब्लॉगों (Blogs) पर इंटरनेट (Internet)पक्षी समूहों पर अधिकसे अधिक तस्वीरों को साझा करना चाहिए।

संदर्भ :-
https://bit.ly/32Kgcje
https://bit.ly/3mPfU1x
https://bit.ly/3FS5l5m
https://bit.ly/3FYqbjp
https://bit.ly/3ENlk33

चित्र संदर्भ   
1. स्पॉट-बिल बतख को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. सैलानियों की नाव को घेरे जलीय पक्षियों को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. सीतापुर जिले में गोमती नदी को को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. इलखनऊ के निकट कुकरैल नाला (कुकरैल नाला गोमती नदी की बायीं ओर की सहायक नदी है।) जिसको दर्शाता एक चित्रण (youtube)



RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id