क्रिसमस की एक अनोखी परंपरा है कार्प मछली की दावत

जौनपुर

 25-12-2021 10:50 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

क्रिसमस (Christmas)पेड़, सांता क्लॉस, बारहसिंगा, बर्फ, जन्म के दृश्य, बेथलहम का सितारा, ये क्रिसमस के कुछ सबसे सामान्य संकेत और प्रतीक हैं। लेकिन शायदहम में से बहुत ही कम लोगों को मछली के चिह्न के बारे में जानकारी होगी। हालांकि इसे आम तौर पर ईसाई धर्म से जुड़ा समझा जाता है, लेकिन वास्तव में यह क्रिसमस के अर्थ को समाहित करता है।प्रारंभिक चर्च (Church) में मछली का चिन्ह एक महत्वपूर्ण प्रतीक था। ग्रीक (Greek) में, प्रारंभिक चर्च की भाषा के रूप में मछली के लिए शब्द "IXOUS" (उच्चारण "ichthus") हुआ करता है। यह मछली के लिए एक सामान्य शब्द है जैसा कि सुसमाचारों में दर्ज है (मैथ्यू 7:10; 14:17; मार्क 6:38, 41; लूका 5:6; 11:11; जॉन 21:6, 8, 11)। संक्षेप में, यह शब्द विश्वास के चार महान सत्यों का संक्षिप्त रूप बन गया।
1. ‘I’ लेसौस (Lesous)का प्रतिनिधित्व करता है, जो “यीशु” का अनुवाद है। लूक (Luke) ने मरियम से बात करते हुए स्वर्गदूत के शब्दों को दर्ज किया: "तू गर्भवती होगी, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा, और उनका नाम यीशु रखना" (लूका 1:31)।
2. "X"क्रिस्टोस(Xristos)का प्रतिनिधित्व करता है, जिसका अर्थ है "ईसा मसीह”।लूक ने फिर से चरवाहों से कहे गए स्वर्गदूत के शब्दों को शामिल किया। यीशु के जन्म के सन्दर्भ में स्वर्गदूत ने घोषणा की, "वह प्रभु मसीह हैं" (2:11)।
3. "O" थेयोस (Theos) का प्रतिनिधित्व करता है, जिसका अनुवाद "परमेश्वर" है।
4. इसके बाद "U", यूओस (Uios) का प्रतिनिधित्व करता है, जो "पुत्र" का अनुवाद है। इन दोनों को एक साथ संयोजित करने पर शीर्षक "भगवान के पुत्र"बनता है। मरियम से बात करते हुए स्वर्गदूत ने कहा, "इसलिए जो पवित्र जन्म लेगा वह परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा" (1:35)।
5. "S" सोटर (Soter)का प्रतिनिधित्व करता है, जो "उद्धारक" का अनुवाद करता है। "आज दाऊद के नगर में तुम्हारे लिए एक उद्धारकर्ता का जन्म हुआ है" (2:11)? तो इन सब का क्या अर्थ है? दरसल यह हमें याद दिलाता है, कि यीशु ही मसीह हैं, परमेश्वर के पुत्र और हमारा उद्धारकर्ता हैं। एक सिद्ध व्यक्ति के रूप में, उनका नाम "यीशु" है। "मसीह" के रूप में, वे अभिषिक्त मसीहा हैं। "परमेश्वर के पुत्र" के रूप में, वे शाश्वत हैं। और "उद्धारकर्ता" के रूप में, वे हमें पाप के दंड से छुड़ाते हैं और अपने लहू की शक्ति के द्वारा हमें अनन्त जीवन प्रदान करते हैं।यह हमें बताता है कि मछली का प्रतीक यीशु मसीह की परम शक्तियों की याद दिलाता है। क्रिसमस के दिनकार्प (Carp) मछली खाने की परंपरा चेक गणराज्य (Czech Republic), स्लोवाकिया (Slovakia) और पोलैंड (Poland) में विशेष रूप से जीवित और अच्छी तरह से प्रचलित है। हंगरी (Hungary), ऑस्ट्रिया (Austria), जर्मनी (Germany) और क्रोएशिया (Croatia) के कुछ परिवार भी इसे पसंद करते हैं और क्रिसमस के समय इस व्यंजन का आनंद लेते हैं। हालांकि भारत में हम इस परंपरा को नहीं देखते हैं।अधिकांश के अनुसार, यह परंपरा मध्य युग की है,13 वीं शताब्दी के दौरान क्रिसमस की पूर्व संध्या में कार्प मछली लोकप्रिय हो गई, क्योंकि कैथोलिक (Catholic) कार्प मछली को उपवास के भोजन के रूप में अच्छा मानते थे और क्रिसमस की पूर्व संध्या आगमन उपवास का अंतिम दिन होता था। दरसल क्रिसमस की पूर्व संध्या पर कार्प मछली खाने का इतिहास पूरी तरह से इस तथ्य के कारण है कि कैथोलिक उपवास के दौरान मांस नहीं खा सकते थे। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि अन्य कैथोलिक देश, उदाहरण के लिए पश्चिमी यूरोप (Europe) में, अब क्रिसमस के उत्सव के दिन मांस क्यों खाना पसंद करते हैं; और यद्यपि स्लोवाकिया (Slovakia) और पोलैंड (Poland) आज तक दृढ़ कैथोलिक राष्ट्र बने हुए हैं, चेक गणराज्य के बारे में ऐसा नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि इसे अक्सर दुनिया के सबसे कम धार्मिक देशों में से एक के रूप में वर्णित किया जाता है।साथ ही कार्प मछली,एक सस्ता व्यंजन है और बत्तख या टर्की (Turkey) की तुलना में बहुत अधिक किफायती हैं, और इस प्रकार बड़े समूहों में उत्सव के भोजन के लिए अधिक उपयुक्त होते हैं।जिस तरह से खाने की मेज पर कार्प परोसा जाता है वह एक देश से दूसरे देश में थोड़ा भिन्न होता है।स्लोवाकिया और चेक गणराज्य में, कार्प को आमतौर पर गोभी के सूप और आलू के सलाद जैसे अन्य व्यंजनों के साथ रोटी और तला हुआ परोसा जाता है। पोलैंड में, कार्प व्यापक 12-व्यंजन के भोजन का केवल एक हिस्सा है। हंगरी में, इसे अक्सर मछली के सूप में सीधे पकाया जा सकता है।हालांकि इसका एक नकारात्मक पक्ष यह है कि इसमें बहुत सारे कांटे होते हैं, लेकिन इसके बाद भी इसका स्वाद अन्य मछलियों की अपेक्षा काफी स्वादिष्ट है। इसी तरह अमेरिका में प्रत्येक वर्ष क्रिसमस की पूर्व संध्या पर कई लोग सात मछलियों की दावत (Feast of the Seven Fishes) मनाते हैं।हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि यह रात्रिभोज इतना लोकप्रिय कब हुआ, इस उत्सव को सबसे अधिक इतालवी (Italian) परंपराओं में से एक माना जाता है। आमतौर पर, परिवार सात अलग-अलग समुद्री भोजन या सात अलग-अलग तरीकों से तैयार की गई एक या दो अलग-अलग प्रकार की मछलियों की दावत के लिए एक साथ एकत्रित होते हैं।अमेरिकियों के बीच इसकी लोकप्रियता के बावजूद, कई इतालवी इस परंपरा या इसकी उत्पत्ति के बारे में भी नहीं जानते हैं। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर मछली खाने की प्राचीन परंपरा क्रिसमस सहित कुछ छुट्टियों की पूर्व संध्या पर मांस और डेयरी उत्पादों से परहेज के रोमन कैथोलिक रिवाज में से है। साथ ही सात की संख्या प्राचीन काल में निहित है और इसे कई कैथोलिक प्रतीकों से जोड़ा जा सकता है: वास्तव में, सात बाइबिल में 700 से अधिक बार दोहराया गया है।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3yTsXE1
https://bit.ly/3ssniU9
https://bit.ly/3swzmDK

चित्र संदर्भ   

1. रिज्क्सम्यूजियम से ओहरा कोसन (1877-1945) द्वारा दो कार्प मछली (1900 - 1910)।को दर्शाता एक चित्रण (Rawpixel)
2. कार्प मछली व्यंजन को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. क्रिसमस पर्व दावत को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id