मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास

जौनपुर

 23-11-2021 10:58 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

ब्रिटिश भारत में यात्रा के दौरान बिस्तर और कंबल ले जाने के लिए "होल्‍डॉल (holdall) या बिस्तरबंद" का नवाचार हुआ। एक होल्डॉल अक्सर सूटकेस (suitcase) के स्थान पर या खेल उपकरण ले जाने के लिए उपयोग किया जाता है, और खाली होने पर इसे संपीड़ित किया जा सकता है। बिस्तर और कंबल आदि ले जाने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।
भारत में बोर्डिंग स्कूलों (boarding schools) में नामांकित छात्रों को उनके कंबल, रजाई और कपड़े ले जाने के लिए 'होल्ड-ऑल' प्रदान किया जाता है। यह एक सपाट, आयताकार, कैनवास बैग (canvas bag) होता है। एक बार भरने के बाद, इसे स्लीपिंग बैग (sleeping bag) की तरह घुमाया जाता है और इसकी पट्टियों के माध्‍यम से इसे बांध दिया जाता है। 1920 के दशक तक एक स्वदेशी कलकत्ता स्थित कंपनी (बंगाल वाटरप्रूफ लिमिटेड (Bengal waterproof limited)) ने "डकबैक" (Duckback) के एक दिलचस्प नाम के साथ –होल्‍डॉल और अन्य प्रकार के सामान की "वाटर-प्रूफ" (water-proof) श्रृंखला बनाई।1920 में, भारत में वाटरप्रूफ़ का आयात किया जा रहा था, जो कि अत्यधिक महंगे थे, जिससे यह अधिकांश भारतीयों की पहुंच से बाहर थे। तो बंगाल के बोस ने स्वदेशी उद्यम शुरू किया जिसने इन्हें स्वदेशी रूप से निर्मित किया! बंगाल वाटरप्रूफ लिमिटेड का प्रसिद्ध डकबैक भारत में वाटरप्रूफ वियरेबल्स (waterproof wearables) का पर्यायवाची है, क्योंकि यह पहला था। बंगाल केमिकल्स (Bengal Chemicals) और जी.डी.फार्मास्युटिकल्स प्राइवेट लिमिटेड (बोरोलिन) (G.D.Pharmaceuticals Private Limited (Boroline)) की तरह, 1920 में स्थापित, बंगाल वाटरप्रूफ लिमिटेड, स्वदेशी धुन का ही परिणाम था। ब्रिटिश शासन के तहत, अन्य वस्त्रों की तरह, वाटरप्रूफ भी भारत में आयात किए जा रहे थे, जिससे वे बेहद महंगे और आम भारतीयों की पहुंच से बाहर हो गए। उस दौरान सुरेंद्र मोहन बोस ने भारत की आर्थिक स्वतंत्रता और विदेशी सामानों के बहिष्कार को आगे बढ़ाने के प्रयास में, स्वदेशी रूप से बंगाल वाटरप्रूफ स्टार ब्रांड (Bengal Waterproof star brand), डकबैक की शुरुआत की।भारतीय जनता के लिए उत्पादों की एक श्रृंखला, डकबैक की यूएसपी (यूनिक सेलिंग प्वाइंट) (USP (Unique Selling Point)) इसका स्थायित्व थी और है। इसलिए, यह नाम मुहावरे ('बत्तख की पीठ से पानी की तरह') से लिया गया था। और बोस, बर्कले (Berkeley) और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालयों (Stanford universities) के पूर्व छात्रों के रूप में अपनी अकादमिक प्रतिभा के साथ, आपकी पीठ से पानी को दूर रखने के इस वादे को पूरा करने के लिए अपनी सभी तकनीकी विशेषज्ञता और अनुभव का उपयोग किया, और दशकों तक बाजार में बने रहे!
इन स्वदेशी उद्यमियों में से कई को यह प्रदर्शित करने के उत्साह और आकांक्षा से प्रेरित किया गया था कि भारतीय केवल मुनाफे की खोज या धन की तलाश के बजाय घरेलू औद्योगिक आधार का निर्माण कर सकते हैं।लेकिन यह विचार किसी बड़े बंगले में नहीं वरन् जेल की सलाखों के पीछे आया। एक भावुक राष्ट्रवादी, बोस भारतीय सैनिकों की दुर्दशा के प्रति सहानुभूति रखते थे, और उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए जोरदार लड़ाई लड़ी थी। इसके कारण, उन्हें प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 'राज्य विरोधी गतिविधियों' के लिए कैद किया गया था। जेल की दीवारों के पीछे, उन्होंने सीखा कि कैसे भारतीय सैनिक उचित रेनकोट (raincoats), ग्राउंडशीट (groundsheets) और यहां तक ​​कि जूते के बिना कठोर क्षेत्रों में संघर्ष कर रहे थे।अपनी रिहाई के बाद, बोस ने अपने भाइयों, अजीत मोहन, जोगिंद्र मोहन और बिष्णुपाद के साथ, भारत में सस्ती लेकिन उच्च गुणवत्ता वाले रेनवियर (rainwear) बनाने के लिए अनूठी निर्माण विधि- डकबैक प्रक्रिया विकसित की। और इस तरह बंगाल वाटरप्रूफ वर्क्स, (Bengal Waterproof Works) एक लेटेक्स (latex) और रबर की फैक्ट्री दक्षिण कोलकाता के नज़र अली लेन (Nazar Ali Lane) में बोस परिवार के घर में शुरू हुई। बाद के वर्षों में, जैसे ही डकबैक तेजी से लोकप्रिय हो गया, बोस ने 1938 में एक बंद रबर फैक्ट्री (डिकॉन) ((Dicon)) खरीदी और विनिर्माण कार्यों को पानीहाटी में स्थानांतरित कर दिया। दो साल बाद, कंपनी का नाम बदलकर बंगाल वाटरप्रूफ लिमिटेड (Bengal Waterproof Limited) कर दिया गया, हालांकि इसकी पहचान सिर्फ डकबैक से बनी रही।डकबैक में स्कूल बैग, डाक अधिकारियों के लिए डाक बैग, बर्फ के थैले, गर्म पानी की बोतलें, ओवरशू (overshoes), रबर हील्स (rubber heels), गम बूट (gum boots), एयर पिलो (air pillows) और यहां तक ​​​​कि घोड़े के कवर से लेकर उत्पादों की काफी श्रृंखला थी। लेकिन, जनता के लिए इन मौसमी वियरेबल्स के अलावा, यह रक्षा क्षेत्र के लिए एक विशेष रहा का निर्माण भी कर रहा है।टेंट, ऑक्सीजन मास्क, स्नो एंकल बूट्स, रबरयुक्त इनफ्लेटेबल (inflatable) नावें, हेलीकॉप्टर लैंडिंग गियर (helicopter landing gear), लाइफ जैकेट (life jackets) से लेकर पायलटों के लिए जी (एंटी-ग्रेविटी) सूट (G (anti-gravity) suits ) के साथ-साथ पनडुब्बी एस्केप सूट (escape suits) , डकबैक भारतीय सेना में अपना योगदान दे रहा है।
लेकिन, कुछ दशकों के मोड़ के साथ, डकबैक के आसपास का परिदृश्य बदलने लगा। जैसे ही रबर की कीमतें 50 रुपये से बढ़कर 280 रुपये प्रति किलोग्राम हो गईं, और छात्रों, कंपनी का प्रमुख लक्ष्य समूह, पूल कारों और बसों को स्कूल ले जाना शुरू कर दिया, डकबैक के प्रीमियम रेनवियर (premium rainwear) की मांग सस्ते डिस्पोजेबल रेनकोट (disposable raincoats) के आगमन से घट गई, जो अक्सर स्थानीय स्तर पर बाजार में उपलब्‍ध थे। हालांकि, चुनौतियों के बावजूद, 2006 के आसपास, डकबैक एक फेदरवेट रेनकोट (featherweight raincoats), लेगिंग (leggings) और हुड (hoods) के साथ वाटरप्रूफ जैकेट (waterproof jackets) के साथ फिर से सबसे आगे आ गया, जिसने अपना ध्यान दोपहिया सवार आबादी पर केंद्रित कर दिया। अधिक शोध के साथ, इसने शैक्षिक उद्देश्यों के लिए राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के सहयोग से भारत के पहले परिवहन योग्य एस्ट्रोडोम (astrodomes) का निर्माण भी शुरू किया। इनमें से प्रत्येक इनफ्लेटेबल, रबरयुक्त एस्ट्रोडोम हल्के, आसानी से मुड़ने योग्य, आग प्रतिरोधी और जलरोधी सामग्री के साथ लेपित हैं। उसी की एक प्रतिकृति अब कोलकाता के तारामंडल में है, जिसे 'तारामंडल' के नाम से जाना जाता है।
भारतीय चमड़े के सामान को दुनिया भर में निर्यात किया जाता है। जिसमें जूते, चमड़े के वस्त्र, चमड़े के बैग, घोड़े की जीन, जल भरने के मशक, जल निकालने के चरस आदि शामिल हैं।मशक (mashak ) एक प्रकार का बैगपाइप (bagpipe ) है जो उत्तरी भारत, उत्तराखंड, सुदुरपशिम प्रांत (विशेषकर बैताडी और धारचुला जिले) और पाकिस्तान- अफगानिस्तान के कुछ हिस्सों में पाया जाता है। पाइप शादियों और उत्सव के अवसरों से जुड़ा था। भारत में यह ऐतिहासिक रूप से उत्तराखंड के गढ़वाल (कुमाऊं), राजस्थान और उत्तर प्रदेश में पाया जाता है। यह बैगपाइप सिंगल रीड (single reeds) का उपयोग करता है, और इसे ड्रोन (drone) के रूप में या माधुर्य यंत्र के रूप में बजाया जा सकता है। मशक शब्द की व्युत्पत्ति भारत में इसके आम उपयोग से उत्पन्न हुई है, जो पानी ले जाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली त्वचा की थैली का जिक्र करती है। यह स्किन बैग (skin bag ) बैग पाइप के एयर बैग (air bag) के समान कार्य करता है। चमड़ा बनाना एक ऐसी कला है जो कालातीत से चली आ रही है और हमारे देश के ताने-बाने में बुनी गई है। युगों से, कई राज्‍य बने और बिखरे किंतु चमड़ा उद्योग उत्‍तरोत्‍तर बढ़ता ही गया, चमड़ा उद्योग के साथ-साथ चमड़ा बनाने की विरासत इन सब से बची रही।भारत में चमड़े के उत्‍पादों का लिखित उल्‍लेख वैदिक काल से ही मिलता है, हालांकि इसका उपयोग उससे भी काफी पहले प्रारंभ हो गया था।एक साहसी अन्वेषक मार्को-पोलो (Marco- polo ) पहले व्यक्ति थे, जिनके लेख में 1800 के दशक में चमड़ा निर्माण उद्योग के प्रारंभिक शुरुआत का उल्‍लेख किया गया है। अपने लेख में, उन्होंने उल्लेख किया है कि "चमड़ा निकालना और इससे उत्‍पाद निर्माण करना गुजरात के 42 उद्योगों में से दो सबसे महत्वपूर्ण उद्योग थे। हर साल कई जहाज बकरियों, बैलों, भैंसों और अन्य जानवरों की खाल से लदे अरब जाते थे। जिससे भांति भांति के उत्‍पाद तैयार किए जाते थे।मध्‍यकालीन भारत के दौरान चमड़ा बनाने की गतिविधियाँ मुख्य रूप से गाँव के चमारों के हाथों में थी और स्थानीय जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त थीं। अंतर्राष्ट्रीय निर्यात बाद में वर्ष 1880 के बाद शुरू हुआ। हाल के एक सर्वेक्षण के अनुसार, देश में वर्तमान में 2091 विनिर्माण इकाइयाँ हैं, जिनमें से 1803 इकाइयाँ छोटे पैमाने के क्षेत्र में हैं और 288 बड़े पैमाने की इकाइयाँ हैं जो लगातार बढ़ती और मांग करने वाली आबादी की जरूरतों को पूरा करती हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3CCFo7r
https://bit.ly/3r5tXCX
https://bit.ly/3CMZlrX
https://bit.ly/3xhCYKb

चित्र संदर्भ   
1. होल्डॉल अक्सर सूटकेस (suitcase) के स्थान पर या खेल उपकरण ले जाने के लिए उपयोग किया जाता है, जिसको दर्शाता एक चित्रण (indiamart)
2. होल्‍डॉल (holdall) को दर्शाता एक चित्रण (amazon)
3. गम बूट (gum boots), को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. कंधे पर मशक लटकाए मुस्लिम युवक को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id