शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के इलाज में अत्यधिक सहायक है, कला

जौनपुर

 11-11-2021 08:32 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

कला एक ऐसा कार्य है, जिसे कोई व्यक्ति चाहे बनाए या सिर्फ केवल देखे, दोनों ही रूपों में आनंद प्रदान करती है। इसलिए यह कई लोगों के लिए एक आरामदायक और प्रेरक गतिविधि है। हालांकि,कलात्मक अभिव्यक्ति से जो मुख्य लाभ होता है, वह आराम और आनंद से भी बढ़कर है। अध्ययनों से पता चलता है कि कला चिकित्सा अवसाद, चिंता, अभिघातजन्य तनाव विकार और यहां तक कि कुछ फोबिया (Phobia) जैसे मुद्दों के इलाज में बहुत मूल्यवान हो सकती है। यह शब्दों के बिना अपनी भावनाओं को व्यक्त करने, जटिल भावनाओं को संसाधित करने और राहत पाने का एक शानदार तरीका है।
कला चिकित्सा, एक विशिष्ट विषय है जिसमें दृश्य कला मीडिया के माध्यम से अभिव्यक्ति के रचनात्मक तरीकों को शामिल किया जाता है। कला चिकित्सा, एक रचनात्मक कला चिकित्सा पेशे के रूप में, कला और मनोचिकित्सा के क्षेत्र में उत्पन्न हुई है, जिसकी परिभाषाएं भिन्न- भिन्न हो सकती हैं। कला चिकित्सा को नियोजित करने के तीन मुख्य तरीके हैं। पहले तरीके को विश्लेषणात्मक कला चिकित्सा कहा जाता है, जो उन सिद्धांतों पर आधारित है जो विश्लेषणात्मक मनोविज्ञान और मनोविश्लेषण से सम्बंधित हैं। विश्लेषणात्मक कला चिकित्सा ग्राहक, चिकित्सक और उन विचारों पर केंद्रित है जो कला के माध्यम से उन दोनों के बीच स्थानांतरित होते हैं। कला चिकित्सा का उपयोग करने का एक अन्य तरीका कला मनोचिकित्सा है। यह तरीका या दृष्टिकोण मनोचिकित्सक और मौखिक रूप से उनके ग्राहकों की कलाकृति के उनके विश्लेषण पर अधिक केंद्रित है। तीसरे तरीके में कला का अभ्यास चिकित्सा के रूप में किया जाता है, तथा यह माना जाता है, कि ग्राहक की कलाकृति का मौखिक रूप से विश्लेषण करना आवश्यक नहीं है,इसलिए वे इसके बजाय कला की निर्माण प्रक्रिया पर जोर देते हैं। कला चिकित्सा के सिद्धांतों में मानवतावाद, रचनात्मकता, भावनात्मक संघर्षों को सुलझाना, आत्म-जागरूकता को बढ़ावा देना और व्यक्तिगत विकास शामिल है।कला का उपयोग पूरे इतिहास में संचार,आत्म-अभिव्यक्ति, समूह संपर्क, निदान और संघर्ष समाधान के साधन के रूप में किया गया है। हजारों वर्षों से, दुनिया भर की संस्कृतियों और धर्मों ने उपचार प्रक्रिया में नक्काशीदार मूर्तियों और आकर्षण के साथ-साथ पवित्र चित्रों और प्रतीकों के उपयोग को शामिल किया है। एक अद्वितीय और सार्वजनिक रूप से स्वीकृत चिकित्सीय दृष्टिकोण के रूप में कला चिकित्सा की स्थापना हाल ही में, 20 वीं शताब्दी के मध्य में हुई है।एक पेशे के रूप में कला चिकित्सा का उदय स्वतंत्र रूप से और एक साथ संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) और यूरोप (Europe) में हुआ।शब्द "आर्ट थेरेपी" (Art Therapy) का प्रयोग 1942 में ब्रिटिश कलाकार एड्रियन हिल (Adrian Hill) द्वारा किया गया था,जिन्होंने तपेदिक से उबरने के दौरान पेंटिंग और ड्राइंग के स्वास्थ्य लाभों की खोज की थी।1940 के दशक में,मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई लेखकों ने इलाज में लोगों के साथ अपने काम का वर्णन "कला चिकित्सा" के रूप में करना शुरू किया।चूंकि उस समय कोई औपचारिक कला चिकित्सा पाठ्यक्रम या प्रशिक्षण कार्यक्रम उपलब्ध नहीं थे, इसलिए इन देखभाल प्रदाताओं को अक्सर अन्य विषयों में शिक्षित किया जाता था और मनोचिकित्सकों,मनोवैज्ञानिकों या अन्य मानसिक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों द्वारा पर्यवेक्षण किया जाता था। ब्रिटेन (Britain) में कला चिकित्सा के अन्य शुरुआती समर्थकों में ई.एम. लिडियट (E. M. Lyddiatt), माइकल एडवर्ड्स (Michael Edwards), डायना राफेल-हॉलिडे (Diana Raphael- Halliday) और रीटा सिमंस (Rita Simons) शामिल हैं। 1964 में ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ आर्ट थेरेपिस्ट्स (British Association of Art Therapists) की स्थापना भी की गई।अमेरिकी कला चिकित्सा के अग्रणियों में मार्गरेट नौम्बर्ग (Margaret Naumburg) और एडिथ क्रेमर (Edith Kramer) का नाम भी शामिल है। वर्तमान समय में कला चिकित्सा इसलिए लोकप्रिय हो रही है, क्यों कि स्वास्थ्य लाभ में इसके अत्यधिक सकारात्मक प्रभाव देखे गये हैं।कला चिकित्सा का उपयोग पारंपरिक मानसिक स्वास्थ्य उपचार के पूरक के रूप में किया जा सकता है। इसका उद्देश्य व्यवहारों को प्रबंधित करना, भावनाओं को संसाधित करना, तनाव और चिंता को कम करना और आत्म-सम्मान को बढ़ाना है।कला चिकित्सा गतिविधियों के मानसिक स्वास्थ्य लाभ को हम निम्नलिखित प्रकार से समझ सकते हैं :
आत्म-खोज: कला बनाने से आपको उन भावनाओं को पहचानने में मदद मिल सकती है जो आपके अवचेतन में छिपी हुई हैं।
आत्म-सम्मान:कला निर्माण से आपको आत्म-उपलब्धि की भावना प्राप्त होगी जो आपकी आत्म- प्रशंसा और आत्मविश्वास को बेहतर बनाने में बहुत मूल्यवान हो सकती है।
भावनात्मक मुक्ति: कला चिकित्सा का सबसे बड़ा लाभ आपको अपनी सभी भावनाओं और आशंकाओं को व्यक्त करने और उन्हें दूर करने के लिए एक स्वस्थ आउटलेट (Outlet) देना है। उदासी या क्रोध जैसी जटिल भावनाओं को कभी-कभी शब्दों से व्यक्त नहीं किया जा सकता, इसलिए जब आप खुद को व्यक्त करने में असमर्थ होते हैं, लेकिन भावनात्मक मुक्ति चाहते हैं, तो कला बनाना आपको ऐसा करने में मदद कर सकता है।
तनाव से राहत: चिंता, अवसाद या भावनात्मक आघात से लड़ना आपके लिए मानसिक और शारीरिक रूप से बहुत तनावपूर्ण हो सकता है। कला का निर्माण तनाव को दूर करने और मन और शरीर को आराम देने के लिए किया जा सकता है। भारत में कला चिकित्सक का पेशा अभी बहुत अच्छी तरह से फला-फूला नहीं है। हालांकि पूरे भारत भर में कुछ ऐसे परामर्श केंद्र हैं, जो कला चिकित्सा की पेशकश करते हैं। इनमें अंधेरी वेस्ट, मुंबई में स्थित अनंतारा कला-आधारित चिकित्सा, ऑरोविल, पांडिचेरी (Auroville, Pondicherry) में स्थित संकल्प, कफपरेड, मुंबई में स्थित ब्लिसफुल माइंड थेरेपी सेंटर (Blissful Mind Therapy Center, Cuffe Parade),अंधेरी वेस्ट, मुंबई में स्थित अर्थ परामर्श और कला आधारित चिकित्सा, नई दिल्ली में स्थित अभ्यंतर हीलिंग आर्ट्स (Abhyaantar Healing Arts) शामिल हैं। कला चिकित्सा को कई तरह से परिभाषित किया जा सकता है,लेकिन इसे परिभाषित करने का सबसे सरल तरीका चिकित्सीय संदर्भ में दृश्य कलाओं का अनुप्रयोग है। कलात्मक अभिव्यक्ति के कुछ चिकित्सीय लाभों का अनुभव करने के लिए आपको एक चिकित्सक को देखने की आवश्यकता नहीं है। ऐसी कई सरल गतिविधियाँ हैं जिन्हें आप अपने घर में आराम से कर सकते हैं जैसे कि आर्ट जर्नलिंग (art journaling), स्केचिंग, कोलाज बनाना, मिट्टी से मूर्तिकला आदि। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सा माध्यम चुनते हैं। हालांकि, एक लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक के साथ काम करने के भी अनेकों फायदे हैं क्योंकि एक पेशेवर प्रत्येक गतिविधि को आपकी अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप बना सकता है। कला चिकित्सा का प्रयोग बच्चों, किशोरों और वयस्कों को उनकी भावनाओं का पता लगाने, उनके आत्म-सम्मान में सुधार करने, व्यसनों का प्रबंधन करने, तनाव को दूर करने, चिंता और अवसाद के लक्षणों में सुधार करने और शारीरिक बीमारी या विकलांगता से निपटने में मदद करता है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3o9olV7
https://bit.ly/31EeKy1
https://bit.ly/3qmjva0
https://bit.ly/3H6FNm0
https://bit.ly/3bQMytM

चित्र संदर्भ

1. सभी रंगों से मिश्रित की गई शानदार चित्रकारी को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2  चित्रकारी करते चित्रकार को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. औद्योगिक कार्यशालाओं में ग्राफ पेपर पर कालीनों के डिजाइन बनाने में व्यस्त दो कलाकारों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. विभिन्न प्रकार की कलाओं से निर्मित चेहरों का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id