समुद्रों से कच्चा तेल कैसे प्राप्त होता है तथा तेल के रिसाव के गंभीर परिणाम

जौनपुर

 04-11-2021 08:41 PM
समुद्री संसाधन

आपको यह जानकर संभवतः आश्चर्य हो सकता है की, “पृथ्वी के लगभग 70% हिस्से में केवल समुद्र ही है” इंसान और बाकी बचे जीव जंतुओं के हिस्से में केवल 20 या 30 प्रतिशत भूमि ही आती हैं। किंतु मात्र इतनी भूमि भी हमारे लिए पर्याप्त हैं। हालांकि इन विशालकाय समुद्रों पर कई बड़े- बड़े देशों की अर्थव्यवस्थाएं निर्भर करती हैं, जिन्होंने समुद्र में अकूत मात्रा में छिपी बहुमूल्य समुद्री संपदा को बेचकर अपार धन अर्जित किया हैं।

समुद्री संपदा क्या होती हैं?
दरअसल समुद्रों में प्राकृतिक गैसों और तेल के रूप में ईंधन के विशाल भंडार पाए जाते हैं, जिन्हें निकालकर और बेचकर बड़ी-बड़ी कंपनियां एवं देश भारी मुनाफा कमाते हैं। पृथ्वी के पूरे इतिहास में, समुद्री शैवाल और भूमि पौधों के अवशेषों से प्राकृतिक गैस और खनिज तेल का निर्माण हुआ है। आज आधुनिक ड्रिलिंग तकनीकों और विशाल माध्यमों का उपयोग करके, इन संसाधनों को और अधिक गहराई से निकाला जाना संभव हो गया है। उत्पादन प्रणालियाँ समुद्र तल पर भी स्थापित की जा रही हैं। दरअसल प्राकृतिक गैस और तेल सैकड़ों लाखों वर्षों में मृत कार्बनिक पदार्थों से बनते हैं, जो समुद्र, झीलों और दलदलों के तल पर जमा हो गए थे। तेल मुख्य रूप से मृत सूक्ष्म शैवाल, या फाइटोप्लांकटन (phytoplankton) से बनता है, जबकि कोयला और प्राकृतिक गैस मुख्य रूप से भूमि पौधों से प्राप्त होती है। मृत बायोमास सामान्य रूप से पानी में विघटित हो जाता है, जहां यह बैक्टीरिया द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड और पानी में टूट जाता है। इस प्रक्रिया में ऑक्सीजन की खपत होती है। इस प्रकार, समय के साथ, कई सौ या हजार मीटर मोटे बायोमास के पैकेज समुद्र तल पर जमा हो सकते हैं। यह आमतौर पर समुद्र की गहराई के तापमान पर निर्भर करता है की, बायोमास से प्राकृतिक गैस या खनिज तेल बनेगा अथवा नहीं। पिछले लाखों वर्षों से महीन चट्टान और मिट्टी के कण पहाड़ों और समतल भूमि से समुद्र में जाकर मिल जातें हैं, जो की शैवाल बायोमास के रूप में कार्बनिक-समृद्ध कीचड़ में बदल गया था। लाखों वर्षों की अवधि में, कार्बनिक कीचड़ का इतना अधिक हिस्सा समुद्र तल पर जमा हो गया था कि, अपने भारी वजन के कारण, यह धीरे-धीरे मिट्टी के पत्थर और अंत में मिट्टी से समृद्ध शेल में संकुचित और कठोर हो गया। जानकार मानते हैं की, आज भी इन झरझरा शेल परतों में 2000 से 4000 मीटर की गहराई पर और 65 से 120 डिग्री सेल्सियस के बीच के तापमान पर बायोमास का तेल में परिवर्तन हो रहा है। इस तापमान सीमा को "तेल खिड़की (Oil Window)" कहा जाता है। समुद्र में विभिन्न यौगिकों के मिश्रण द्वारा निर्मित कच्चे तेल को रिफाइनरियों में छोटी आणविक श्रृंखलाओं में विभाजित किया जाता है। विभाजन प्रक्रिया को "क्रैकिंग (cracking)" कहा जाता है।
समुद्रों से प्राप्त कच्चे तेल से न केवल पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन का उत्पादन होता है, बल्कि इससे एथिलीन गैस और प्रोपलीन गैस भी निर्मित होती हैं। जिनका उपयोग प्लास्टिक उत्पादन और कई अन्य अनुप्रयोगों में किया जाता हैं। हालांकि समुद्र का यह बहुमूल्य उपहार कई बार इंसानी गलतियों के कारण पर्यावरण संरक्षण के संदर्भ में सबसे बड़े अभिशाप के रूप में भी परिवर्तित हो जाता है?
समुद्री तेल रिसाव!
समुद्र से कच्चे तेल को प्राप्त करने के लिए दुनियाभर के महासागरों में तेल उत्पादन इकाइयाँ स्थापित की गई हैं। जिनमे से एक हमारे हमारे देश भारत के कैम्बे क्षेत्र की खाड़ी में, मुंबई के पश्चिमी तट से 176 किमी दूर भी स्थित है। जिसे मुंबई हाई फील्ड, अथवा पहले बॉम्बे हाई फील्ड कहा जाता है, यह एक अपतटीय तेल क्षेत्र है, जो लगभग 75 मीटर पानी में है। तेल संचालन भारत के तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) द्वारा चलाया जाता है। कच्चा तेल जिसे समुद्र की गहराइयों से मशीनों का प्रयोग करके ऊपर समुद्र की सतह पर लाया जाता है, यदि वह तेल किन्ही कारणों से समुद्र की सतह में ही रिसने या लीक होने लगे अथवा इन इकाइयों में यदि आग लग जाएँ, तो यह हमारे भूमि और समुद्री पर्यावरण को वृहद स्तर पर नुकसान पहुंचा सकती हैं। मानवीय गतिविधियों के कारण तरल पेट्रोलियम हाइड्रोकार्बन का पर्यावरण में मुक्त होने की प्रक्रिया तेल रिसाव कहलाती है, तथा यह एक प्रकार का प्रदूषण है। तेल रिसाव के दौरान तेल समुद्र में अथवा तटीय जल में मिल जाता है। तेल रिसाव मुख्य रूप से कच्चे तेल के टैंकर से, अपतटीय प्लेटफार्म से, खुदाई उपकरणों से तथा कुओं के रिसाव से होता हैं। समुद्र में फैले रिसाव को साफ करने में महीनों या सालों लग सकते हैं। इसके अलावा, तेल रिसाव भी वायु गुणवत्ता को नुकसान पहुंचा सकता है। कच्चे तेल में रसायन ज्यादातर हाइड्रोकार्बन होते हैं, जिनमें बेंजीन, टोल्यूनि, पॉली-एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन और ऑक्सीजन युक्त पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन जैसे जहरीले रसायन होते हैं। ये रसायन मानव शरीर में सांस लेने पर प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव डाल सकते हैं।
तेल रिसाव प्रदूषण का पर्यटन और समुद्री संसाधन निष्कर्षण उद्योगों पर आर्थिक प्रभाव पड़ सकता है। उदाहरण के लिए, डीपवाटर होराइजन तेल रिसाव ने खाड़ी तट के साथ समुद्र तट पर्यटन और मछली पकड़ने को बुरी तरह प्रभावित किया। तेल रिसाव वायु प्रदूषण का भी कारण बनता हैं। उदाहरण के तौर पर कुवैती तेल इकाई में लगी आग ने भयंकर वायु प्रदूषण पैदा किया जिससे सांस लेने में तकलीफ हुई। समुद्र में फैले हुए कच्चे तेल से पक्षियों, मछलियों, शंख और क्रस्टेशियंस के लिए अस्तित्व का खतरा उत्पन्न हो सकता है। तेल पक्षियों के पंख और स्तनधारियों के फर की संरचना में घुसकर उनकी इन्सुलेट क्षमता को कम करता है, और उन्हें तापमान में उतार-चढ़ाव और पानी में बहुत कम उछाल के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। ऐसे जीव जंतु जो अपने बच्चों या माताओं को खोजने के लिए गंध पर निर्भर होते हैं, वे अपने बच्चों अथवा माता पिता से आने वाली तेल की तेज़ गंध के कारण उन्हें पहचान ही नहीं पाते। इस प्रकार बच्चे को अस्वीकार कर दिया जाता है ,और छोड़ दिया जाता है, जिससे बच्चे भूखे मर जाते हैं। समुद्री तेल एक पक्षी की उड़ने की क्षमता को कम कर सकता है, यह उनके पाचन तंत्र को प्रभावित करता हैं और गुर्दे की क्षति का कारण भी बन सकता हैं। तेल एक जानवर को अंधा भी कर सकता है, जिससे वह रक्षाहीन हो जाता है। और फेफड़ों या यकृत में तेल में प्रवेश करने से उनकी मृत्यु हो सकती है। इसके अलावा, तेल रिसाव भी वायु गुणवत्ता को नुकसान पहुंचा सकता है। कच्चे तेल में रसायन ज्यादातर हाइड्रोकार्बन होते हैं जिनमें बेंजीन, टोल्यूनि, पॉली-एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन और ऑक्सीजन युक्त पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन जैसे जहरीले रसायन होते हैं। ये रसायन मानव शरीर में सांस लेने पर प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव डाल सकते हैं। सोचिये की यदि परिणाम इतने गंभीर हैं तो हमें समुद्री तेल निकासी से संबंध में कितने कठोर कानूनों और व्यापक जागरूकता की आवश्यकता है?

संदर्भ
https://bit.ly/3EIEqrt
https://bit.ly/2ZSZCMw
https://bit.ly/3bGwoTy
https://bit.ly/3nZRmCL
https://bit.ly/3GSCwq4
https://en.wikipedia.org/wiki/Oil_spill

चित्र संदर्भ
1. समुद्री तेल संयंत्र का एक चित्रण (flickr)
2  प्राकृतिक गैस एवं तेल संयंत्र को दर्शाता एक चित्रण (supplyht)
3. विश्व तेल भंडार का एक चित्रण (wikimedia)
4. समुद्री तेल रिसाव को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5. काला सागर तेल रिसाव से तेल में ढके एक पक्षी को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia



RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id