दीवारों पर चित्रकला अर्थात भित्तिचित्रों का सफर

जौनपुर

 29-10-2021 06:56 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

आपने यह तो अवश्य सुना होगा की "दीवारों के कान होते हैं"। हालांकि इस बात में कितनी प्रमाणिकता है, यह तो नहीं कहा जा सकता किंतु यह अवश्य साबित किया जा सकता है की "दीवारों की अपनी एक जुबान अथवा भाषा" भी होती है, जिसके माध्यम से वे किसी एक पीढ़ी के संदेश दूसरी पीढ़ी को संप्रेषति करती हैं। इस मूक भाषा को हम "भित्ति चित्र (Murals)" के नाम से संबोधित करते हैं।
दीवारों पर की जाने वाली चित्रकारी को भित्तिचित्र कहा जाता है। भित्तिचित्र कला (Mural) को चित्रकारी की सबसे पुरानी चित्रकला माना जाता है। प्रागैतिहासिक युग के ऐतिहासिक रिकॉर्ड में मिट्टी के बर्तनों के निर्माण के कुछ समय बाद लोग, मिट्टी का प्रयोग दीवारों पर चित्र बनाने के लिये करने लगे। भित्तिचित्र शब्द इतालवी भाषा से आया है और "भित्तिचित्र" का शाब्दिक अर्थ "खरोंच" होता है। प्राचीनतम भित्तिचित्र लिखित भाषा के विकास से पहले बनाए गए थे। अर्जेंटीना के सांताक्रूज (Santacruz, Argentina) में स्थित "क्यूवा डे लास मानोस (Cueva de las Manos)" (हाथों की गुफा), प्राचीनतम आकर्षक प्राचीन भित्तिचित्रों में से एक है। यह भित्ति पेंटिंग 13,000 से 9,000 ईसा पूर्व की है। प्राचीन यूनानी शहर इफिसुस (आधुनिक तुर्की में स्थित) में "आधुनिक शैली" भित्तिचित्र का पहला ज्ञात उदाहरण प्राप्त होता है। इसमें एक पैर, एक हाथ, एक दिल और एक संख्या का चित्र शामिल है, स्थानीय गाइड के अनुसार यह तत्कालीन वेश्यावृत्ति का विज्ञापन है। प्राचीन रोमवासियों ने भी दीवारों और स्मारकों पर भित्तिचित्रों को उकेरा था। रोम, इटली के पास स्थित एक कमरे की दीवार पर अलेक्सामेनोस भित्तिचित्र, 200 ईस्वी के आसपास बनाया गया था और यह ईसा मसीह की सबसे पुरानी ज्ञात छवि भी है। भारतीय भित्ति चित्रों का इतिहास दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से 8वीं - 10वीं शताब्दी ईस्वी तक प्राचीन और प्रारंभिक मध्ययुगीन काल में शुरू होता है। पूरे भारत में लगभग 20 से अधिक ऐसे स्थान ज्ञात हैं जिनमें इस अवधि के भित्ति चित्र मौजूद हैं। भित्ति चित्र मुख्य रूप से प्राकृतिक गुफाओं और रॉक-कट कक्षों में बनाए गए हैं। इनमें अजंता की गुफाएं, बाग, सिट्टानवसल, अरमामलाई गुफा (तमिलनाडु), एलोरा गुफाओं में कैलासनाथ मंदिर, रामगढ़ और सीताबिनजी शामिल हैं। इस अवधि के भित्ति चित्र मुख्य रूप से बौद्ध, जैन और हिंदू धर्मों के धार्मिक विषयों को दर्शाते हैं। हालांकि छत्तीसगढ़ की सबसे पुरानी ज्ञात चित्रित गुफा और रंगमंच शामिल जैसे जोगीमारा और सीताबेंगा गुफाओं जैसे कुछ स्थानों में पेंटिंग धर्मनिरपेक्ष थीं। भारत विश्व की महानतम चित्रकारी की परंपराओं में से एक है। हमारे द्वारा प्राचीन समय में ही चित्रकारी में उच्च स्तर की तकनीकी उत्कृष्टता हासिल कर ली गई थी। जिसके कुछ बेहतरीन उदाहरण नीचे दिए गए हैं।
1.अजंता भित्तिचित्र :अजंता भित्तिचित्र (चट्टानों या गुफाओं जैसे ठोस पदार्थों पर उकेरी गई पेंटिंग), भारत के सबसे पुराने चित्रों में से हैं। अजंता चित्रों की रचना दो चरणों में की गई थी, प्रारंभिक चित्रों को दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में विकसित किया गया था, जबकि दूसरा चरण 5 वीं शताब्दी ईस्वी के आसपास शुरू हुआ था। यह गुफा चित्रकारी मुख्य रूप से बुद्ध और जातकों के जीवन पर केंद्रित है, जिसमें कलाकारों द्वारा उकेरी गई सुंदरता और कोमलता का एक बड़ा हिस्सा है। इन अजंता चित्रों द्वारा विरासत में मिली चित्रकला की परंपरा को विष्णुधर्मोत्तारा पुराण के चित्रसूत्र के रूप में प्रलेखित किया गया था।
2.केरल भित्तिचित्र: केरल में चित्रकारी का एक गौरवपूर्ण इतिहास रहा है, जिसमें विशेष रूप से भित्ति चित्र अर्थात दीवारों और पत्थरों पर की गई पेंटिंग शामिल हैं। केरल के सभी प्रमुख मंदिरों, महलों और चर्चों में ऐसे भित्ति चित्रों की सुंदर प्रदर्शनी स्थापित हैं। जानकारों के अनुसार केरल में दीवारों पर पेंटिंग की परंपरा इडुक्की जिले की अंजनाद घाटी में पाए जाने वाले प्रागैतिहासिक शैल चित्रों से शुरू हुई। पुरातत्वविदों के अनुसार ये चित्र ऊपरी पुरापाषाण काल ​​से लेकर प्रारंभिक ऐतिहासिक काल तक की अवधियों के हैं। वायनाड में एडक्कल और केरल में तिरुवनंतपुरम जिले के पेरुमकदविला में मेसोलिथिक काल के रॉक उत्कीर्णन के स्थल हैं।
3.बाग भित्तिचित्र: भारत में मध्य प्रदेश की बाग गुफाओं में मौजूद भित्तिचित्र बौद्ध वास्तुकला के सबसे प्रसिद्ध रूपों में से एक हैं। यह चित्रकारी अपनी स्थापत्य शैली के आधार पर 7वीं शताब्दी की मानी जाती हैं। मूल रूप से ये नौ गुफाएं थीं, किन्तु उनमें से केवल पांच ही समय की कसौटी पर खरी उतर सकीं अर्थात सुरक्षित रह सकी।
4. एलोरा में कैलासनाथ मंदिर: एलोरा में कैलासनाथ मंदिर 8 वीं शताब्दी के राष्ट्रकूट शासक कृष्ण के काल का माना जाता है। यह दक्षिण भारतीय शैली में निर्मित एक विशाल रॉक कट अखंड मंदिर है। मंदिर अपनी स्थापत्य भव्यता और भित्तिचित्रों के साथ-साथ अपने मूर्तिकला वैभव के लिए जाना जाता है। भित्ति चित्रकला का चलन आज भी लोकप्रिय है, किन्तु आज यह अपना रूप पूरी तरह से बदल चुका है। आज दीवारों पर स्प्रे के जरिये चित्रकारी की जाती हैं और यह चित्रकला अनेक उद्द्येश्यों की पूर्ति करती है। हालांकि आधुनिक भित्ति चित्रकला का प्रचलन पश्चिमी देशों में अधिक था, किन्तु पिछले एक दशक से भी कम समय से हमारे देश में भी में स्ट्रीट आर्ट एक रोष का विषय बन गया है। भित्तिचित्र कलाकारों की संख्या में एक विस्फोट हुआ है, जिनमें से अधिकांश ने स्थापित पश्चिमी समकक्षों का अनुसरण किया है। भारत में आज भित्तिचित्र न केवल लोकप्रिय हो गए हैं , बल्कि एक संपन्न पेशा भी बन गया है। भित्ति चित्रों के माध्यम से अपनी भावनाओं और आक्रोश और किसी घटना को सम्प्रेषित करना बेहद आसान है। जिस कारण भारत में 'स्ट्रीट आर्ट' के रूप ने अपार लोकप्रियता हासिल की है, उदाहरण के लिए, बेंगलुरु के दृश्य कलाकार शीलो शिव सुलेमान, भित्ति चित्र और स्ट्रीट आर्ट बनाते हैं जो महिलाओं के मुद्दों को बढ़ावा देते हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3jFMAJ1
https://bit.ly/3CpFgIS
https://bit.ly/3mlwpTb
https://bit.ly/3vZPpda
https://bit.ly/3Emhga9

चित्र संदर्भ
1.अजंता गुफाओं में जातक कथाओं को संदर्भित करता 7वीं शताब्दी ई. का एक भित्ति चित्र (wikimedia)
2. अर्जेंटीना के सांताक्रूज (Santacruz, Argentina) में स्थित क्यूवा डे लास मानोस (Cueva de lasManos) (हाथों की गुफा), प्राचीनतम आकर्षक प्राचीन भित्तिचित्रों में से एक चित्रण (wikimedia)
3. अजंता भित्तिचित्र (चट्टानों या गुफाओं जैसे ठोस पदार्थों पर उकेरी गई पेंटिंग), भारत के सबसे पुराने चित्रों में से हैं, जिनको संदर्भित करता एक चित्रण (wikimedia)
4. भारत में मध्य प्रदेश की बाग गुफाओं में मौजूद भित्तिचित्र (wikimedia)
5. आधुनिक भित्तिचित्र (flickr)
 



RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id