मुहम्मद पैगंबर के जन्मदिन मौलिद के पाठ और कविताएँ

जौनपुर

 18-10-2021 11:35 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मुस्लिम समुदाय में मनाई जाने वाली “ईद” उन चुनिंदा पवित्र अवसरों में से एक होती है, जो अपने साथ अपार खुशियां और समृद्धि लाती है। शायद ऐसा इसलिए भी है, क्यों की अरबी, उर्दू और फ़ारसी जैसी व्यापक भाषाओँ में ईद शब्द का अर्थ ही "खुशी" या "हर्शोल्लास" होता है। आमतौर पर कहा जाता है की, मुसलमान केवल दो ही ईद मनाते हैं, ईद-उल-फ़ितर और ईद-उल-अज़हा लेकिन दुनियाभर के कई मुस्लिम बहुल देशों में पैगंबर मुहम्मद के जन्मदिन को भी ईद मिलाद-उन-नबी के नाम से मनाया जाता है। मौलिद के व्यापक ऐतिहासिक और सैद्धांतिक ढांचे को पैगंबर के जन्मदिन के उत्सव के रूप में वर्णित किया जाता है। ईकेलमैन Eckelmann (2005: 5788) द्वारा दी गई एक रिपोर्ट के अनुसार पैगंबर मुहम्मद के जन्म का पहला समारोह मिस्र में (909–1171) फातिमिद शासन के उत्तरार्ध के दौरान दर्ज किया गया। इसके बाद उत्तरी इराक में सार्वजानिक मौलिद आयोजित किया गया, और 13वीं शताब्दी के बाद से, मौलिद अनुष्ठान मुस्लिम समुदायों में व्यापक रूप से फ़ैल गए। ऐतिहासिक रूप से, मौलिद समारोहों की शुरुआत पैगंबर की अलौकिक विशेषताओं के उत्थान से जुड़ी थी। चूँकि ईद का अर्थ ख़ुशी होता है अतः ईद मिलाद-उन-नबी का मतलब “पैगंबर मुहम्मद या नबी के जन्म की ख़ुशी” होता है। इस्लाम के आख़िरी पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद (570-632) का जन्म सऊदी अरब के मक्का शहर में साल 570 ईस्वी में इस्लामिक वार्षिक कैलेंडर के तीसरे महीने रबी- उल-अव्वल की 12 तारीख़ को हुआ था। मीलाद उन-नबी इस्लाम धर्म के मानने वालों के कई वर्गों में एक प्रमुख त्यौहार है। इस शब्द का मूल मौलिद (Mawlid) है अरबी में इस शब्द का अर्थ "जन्म" होता है। अरबी भाषा में 'मौलिद-उन-नबी' (مَولِد النَّبِي) का मतलब “ हज़रत मुहम्मद का जन्म दिन” है। दुनिया भर में, पैगंबर मुहम्मद का जन्मदिन, मौलिद अल-नबी, रबी अल-अव्वल महीने के बारहवें दिन मनाया जाता है। जन्मदिन के समारोहों में , प्रार्थना सेवाओं, कविताओं और मुकदमों के पाठ के साथ ही साथ धार्मिक सभाएं आयोजित की जाती हैं। हरार (हरार पूर्वी इथियोपिया का एक शहर है।) में मौलिद परंपरा से संबंधित विभिन्न ग्रंथों वाली पांडुलिपियां व्यापक रूप से प्रयोग की जाती हैं। ड्रूज़ Druze (1983) ने मुहम्मद की सेंचुरी लाइब्रेरी में संबंधित ग्रंथों (texts) की कम से कम बारह पांडुलिपियों को सूचीबद्ध किया। अन्य ग्रंथों के बीच, पैगंबर को समर्पित आठ और ग्रंथ और समारोहों में उपयोग की जाने वाली आवृत्ति, और तीन अज्ञात मावलीद पांडुलिपियां शामिल हैं। इनमें से कई ग्रंथ आज भी हरार में पढ़े जाते हैं। पैगंबर के जन्म के बारे में सबसे शुरुआती किताबों में से एक "अंडालूसी (Andalusian) है, जिसे इब्न दीह्या नामक लेखक द्वारा रचा गया है। हरारी मौलिद पुस्तक में कई धार्मिक गीतों को दिलचस्प रूप से सम्मिलित किया गया है। हजरत मुहम्मद के जन्मदिन से जुड़ा हुआ 700 वर्ष पुराना एक मावलिद कविताओं का तुर्की संस्करण भी है। यह कविता सुलेमान चेलेबी द्वारा लिखित हैं, जो अब्राहमिक परंपराओं में कुछ दुर्लभ दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है। यह कविता धार्मिक घटना को एक महिला चरित्र मामले में मुहम्मद की माँ, अमीना के दृष्टिकोण से देखने का मौका देती है। मुहम्मद के जन्म के उत्सव के रूप में संदर्भित होने के साथ-साथ, मौलिद शब्द 'मुहम्मद के जन्म समारोह में विशेष रूप से रचित और पाठित पाठ' या "उस दिन गाए जाने वाले पाठ" को भी संदर्भित करता है। यह पाठ अथवा कविताएं अरबी, कुर्द और तुर्की सहित कई भाषाओं में लिखी गई हैं। जिनमे मुहम्मद के जीवन से जुडी हुई कहानियां हैं। यह पाठ क्रम से नीचे संक्षेप में दिए गए हैं
1.मुहम्मद के पूर्वज (The Ancestors of Muhammad)
2.मुहम्मद की अवधारणा (The Conception of Muhammad)
3.मुहम्मद का जन्म (The Birth of Muhammad)
4.हलीमा . का परिचय (Introduction of Halima)
5.बेडौंस में युवा मुहम्मद का जीवन (Life of Young Muhammad in Bedouins)
6.मुहम्मद का अनाथपन (Muhammad's orphanhood)
7.अबू तालिब के भतीजे की पहली कारवां यात्रा (Abu Talib's nephew's first caravan trip)
8.मुहम्मद और खदीजा के बीच विवाह की व्यवस्था (Arrangement of Marriage between Muhammad and Khadija)
9.अल-इसरा'(Al-Isra)'
10.अल-मिरदज, या स्वर्ग के लिए उदगम (Al-Mi'raj, or the Ascension to heaven)
11.अल-हिरा, पहला रहस्योद्घाटन (Al-Hira, first revelation)
12.पहले इस्लाम में धर्मान्तरित (The first converts to Islam)
13.हिज्र (The Hijra)
14.मुहम्मद की मृत्यु (Muhammad's death)
ये पाठ केवल समारोहों का हिस्सा हैं। लोग मौलिद (Mawlid को कई अलग-अलग तरीकों से मनाते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि, वे कहां से हैं! मुस्लिम समाज में माना जाता है की जैसे चंद्रमा सूर्य के प्रकाश को दर्शाता है, वैसे ही मुहम्मद ब्रह्मांड पर अल्लाह के प्रकाश को प्रतिबिंबित करते हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3mPOesk
https://bit.ly/30z54od
https://en.wikipedia.org/wiki/Mawlid#Mawlid_texts

चित्र संदर्भ
1. कुरान का पाठ करते मुस्लिम परिवार का एक चित्रण (sutterstock)
2. मौलिद अभिवादन के बैनर का एक चित्रण (wikimedia )
3. मौलिद पांडुलिपि का एक चित्रण (persee.fr)
4. मौलिद संगीत सभा का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id