दशहरे का संदेश और मैसूर में त्यौहार की रौनक

जौनपुर

 14-10-2021 06:06 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

आज हम एक ऐसे समय में जी रहे हैं, जहां पलक झपकते ही पूरे परिदृश्य बदल जाते हैं! हर काम बड़ी ही तेज़ी के साथ पूरा हो जाता है। किंतु आधुनिकता के इस युग में लोग धीरे-धीरे अधीर हो रहे हैं, अर्थात कई लोग हर वस्तु को बिना अधिक संघर्ष करे, तुरंत पाने की चाह रखने लगे हैं! हालांकि किसी भी लक्ष्य अथवा वस्तु को जल्दी पाने की इच्छा रख्नने में कोई बुराई नहीं है, किंतु असल समस्या तब खड़ी होती है, जब लोग उसे पाने के लिए किसी भी मार्ग पर चलने को तैयार रहते है। भले ही वह मार्ग बुराई अथवा गैर कानूनी ही क्यों न हों! किंतु भारत में मनाए जाने वाले दशहरे जैसे पर्व अच्छाई की राह से भटक चुके उन लोगों के लिए उस अनुस्मारक (Reminder) की भांति है, जो यह बताता है की बुराई (सांकेतिक रूप से रावण) भले ही कितनी अधिक बलशाली क्यों न हो, अच्छाई (सांकेतिक रूप से प्रभु श्री राम) एक न एक दिन उसे परास्त कर ही देती है।
प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य रामायण के अनुसार दशहरा पर्व रावण पर श्री राम की जीत अर्थात बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। प्राचीन ग्रंथों के अनुसार रावण ने लक्षमण द्वारा अपनी बहन सूर्पनखा की नाक काटने का प्रतिशोध लेने के लिए श्री राम की पत्नी माता सीता का अपहरण कर लिया था। जिसके बाद प्रभु श्री राम और रावण के बीच एक भीषण युद्ध होता है, जिसमे धर्म के मार्ग पर चल रहे श्री राम को विजय प्राप्त होती है। अधर्म पर धर्म की विजय के इस अवसर को आज भी रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतलों को जलाकर जीत का जश्न मनाया जाता है।
दशहरा (दसवां दिन) नवरात्रि के नौ दिनों तक चलने वाले उत्सव का दसवां और अंतिम दिवस भी होता है। राम-रावण युद्ध के अलावा पुराणों का मत है कि, देवी दुर्गा ने भी इस दिन भैंस राक्षस महिषासुर को हराया और नष्ट कर दिया था। हिन्दू धर्म के अनुयाइयों द्वारा जीत के इस पर्व को विजयदशमी या दशहरा के रूप में मनाया जाता है। दशहरा और दुर्गा पूजा पूरे देश में एक ही समय में बड़े उत्साह के साथ और अलग-अलग अनुष्ठानों के साथ मनाई जाती है, यह अच्छाई पर बुराई की विजय का संदेश देता है। लंकापति रावण को भगवान शिव का परम भक्त माना जाता है, उसकी बुद्धि बेहद तीव्र थी। लेकिन वह एक क्रूर और अभिमानी दानव राज भी था। उसके दस सिर थे जिसने उसे दस विद्वानों के समान शक्तिशाली बना दिया। उसने अपनी अलौकिक शक्तियों का इस्तेमाल बुरे उद्देश्यों के लिए किया। संकेतात्मक रूप से रावण सांसारिक व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व करता है। जो भौतिकवादी वस्तुओं में मग्न है और जिसमें सत्ता लोभ, वासना, और लालच भरा पड़ा हैं। अपार बुद्धि, इतने ऊँचे स्तर और सोने के राज्य के बावजूद, रावण खुश नहीं रह सका। यह दर्शाता है की, यदि जीवन में ज्ञान तो है लकिन प्रेम और करुणा नहीं है तो, व्यक्ति अहंकारी हो जाता है। वही दूसरी और रावण के व्यक्तित्व के विपरीत अयोध्या के राजा राम को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता था, जिसका शाब्दिक अर्थ पूर्ण पुरुष या आत्म-नियंत्रण का स्वामी या सभी पुरुषों में सबसे श्रेष्ट होता है। राम ने अपने जीवन में अनेक कष्ट सहे और कठोर परीक्षाओं के बावजूद धर्म का पालन किया। अपने पिता के आदेश पर उन्होंने गृह त्याग किया, और 14 वर्षो के लिए वन में रहे। राम हमारे आध्यात्मिक व्यक्तित्व, स्वयं के प्रेम, शांति और आनंद की अनुभूति का प्रतिक हैं। जहाँ रावण अहंकार का प्रतीक है, और राम अच्छाई का प्रतीक है। शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्तर पर हर आदमी में अच्छाई (राम) और बुराई (रावण) के बीच द्वंद युद्ध चल रहा है। लेकिन अंत में अहंकार और नकारात्मकता को दिव्य ज्ञान, प्रेम और खुशी द्वारा परास्त कर दिया जाता है - यही रावण पर राम की जीत, अर्थात बुराई पर अच्छाई की जीत है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, रावण बहुत ही विद्वान और ज्ञाता पुरुष था। वह विश्रवा नाम के एक ऋषि और दैत्य राजकुमारी कैकेसी के पुत्र रूप में जन्मा था। मान्यताओं के अनुसार, रावण ने 64 प्रकार के ज्ञान, क्षत्रियों के कौशल और ब्राह्मणों की पवित्र पुस्तकों में महारत हासिल की थी। रावण ने हिंदू ज्योतिष पर एक शक्तिशाली पुस्तक रावण संहिता भी लिखी। रावण को आयुर्वेद और राजनीति विज्ञान का पूर्ण ज्ञान था। रावण को भगवान शिव का अनुयायी, एक महान विद्वान, एक सक्षम शासक और वीणा के उस्ताद के रूप में भी वर्णित किया गया है। हालंकि उसे अपने ज्ञान का घमडं और सत्ता का अहंकार भी था। पौराणिक कथाओं के अनुसार,उनके दस सिर, उसके 10 गुणों काम (वासना), क्रोध (क्रोध), मोह (भ्रम), लोभा (लालच), मद (अभिमान), मत्स्यस्य (ईर्ष्या), मानस (मन), बुद्धि (बुद्धि), चित्त (इच्छा) और अहंकार (अहंकार) का प्रतिनिधित्व करते हैं। अच्छाई पर बुराई के इस जश्न दशहरा को देशभर में बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है, किन्तु कर्नाटक के मैसूर में मनाया जाने वाला दशहरा स्वयं में अनूठा होता है, यहाँ पर दशहरा देवी चामुंडा द्वारा महिषासुर के वध करने के उपलक्ष में मनाया जाता है। महिषासुर वह दानव है जिसका देवी द्वारा वध करने से शहर का नाम मैसूरु पड़ गया। मैसूर में दशहरा उत्सव की शुरुआत विजयनगर के राजाओं के साथ 15 वीं शताब्दी में हुई थी। जहां इसे महानवमी और उत्सव को हम्पी कहा जाता था। आज भी दशहरा यहाँ एक शुभ दिन होता है, जिस दिन शाही तलवार की पूजा की जाती है, और हाथी, ऊँट और घोड़ों की झाकियों को भी शामिल किया जाता है। मैसूर शहर की सड़कों पर विजयदशमी के अवसर पर पारंपरिक दशहरा जुलूस (स्थानीय रूप से जंबो सावरी के रूप में जाना जाता है) का आयोजन होता है। इस जुलूस का मुख्य आकर्षण देवी चामुंडेश्वरी की मूर्ति होती है। जुलूस में शामिल करने से पूर्व इस मूर्ती की मूर्ति शाही जोड़े और अन्य आमंत्रितों द्वारा पूजा की जाती है। दशहरा उत्सव का समापन विजयादशमी की रात को बन्नीमंतप मैदान में आयोजित एक कार्यक्रम के साथ होता है, जिसे 'पंजिना कवयथ्थु' (मशाल-प्रकाश परेड) कहा जाता है। दशहरे के दौरान एक और प्रमुख आकर्षण दशहरा प्रदर्शनी है, जो मैसूर पैलेस के विपरीत प्रदर्शनी मैदान में आयोजित की जाती है। प्रदर्शनी की शुरुआत मैसूर के महाराजा चामराजा वोडेयार; चामराजा वोडेयार एक्स ने 1880 में मैसूर का विकास करने के उद्देश्य से की थी। इस प्रदर्शनी में कपड़े, प्लास्टिक की वस्तुएं, बरतन, सौंदर्य प्रसाधन और खाने-पीने की चीजें बेचने वाले विभिन्न स्टॉल स्थापित किए जाते हैं. जो लोगों का मुख्य आकर्षण होते हैं।
यहाँ चामुंडा देवी एक योद्धा के रूप में पूजनीय हैं, इसलिए दशहरा उत्सव में कई सैन्य परेड, सांस्कृतिक प्रदर्शन और एथलेटिक प्रतियोगिताएं होती हैं। मैइस अवसर पर मैसूर पैलेस (Mysore Palace) शानदार ढंग से सजाया जाता है।

संदर्भ
https://bit.ly/3mJw23G
https://bit.ly/3AvMwBj
https://bit.ly/3BzP0A2
https://bit.ly/3iVLtEK
https://bit.ly/3FAjVi2
https://en.wikipedia.org/wiki/Mysore_Dasara

चित्र संदर्भ
1. मैसूर दशहरे से लिया गया का एक चित्रण (youtube)
2. बुराई का प्रतीक माने जाने वाले रावण के जलते हुए पुतले का एक चित्रण (forbesindia)
4. शिव भक्त के रूप में रावण का एक चित्रण (newstrend)
5. मैसूर में दशहरे के दौरान जम्बो सवारी का एक चित्रण (youtube)



RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id