भारत के विभिन्न हिस्सों में नवरात्रि की विविधताएं

जौनपुर

 06-10-2021 09:50 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

सफलता की कोई निश्चित अथवा स्थिर परिभाषा नहीं होती, यह प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती है। उदाहरण के तौर पर अधिकांश लोगों के लिए अपार धन हासिल करना ही सफलता होती है। वही कुछ लोगों के लिए संसार के सभी प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर लेना ही सच्ची सफलता है। लेकिन क्या यह संभव है? शायद नहीं! क्यों की कोई भी सदा के लिए सबसे अधिक धनवान नहीं रह सकता, और न ही कोई संसार के सभी प्रश्नों के उत्तर जान सकता है। और यदि ऐसा है तो, सफलता की सच्ची परिभाषा क्या है? दरअसल आध्यत्मिक स्तर पर सफलता की एक अनोखी परिभाषा उभरकर सामने आती है, जिसके अनुसार "संसार के सभी प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करने की इच्छा के बजाय उन प्रश्नों का समाप्त हो जाना ही सच्ची सफलता है" और यह तभी संभव है जब आप ईश्वर के गहन रूप को अपने अंदर अनुभव करने लगें। और ईश्वर को जानने तथा उसका ध्यान करने और अपने भीतर उसकी उपस्थिति को अनुभव करने के लिए, नवरात्री के पवित्र नौ दिनों से बेहतर समय भला क्या हो सकता है? इन नौ दिनों की अवधि के दौरान किए गए उपवास, ध्यान, प्रार्थना और अन्य आध्यात्मिक अभ्यास हमारे मन और शरीर को गहन विश्राम देते हैं।
नवरात्रि के दौरान की जाने वाली प्रार्थना, जप और ध्यान हमें अपनी आत्मा से जुड़ने में सहायता करती हैं। जिससे हमारे भीतर सकारात्मक गुणों का आह्वान होता है और आलस्य, अभिमान, जुनून, लालसा और द्वेष का नाश होता है। प्राचीन काल से ही हमारा देश भारत आध्यात्मिक योगियों और विविधताओं का देश रहा है। यहां का खान- पान, बोली-भाषा, संस्कृति और परिधान इत्यादि, सब कुछ अनोखे तथा अद्वितीय रहे हैं। इस बात में भी कोई आश्चर्य नहीं है की, हमारे देश में, केवल भौगोलिक क्षेत्रों के अंतर से ही रीति-रिवाजों और पूजा करने के तरीके भी बदल जाते हैं। हालाँकि पूजा के रूप में दिया जा रहा संदेश एक ही हो सकता है, लेकिन उस संदेश को संप्रेषित करने का हमारा तरीका देश के हर हिस्से में अलग-अलग होता है। नवरात्रियों के दौरान देश की संस्कृति में यह शानदार विविधता स्पष्ट नज़र आती है। संस्कृत में नवरात्रि का शाब्दिक अर्थ नौ-रातें होता है। नवरात्रि के दौरान पूरे देश में नौ रातों और दस दिनों तक निरंतर देवी के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। यह समय विभिन्न सामाजिक समारोहों में शामिल होने के साथ-साथ अपने अंतर्मन की यात्रा के लिए भी सबसे उपयुक्त होता है। आइए हम पूरे भारत में नवरात्रि मनाने के विभिन्न तरीकों और शानदार विविधता पर एक नज़र डालते हैं।
1. पश्चिमी भारत में नवरात्रि: देश के पश्चिमी हिस्से में नवरात्रि, प्रसिद्ध गरबा और डांडिया-रास नृत्य के साथ मनाई जाती है। दरअसल गरबा. नृत्य का एक सुंदर रूप है, जिसमें महिलाएं एक दीपक के बर्तन के चारों ओर मंडलियों में सुंदर नृत्य करती हैं। शब्द 'गरबा' या 'गर्भ' का अर्थ है गर्भ, और इस संदर्भ में बर्तन में दीपक, प्रतीकात्मक रूप से गर्भ के भीतर जीवन का प्रतिनिधित्व करता है। गरबा अथवा डांडिया नृत्य में पुरुष और महिलाएं घुंघरू से सुंदर सजाई गई बांस की डंडियों के साथ जोड़े में नृत्य करते हैं। परंपरागत रूप से गुजरात में, निरंतर दस दिनों तक गरबा खेला जाता है, इसमें पुरुष, महिलाएं और यहां तक ​​कि बच्चे भी शामिल होते हैं।
गरबे की एक और दिलचस्प बात यह है की, आपको स्थान बदलने पर गरबे की शैली में भी विविधताएं नज़र आ जाएँगी। गुजरात में आश्विन महीने के पहले नौ दिनों तक भक्त 9 दिनों का उपवास रखते हैं, और माँ शक्ति की पूजा करते हैं।
2. पूर्वी भारत में नवरात्रि: पश्चिम बंगाल और उत्तर पूर्व भारत में शरद नवरात्रि के अंतिम पांच दिनों को दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है। आठवें दिन को दुर्गाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। देवी दुर्गा को हाथ में विभिन्न अस्त्र-शस्त्र धारण किये हुए शेर पर सवार दिखाया जाता है। जहां शेर धर्म, इच्छा शक्ति का प्रतीक है, जबकि हथियार हमारे दिमाग में नकारात्मकता को नष्ट करने के लिए आवश्यक गंभीरता को दर्शाते हैं। इस दौरान विभिन्न मंदिरों और अन्य स्थानों पर महिषासुर राक्षस को मारते हुए देवी दुर्गा की मिट्टी की मूर्तियों को उत्कृष्ट रूप से गढ़ा और सजाया जाता है। फिर इन मूर्तियों की पांच दिनों तक पूजा की जाती है, और पांचवें दिन नदी में विसर्जित की जाती है। दुर्गा पूजा को राज्य विभिन्न हिस्सों में बड़े पंडालों में बहुत धूमधाम और चमक के साथ मनाया जाता है, जहाँ देवी दुर्गा की बड़ी आकार की मूर्तियाँ उनके शेर, राक्षस महिषासुर पर स्थापित की जाती हैं। इन दिनों में महिलाएं अपनी भव्य बंगाली साड़ियों और पुरुष कुर्ता-पायजामा पहनते हैं। हर दिन शाम को ढोल की आवाज के साथ महा आरती में भाग लिया जाता है, इस दौरान कई लोग समाधि जैसी स्थिति का अनुभव भी करते हैं।
3. दक्षिण भारत में नवरात्रि: दक्षिण भारत में नवरात्रि के शुभअवसर पर अपने मित्रों रिश्तेदारों और पड़ोसियों को कोलू देखने के लिए आमंत्रित किया जाता है, जो की एक प्रकार से विभिन्न गुड़िया और मूर्तियों की एक प्रदर्शनी होती है।
कन्नड़ में, इस प्रदर्शनी को बॉम्बे हब्बा, तमिल में बोम्मई कोलू, मलयालम में बोम्मा गुल्लू और तेलुगु में बोम्माला कोलुवु कहा जाता है। कर्नाटक में नवरात्रि को दशहरे के रूप में संदर्भित किया जाता है। इस दौरान पुराणों के महाकाव्य को नाटकों के रूप में प्रदर्शित किया जाता है, तथा नवरात्रि की नौ रातों के दौरान शानदार नृत्य भी किया जाता है। दक्षिण भारत के कई हिस्सों में महानवमी (नौवें) के दिन आयुध पूजा आयोजित की जाती है। इस दिन देवी सरस्वती की पूजा के साथ कृषि उपकरण, सभी प्रकार के उपकरण, किताबें, संगीत वाद्ययंत्र, उपकरण, मशीनरी और ऑटोमोबाइल को सजाया और पूजा जाता है। यह नवरात्रि के बाद 10वें दिन को 'विजय दशमी' के रूप में पूजा जाता है। इस दौरान दक्षिणी मैसूर में दशहरा देवी चामुंडी को लेकर सड़कों पर भव्य जुलूस भी निकाले जाते हैं।
4.आंध्र प्रदेश में नवरात्री: आंध्र प्रदेश में नवरात्रि को "बटुकम्मा पांडुगा" के रूप में मनाया जाता है, जिसका अर्थ है "देवी जीवित आओ"। नौ रातें देवी शक्ति को समर्पित होती हैं। इस दौरान महिलाएं "बटुकम्मा" के नाम से जाना जाने वाला एक सुंदर फूलों का ढेर बनाती हैं, जिसे मौसमी फूलों के साथ व्यवस्थित किया जाता है। महिलाएं नई साड़ी और आभूषण पहनती हैं, 9 दिनों तक बटुकम्मा के सामने पूजा करती हैं और फिर आखिरी दिन वे अपने बटुकम्मा को एक झील या किसी अन्य जल निकाय में प्रवाहित कर देती हैं।
5.महाराष्ट्र में नवरात्रि: महाराष्ट्र में नवरात्रि के अवसर पर नई शुरुआत की जाती है। इसलिए, इस समय के दौरान घर या कार खरीदना या नए व्यापारिक सौदे या सगाई जैसे महत्वपूर्ण काम किये जाते है। विवाहित महिलाएं अपनी महिला मित्रों को आमंत्रित करती हैं, उनके माथे पर हल्दी और कुमकुम लगाती हैं, और उन्हें नारियल, बीटल के पत्ते और सुपारी उपहार में देती हैं।
गुजरात के समान ही महाराष्ट्र के हर इलाके का अपना गरबा समारोह होता है।
6.हिमाचल प्रदेश में नवरात्रि : हिमाचल प्रदेश में हिंदुओं के लिए, नवरात्रि एक महान उत्सव होता है। नवरात्रि उत्सव के दौरान, भक्त देवी दुर्गा की पूजा करने के लिए हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा, ऊना और बिलासपुर जिलों के विभिन्न मंदिरों में जाते हैं।
7.पंजाब में नवरात्रि : पंजाब में नवरात्रि के पहले 7 दिनों तक उपवास रखा जाता है, और अष्टमी या नवमी पर 9 छोटी लड़कियों और एक लड़के की पूजा करके अपना उपवास समाप्त किया हैं, इस परंपरा को "कांजिका" के नाम से जाना जाता है। इस दौरान पंजाबी लोग जगराते का आयोजन करते हैं जहां वे पूरी रात जागते हैं और देवी शक्ति की पूजा करते हैं। समारोहों और उत्सवों को मनाने के साथ-साथ नवरात्रि को आध्यात्मिक स्थिरता प्राप्त करने के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण समय माना जाता है।

संदर्भ
https://bit.ly/3BsTU1u
https://bit.ly/3Dhb2bm
https://bit.ly/3lckVRo
https://en.wikipedia.org/wiki/Navaratri

चित्र संदर्भ
1. नवरात्रि के दौरान संगीत और नृत्य प्रदर्शन के लिए तैयार बालिकाओं का एक चित्रण (wikimedia)
2. नवरात्रि में सरस्वती पूजा की तैयारी करते परिवार का एक चित्रण (wikimedia)
3. नवरात्रि के त्योहार के दौरान गुजरात के वडोदरा में गरबा (नृत्य) करते युगल का एक चित्रण (wikimedia)
4. कुद्रोली हिंदू मंदिर, कर्नाटक में नवरात्रि की सजावट का एक चित्रण (wikimedia)
5. कोयंबटूर, तमिलनाडु में गोलू गुड़िया की व्यवस्था का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • अंतरिक्ष मौसम की पृथ्वी के साथ परस्पर क्रिया और इसका पृथ्वी पर प्रभाव
    जलवायु व ऋतु

     22-10-2021 08:24 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में फूलों की उपयोगिता
    बागवानी के पौधे (बागान)

     21-10-2021 08:27 AM


  • लाल केले की बढ़ती लोकप्रियता महत्व तथा विशेषताएं
    साग-सब्जियाँ

     21-10-2021 05:44 AM


  • व्यवसाय‚ उद्यमिता और अप्रवासियों के बीच संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     20-10-2021 09:50 AM


  • मुहम्मद पैगंबर के जन्मदिन मौलिद के पाठ और कविताएँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-10-2021 11:35 AM


  • पूरी तरह से मांसाहारी जीव है, टार्सियर
    शारीरिक

     17-10-2021 12:06 PM


  • परमाणु ईंधन के रूप में थोरियम का बढ़ता महत्व और यह यूरेनियम से बेहतर क्यों है
    खनिज

     16-10-2021 05:32 PM


  • भारत-फारसी प्रभाव के एक लोकप्रिय व्यंजन “निहारी” की उत्पत्ति और सांस्‍कृतिक महत्व
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-10-2021 05:16 PM


  • दशहरे का संदेश और मैसूर में त्यौहार की रौनक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-10-2021 06:06 PM


  • संपूर्ण धरती में जानवरों और पौधों के आवास विखंडन से प्रभावित हो रही है जैविक विविधता
    निवास स्थान

     13-10-2021 06:00 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id