Post Viewership from Post Date to 11-Sep-2021
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2261 124 2385

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

लौकी की उपयोगिता व महत्व

जौनपुर

 12-08-2021 08:42 AM
साग-सब्जियाँ

लौकी दुनिया के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में बेलों पर लगने वाली एक सब्‍जी है। जिसकी उत्पत्ति दक्षिणी अफ्रीका (Southern Africa) के जंगली क्षेत्र मे हुई थी। यह पौधा पतली भित्ति वाले फल पैदा करता है। भारत आने से पहले हजारों वर्षों तक अफ्रीका (Africa)‚ एशिया (Asia)‚ यूरोप (Europe) और अमेरिका (America) में लौकी की खेती की जाती थी। यूरोप (Europe) में‚ वालाफ्रिड स्ट्रैबो (Walahfrid Strabo) (808-849)‚ रेइचेनौ (Reichenau, Germany) के महंत‚ कवि और कैरोलिंगियन (Carolingian) राजाओं के सलाहकार‚ ने अपने हॉर्टुलस (Hortulus) में लौकी को एक आदर्श उद्यान के 23 पौधों में से एक के रूप में चर्चा की थी।
अफ्रीकी (African) या यूरेशियन (Eurasian) प्रजाति 8,000 साल पहले अमेरिका (America) में उगाई जा रही थी। यह समझना कठिन है कि यह अमेरिका (America) कैसे पहुंची। लौकी को अफ्रीका (Africa) से दक्षिण अमेरिका (South America) तक अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean) में बहने के लिए सिद्धांतित किया गया था‚ लेकिन 2005 में शोधकर्ताओं के एक समूह ने सुझाव दिया कि इसे खाद्य फसलों और पशुओं की तुलना में पहले ही जंगली से घरेलू बनाया गया था और नई दुनिया में लाया गया था। लौकी को चीन (China) और जापान (Japan) के पुरातात्विक संदर्भों से भी प्राप्‍त किया गया है। जबकि अफ्रीका (Africa) में‚ दशकों के उच्च-गुणवत्ता वाले पुरातात्विक अनुसंधान के बावजूद‚ इसके होने का सबसे पहला रिकॉर्ड 1884 की रिपोर्ट है‚ जिसमें थेब्स (Thebes) में 12 वें राजवंश के मकबरे (Dynasty tomb) से एक लौकी बरामद की गई थी।
लौकी (लगेनेरिया सिसेरिया Lagenaria siceraria)‚ को कैलाबैश (Calabash)‚ सफेद फूल वाली लौकी (white-flowered gourd)‚ लंबा तरबूज (long melon)‚ बर्डहाउस लौकी (birdhouse gourd)‚ न्यू गिनी बीन (New Guinea bean) और तस्मानिया बीन (Tasmania bean)‚ के रूप में भी जाना जाता है। इसे एक सब्जी के रूप में सेवन करने या इसे सूखाने के लिए काटा जा सकता है। इसे एक बर्तन‚ पात्र या एक संगीत वाद्ययंत्र के रूप में उपयोग किया जाता है। जब यह ताजा होता है‚ तो फल में हल्के हरे रंग की चिकनी त्वचा और सफेद मांस होता है। लौकी के फल कई प्रकार की आकृति के होते हैं‚ वे विशाल‚ गोल‚ छोटे‚ पतले‚ टेढ़े–मेढ़े या बोतल के आकार के हो सकते हैं‚ और वे एक मीटर से अधिक लंबे हो सकते हैं। गोलाकार किस्मों को आम तौर पर कैलाबैश लौकी (Calabash gourd) कहा जाता है।
लौकी दुनिया के पहले खेती वाले पौधों में से एक था जो मुख्य रूप से भोजन के लिए ही नहीं‚ बल्कि पात्रों के रूप में उपयोग के लिए भी उगाया जाता था। जापान (Japan) में अभी भी पानी और तरल पदार्थ ले जाने के लिए लौकी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। दो सिर वाली लौकी ले जाने के लिए सबसे अच्छी होती हैं‚ जिनके बीच में पतली गर्दन के साथ दो बड़े सिर होते हैं‚ आप गर्दन के चारों ओर एक डोरी बांध सकते हैं और इसे अपने कंधे पर एक बैग की तरह लटका सकते हैं। एफ्रो-ब्राज़ीलियाई मार्शल आर्ट कैपोइरा (Afro-Brazilian martial arts Capoeira) में‚ एक लौकी का उपयोग रोड़ा (roda)‚ या “राउंड गेम” (“round game”)‚ बेरिम्बाउ (berimbau) के लिए आवश्यक संगीत वाद्ययंत्र के निर्माण के लिए किया जाता है। बेरिम्बाउ (berimbau) चाल‚ साथी बदलना‚ और प्रत्येक रोडा (roda) की शुरुआत और अंत व्‍यवस्थित करता है‚ जो अन्य मार्शल आर्ट (martial arts) रूपों में एक खेल के बराबर है। लौकी का उपयोग बैंजो (banjos) में गुंजयमान यंत्र के रूप में भी किया जाता है।
लौकी ने सदियों से ग्रामीण भारत की संस्कृति और परंपराओं को गढ़ा है। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में डिंडोरी (Dindori) जिले के बैगा हार्टलैंड (Baiga heartland) में एक जंगली पहाड़ी से गुजरते हुए‚ एक मधुर धुन‚ शांति को तोड़ देती है। मोतीलाल (Motilal) जी जिन्‍होंने दुनिया से अपने सभी लगावों को त्याग दिया और जंगल में रहने का फैसला किया जहां सदियों से प्रा‍चीन बैगा जनजाति (Baiga tribe) का घर रहा है। वे कहते हैं‚ “तम्बुरा (tambura) की कोमल‚ मधुर ध्वनि मुझे दिव्यता के साथ एकजुट होने में मदद करती है”‚ तम्बुरा (tambura) लंबी गर्दन वाला वाद्य यंत्र है‚ जिसका आधार लौकी के सूखे खोल से बना होता है और मॉनिटर (monitor) छिपकली की खाल से आंशिक रूप से ढका रहता है। तम्बुरे (tambura) की कोमल‚ मधुर ध्वनि के साथ वे संगीत बनाते हैं जिसका मस्तिष्क पर सुखदायक प्रभाव पड़ता है। बांग्लादेशी (Bangladeshi) पार्श्व गायिका रूना लैला (Runa Laila) द्वारा प्रसिद्ध लौकी पर एक लोक गीत कहता है: सदर लाउ बनालो मोरे (विनम्र लौकी ने मुझे पथिक बना दिया है)। यह गीत बांग्लादेश (Bangladesh) और पूर्वी भारत (Eastern India) के भटकते रहस्यवादी गवैयों या बाउल गायकों (Baul singers) को संदर्भित करता है‚ जो एक गोल आधार के साथ लौकी से बना एक तार वाला संगीत वाद्ययंत्र ‘एकतारा’ (ektara) की कसम खाते हैं।
जबकि बड़ी और पूरी आकृति वाली लौकी द्वारा बनाई गई गहरी‚ अधिस्‍वर-समृद्ध प्रतिध्वनि ने संगीतकारों और कवियों को अनादि काल से समान रूप से प्रेरित किया है‚ अजीब आकृतियों वाली छोटी किस्मों ने बैगा (Baigas) जैसे ग्रामीण लोगों के जीवन को समृद्ध किया है जो अभी भी प्रकृति के साथ समरसता में रहते हैं। डिंडोरी (Dindori) के सिलपिडी (Silpidi) गांव के एक बैगा (Baiga) हरिराम (Hariram) ने अपने घर के एक कोने में लौकी के सूखे गोलों को सम्‍भाल कर रखा है। इनमें से अधिकांश के ऊपर छोटे-छोटे छेद हैं। हरिराम (Hariram) और उनका परिवार यात्रा करते समय या फसलों की देखभाल करते समय पीने के पानी को ले जाने के लिए लौकी के गोले का उपयोग करते हैं। पौड़ीगांव की सुखियारो कहती हैं‚ गर्मियों में हम लौकी के गोले में पानी जमा करना पसंद करते हैं क्योंकि यह लंबे समय तक पानी को ठंडा रखता है। उनका गौरव एक विशाल गोल लौकी का खोल है‚ जिसका उपयोग वे‚ बाजरे पर आधारित सूप पेज (Pej) को संग्रह करने के लिए करती हैं।
लौकी का उपयोग दुगडुगी (dugdugis)‚ सितार (sitar)‚ तानपुरा (tanpura)‚ सरोद (sarod)‚ दिलरुबा (dilruba) या अग्निबीना (agnibina) जैसे शास्त्रीय संगीत वाद्ययंत्रों को बनाने के लिए भी किया जाता है। और इन उपकरणों को बेचने वाले व्यापारी‚ इन उपकरणों के एक महत्वपूर्ण घटक लौकी के गोले खरीदने के लिए‚ हुगली (Hooghly) जिले की सीमा से लगे हावड़ा (Howrah) के उदयनारायणपुर के गांवों में जाते थे। हालांकि‚ आज प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना कर रहे उदयनारायणपुर के किसानों ने इन उपकरणों को बनाने के लिए उपयोग की जाने वाली लौकी की किस्मों को उगाना बंद कर दिया है।
लालबाजार‚ भवानीपुर‚ पाइकपारा और कलकत्ता के अन्य स्थानों में शोरूम (showrooms) और कार्यशालाओं के साथ संगीत वाद्ययंत्र के व्यापारी हावड़ा और हुगली के गांवों से लौकी के गोले की आपूर्ति करते थे। हालांकि‚ शास्त्रीय संगीत में रुचि कम होने के कारण इस तरह के पारंपरिक तार वाले वाद्ययंत्रों की कम मांग‚ कीटों के बड़े पैमाने पर हमले‚ खेती की बढ़ती लागत और कभी-कभी प्रतिकूल जलवायु परिस्थितियों ने किसानों को लौकी उगाने से रोकने के लिए मजबूर किया है। पिछले दस वर्षों से शास्त्रीय संगीत वाद्ययंत्रों की मांग में भारी कमी आई है क्योंकि आजकल लोग शास्त्रीय संगीत सीखने में रुचि नहीं रखते हैं।

संदर्भ;
https://bit.ly/3AqsMPV
https://bit.ly/3jFHGLj
https://bit.ly/3yBC37d
https://bit.ly/2U5Dk7J

चित्र संदर्भ

1. बाजार में बेचने हेतु रखी गई लौकी का एक चित्रण (flickr)
2. 55 पौंड तोरी लौकी का एक चित्रण (flickr)
3. बेरुद्र वीणा हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में इस्तेमाल किया जाने वाला एक बड़ा तार वाला वाद्य यंत्र है। भारतीय शास्त्रीय संगीत में निभाई जाने वाली प्रमुख वीणाओं में से एक, इसमें दो कैलाश लौकी गुंजयमान यंत्र हैं जिसका एक चित्रण (wikimedia)
4. कैलाश लौकी की बांसुरी का एक चित्रण (wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • क्या है उत्तर प्रदेश का जनसंख्या नियंत्रण कानून
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-09-2021 10:12 AM


  • भोजन संरक्षण और फसल उत्पादन में किण्वन की भूमिका
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     24-09-2021 09:21 AM


  • शरीर के विभिन्न अंगों के कैंसर भिन्न कारणों से होते हैं एवं विश्वभर में नियंत्रण के प्रयास
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-09-2021 10:45 AM


  • सबसे खतरनाक जानवरों में से एक है बॉक्स जेलीफ़िश, क्या बचा जा सकता है इसके डंक से
    मछलियाँ व उभयचर

     22-09-2021 09:08 AM


  • भारत की रॉक कट वास्तुकला से निर्मित भव्य विशालकाय आकृतियां
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-09-2021 09:46 AM


  • लकड़ी से बनी कुछ चीजें क्यों हैं काफी महंगी?
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-09-2021 09:31 AM


  • इतिहास की सबसे भीषण परमाणु दुर्घटना है, चर्नोबिल परमाणु दुर्घटना
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-09-2021 12:48 PM


  • जौनपुर की अनूठी शहर संरचना है यूरोप के प्रसिद्ध शहरों जैसी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-09-2021 10:07 AM


  • ओजोन परत के संरक्षण के लिए वैश्विक पैमाने पर उठाए गए कदम
    जलवायु व ऋतु

     17-09-2021 09:48 AM


  • जलवायु को विनियमित करने में महासागर की भूमिका
    समुद्र

     16-09-2021 10:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id