Post Viewership from Post Date to 10-Sep-2021
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2616 136 2752

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

गोमती नदी में पानी की मौजूदा गुणवत्ता का मानव, मवेशी और फसलों पर प्रभाव

जौनपुर

 11-08-2021 08:02 AM
नदियाँ

गोमती नदी गोमत ताल से निकलती है जिसे औपचारिक रूप से पीलीभीत जिले के माधोगंजटांडा गांव के पास फुलहार झील के नाम से जाना जाता था।यह उत्तर प्रदेश के माध्यम से 940 किमी तक फैली हुई है और वाराणसी में सैदपुरकैथी के पास गंगा नदी से मिलती है। इसका जल आवृत्त क्षेत्र लगभग 22,735 वर्ग किमी है। लखनऊ, लखीमपुरखेड़ी, सुल्तानपुर और जौनपुर शहर गोमती नदी के तट पर स्थित हैं और इसके जलग्रहण क्षेत्र में स्थित 15 शहरों में सबसे प्रमुख हैं।इसका प्रवाह मुख्य रूप से वर्षा के होने पर निर्भर करता है और इसलिए मानसून के दौरान नदी में प्रवाह बहुत ही कम होता है। नदी बड़ी मात्रा में मानव और औद्योगिक प्रदूषकों को एकत्र करती है क्योंकि यह उत्तर प्रदेश के अत्यधिक लोकप्रिय क्षेत्रों से होकर बहती है।नदी में उच्च प्रदूषण का स्तर गोमती नदी के पारिस्थितिकी तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डालता है जिससे इसके जलीय जीवन को खतरा है।
गोमती नदी में नगरपालिका और घरेलू अपशिष्ट और मल का पानी भी छोड़ा जाता है।नालियां जल प्रदूषण का मुख्य स्रोत हैं, विशेष रूप से शहर के भीतर बहने वाली नदियों के लिए औद्योगिक अपशिष्ट, नगरपालिका और घरेलू अपशिष्ट, मल और औषधीय अपशिष्ट के परिणामस्वरूप पानी की गुणवत्ता खराब होती है। ये नाले जौनपुर शहर में गोमती नदी के पानी की गुणवत्ता को भी काफी प्रदूषित करते हैं।
गोमती नदी अपनी यात्रा के विभिन्न बिंदुओं पर 'हमले' के अधीन है क्योंकि यह उत्तर प्रदेश के समृद्ध जलोढ़ मैदानों के 940 किलोमीटर के हिस्से से होकर गुजरती है। कुछ महत्वपूर्ण नदियों पर कई शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार, यह देखा गया है कि हाल के वर्षों में, अधिकांश नदियों का पानी प्रदूषित है। चर्म शोधनालय, चीनी, पेय पदार्थ, पेंट (Paint), रसायन, उर्वरक, बैटरी (Battery), ऑटोमोबाइल (Automobile), कारखाने, खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां, सीमेंट, थर्मल पावर प्लांट (Cement thermal power plants), पेट्रोलियम रिफाइनरी (Petroleum refineries) और मल निपटान पानी सहित भारी धातुओं के कई स्रोत को नदियों के पानी में डाला जाता है।
भारी धातुएँ भारी मात्रा में समस्याओं को प्रकट करती हैं जैसे, उच्च घनत्व होना लेकिन भौतिक गुण काफी अर्थहीन हैं।भारी धातुएं पर्यावरण प्रदूषण का कारण बनती हैं और प्रकृति में फाइटोटॉक्सिक (Phytotoxic- पौधों के लिए जहरीला) होती हैं।भारी धातुओं में विशिष्ट गुरुत्व होता है तथा जहरीली धातुओं के साथ पर्यावरण का प्रदूषण एक विश्वव्यापी समस्या बन गया है, जो फसल की पैदावार, मिट्टी के बायोमास (Biomass) और उर्वरता को प्रभावित करता है, जो श्रृंखला में जैव संचय और जैव-आवर्धन के लिए योगदान देता है। 2006-2008 के दौरान गोमती नदी में Cr, Cu, Ni, Pb और Zn जैसी सभी धातुओं की उच्च सांद्रता पाई गई।वहीं भारी धातुओं युक्त पानी पीना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। साथ ही ताजे पानी की मछलियाँ भी भारी धातुओं के जैवसंचय के कारण प्रभावित होती हैं। भारी धातुएं मनुष्यों के लिए कार्सिनोजेनिक (Carcinogenic - कैंसर पैदा करने की क्षमता रखता है) हैं।
बारिश के मौसम में पानी और तलछट में धातु की उच्च सांद्रता औद्योगिक, कृषि या घरेलू अपवाह के नदी में आने के कारण हो सकती है।नदी के पानी की गुणवत्ता की निगरानी आवश्यक है, विशेष रूप से जहां पानी पीने के पानी के स्रोतों के रूप में कार्य करता है, नदी के किनारे विभिन्न मानवीय गतिविधियों के परिणामस्वरूप प्रदूषण से खतरा अधिक रहता है।
जौनपुर जिले में गोमती और साई नदी, शारदा नहर और तालाब आदि पानी के प्रमुख स्रोत हैं। उपचार के बाद, सतही जल को नगरपालिका और अन्य उपयोगों के लिए पाइपलाइनों (Pipelines) के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में आपूर्ति की जाती है। इसलिए इस क्षेत्र के लिए सतही जल बहुत ही मूल्यवान संसाधन है। स्थानीय लोगों के बेहतर भविष्य के लिए इस संसाधन की गुणवत्ता और मात्रा दोनों को बनाए रखा जाना चाहिए।पानी की गुणवत्ता के संबंध में विश्लेषण के तरीके मुख्य रूप से टाइट्रीमेट्री (Titrimetry), टर्बिडीमेट्री(Turbidimetry), और विद्युत चालकता और ज्वाला भामिति के हैं। इसके अतिरिक्त, पीएच (pH) माप को नियमित रूप से शामिल किया जाता है, यह दर्शाता है कि अम्लता या क्षारीयता एक समस्या हो सकती है।साथ ही भौतिक-रासायनिक विशेषताएं किसी भी जल निकाय में पानी की गुणवत्ता की एक उचित जानकारी प्रदान करती हैं। एक अध्ययन में, जौनपुर जिले के मुख्य इलाके के 21 भवन समूह से भूजल के नमूनों की भौतिक-रासायनिक स्थिति का आकलन किया गया।नमूने के स्थल का चयन सिंचाई और पीने के उद्देश्य के आधार पर किया गया था।पीएच, विद्युत चालकता, टर्बिडिटी, टीडीएस (TDS), टीएस (TS), अम्लता, क्षारीयता, क्लोराइड (Chloride), बाइकार्बोनेट (Bicarbonate), सल्फेट (Sulphate), घुलित ऑक्सीजन, कुल कठोरता, प्रमुख धनायनों (Ca++, Mg++, Na+, k+) और प्रमुख आयनों (Cl-, F-, NO3-, PO4- SO4-) के रूप में पानी की गुणवत्ता निर्धारित करने के लिए प्रमुख जल-रासायनिक मापदंडों का विश्लेषण किया गया और विश्व स्वास्थ्य संगठन मानकों के साथ तुलना की गई। जिसमें पीएच 7.5 से 8.9 तक भिन्न पाया गया, जो क्षारीय प्रकृति को दर्शाता है। जबकि भूजल में विद्युत चालकता मान 484 और 3120 (μs/cm-1) के बीच भिन्न है।टीडीएस (TDS) 443 to 2434 (मिलीग्राम/लीटर) के बीच था और पानी के नमूनों में घुलित आयनों की उच्च सांद्रता देखी गई।
जौनपुर जिले के कुछ भवनसमूह में लवणता, सोडियम अवशोषण अनुपात (Sodium absorption ratio, Na%), अवशिष्ट सोडियम कार्बोनेट (Residual sodium carbonate) और भूजल के पारगम्यता सूचकांक (Permeability index) के उच्च मान पीने और सिंचाई के उद्देश्य के लिए अनुपयुक्त पाए गए। कुछ स्थानों पर भूजल में सल्फेट और नाइट्रेट की सांद्रता अनुमेय सीमा से अधिक थी। नाइट्रेट के स्तर की उच्च सांद्रता शिशुओं में मेथेमोग्लोबिनेमिया (Methemoglobinemia - एक रक्त विकार जिसमें असामान्य मात्रा में मेथेमोग्लोबिन का उत्पादन होता है।) का कारण बन सकती है और उच्च सल्फेट मानव स्वास्थ्य प्रणाली पर जंग के प्रभाव में योगदान कर सकता है। जौनपुर के कुछ विशेष भवनसमूह में भूजल को पीने के उद्देश्य से सीधे उपयोग के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था।
गोमती नदी के लिए प्राथमिकता के आधार पर उठाए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कार्यनीतियां निम्न हैं :
• उद्गम से लेकर गंगा के संगम तक, संपूर्ण बाढ़ के मैदान का सीमांकन किया जाएं। अंतर्रोधी द्वारा इसके भू- उपयोग को स्थिर करें।
• बाढ़ के मैदान में अवैध अतिक्रमण को हटाया जाएं। नदी के बीच से 500 मीटर की दूरी को कोई निर्माण नहीं क्षेत्र घोषित करें। साथ ही केवल वृक्षारोपण के लिए उपयोग किए जाने की अनुमति दी जाएं।
• सभी 24 प्रमुख सहायक नदियों के उद्गम और संगम को "पारिस्थितिकी-नाजुक क्षेत्र" घोषित करें।
•नदी के तल में लखनऊ, जौनपुर और सुल्तानपुर में प्रमुख बस्तियों के मल द्वारा लाये गए तलछट को हटा दिया जाएं।
• बड़े एसटीपी (Sewage Treatment Plant) स्थापित न किए जाएं। क्षेत्रों के भीतर विकेन्द्रीकृत उपचार का प्रयोग करें और पानी का उपयोग गैर-पीने योग्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। नाले में ही सामान्य कम लागत उपचार का प्रयोग किया जा सकता है।
• सीतापुर, लखनऊ, सुल्तानपुर और जानूपुर में सेनेटरी लैंडफिल (Sanitary Landfill) की उचित व्यवस्था की जा सकती है तथा हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी स्थिति में ठोस कचरा नदी में नहीं डालना चाहिए। गोमतीबाँध में, घुलित ऑक्सीजन अक्सर 2 मिलीग्राम/लीटर से कम होती है जिसके परिणामस्वरूप भारी जलचर मृत्यु दर होती है। हाल ही में, उत्तर प्रदेश मछुआरा संघ ने समस्या के तत्काल निवारण के लिए अपनी मांग रखी थी, हालांकि, मछली मृत्यु दर काफी नियमित समस्या है, जो अक्सर नदी के ऊपर, चीनी कारखानों से जुड़ी होती है। गोमती नदी बैराज (Barrage) से कम घुलित ऑक्सीजन के साथ नीचे की ओर बहती है और प्राकृतिक ऑक्सीकरण (Oxidation) प्रक्रिया के माध्यम से खुद को शुद्ध करने की कोशिश करती है। बाद में यह उम्मीद जताई गई कि गोमती नगर के पास भरवारा गांव में नवनिर्मित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (Sewage Treatment Plant - एसटीपी) से हालात बेहतर होंगे। लेकिन हाल ही में बीबीसी (BBC) की एक रिपोर्ट (Report) के अनुसार, एसटीपी के चालू होने के बाद से नदी की डीओ (DO) सामग्री की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है तथा कई नालों को अभी भी एसटीपी से नहीं जोड़ा गया है।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3fN4UhE
https://bit.ly/3xyGLkW
https://bit.ly/37wTKZY
https://bit.ly/3CyZ9hm
https://bit.ly/3yBQ8Bw

चित्र संदर्भ
1. क्लार्क होटल (Clark's Hotel), लखनऊ से गोमती नदी के दृश्य का एक चित्रण (flickr)
2. गोमती नदी पर नाव की सवारी का एक चित्रण (flickr)
3. नदी में जल प्रदूषण का एक चित्रण (wikimedia)
4. गोमती नदी कुरिया घाट पार्क, लखनऊ का एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id