सौ साल पुराने बनारस को दर्शाते हैं, 1920 और 1930 के दशक के कुछ दुर्लभ वीडियो

जौनपुर

 18-07-2021 01:55 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
वर्तमान समय में ऐसे अनेकों वीडियो हैं, जो आधुनिक बनारस के मनमोहक दृश्यों को दर्शाते हैं। किंतु कुछ दुर्लभ वीडियो ऐसे भी हैं, जिनमें सौ साल पुराने बनारस को दर्शाया गया है, जिसे तब वाराणसी कहा जाता था। ये वीडियो 1920 और 1930 के दशक के हैं, जिनमें गंगा नदी के तट पर बसे पवित्र शहर तथा वहां मौजूद लगभग 1500 मंदिरों, तीर्थ स्थानों तथा महलों को दिखाया गया है। इन दुर्लभ वीडियो में विभिन्न शैलियों की बड़ी इमारतों के साथ पहाड़ी पर कई प्रभावशाली दृश्यों को दर्शाया गया है। वीडियो में गंगा नदी की ओर बढ़ती सीढ़ियाँ, पूरे क्षेत्र को आवरित करने वाले लोग, तिरपालों के नीचे बैठे लोग, नदी पर मौजूद अनेकों नावों आदि को दिखाया गया है। कुछ वीडियो चलती हुई नाव से भी ली गयी हैं, जिसमें हिंदू तीर्थयात्री नदी में स्नान करते, सीढ़ियों में ऊपर-नीचे जाते दिखाई देते हैं। कुछ लोग अपने गीले बदन को तौलिए से सुखा रहे हैं, जबकि कुछ लोग तौलिए को सुखाने के लिए उसे झटक रहे हैं। इस वीडियो में नदी में मौजूद लोगों, साड़ी स्टैंड में खड़ी महिलाओं के नज़दीकी दृश्य भी हैं। इनके अलावा वीडियो में अद्भुत अलंकृत मंदिरों, वास्तुकला के कुछ नमूनों, औरंगजेब की मस्जिद आदि को भी दिखाया गया है। एक वीडियो में 2 बच्चे घर के सामने मौजूद विभिन्न आकार के कई मिट्टी के बर्तनों के ढेर के सामने खड़े हैं, एक छोटा लड़का पोनी कार्ट (Pony cart) चला रहा है, लोग होलिकाएं जलाते हुए दिखाई देते हैं। वीडियो के अंत में एक विचित्र सा दिखने वाला आदमी भी दिखाई देता है, जो पालती मारकर बैठा है तथा अपनी गर्दन और सिर के चारों ओर मालाएं लटकाए हुए है। वह एक अजीब से दिखने वाले पाइप से धूम्रपान करता है।जब वह उठता है, तो पूरा नग्न अवस्था में दिखाई देता है। इसी प्रकार एक बौना भिखारी भी वीडियो में दिखाई देता है, जिसके पैर बहुत पतलें हैं। वह चारों ओर घूमकर एक छड़ी का उपयोग कर बैठता है, तथा फूलों की माला पहने हुए है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3xPjeNs
https://bit.ly/3z7kg7R
https://bit.ly/2UmQwF9


RECENT POST

  • ले मोर्ने के तट पर, शानदार भ्रम उत्पन्न करता है मॉरीशस
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:16 PM


  • भार‍तीय फ़ास्ट फ़ूड व् स्‍ट्रीटफूड चाट की बढ़ती लोकप्रियता
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:12 AM


  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id