इस्लामी वास्तुकला में मेहराब का महत्व

जौनपुर

 15-07-2021 07:52 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

अधिकांश मस्जिदों या इस्लामी प्रार्थनास्थानों में स्थित मिहराब या मेहराब (mihrab) एक अर्धचालक दीवार का आला होता है जो कि क़िबला (qibla) की दिशा को इंगित करता है, अर्थात्, मक्का में काबा (Kaaba) की दिशा और इसलिए प्रार्थना करते समय मुस्लिमों को इस की तरफ मुंह करना चाहिए। जिस दीवार में एक मिहराब प्रकट होता है उसको "क़िब्ला दीवार" कहा जाता है। मूल रूप से, मुसलमान यरूशलेम (Jerusalem) की ओर प्रार्थना करते हैं। इस्लाम में तीसरा सबसे पवित्र शहर, यरुशलम माना जाता है, जहां पैगंबर मुहम्मद सात जन्नत की ओर गए थे, जहां उन्हें आदम (Adam), यीशु (Jesus) और जॉन द बैपटिस्ट (John the Baptist) सहित अन्य नबियों के दर्शन हुए थे।
पैगंबर मुहम्मद के लिए यहूदियों के विरोध ने मक्का में प्रार्थना की दिशा को बदल दिया। यह इस्लाम का सबसे पवित्र शहर माना जाता है, इसके अलावा मक्का इस्लाम के सबसे पवित्र पैगंबर, पैगंबर मुहम्मद का जन्मस्थान भी है। मक्का वह स्थान भी है जहां मुहम्मद को कुरान बनाने के लिए लिखा जाने वाला अल्लहा का पवित्र शब्द प्राप्त हुआ था। साथ ही यह वह स्थान भी है जहां काबा स्थित है जिसे "पवित्र मस्जिद" माना जाता है। सभी मुसलमानों के लिए, इस्लाम के पांच स्तंभों में से पांचवें के रूप में, अपने जीवन में कम से कम एक बार मक्का की यात्रा करना अनिवार्य है।इसलिए, कुरान में कहा गया है कि नमाज के दौरान सभी उपासकों को मक्का की तरफ मुंह करना चाहिए। इसी इस्लामी आस्था के कारण मिहराब, मस्जिद या किसी भी धार्मिक इमारत की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता है।
मिहराब शब्द का मूल रूप से एक गैर-धार्मिक अर्थ था और बस एक घर में एक विशेष कमरे को दर्शाता था, जैसे कि महल में एक सिंहासन कक्ष। फत अल-बारी(The Fath al-Bari) (पृष्ठ 458)में मिहराब को "राजाओं का सबसे सम्मानजनक स्थान" और "स्थानों का स्वामी" बताता गया है। मिहराब का यह मूल अर्थ - घर में एक विशेष कमरे के रूप में है। यहूदी धर्म में मिहराब निजी पूजा के लिए उपयोग किए जाने वाला कमरा है। कुरान में, मिहराब शब्द एक पूजा स्थल को दर्शाता है। इस्लाम में मस्जिदें अरबी स्रोतों के अलावा, जर्मन विद्वान थियोडोर नोल्डेके (Theodor Nöldeke) भी यह मानते हैं कि मिहराब मूल रूप से एक सिंहासन कक्ष को दर्शाता है। इस शब्द का इस्तेमाल बाद में इस्लामिक पैगंबर मुहम्मद ने अपने निजी प्रार्थना कक्ष को निरूपित करने के लिए किया था। कमरा अतिरिक्त रूप से आसन्न मस्जिद तक पहुंच प्रदान करता था और पैगंबर इस कमरे के माध्यम से मस्जिद में प्रवेश करते थे। उथमन इब्न अफान (Uthman ibn Affan ) के शासन के दौरान, खलीफा ने मदीना में मस्जिद की दीवार पर एक संकेत लगाने का आदेश दिया ताकि तीर्थयात्री आसानी से उस दिशा में प्रार्थना कर सकें जो मदीना को संबोधित करती है। हालांकि यह संकेतदीवार पर सिर्फ एक संकेत था और संपूर्ण दीवार पूरी सपाट बनी हुई थी। इसके बाद, अल-वालिद इब्न अब्द अल-मलिक (Al-Walid ibn Abd al-Malik) के शासनकाल के दौरान, अल-मस्जिद अल- नाबावी (पैगंबर की मस्जिद) का पुनर्निर्माण किया गया और मदीना के वाली (wāli), उमर इब्न अब्दुल अज़ीज़ ने आदेश दिया कि किबाला दीवार (जो मक्का की दिशा की पहचान करता है) को नामित करने के लिए एक जगह बनाई जाए, और इस जगह में उथमान का संकेत रखा गया था। आखिरकार, क़िबला दीवार की पहचान करने के लिए आला को सार्वभौमिक रूप से समझा जाने लगा, और इसलिए इसे अन्य मस्जिदों में एक विशेषता के रूप में अपनाया जाने लगा।
मिहराब वैसे इस्लामी संस्कृति और मस्जिदों का एक प्रासंगिक हिस्सा हैं। चूंकि वे प्रार्थना के लिए दिशा का संकेत देने के लिए उपयोग किए जाते हैं, इसलिए वे मस्जिद में एक महत्वपूर्ण केंद्र बिंदु के रूप में कार्य करते हैं। वे आमतौर पर सजावटी विस्तार से सजाए जाते हैं जो ज्यामितीय डिजाइन, रैखिक पैटर्न या सुलेख हो सकते हैं। यह अलंकरण धार्मिक उद्देश्य की पूर्ति भी करता है। मिहराब पर सुलेख सजावट आमतौर पर कुरान से लिया जाता हैं और अल्लाह की भक्ति से संबंधित होता हैं ताकि अल्लाह के शब्द लोगों तक पहुंचाए जा सके। मिहराब के बीच के सामान्य डिजाइन ज्यामितीय पत्ते हैं जो एक साथ काफी करीब बनाए जाते हैं ताकि कला के बीच में खाली जगह न रह सकें। आज, मिहराब आकार में भिन्न होते हैं, आमतौर पर इनको सजाया जाता है और अक्सर एक धनुषाकार द्वार या मक्का के लिए एक मार्ग की छाप देने के लिए डिज़ाइन किया जाता है। वहीं कई मामलों में, मिहराब क़िबला की दिशा का पालन नहीं करते हैं। एक उदाहरण स्पेन (Spain) के कोर्डोबा का मेज़क्विटा (Mezquita of Córdoba) है जो दक्षिण-पूर्व के बजाय दक्षिण की ओर संकेत करता है। दूसरा मस्जिद अल- क़िबलातें (Masjid al-Qiblatayn), या दो क़िबलों की मस्जिद (the Mosque of the Two Qiblas) है। यहीं पर पैगंबर मुहम्मद ने जेरूसलम से मक्का की ओर क़िबला की दिशा बदलने का आदेश दिया गया था, इस प्रकार इस मस्जिद में दो किबालें मौजूद थे। वहीं 21 वीं शताब्दी में मस्जिद का जीर्णोद्धार किया गया और जेरूसलम की ओर संकेत देने वाले पुराने प्रार्थना स्थान को हटा दिया गया और मक्का की ओर संकेत करने वाले किबला को वहीं बने रहने दिया।
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के प्राचीन शहर, जौनपुर में कई मस्जिदों की स्थापना हुई, उन्हीं में से एक है- अटाला मस्जिद। इसकी ऐतिहासिकता की शान इस मस्जिद में दिखाई देने वाली प्रभावशाली मेहराब के साथ अग्रभाग की दीवार पर केंद्रीयतोरण है।14 वीं शताब्दी की यह मस्जिद, मस्जिद पुरातत्व निदेशालय, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के स्मारकों / स्थलों की सूची और भारतीय पुरातत्व
सर्वेक्षण के स्मारकों की सूची में शामिल है। सन् 1408 ई0 में इब्राहि‍म शाह शर्की ने इस मस्‍जि‍द का र्नि‍माण कराया जो जौनपुर में अन्य मस्‍जि‍दों के र्नि‍माण के लि‍ये आदर्श मानी गयी। इसकी ऊंचाई 100 फीट से अधि‍क है। प्रवेश के लिए तीन विशाल द्वार हैं। इसका र्नि‍माण सन् 1393 ई0 में फि‍रोज शाह ने शुरू कराया था। ऐसा माना जाता है कि इसका निर्माण दिल्ली के बागपुर मस्जिद से प्रेरित होकर किया गया था। उसमें बने आला, झुकी हुई दीवारें, बीम, स्तंभों का रूप और संरचना इत्यादि सभी इसी बात का सबूत हैं। इसमें तुगलक वंश के सुल्तान मुहम्मद शाह और फिरोज शाह के अधीन दिल्ली में निर्मित मस्जिदों, मकबरों और अन्य इमारतों के साथ समान समानता दिखाई पड़ती हैं। ​इतना ही नहीं इस शैली को जौनपुर की अन्य मस्जिदों में भी देखा जा सकता है। इसके अलावा, यह ध्यान देने वाली बात है कि इन मस्जिदों के निर्माण में दिल्ली के कई हिंदू और मुस्लिम कामगार शामिल थे। हालाँकि, जौनपुर की इमारतों में न केवल दिल्ली का प्रभाव, बल्कि जैसा कि अन्य क्षेत्रों में देखा जा सकता है। अटाला मस्जिद में गंगा नदी से संबंधित वास्तुकला और शिल्प का समावेश भी मिलता है। अटाला मस्जिद की अनूठी विशेषताओं का अपना ही एक महत्व है। उदाहरण के लिए प्रार्थना कक्ष में राजसी तोरण, विभिन्न आकारों में तीन गुंबद, पश्चिम दिशा में पीछे की दीवार की संरचना और शैली, मुख्य प्रार्थना कक्ष की अन्य सजावट, मेहराब और अन्य सजावट इत्यादि का मिश्रण है। साथ ही साथ इस मस्जिद की भीतरी दीवारें और स्तंभ मूल हिंदू मंदिर संरचनाओं को बरकरार रखते हैं। केंद्रीय गुंबद जमीन से लगभग 17 मीटर ऊंचा है, लेकिन ऊंचे टावर (23 मीटर) के कारण सामने से नहीं देखा जा सकता है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3r509nR
https://bit.ly/3AWhWCg
https://bit.ly/3xEwbcX
https://bit.ly/36zyylv
https://bit.ly/3yQmQPk https://bit.ly/3wugTpS
https://bit.ly/2VAk82j

चित्र संदर्भ
1. मक्का में काबा की दिशा को चिह्नित करते हुए मेहराब का एक चित्रण (wikimedia)
2. इस्फ़हान, ईरान में मिहराब प्रार्थना आला का एक चित्रण (wikimedia)
3. कॉर्डोबैन के कैथेड्रल मस्जिद में मिहराब का एक रंगीन चित्रण (wikimedia)
4. हागिया सोफिया, इस्तांबुल, तुर्की में मिहराब का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • परिवहन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगी कृत्रिम बुद्धिमत्ता अर्थात AI
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:37 AM


  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id