निवेशकों की बढ़ती संख्या के आधार पर पैसा बनाने की एक कपटपूर्ण प्रणाली है,पिरामिड योजना

जौनपुर

 14-07-2021 10:33 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

वर्तमान समय में ऐसी कई योजनाएं संचालित हो रही हैं, जो ग्राहकों से निवेश करने के लिए कहती हैं, तथा फिर उन्हें अत्यधिक मुनाफा देने का वादा कर उनसे धोखाधड़ी करती हैं।ऐसी योजनाओं में एक योजना पिरामिड स्कीम(Pyramid scheme) भी है,जिसमें धोखेबाज यह दावा करते हैं कि वे थोड़े समय के भीतर एक छोटे से निवेश को बड़े मुनाफे में बदल सकते हैं। लेकिन वास्तव में, प्रतिभागी नए प्रतिभागियों को कार्यक्रम में लाकर पैसा कमाते हैं। इन योजनाओं में धोखेबाज आमतौर पर अपने कार्यक्रमों या योजनाओं को वैध दिखाने के लिए उसे बहु-स्तरीय विपणन योजनाओं के रूप में दिखाने का बहुत अधिक प्रयास करते हैं। जबकि बहु-स्तरीय विपणन योजनाएं उनसे कुछ अलग होती हैं।बहु-स्तरीय विपणनव्यवसाय, एक ऐसा व्यवसाय है, जिसमें परिवार और दोस्तों को उत्पाद बेचने और अन्य लोगों को भी ऐसा करने के लिए भर्ती किया जाता है। इन्हें नेटवर्क मार्केटिंग या डायरेक्ट मार्केटिंग बिजनेस भी कहा जाता है, जिसमें बहु- स्तरीय विपणन कंपनियां अपने उत्पादों या सेवाओं को व्यक्ति-से-व्यक्ति के माध्यम से बेचती हैं। जैसे आपने किसी कंपनी से कोई उत्पाद खरीदा और अब आप उस उत्पाद को अपने परिचित लोगों को बेच रहे हैं, तथा वे लोग भी उन उत्पादों को अपने परिचित लोगों को बेचते हैं, तथा यह श्रृंखला ऐसे ही चलती रहती है।यदि आप किसी ऐसी योजना में भाग लेते हैं, तो कंपनी आपको एक स्वतंत्र वितरक, प्रतिभागी, या कॉन्ट्रेक्टर के रूप में संदर्भित कर सकती है।अधिकांश बहु-स्तरीय विपणन कंपनियां कहती हैं, कि आप दो तरीकों से पैसा कमा सकते हैं, पहला कंपनी के उत्पादों को स्वयं "खुदरा" ग्राहकों को बेचकर जो बहु-स्तरीय विपणन में शामिल नहीं हैं, और दूसरा नए वितरकों की भर्ती करके।इस प्रकार व्यवसाय का एक जाल सा फैल जाता है।

लेकिन कुछ बहु-स्तरीय विपणन अवैध पिरामिड स्कीम भी हो सकते हैं।यदि बहु-स्तरीय विपणन एक पिरामिड योजना नहीं है, तब यह आपको नए वितरकों की भर्ती के बिना, खुदरा ग्राहकों को आपकी बिक्री के आधार पर भुगतान करेगा।वैध बहु-स्तरीय विपणन में शामिल होने वाले ज्यादातर लोग बहुत कम या कोई पैसा नहीं कमाते हैं।उनमें से अधिकांश लोग अपना पैसा खो भी देते हैं।कुछ मामलों में, लोग मानते हैं कि वे एक वैध बहु-स्तरीय विपणन में शामिल हो गए हैं, लेकिन यह एक अवैध पिरामिड योजना बन गई है, जो उनके द्वारा निवेश की गई हर चीज को चुरा लेती है और उन्हें कर्ज में डूबा देती है। पिरामिड योजनाएं अंततः तब ध्वस्त हो जाती हैं, जब नए प्रतिभागियों की भर्ती करना असंभव हो जाता है, जो कि बहुत जल्द हो सकता है।हाल के वर्षों में कई कंपनियों ने तथाकथित बहु-स्तरीय विपणन प्रथाओं का सफलतापूर्वक उपयोग किया है। इसलिए, पिरामिड योजना और एक वैध बहु-स्तरीय विपणन कंपनी के बीच के अंतरों को दूर करना महत्वपूर्ण है। यह ध्यान देना आवश्यक है, कि पिरामिड योजनाएं हमेशा विफल होती हैं, जबकि बहु-स्तरीय विपणन कंपनियां कभी-कभी जीवित रहती हैं। इस प्रकार पिरामिड योजना निवेशकों की बढ़ती संख्या के आधार पर पैसा बनाने की एक कपटपूर्ण प्रणाली है। इस योजना को पिरामिड कहा जाता है क्योंकि प्रत्येक स्तर पर निवेशकों की संख्या बढ़ती रहती है। भारत में अभी तक ऐसी अनेकों योजनाओं की पहचान की जा चुकी है, जिनमें स्पीकएशिया घोटाला (SpeakAsia scam),सारदा ग्रुप चिटफंड घोटाला (Saradha Group chit fund scam),एमवे घोटाला (Amway scam),सिटी लिमोजिन (City Limouzines) घोटाला आदि शामिल हैं।स्पीकएशिया घोटाले में सिंगापुर (Singapore) स्थित स्पीकएशिया ऑनलाइन लिमिटेड ने निवेशकों से 11,000 रुपये का भुगतान करने और सालाना 52,000 रुपये कमाने के लिए ऑनलाइन सर्वेक्षण फॉर्म भरने के लिए कहा। योजना में अधिक लोगों को नामांकित करने वालों के लिए अतिरिक्त पुरस्कार का वादा किया गया था। स्कैमर्स ने 24 लाख निवेशकों से 2,276 करोड़ रुपये उड़ा लिए। सारदा ग्रुप चिटफंड घोटाले के तहत मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल में निवेशकों को लुभाने के लिए और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड की निगरानी से बचने के लिए कई तरह के हथकंडे अपनाए गए थे। इसने शुरुआती निवेशकों द्वारा जमा किए गए धन का लगभग 40% वापस करके एक विस्तृत नेटवर्क बनाया, किंतु अप्रैल 2013 में योजना के ध्वस्त होने से लगभग 17 लाख से अधिक जमाकर्ताओं को 200-300 अरब रुपये का अनुमानित नुकसान हुआ। इसी प्रकार एमवे घोटाले के तहत वास्तविक उत्पादों को बहुत अधिक कीमत पर बेचा जा रहा था, लेकिन उत्पाद के अत्यधिक महंगा होने की वजह से उसकी बिक्री में अत्यधिक कमी आई तथा अततः वितरकों को काफी नुकसान उठाना पड़ा। इसमें नए वितरकों द्वारा लाए जा रहे धन का उपयोग मूल वितरकों को भुगतान करने के लिए किया गया था।
एक पिरामिड योजना को तब पहचाना जा सकता है, जब प्रमोटर आपकी कमाई की क्षमता के बारे में फालतू के वादे करते हैं, जोकि वास्तव में झूठे होते हैं। प्रमोटर पैसे कमाने के वास्तविक तरीके के रूप में आपके बिक्री नेटवर्क के लिए नए वितरकों की भर्ती पर जोर देते हैं। प्रमोटर आपकी भावनाओं के साथ खेलते हैं या उच्च दबाव वाली बिक्री रणनीति का उपयोग करते हैं। वे आपको कंपनी का अध्ययन करने के लिए समय निकालने से हतोत्साहित करते हैं। कोई भी कंपनी जो आप पर अपनी योजना में शामिल होने के लिए दबाव बनाने की कोशिश करती है, उससे बचना चाहिए। ऐसी योजनाओं से बचने के लिए कंपनी, उसके अधिकारियों और उसके उत्पादों या सेवाओं के बारे में सभी प्रकार की जानकारी इकट्ठा करना आवश्यक है। कंपनी की मार्केटिंग योजना, बिक्री साहित्य, अनुबंध आदि की लिखित प्रतियां प्राप्त करें। उन प्रमोटरों से बचें जो अपनी योजनाओं को स्पष्ट रूप से और विस्तार से समझाने में विफल रहते हैं। विशेष रूप से, कंपनी के प्रॉस्पेक्टस या अन्य लिखित सामग्री को अवश्य पढ़ें। यदि आप इसे नहीं समझ पा रहे हैं, तो ऐसे व्यक्ति की सहायता लें, जो कंपनी से सम्बंधित नहीं है।पता करें कि जो उत्पाद आपको बेचा जा रहा है, वो बाजार में मौजूद है या नहीं? यदि हां, तो यह कितनी अच्छी तरह से बिकता है, इसकी जानकारी लें।पता करें कि क्या कंपनी आपकी इन्वेंट्री वापस खरीद लेगी। वैध कंपनियां आपके द्वारा भुगतान किए गए कम से कम 80 से 90 प्रतिशत के लिए इन्वेंट्री वापस खरीद लेंगी। कंपनी द्वारा किए गए सभी वादे लिखित में प्राप्त करें। ग्राहकों को कॉल करें और पूछें कि क्या वे उत्पाद से संतुष्ट हैं या नहीं। इस प्रकार आप ऐसी योजनाओं से स्वयं को बचा सकते हैं।

संदर्भ:

https://on.ny.gov/3AU9bsk
https://bit.ly/3yJHLng
https://bit.ly/3i2shUL

चित्र संदर्भ
1. पिरामिड योजनाओंके विभिन्न चरणों को दर्शाता एक चित्रण (The Alden)
2. यह नक्शा उन देशों को दिखाता है (हरे रंग में) जहां पिरामिड योजनाओं को अवैध माना जाता है। (wikimedia)
3. "आठ-गेंद" मॉडल में कुल पंद्रह सदस्य होते हैं। ध्यान दें कि एक अंकगणितीय प्रगति में 1 + 2 + 3 + 4 + 5 = 15। इसके विपरीत चित्र में पिरामिड योजना एक ज्यामितीय प्रगति 1 + 2 + 4 + 8 = 15 है।(wikimedia)



RECENT POST

  • परिवहन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगी कृत्रिम बुद्धिमत्ता अर्थात AI
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:37 AM


  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id