कैसे की जाती थी प्राचीन काल में सौर और चंद्र ग्रहणों की भविष्यवाणी?

जौनपुर

 01-07-2021 10:57 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

मनुष्य लगभग 2,000 वर्षों से सौर और चंद्र ग्रहणों की भविष्यवाणी कर रहे हैं, काफी लंबे समय से जब वे ये नहीं जानते थे कि वास्तव में क्या हो रहा था या यह सार्थक क्यों है।हालांकि इन दिनों, हमें इस बात की बहुत अच्छी समझ है कि वे कब घटित होंगे और दुनिया भर की अंतरिक्ष संस्थाओं ने अगले 1,000 वर्षों (और पिछले 4,000) में कई तरीकों की खोज की है। लेकिन अगर आप विशेषज्ञों पर भरोसा नहीं करना चाहते हैं, तो सूर्य ग्रहण की भविष्यवाणी करने के लिए हमारे पास क्या विकल्प हैं?शायद सूर्य ग्रहण की भविष्यवाणी करने का सबसे आसान तरीका ब्रह्मांड के किसी भी परिष्कृत ज्ञान की आवश्यकता नहीं है, बल्कि लंबे समय तक केवल देखने और गिनने की क्षमता होनी चाहिए।वास्तव में, लोग कैलेंडर (Calendar) को बनाकर उसमें गिनते हैं, अनिवार्य रूप से लगभग तब तक जब तक उन्होंने जमीन पर खेती की है।प्रत्येक संगठित, कृषि आधारित सभ्यता एक कैलेंडर विकसित करती है, क्योंकि इससे आपको रोपण समय निर्धारित करने की आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको हेलियोसेंट्रिकमॉडल (Heliocentric model) की आवश्यकता नहीं है, आपको बस आकाश में विभिन्न तंत्रों के बढ़ते और स्थापित होने के समय को जानने की जरूरत है।
ऐतिहासिक रूप से शुरुआती पंचांग चंद्र मासिक पंचांग हुआ करते थे जिसका कारण यह है कि चंद्रमा पृथ्वी से नजदीक है जिस कारण इसकी गणना करना ज्यादा आसान होता था। विभिन्न विषयों पर बात करने से यह समझना तो आसान हो गया है कि मनुष्य वैज्ञानिक पद्धतियों के अलावा खुद से भी सूर्य और चंद्र ग्रहण की जानकारी प्रस्तुत कर सकते हैं। इस विषय पर जानकारी लेने के लिए गणित के उत्तरों का आहारा लिया जा सकता है जिसमे एक्स और वाई अक्षांशों को ध्यान मे रखकर सूर्य और चंद्रमा चक्रण का मान लेकर हम सूर्य और चंद्रग्रहण के विषय में भविष्यवाणी कर पाने मे सक्षम हो सकते हैं। ΔT=62.92+0.32217∗t+0.005589∗t2ΔT=62.92+0.32217∗t+0.005589∗t2 जहाँ y=year+(month−0.5)/12y=year+(month−0.5)/12 t=y−2000 उपरोक्त दिये गए सूत्र से भी ग्रहों की दिशा और दशा का अंदाजा लगाया जा सकता है तथा भविष्यवाणी की जा सकती है। वहीं सौर ग्रहणों की भविष्यवाणी के लिए सबसे स्पष्ट प्रतिमान में से एक सरोस चक्र है, जिसे पहली बार प्राचीन मेसोपोटामिया (Mesopotamians) के लोगों द्वारा देखा गया था। सरोस श्रृंखला के भीतर, 223 चंद्र महीनों के अंतराल पर सूर्य ग्रहण होते हैं। ये चक्र लगभग 1,000 वर्षों तक चलते हैं यानि एक ग्रहण के बाद दूसरा ग्रहण।दुर्भाग्य से, बाद के सरोस ग्रहण एक ही स्थान पर नहीं होते हैं, बल्कि पृथ्वी के चारों ओर एक तिहाई होते हैं।लगभग 54 साल बाद पहले वाले के समान स्थान पर एक ग्रहण की पुनरावृत्ति होने में तीन सरोस चक्र लगते हैं।सरोस चक्रों के साथ ग्रहणों की भविष्यवाणी करने में तीन चुनौतियाँ हैं। पहला यह है कि हर तीन में से दो ग्रहण उस स्थान से बहुत दूर होते हैं जहां से किसी एक को पहली बार देखा गया हो।दूसरा यह है कि जिस समय कोई घटित होता है वह रात में हो सकता है, और इसलिए उस समय उसे देखा नहीं जा सकता है। तीसरा यह है कि एक ही समय में कई चक्र होते हैं।
यह देखते हुए कि इनमें से लगभग 40 चक्र किसी भी समय हो सकते हैं, और प्रत्येक 1,000 वर्षों तक चलता है, भले ही आप कई ग्रहणों को देखने के लिए पर्याप्त भाग्यशाली हों, यह बताना कठिन है कि कौन सा प्रतिमान किस प्रतिमान का हिस्सा है। प्रतिमान की पहचान सौर ग्रहणों की भविष्यवाणी करने का एक विश्वसनीय और सटीक तरीका है, लेकिन इसके लिए लंबी अवधि, भरोसेमंद टिप्पणियों की आवश्यकता होती है, जो कि आधी सदी या उससे अधिक समय तक की जाती है।एक ग्रहण की भविष्यवाणी करने का एक और तरीका है जिसके लिए ब्रह्मांड और समय की अधिक समझ की आवश्यकता होती है और उसके लिए हमें गणित की आवश्यकता होती है। सूर्य ग्रहण के प्राचीन अवलोकनों का कई अलग-अलग संस्कृतियों और सभ्यताओं के बीच एक लंबा इतिहास है जो प्राचीन चीन (China) और बेबीलोन (Babylon) से बचे हुए लेखों में कम से कम 2500 ईसा पूर्व तक फैला है।यह 20वीं शताब्दी ईसा पूर्व की बात है जब चीनी (Chinese) ज्योतिषों ने महीनों, दिनों और पृथ्वी की गति के संयोग से ग्रहण के विषय में जानकारी प्राप्त करना शुरू किया और उसी के आधार पर भविष्यवाणी करना प्रारंभ किया। प्राचीन चीन के विषय में यदि बात करें तो हमें पता चलता है कि 2300 ईसा पूर्व के करीब चीन में वेधशालाओं का निर्माण किया जा चुका था और करीब 2650 ईसा पूर्व में चीन के ही ली शू (Li Shu) ने खगोल विज्ञान के विषय में कई लेख लिखे हैं जिनसे हमें पता चलता है कि तब तक खगोल विज्ञान या सौर मण्डल के विषय में लोगों को ज्ञान मिल चुका था। उस समय के ज्योतिष (जो कि सौर गतिविधियों पर नजर रखते थे) का मुख्य कार्य वहाँ के सम्राट के भविष्य,स्वास्थ आदि का पूर्वानुमान लगाना होता था।2300 ईसा पूर्व में कम से कम एक दर्ज की गई भविष्यवाणी में विफलता के कारण दो ज्योतिषियों का सिर कलम कर दिया जाता था। चूँकि एक विशिष्ट भौगोलिक स्थान पर कुल सूर्य ग्रहणों का प्रतिमान बहुत ही अनिश्चित होता है, इसलिए निस्संदेह कई ज्योतिषियों का सिर कलम हुआ होगा। पश्चिमी दुनिया में, इस बीच, मेसोपोटामिया (Mesopotamian) क्षेत्र में इस सभ्यता के समय से बची हुई बेबीलोन की मिट्टी की पुस्तक (Babylonian clay tablets) में, 3 मई, 1375 ईसा पूर्व युगारिट (Ugarit) में पर्यवेक्षकों द्वारा देखा गया पहला पूर्ण सूर्य ग्रहण दर्ज है।बेबीलोन (Babylonian) की सभ्यता में मिट्टी की पुस्तक को आधार मानकर विभिन्न ग्रहों के दिशा और गति आदि का आंकड़ा रखा जाता था और इन्हीं आंकड़ों के आधार पर ही वे ग्रहण की जानकारी लिया करते थे।चीनी पर्यवेक्षकों की तरह, बेबीलोन के ज्योतिषियों ने खगोलीय चालों के बारे में सावधानीपूर्वक अभिलेख रखा- जिसमें बुध, शुक्र सूर्य और चंद्रमा शामिल हैं और ये 1700 से 1681 ईसा पूर्व की पुस्तकों में देखे जा सकते हैं।प्राचीन मिस्र में, हम इस सभ्यता के बारे में जो कुछ भी जानते हैं, लगभग सभी खगोलीय ज्ञान हमें मकबरे के चित्रों, विभिन्न प्रकार के मंदिर शिलालेखों और शाब्दिक रूप से मुट्ठी केपपाइरस (Papyrus) के दस्तावेजों जैसे कि रिंडपेपिरस (Rhind Papyrus) से मिलता है।अफसोस की बात है कि क्लियोपेट्रा (Cleopatra) और जूलियससीज़र (Julius Caesar) के समय अलेक्जेंड्रिया (Alexandria)में एक बहुत बड़े पुस्तकालय को जला दिया गया था, और बाद में 390 ईस्वी और 640 ईस्वी में जलने के बाद से मिस्र के धर्मनिरपेक्ष साहित्य, गणित, चिकित्सा और खगोल विज्ञान पर 400,000 से अधिक पुस्तकें नष्ट हो गई थी।
इस तबाही को दुनिया की सबसे बड़ी बौद्धिक तबाही की संज्ञा दी गयी। ऐसा माना जाता है कि इस से मिस्र की एक विशाल खगोलीय जानकारी नष्ट हो गयी और जो बची है वह टुकड़ों में हमारे समक्ष मौजूद है। इसके अलावा कई जानकारियाँ मिस्र में चित्रों आदि के जरिये प्राप्त की जा सकती है।700 ईसा पूर्व तक, यूनानी (Greek)सभ्यता अपने पूर्ण अस्तित्व में थी। वहीं इतिहासकार हेरोडोटस (Herodotus -600 ईसा पूर्व) का उल्लेख है कि थेल्स (Thales) उस वर्ष की भविष्यवाणी करने में सक्षम थे जब पूर्ण सूर्य ग्रहण हुआ होगा, लेकिन यह भविष्यवाणी किस पर आधारित थी, इसका विवरण मौजूद नहीं है।अरबी (Arabic) खगोल विज्ञान 9वीं और 10वीं शताब्दी ईस्वी के दौरान वैज्ञानिक अनुसंधान का पश्चिमी दुनिया का शक्ति केंद्र बन गया, जबकि अंधकार युग ने पश्चिमी दुनिया के अधिकांश हिस्से को अपनी चपेट में ले लिया। टॉलेमी (Ptolemy) और अरस्तू (Aristotle) के कार्यों का अनुवाद किया गया और पूरे मुस्लिम जगत में फैलाया गया। जबकि चीनी, बेबीलोनियन और ग्रीक ज्योतिषियों ने 'पुरानी दुनिया' के खगोलीय ज्ञान पर हावी हुआ करते थे, दुनिया भर में, माया पर्यवेक्षक भी कैलेंडर पर काम कर रहे थे, और अपने स्वयं के अंत तक खगोलीय अवलोकन अभिलेख कर रहे थे। वहीं भारतीय समाज में भी भविष्यवाणियों की एक लंबी सूची है और यहां भी कई प्राचीन खगोलविदों ने ग्रहणों के बारे में जानकारी प्रस्तुत की है। वर्तमान समय में हम जिस पद्धति का उपयोग करते हैं यह लोगों के19वीं शताब्दी में आए विचारों पर आधारित है। जिन लोगों ने ग्रहण पथ की भविष्यवाणी करने के लिए अधिक आधुनिक गणनाओं का उपयोग करना शुरू किया, वे थे फ्रेडरिकबेसेल (Friedrich Bessel) और विलियमचौवेनेट (William Chauvenet)।आज, हम चंद्रमा के आकार की अपनी समझ के कारण और भी अधिक विशिष्ट प्राप्त करने में सक्षम हैं।

संदर्भ :-

https://bit.ly/2SxByLG
https://bit.ly/3jqwXWW
https://go.nasa.gov/361TFMR
https://bit.ly/3y4YXmV
https://bit.ly/3hfwzaQ

चित्र संदर्भ

1. चंद्र ग्रहण का यह चित्रण संक्रमणकालीन चरणों को दर्शाता है (wikimedia)
2. चंद्र ग्रहण के दौरान हो रहे बदलावों का एक चित्रण (wikimedia)
3.मैक्रोबियस, चंद्र और सूर्य ग्रहण का एक चित्रण (wikimedia) 4.एगो स्पेनी चंद्र पंचांग का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • क्या है उत्तर प्रदेश का जनसंख्या नियंत्रण कानून
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-09-2021 10:12 AM


  • भोजन संरक्षण और फसल उत्पादन में किण्वन की भूमिका
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     24-09-2021 09:21 AM


  • शरीर के विभिन्न अंगों के कैंसर भिन्न कारणों से होते हैं एवं विश्वभर में नियंत्रण के प्रयास
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-09-2021 10:45 AM


  • सबसे खतरनाक जानवरों में से एक है बॉक्स जेलीफ़िश, क्या बचा जा सकता है इसके डंक से
    मछलियाँ व उभयचर

     22-09-2021 09:08 AM


  • भारत की रॉक कट वास्तुकला से निर्मित भव्य विशालकाय आकृतियां
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-09-2021 09:46 AM


  • लकड़ी से बनी कुछ चीजें क्यों हैं काफी महंगी?
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-09-2021 09:31 AM


  • इतिहास की सबसे भीषण परमाणु दुर्घटना है, चर्नोबिल परमाणु दुर्घटना
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-09-2021 12:48 PM


  • जौनपुर की अनूठी शहर संरचना है यूरोप के प्रसिद्ध शहरों जैसी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-09-2021 10:07 AM


  • ओजोन परत के संरक्षण के लिए वैश्विक पैमाने पर उठाए गए कदम
    जलवायु व ऋतु

     17-09-2021 09:48 AM


  • जलवायु को विनियमित करने में महासागर की भूमिका
    समुद्र

     16-09-2021 10:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id