पर्यावरण में अमार्जक की भूमिका निभाते गिद्धों कि वर्तमान स्थिति

जौनपुर

 10-06-2021 10:04 AM
पंछीयाँ

रामायण में, गिद्धों के पूर्वज जटायु के एक विशेष प्रकरण का उल्‍लेख मिलता है, जब इन्‍होंने माता सीता के अपहरण के दौरान रावण के साथ बहादुरी से युद्ध लड़ा, हालांकि वे इस लड़ाई में हार गए और युद्ध में अपने दोनों पंख खो दिए। उन्होंने अप‍नी अंतिम सांसे लेते हुए राम और लक्ष्मण को बताया कि रावण माता सीता को लेकर किस दिशा की ओर गया है। जटायु के वंशज, गिद्ध आज पृथ्‍वी में एक अपमार्जक के रूप में कार्य कर रहे हैं। यह पर्यावरण मृत जीवों के शरीर को नष्‍ट कर देते हैं, जो पारिस्थितिकी तंत्र में व्यवस्था बनाए रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भारतीय गिद्ध (जिप्स इंडिकस) (gyps indicus) एक प्राचीन दुनिया का जीव है जो भारत (India), पाकिस्तान (Pakistan) और नेपाल (Nepal) के मूल निवासी हैं। इसे 2002 से आईयूसीएन (IUCN) की रेड लिस्ट (Red List) में इन्‍हें गंभीर रूप से लुप्तप्राय के रूप में सूचीबद्ध किया गया है, क्योंकि इनकी आबादी में भारी गिरावट आई है।
भारतीय गिद्धों की मृत्यु डाइक्लोफेनाक विषाक्तता (diclofenac poisoning) के कारण गुर्दे की विफलता से हुई। यह मुख्य रूप से मध्य और प्रायद्वीपीय भारत में पहाड़ी चट्टानों पर प्रजनन करता है। भारतीय गिद्ध मध्यम आकार का और वजनदार होता है। इसका शरीर और छिपे हुए पंख पीले होते हैं, इसके उड़ने वाले पंख गहरे रंग के होते हैं।
इसके पंख चौड़े और पूंछ के पंख छोटे होते हैं। इसके सिर और गर्दन में बाल नहीं होते हैं, और इसका बिल काफी लंबा होता है। यह 81-103 सेंटीमीटर (32-41 इंच) लंबा है और इसके पंख का फैलाव 1.96-2.38 मीटर (6.4-7.8 फीट) तक होता है। मादा नर से छोटी होती हैं। भारतीय गिद्ध मुख्य रूप से दक्षिण और मध्य भारत की चट्टानों पर ही प्रजनन करते हैं, राजस्थान में इन्‍हें घोंसले के लिए पेड़ों का उपयोग करते हुए भी देखा गया है। यह चतुर्भुज मंदिर जैसी उच्च मानव निर्मित संरचनाओं पर भी प्रजनन कर सकता है। अन्य गिद्धों की तरह, यह एक अपमार्जक है, जो ज्यादातर शवों को खाता है, जिसे पाने के लिए यह मुख्‍यत: सवाना और मानव निवास के आसपास उड़ता है। यह अक्सर झुंड में इकट्ठा होते हैं। हमारे देश में गिद्धों की आबादी में तेजी से गिरावट आई है, केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने पिछले मानसून सत्र के दौरान संसद में एक मूल्यांकन प्रस्‍तुत किया जिसमें इनकी संख्‍या पिछले तीन दशकों में चार करोड़ से 19,000 तक बताई गयी। भारतीय गिद्ध और सफेद पूंछ वाले गिद्ध, जी। बेंगालेंसिस (G। bengalensis) प्रजाति की आबादी बांग्लादेश (Bangladesh), पाकिस्तान और भारत में 99%-97% तक की कमी आयी है। 2000-2007 के बीच इस प्रजाति की वार्षिक गिरावट दर और सुडौल गिद्धों की औसत सोलह प्रतिशत से अधिक थी। इसका कारण पशु चिकित्सा दवा डाइक्लोफेनाक के कारण होने वाली विषाक्तता के रूप में पहचाना गया है।
डाइक्लोफेनाक एक गैर-स्टेरायडल विरोधी उत्‍तेजक दवा (एनएसएआईडी) (non-steroidal anti- inflammatory drug (NSAID)) है और यह काम करने वाले जानवरों को दिया जाता है जो उनके जोड़ों के दर्द को कम करती है और जिससे वह लंबे समय तक काम करता रहता है। ऐसा माना जाता है कि जिन जीवों को उनके जीवन के अंतिम दिनों में यह दवा दी गयी थी, उनके मरने के बाद उनके मृत शरीर से यह दवा गिद्धों के शरीर में प्रवेश कर गयी।
डिक्लोफेनाक (Diclofenac) गिद्धों की कई प्रजातियों में गुर्दे की विफलता का कारण बनता है। मार्च 2006 में भारत सरकार ने डाइक्लोफेनाक के पशु चिकित्सा उपयोग पर प्रतिबंध के लिए अपने समर्थन की घोषणा की। एक अन्य एनएसएआईडी, मेलॉक्सिकैम, (NSAID, meloxicam) गिद्धों के लिए हानिरहित पाया गया है जो पशुओं में डिक्लोफेनाक के समान ही कारगर होगा। अगस्त 2011 तक लगभग एक वर्ष के लिए पशुओं में डिक्लोफेनाक के उपयोग में प्रतिबंध लगाया गया था, किंतु फिर भी इसके उपयोग में खासी कमी नहीं आई। प्रायद्वीपीय भारत में, कर्नाटक और तमिलनाडु में, विशेष रूप से बैंगलोर के आसपास के गांवों में इन पक्षियों ने कम संख्या में प्रजनन किया। भारतीय गिद्धों में गिरावट ने पर्यावरण के संरक्षण को काफी प्रभावित किया है। सभी शवों को हटाकर, गिद्धों ने प्रदूषण को कम करने, बीमारी फैलाने और अवांछित स्तनधारी मैला ढोने वालों को दबाने में मदद की। इनकी संख्‍या में कमी के कारण जंगली कुत्तों और चूहों की आबादी में वृद्धि हुयी और इनके माध्‍यम से जूनोटिक रोगों (zoonotic diseases) की संख्‍या भी बढ़ गयी है। भारतीय गिद्धों की कई प्रजातियों के लिए बंदी-प्रजनन कार्यक्रम शुरू किए गए हैं। गिद्ध लंबे समय तक जीवित रहते हैं और प्रजनन में धीमे होते हैं, इसलिए इस कार्यक्रम में दशकों लगने की उम्मीद है। गिद्ध लगभग पांच साल की उम्र में प्रजनन की उम्र तक पहुंचते हैं। यह आशा की जाती है कि जब पर्यावरण डाइक्लोफेनाक से मुक्त होगा तब बंदी-नस्ल के पक्षियों को जंगल में छोड़ दिया जाएगा। 2014 की शुरुआत में विलुप्ति के कगार पर खड़े एशिया (Asia) के गिद्धों को बचाने हेतु कार्यक्रम चलाया गया। एशिया के 10 में से आठ गिद्ध-प्रजनन केंद्र भारत में हैं; नेपाल और पाकिस्तान में एक-एक है। हरियाणा के पिंजौर क्षेत्र में जटायु संरक्षण प्रजनन केंद्र, एशिया का पहला और अब तक का सबसे बड़ा प्रजनन केन्‍द्र है, यहां वर्तमान में एक वर्ष में 40 अंडे उत्‍पन्‍न होते हैं।
कोविड-19 (COVID-19) के प्रकोप ने छह बंदी बनाकर पाले गए सफेद-पूंछ वाले गिद्धों की रिहाई में देरी की है, यह गंभीर रूप से लुप्तप्राय प्रजातियों की भारी गिरावट का अध्ययन करने और जंगल में उनके अस्तित्व की जांच करने के लिए देश में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम है। इन छह पक्षियों का जीवित रहना देश के बंदी-प्रजनन मुक्ति कार्यक्रम की कुंजी है जो 2001 में पिंजौर केंद्र में भारत में गिद्धों की आबादी में भारी गिरावट के मद्देनजर शुरू हुआ था।

संदर्भ:
https://bit.ly/2T8xaD1
https://bit.ly/3fZeG0C
https://bit.ly/3pvxlUS
https://bit.ly/2ScJ52y
https://bit.ly/34ZUWUs
https://bit.ly/350KZWM
https://bit.ly/3irkuli
https://bit.ly/3w4oL1U

चित्र संदर्भ
1. गिद्ध का एक चित्रण (Unsplash)
2. भारतीय गिद्ध का एक चित्रण (wikimedia )
3. ग्रिफॉन गिद्ध स्पेन में एक लाल हिरण के शव को खा रहे हैं जिसका एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • तत्वमीमांसा या मेटाफिजिक्स क्या है, और क्यों ज़रूरी है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-01-2022 10:55 AM


  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूल आवाज को सुनाता वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:30 PM


  • कैसे छिपकली अपनी पूंछ के एक हिस्से को खुद से अलग कर देती हैं ?
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:30 AM


  • स्लम पर्यटन इतना लोकप्रिय कैसे हो गया और यह लोगों को कैसे प्रभावित करता है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:07 AM


  • घुड़दौड़ का इतिहास एवं वर्तमान स्थिति
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:42 AM


  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id