अपार संपदा के भण्‍डार और बहुद्देश्‍यों की पूर्ति के कारक हमारे महासागर

जौनपुर

 08-06-2021 08:41 AM
समुद्र

महासागर मानव के लिये अपार संपदा के भंडार हैं जिनका उपयोग मानव प्राचीन समय से ही करता आ रहा है। वर्तमान में भी विभिन्न देश महासागरीय संसाधनों का उपयोग अपनी अर्थव्यवस्था को बल देने के लिये कर रहे हैं। वे नीली अर्थव्यवस्था की अवधारणा पर बल दे रहे हैं ताकि महासागरीय संसाधनों का उचित उपयोग किया जा सके। किंतु इस क्षेत्र की चुनौतियाँ भी कम नहीं है। जलवायु परिवर्तन से लेकर महासागरीय संसाधनों का अनुचित दोहन तथा विनियामक ढाँचे की कमी प्रमुख चुनौती बनी हुई हैं। विश्‍व यदि कुशल अवसंरचना के विकास द्वारा महासागरीय संसाधनों का धारणीय उपयोग करने में सक्षम होता है तो यह क्षेत्र विश्‍व की अर्थव्यवस्था को गति देने में प्रमुख योगदान दे सकता है।
प्रत्‍येक वर्ष 8 जून को विश्व महासागर दिवस मनाया जाता है, जिसका उद्देश्‍य प्रत्‍येक व्‍यक्ति के दैनिक जीवन में समुद्र के महत्‍व को बताना है।और इस वर्ष महामारी एवं सामाजिक दूरी ने इस नीले ग्रह को एक नए तरीके से पहचानने के लिए विवश कर दिया है, और इसके प्रति कदम उठाने की आवश्‍यकता पहले से ज्‍यादा अधिक हो गयी है
।2020 के, विश्व महासागर दिवस में 2030 तक दुनिया के 30% महासागर की रक्षा करने हेतु एक वैश्विक आंदोलन शुरू किया गया, जिसमें विश्व नेताओं से आह्वान किया गया, इस अभियान का नाम 30x30 रखा गया।समुद्र के अत्यधिक संरक्षित क्षेत्रों के संजाल के माध्यम से इसके कम से कम 30% हिस्‍से की सुरक्षा करके, हम समुद्री और मानव जीवन दोनों के लिए एक स्वस्थ निवास सुनिश्चित करने में सहायता कर सकते हैं।2021 में विश्व महासागर दिवस की थीम 'महासागर: जीवन और जीविका' (The Ocean: Life & Livelihoods) है।इस वर्ष के अभियान का उद्देश्य "समुद्र के अपार भण्‍डारों पर प्रकाश डालना और यह हमारे जीवन का मुख्‍य स्रोत कैसे हैं, मानवता और पृथ्वी पर प्रत्‍येक जीव का समर्थन करना" है।
संयुक्त राष्ट्र इस दिवस के रूप में हमारे रोजमर्रा के जीवन में महासागरों की भूमिका का जश्न मनाता है और समुद्र की रक्षा करने और समुद्री संसाधनों का सतत उपयोग करने के लिए प्रेरित करता है। इस दिन का बहुत महत्व है क्योंकि इस दिन हम अपनी भावी पीढ़ी के लिए महासागरों को बचाने के विभिन्न तरीकों पर भी चर्चा करते हैं।रियो डी जनेरियो (Rio de Janeiro) में आयोजित पर्यावरण और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के बाद 1992 से कई देशों ने इस विशेष दिन को मनाया।2008 में, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने फैसला किया कि, 2009 से, 8 जून को संयुक्त राष्ट्र द्वारा "विश्व महासागर दिवस" के रूप में नामित किया जाएगा।तभी से इसे निरंतर मानाया जा रहा है। महासागर विश्व के सबसे बड़े पारिस्थितिकी तंत्र हैं, साथ ही ये पृथ्वी के तीन-चौथाई हिस्से में फैले हुए हैं। महासागर वैश्विक जीटीपी (GDP)में 5 प्रतिशत का योगदान देते हैं तथा 350 मिलियन लोगों को महासागरों से जीविका प्राप्त होती है। इस संदर्भ में ये क्षेत्र जलवायु परिवर्तन, वाणिज्य,आजीविका, तथा सुरक्षा से संबंधित विभिन्न संभावनाएँ एवं चुनौतियाँ उत्पन्न कर रहे हैं।महासागरों के संसाधनों का उपयोग जब आर्थिक विकास, आजीविका तथा रोज़गार एवं महासागरीय पारिस्थितिक तंत्र के स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर किया जाता है तो वह नीली अर्थव्यवस्था (Blue Economy) के अंतर्गत आता है।
जिस दर से हम अपने महासागरीय निकायों को प्रदूषित कर रहे हैं यह एक चिंताजनक विषय बन गया है। प्लास्टिक कचरा, पानी के घटते स्तर, पानी में अशुद्धियाँ, और अन्य कारकों से हमारे महासागरों को सुरक्षित एवं संरक्षित करना अत्यंत आवश्यक हो गया है। महासागरों और समुद्रों से 90% बड़ी मछलियों की आबादी समाप्त हो गई है, और 50% प्रवाल भित्तियाँ नष्ट हो गई हैं, हमें समुद्र से जितना लेना चाहिए हम उससे कई अधिक ले रहे हैं।आने वाले दशकों में इस नीले ग्रह के सामने आने वाली कई चुनौतियों का समाधान करने के लिए महासागर एवं उसके संसाधनों को तेजी से अपरिहार्य के रूप में देखा जा रहा है। 2050 तक, दुनिया की आबादी कम से कम 9 अरब होने का अनुमान है जिसके साथ ही भोजन, नौकरियों, ऊर्जा, कच्चे माल और आर्थिक विकास की मांग में भी वृद्धि होगी। इन आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करने के लिए महासागर बहुत बड़ी भूमिका निभा सकते हैं, किंतु महासागर पहले से ही अत्यधिक दोहन, प्रदूषण, घटती जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन से तनाव में है। इसके लाभों का दोहन करते हुए महासागरीय अर्थव्यवस्था की स्थिरता को बढ़ाने के लिए सावधानी बरतने की आवश्यकता है। महासागर-आधारित उद्योगों और समुद्री पारिस्थितिक तंत्र की परस्पर-निर्भरता ने समुद्र के स्वास्थ्य के लिए बढ़ते गंभीर खतरों के साथ मिलकर, महासागर प्रबंधन हेतु एक एकीकृत दृष्टिकोण की आवश्यकता की बढ़ती मांग को जन्म दिया है। इसे प्राप्त करने के लिए कई प्रबंधन रणनीतियों का सुझाव दिया गया है, जिसमें एकीकृत तटीय क्षेत्र प्रबंधन (आईसीजेडएम) (Integrated Coastal Zone Management (ICZM)), समुद्री स्थानिक योजना (एमएसपी) (Marine Spatial Planning (MSP)) और समुद्री संरक्षित क्षेत्र (एमपीए) (Marine Protected Areas (MPA)) शामिल हैं। समुद्री आर्थिक गतिविधि, समुद्री पर्यावरण और दोनों के बीच की बातचीत पर एक सटीक और व्यापक सूचना आधार इन रणनीतियों में से प्रत्येक के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन अक्सर इसकी कमी देखी जाती है। समुद्री पारिस्थितिक तंत्र के आर्थिक मूल्य की अधिक समझ से इन लक्ष्यों के समर्थन में एकीकृत महासागर प्रबंधन में मदद मिल सकती है, और यह राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक ध्यान आकर्षित कर सकता है।महासागर आधारित उद्योगों और समुद्री पारिस्थितिक तंत्रों को एकीकृत तरीके से प्रबंधित करने के लिए मजबूत आंकड़े आधार स्‍तंभकी भूमिका निभा सकते हैं। अगले कुछ वर्षों में अनिश्चितता का उच्च स्‍तर इंगित करता है कि कोविड-19(COVID-19) संकट से पहले की समुद्री अर्थव्यवस्था को बनाए रखने के लिए रणनीति बनाना चुनौतीपूर्ण होगा।
हालाँकि, समुद्री अर्थव्यवस्था में विकास से जुड़े कई समान मुद्दे बने हुए हैं। उदाहरण के लिए, भोजन, ऊर्जा, खनिज, अवकाश गतिविधियां आदि के समुद्री स्रोतों की लंबी अवधि की मांग अभी भी वैश्विक आबादी के साथ बढ़ने की संभावना है।
महासागरीय अर्थव्यवस्था के आसपास निर्णय लेने में स्थिरता एक महत्वपूर्ण कारक बनी रहनी चाहिए, क्योंकि नीति निर्माता ऐसी रणनीतियों पर विचार कर रहे हैं जिनका क्रियांनवयन सुरक्षित होने पर उनकी अर्थव्यवस्थाओं को प्रोत्साहित करेंगी। समुद्र और उसके कामकाज को बेहतर ढंग से समझने के लिए विश्वव्यापी प्रयासों का एक अनिवार्य हिस्सा निरंतर महासागर अवलोकन हैं। इन ऑब्जर्विंग सिस्टम्स (observing systems) में फिक्स्ड प्लेटफॉर्म (fixed platforms), ऑटोनॉमस (autonomous) और ड्रिफ्टिंग सिस्टम (drifting systems), सबमर्सिबल प्लेटफॉर्म (submersible platforms), समुद्र में जहाज (ships at sea) और रिमोट ऑब्जर्विंग सिस्टम (remote observing systems) जैसे सैटेलाइट (satellites) और एयरक्राफ्ट (aircraft) शामिल हैं, जो बड़ी मात्रा में महासागर अवलोकन आंकड़ों को इकट्ठा करने, संग्रहित करने, स्‍थानांतरित करने और क्रियांवित करने के लिए तेजी से कुशल तकनीकों और उपकरणों का उपयोग करते हैं। ऐसे उपकरणों से प्राप्त आंकड़े कई अलग-अलग वैज्ञानिक समुदायों और समुद्री अर्थव्यवस्था में सक्रिय सार्वजनिक और वाणिज्यिक उपयोगकर्ताओं की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए महत्वपूर्ण हैं। वे वैज्ञानिक अनुसंधान की एक विस्तृत श्रृंखला को रेखांकित करते हैं, और समुद्री संसाधनों और महासागर पर्यावरण के सुरक्षित, प्रभावी और टिकाऊ उपयोग का गंभीरता से समर्थन करते हैं। उन्हें विकसित करने और बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण सार्वजनिक निवेश की आवश्यकता होती है, जिसके औचित्य के लिए संबद्ध लागतों और लाभों और समाज के मूल्य के कठोर मूल्यांकन की आवश्यकता होती है। ठोस और सतत महासागर प्रबंधन रणनीतियों को विकसित करने में आने वाली कई नई चुनौतियों को देखते हुए, सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में निर्णय लेने वालों के लिए यह फायदेमंद होगा कि वे नवाचारों और पर्याप्त सहयोग तंत्र की पहचान और मानचित्रण करें जिनमें समुद्री पर्यावरण पर और उसके बाहर सकारात्मक प्रभावों के साथ समुद्री आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने की क्षमता हो।महासागर पृथ्‍वी की ऑक्सीजन (oxygen) का कम से कम 50% उत्पादन करते हैं, यह पृथ्वी की अधिकांश जैव विविधता का घर हैं, और दुनिया भर में एक अरब से अधिक लोगों के लिए प्रोटीन (protein) का मुख्य स्रोत हैं। महासागर हमारी अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है, अनुमानित रूप से 2030 तक 40 मिलियन लोगों को महासागर-आधारित उद्योगों द्वारा नियोजित किया जाएगा।

संदर्भ:

https://bit.ly/2TASj8U
https://bit.ly/3fTOGDN
https://bit.ly/3iq61pL
https://bit.ly/3wXowWq

चित्र संदर्भ
1. समुद्र के तल का एक चित्रण (Unsplash)
2. समुद्र दिवस का एक चित्रण (flickr)
3. समुद्र की सफाई करते लोगों का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • ले मोर्ने के तट पर, शानदार भ्रम उत्पन्न करता है मॉरीशस
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:16 PM


  • भार‍तीय फ़ास्ट फ़ूड व् स्‍ट्रीटफूड चाट की बढ़ती लोकप्रियता
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:12 AM


  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id