भारत में महामारी के दौरान समय की मांग है हाइड्रोपोनिक खेती और इसकी बढ़ती प्रवृत्ति

जौनपुर

 01-06-2021 08:48 AM
भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार की मिट्टियां पाई जाती है।ऐसे ही जौनपुर में मुख्यतः बलुई, जलोढ़ या बलुई दोमट मिट्टी पाई जाती है। गोमती नदी के किनारे स्थित होने के कारण यहाँ जलोढ़ मिट्टी का अनुपात अन्‍य से ज्‍यादा है।जौनपुर जिला मुख्‍यतः कृषि प्रधान क्षेत्र है, जिसकी अर्थव्‍यवस्‍था का एक बड़ा हिस्‍सा कृषि से आता है। यहां की मुख्‍य फसलें चावल, मक्का, मटर, मोती बाजरा, गेहूं, काला चना, प्याज़ और आलू हैं, इसके साथ ही यहाँ कुछ चारे की फसलें भी उगायी जाती हैं। फसलें वर्षा और सिंचाई दोनों के साथ उगाई जाती हैं। कृषि प्रधान क्षेत्र होने की वजह से यहाँ मृदा अपरदन एक स्वाभाविक रूप से होने वाली प्रक्रिया है। कृषि में, मिट्टी का क्षरण जल और वायु की प्राकृतिक शारीरिक शक्तियों द्वारा या जुताई जैसी कृषि गतिविधियों से होता है। मिट्टी का क्षरण फसली उत्पादकता को कम करता है और निकटस्थ जलक्षेत्रों, आर्द्रभूमि और झीलों के प्रदूषण में योगदान देता है।मृदा अपरदन एक धीमी प्रक्रिया हो सकती है जो अपेक्षाकृत निरंतर जारी रहती है या खतरनाक दर पर हो सकती है, जिससे ऊपरी मिट्टी को गंभीर नुकसान होता है। मृदा संघनन, कम कार्बनिक पदार्थ, मिट्टी की संरचना का नुकसान, खराब आंतरिक जल निकासी, लवणता और मिट्टी की अम्लता की समस्याएं अन्य गंभीर मिट्टी की गिरावट की स्थिति को उत्पन्न करती हैं।
मृदा अपरदन प्रमुख रूप से जल व वायु द्वारा होता है, यदि जल व वायु का वेग तीव्र होगा तो अपरदन की प्रक्रिया भी तीव्र होती है। अतिगहन एवं दीर्घकालिक वर्षा मृदा के भारी अपरदन का कारण बनती है। मिट्टी की सतह पर वर्षा की बूंदों का प्रभाव मिट्टी की सतह को तोड़ सकता है और सकल पदार्थ को तितर-बितर कर सकता है। मिट्टी के कार्बनिक पदार्थों के स्तर को कम करने वाली जुताई और फसल संबंधी प्रथाएं, मृदा संरचना को खराब करती हैं या मृदा संघनन के परिणामस्वरूप मृदा अपरदन में वृद्धि को प्रभावित करती हैं। दूसरी ओर हवा से होने वाले अपरदन की वजह से हवा से रोपाई, पौधों या बीज नष्ट हो जाते हैं, जिसके चलते फसलें भी बर्बाद हो जाती हैं और भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है।
फसलों के स्वस्थ रूप से उगने में सबसे महत्वपूर्ण कारक है मिट्टी की गुणवत्ता, मिट्टी की गुणवत्ता विभिन्न भौतिक, रासायनिक और जैविक प्रक्रियाओं का नतीजा है। बहुत ज्यादा खेती, अत्यधिक दोहन जैविक और अजैविक स्रोतों से सीमित क्षतिपूर्ति के कारण मिट्टी की गुणवत्ता क्षीण होती है।
मिट्टी की गुणवत्ता में लगातार गिरावट को अक्सर उपज की स्थिरता या कमी के एक कारण के रूप में देखा जाता है।उपज की स्थिरता को बनाए रखने के लिए पूरे भारत में मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार के लिए विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं, जहां महामारी ने सब कुछ एक प्रकार से रोक सा दिया है, इसकी वजह से मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार के लिए किए जाने वाले प्रयासों में भी एक प्रकार बाधा उत्पन्न हुई है। लेकिन विश्व कृषि वानिकी की वैश्विक मृदा प्रयोगशाला भूमि क्षरण निगरानी ढांचे के हिस्से के रूप में महामारी के दौरान भारत को आभासी प्रशिक्षण प्रदान कर रही है। कोविड -19 के प्रकोप से पहले, भारत में दो संगठन विश्व कृषि वानिकी के साथ साझेदारी में भूमि क्षरण निगरानी ढांचे को लागू कर रहे थे, जिसका नेतृत्व टोर-गुन्नार वेगन, लेह विनोविकी (Tor-Gunnar Vagen, Leigh Winowiecki) और ऐडा टोबेला (Aida Tobella) ने किया, ताकि चार राज्यों (आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, उड़ीसा और राजस्थान) में भूमि और मिट्टी के स्वास्थ्य का आकलन किया जा सके।महामारी के आगमन के साथ, नियोजित प्रशिक्षण मैदान में रुकावट आ गई। लेकिन इस महत्वपूर्ण कार्य को लंबे समय तक बंद रखना संभव नहीं था, इसलिए विश्व कृषि वानिकी की सॉयल-प्लांट स्पेक्ट्रल डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी (Soil–Plant Spectral Diagnostic Laboratory) ने 2 जुलाई 2020 को मृदा प्रसंस्करण पर आभासी प्रशिक्षण दिया।साथ ही जहां कोविड -19 के कारण क्षेत्र सर्वेक्षण धीमा हो गया है, इस आभासी प्रशिक्षण के बाद, भागीदार स्थानीय स्तर पर मिट्टी के नमूनों का प्रसंस्करण शुरू कर सकते हैं।इन दो परियोजनाओं को अजीम प्रेमजी परोपकारी पहल, प्रभाव आकलन पर सीजीआईएआर (CGIAR) स्थायी पैनल (Panel), और जल, भूमि और पारिस्थितिकी तंत्र, और वन, पेड़ और कृषि वानिकी पर सीजीआईएआर अनुसंधान कार्यक्रमों द्वारा वित्त पोषित किया गया है। हालांकि विशेषज्ञों द्वारा मृदा अपरदन को कम करने के लिए मिट्टी की गुणवत्ता का आकलन करने के कई प्रयास तो किए जा ही रहे हैं, लेकिन इसके अतिरिक्त हमारे द्वारा भी कुछ उपायों को अपना कर मृदा अपरदन को कम किया जा सकता है। जुताई और फसल के कार्य, साथ ही भूमि प्रबंधन कार्य, सीधे तौर से एक खेत में मिट्टी के अपरदन की समस्या और समाधान को प्रभावित करते हैं। जब फसल की कटाई या बदलती जुताई पद्धतियाँ किसी क्षेत्र पर कटाव को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त नहीं होती हैं, तो दृष्टिकोण या अधिक चरम उपायों का संयोजन आवश्यक हो सकता है। वहीं यदि देखा जाए तो कई किसानों ने अपने खेतों पर मिट्टी के अपरदन की समस्याओं से निपटने के लिए कई तरह से महत्वपूर्ण प्रगति की है।
मृदा अपरदन को कम करने का एक प्रभावी तरीका हाइड्रोपोनिक (Hydroponic) तकनीक है। कृषि में प्रौद्योगिकी के एकीकरण के साथ, वर्तमान में, शहरी खेती या उच्च तकनीक वाले हाइड्रोपोनिक खेतों के माध्यम से शहरों में भोजन उगाना आसान हो गया है। यह पोषण में सुधार और खाद्य आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधानों से निपटने के लिए एक महत्वपूर्ण विधि है। हाइड्रोपोनिक खेती का सीधा सा मतलब है कि मिट्टी के बजाय पोषक तत्वों से भरपूर पानी में ताजी सब्जियां और फल उगाना। इसमें खास बात यह भी है कि परंपरागत खेती की तुलना में इस विधि से खेती करने में कम जगह और कम संसाधनों की आवश्यकता होती है, केवल इतना ही नहीं इसमें पानी भी कम मात्रा में लगता है। हाइड्रोपोनिक विधि दशकों से हमारे बीच मौजूद है, लेकिन आज के समय के एग्रीटेक स्टार्टअप्स (Agritech startup) के प्रयासों से, यह नवीन शहरी कृषि विधियों में विकसित हो रहा है।आधुनिक तकनीकों के आधार पर, मिट्टी रहित खेती से नियंत्रित जलवायु में उच्च उत्पादकता प्राप्त होती है और कीटों और कीड़ों के हमले का कोई खतरा नहीं होता है। वर्तमान समय में बाजार में एग्रीटेक स्टार्टअप हाइड्रोपोनिक खेती की स्थापना के लिए हर संभव सहायता प्रदान कर रहे हैं।भारत में पहली बार, कुछ एग्रीटेक स्टार्टअप हाइड्रोपोनिक उत्पाद के साथ-साथ बैंक गारंटी (Bank Guarantee) के लिए वापसी क्रय नीति विकल्प प्रदान कर रहे हैं। यह देश में हाइड्रोपोनिक खेती तकनीक को और बढ़ावा देगा। घर में रहने के वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए, हाइड्रोपोनिक खेती धीरे-धीरे भारत में एक घरेलू प्रवृत्ति बनती जा रही है।
हाइड्रोपोनिक प्रणाली इस तरह बनाई गई है कि लंबे समय तक रखे जाने के साथ स्वस्थ, ताजा और अधिक पौष्टिक उत्पाद प्रदान करते हैं। यह तकनीक मूल्यवान जल, भूमि और श्रम संसाधनों को बचाने में मदद करती है जो आगे एक कुशल पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करती है। इसके अलावा, नियंत्रित बढ़ती प्रणाली हानिकारक रसायनों के उपयोग के बिना भोजन के उत्पादन को सक्षम बनाती है जिसके परिणामस्वरूप 100 प्रतिशत अवशेष मुक्त खेती होती है। महामारी ने हमें स्वास्थ्य को उच्चतम करने, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और विषाणु के जोखिम और प्रभाव को कम करने के लिए पर्याप्त पोषण के महत्व को समझना आवश्यक बना दिया है। यदि देखा जाएं तो एक मजबूत और लचीला प्रतिरक्षा प्रणाली होना समय की आवश्यकता है। इस प्रकार, महामारी के विनाशकारी परिणाम हमारे स्वाद, ज्ञान और जागरूकता का विस्तार करने और एक अधिक कुशल और टिकाऊ खाद्य प्रणाली के निर्माण में योगदान करने के लिए उत्प्रेरक होनी चाहिए।आमतौर पर, मनुष्य एक स्वस्थ भोजन प्रणाली बनाने में अच्छे विकल्पों की शक्ति और व्यक्तिगत व्यवहार परिवर्तन को कम आंकते हैं। हाइड्रोपोनिक खेती प्रणाली को अपनाने से भोजन की आदतों को पृथ्वी की भलाई के साथ संरेखित करने में मदद मिलती है और लोगों को भी रासायनिक मुक्त खाद्य पदार्थ खाने को मिलता है। नतीजतन,यह उपभोक्ताओं को पर्यावरण के बारे में विचार करने और बीमारी से लड़ने के लिए उच्च प्रतिरक्षा प्रणाली विकसित करने में मदद करता है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/2SA5hDs
https://bit.ly/3p0BekB
https://bit.ly/3vzH12Y
https://bit.ly/2SFuUTc
https://bit.ly/3fTkXJR
https://bit.ly/2SFNpa8

छवि संदर्भ
1. ब्रूक्स, अल्बर्टा में क्रॉप डायवर्सिफिकेशन सेंटर (सीडीसी) साउथ एक्वापोनिक्स ग्रीनहाउस में गहरे पानी के टैंक का एक चित्रण (wikimedia)
2. विभिन्न सलाद साग उगाने के लिए पोषक तत्व फिल्म तकनीक (एनएफटी) का उपयोग किया जा रहा है जिसका एक चित्रण (wikimedia)
3. एक उतार और प्रवाह, या बाढ़ और नाली, हाइड्रोपोनिक्स प्रणाली का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM


  • लोकप्रिय पर्व लोहड़ी से जुड़ी लोकगाथाएं एवं महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:47 PM


  • अनुचित प्रबंधन के कारण खराब हो रहा है जौनपुर क्रय केन्द्रों पर रखा गया धान
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 07:02 AM


  • प्राचीन काल से ही कवक का औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     12-01-2022 03:29 PM


  • लिथियम भंडारण की कतार में कहां खड़ा है भारत
    खनिज

     11-01-2022 11:29 AM


  • व्यंजन की सफलता के लिए स्वाद के साथ उसका शानदार प्रस्तुतीकरण भी है,आवश्यक
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     10-01-2022 07:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id