भारतीय नवपाषाण काल, विश्व भर में चावल की खेती का इतिहास

जौनपुर

 28-05-2021 08:11 AM
भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

कई शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों द्वारा खोजे गए साक्ष्यों से यह पता चलता है कि मनुष्य का धरती पर विकास एक क्रमिक प्रक्रिया द्वारा हुआ है। इस प्रक्रिया में कई सभ्यताएं विकसित हुईं जिनमें मानव ने अपनी जीवन शैली को अच्छा बनाने के लिए कई चीज़ों की खोज की और साधनों का विकास किया। विकास का महत्वपूर्ण समय या युग वह था जब मानव ने स्वयं खेती करना सीखा। हालांकि खेती सीखने से पहले तक मनुष्य केवल शिकार के माध्यम से या फिर पेड़-पौधों पर आश्रित होकर ही अपना भोजन प्राप्त करते थे किंतु जब उन्होंने खेती करना सीखा तब वे स्वयं ही अनाज उत्पन्न करने में सक्षम बन गए। जब मानव ने खेती की शुरुआत की, उस युग को नवपाषाण काल के नाम से जाना जाता है, हालांकि नवपाषाण काल, पाषाण काल का अंतिम और तीसरा भाग था। भारत में,यह युग सम्भवतः 7000 ईसा पूर्व से 1000 ईसा पूर्व के बीच का था जब मानव ने खेती का प्रारम्भ करना शुरू किया। नवपाषाण काल मुख्य रूप से पहले से मौजूद कृषि के विकास और पॉलिश (Polished) किए गए पत्थरों से बने उपकरणों और हथियारों के उपयोग की विशेषता है। इस अवधि के दौरान उगाई जाने वाली प्रमुख फसलें रागी, घोड़ा चना, कपास, चावल, गेहूं और जौ थीं। इस युग में पहली बार मिट्टी के बर्तन दिखाई दिए।
नवपाषाण काल शब्द का प्रयोग कृषि के संबंध में सबसे अधिक बार किया जाता है, जो वह समय है जब अनाज की खेती और पशुपालन शुरू किया गया था।
चूँकि दुनिया के अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग समय में कृषि का विकास हुआ, इसलिए नवपाषाण काल ​​की शुरुआत की कोई एक तारीख नहीं है।निकट पूर्व में, कृषि का विकास 9,000 ईसा पूर्व के आसपास, दक्षिण पूर्व यूरोप में 7,000 ईसा पूर्व के आसपास और बाद में अन्य क्षेत्रों में हुआ था।यहां तक कि एक विशिष्ट क्षेत्र के भीतर भी कृषि का विकास अलग-अलग समय में हुआ। उदाहरण के लिए, कृषि पहले दक्षिण पूर्व यूरोप में लगभग 7,000 ईसा पूर्व, मध्य यूरोप में लगभग 5,500 ईसा पूर्व और उत्तरी यूरोप में लगभग 4,000 ईसा पूर्व में विकसित हुई थी। पूर्वी एशिया में, नवपाषाण काल 6000 से 2000 ईसा पूर्व तक रहा है।खेती के माध्यम से विभिन्न प्रकार के अनाज उगाए गए, जिनमें से एक विश्व भर में दूसरे सर्वाधिक क्षेत्रफल पर उगाए जाने वाले चावल की फसल भी है।यदि हम चावल की खेती के इतिहास के बारे बात करें तो वह काफी पुराना और जटिल है।
जौनपुर से कुछ ही दूरी में नवपाषाण स्थल कॉलडीहवा स्थित है, जिसमें पाषाण युग के अंतिम काल से मानव सभ्यता के सबसे पुराने अवशेष पाए गए हैं, जिसमें फसलों और मवेशियों की हड्डियों के कई अवशेष शामिल हैं। वहीं यह चावल की खेती के शुरुआती उदाहरणों में से एक है।चावल की मुख्य रूप से कई किस्में पाई जाती है, ओराइज़ा सटीवा (Oryza Sativa) एक एशियाई (Asian) प्रजाति को लगभग 10,000–14,000 वर्ष पहले जंगली घास ओराइज़ा रूफिपोगोन (Oryza rufipogon) से उत्पादन किया गया था। एक अन्य खेती की प्रजाति, ओरीज़ा ग्लोबेरिमा (Oryza glaberrima), को बहुत बाद में पश्चिम अफ्रीका (West Africa) में उगाई गई थी। चावल की दो मुख्य उप-प्रजातियां, इंडिका (Indica - उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में प्रचलित) और जपोनिका (Japonica- पूर्वी एशिया के उपोष्णकटिबंधीय और समशीतोष्ण क्षेत्रों में प्रचलित) को स्वतंत्र रूप से उत्पादित करने के कोई सटीक प्रमाण मौजूद नहीं हैं।चीन में, व्यापक पुरातात्विक साक्ष्य मध्य यांग्त्ज़ी (Yangtze) और ऊपरी हुआई(Huai) नदियों को देश में ओराइज़ा सटीवा की खेती के दो शुरुआती स्थानों के रूप में इंगित करते हैं।कम से कम 8,000 साल पुराने चावल और उसकी खेती के औजार यहाँ से पाए गए हैं। अगले 2,000 वर्षों में इन नदियों में खेती काफी प्रचुर मात्रा में फैल गई।मिट्टी को पोखर कर उसे तोड़ने, बहुत अधिक पानी को रिसने से रोकने के लिए गीली मिट्टी में बदलना और पौधे रोपने जैसी प्रक्रिया की चीन में परिष्कृत होने की संभावना थी। दोनों प्रबंध चावल की खेती के अभिन्न अंग बन गए और आज भी व्यापक रूप से प्रचलित हैं। पोखर और रोपाई के विकास के साथ, चावल वास्तव में घरेलू रूप से उगाया जाने लगा।पश्चिमी भारत और दक्षिण से श्रीलंका तक की आवाजाही भी बहुत पहले ही पूरी हो गई थी। 1000 ईसा पूर्व में श्रीलंका में चावल एक प्रमुख फसल बन गई थी। वहीं तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के अंत में, चावल की खेती का मुख्य भूमि दक्षिण पूर्व एशिया और पश्चिम में भारत और नेपाल में तेजी से विस्तार हुआ। वहीं क्विलिंग-शिजी संस्कृति और लिआंगझू संस्कृति के आसपास और नवपाषाण काल (3500 से 2500 ईसा पूर्व) के अंत तक, चावल की खेती के केंद्रों में तेजी से वृद्धि होने लगी थी।इन दोनों क्षेत्रों में धान के खेतों में गहन चावल की खेती के साथ-साथ तेजी से परिष्कृत भौतिक संस्कृतियों के प्रमाण भी थे।यांग्त्ज़ी संस्कृतियों और उनके आकार के बीच बस्तियों की संख्या में वृद्धि हुई, कुछ पुरातत्वविदों ने उन्हें स्पष्ट रूप से उन्नत सामाजिक-राजनीतिक संरचनाओं के साथ अच्छे राज्यों के रूप में चिह्नित किया।
हालांकि,हाल के अनुवांशिक सबूत बताते हैं कि एशियाई चावल के सभी रूप, इंडिका और जपोनिका दोनों, चीन (China) के पर्ल नदी (Pearl River) घाटी क्षेत्र में 8,200-13,500 साल पहले उगाई गई थी।उस पहली खेती से, प्रवासन और व्यापार ने दुनिया भर में चावल को पहले पूर्वी एशिया में फैलाया, और फिर विदेशों में और अंततः अमेरिका (America) में कोलंबियाई (Columbian) विनिमय के हिस्से के रूप में फैलाया। आज हमारे समक्ष कम प्रसिद्ध ओराइज़ा ग्लोबेरिमा चावल को 3,000 से 3,500 साल पहले अफ्रीका में स्वतंत्र रूप से उगाया गया था।2003 में, कोरियाई (Korean)पुरातत्वविदों ने दुनिया के सबसे पुराने घरेलू चावल की खोज करने का दावा किया था।उनके 15,000 वर्ष पुराने चावल इस स्वीकृत दृष्टिकोण को चुनौती देती है कि चावल की खेती लगभग 12,000 साल पहले चीन में हुई थी।2011 में, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University), न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय (New York University), सेंट लुइस (St. Louis) में वाशिंगटन विश्वविद्यालय (Washington University) और पर्ड्यू विश्वविद्यालय (Purdue University) के संयुक्त प्रयास ने अभी तक का सबसे मजबूत सबूत प्रदान किया है कि चीन की यांग्त्ज़ी घाटी में घरेलू चावल का केवल एक ही मूल है। वहीं भारतीय उपमहाद्वीप में अनाज के सबसे पुराने अवशेष भारत-गंगा के मैदान में पाए गए हैं, जो 7000–6000ईसा पूर्व के हैं।
हालांकि चावल की खेती के लिए सबसे पहले व्यापक रूप से स्वीकृत तिथि सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित क्षेत्रों के निष्कर्षों के साथ लगभग 3000- 2500 ईसा पूर्व मानी जाती है।प्राचीन भारत में चावल को प्रारंभिक रूप से घरेलू बनाने की प्रक्रिया जंगली प्रजातियों ओराइज़ा निवारा (Oryza nivara) के आसपास आधारित थी।इससे स्थानीय ओराइज़ा सटीवा की किस्मों इंडिका और जपोनिका की लगभग 2000 ईसा पूर्व के आसपास आर्द्रभूमि और शुष्क भूमि में खेती की गई। साथ ही बारहमासी जंगली चावल अभी भी असम और नेपाल में उगाए जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि उत्तरी मैदानों में इसके घरेलू रूप से उगाए जाने के बाद दक्षिणी भारत में 1400 ईसा पूर्व के आसपास इसकी खेती दिखाई दी।इसके बाद यह नदियों द्वारा सींचे गए सभी उपजाऊ जलोढ़ मैदानों में फैल गया।माना जाता है कि खेती और खाना पकाने के तरीके पश्चिम में तेजी से फैल गए थे और मध्ययुगीन काल तक, दक्षिणी यूरोप में चावल को व्यवसायिक अनाज के रूप में पेश किया गया था।
मानव आबादी पर कृषि के गहरे प्रभाव को प्रतिबिंबित करने के लिए, गॉर्डन चाइल्ड (Gordon Childe) नामक एक ऑस्ट्रेलियाई पुरातत्वविद् ने 1940 के दशक में "नवपाषाण क्रांति" शब्द को लोकप्रिय बनाया। हालांकि, आज यह माना जाता है कि कृषि नवाचार के प्रभाव को अतीत में बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया था और नवपाषाण संस्कृति का विकास अचानक परिवर्तन के बजाय क्रमिक रूप से हुआ प्रतीत होता है।एक क्रांति के बजाय, पुरातात्विक साक्ष्य बताता है कि कृषि को अपनाना छोटे और क्रमिक परिवर्तनों का परिणाम है।कृषि कई क्षेत्रों में स्वतंत्र रूप से विकसित हुई थी। कृषि द्वारा प्रमुख परिवर्तन पेश किए गए, जिससे मानव समाज के संगठित होने के तरीके को प्रभावित किया गया,जिसमें वन निकासी, जड़ वाली फसलें, और अनाज की खेती शामिल है जिसे लंबे समय तक संग्रहीत किया जा सकता है, साथ ही खेती के लिए नई तकनीकों का विकास और चराई जैसे हल, सिंचाई प्रणाली, आदि।जीवन के एक गतिहीन तरीके को अपनाकर, नवपाषाण समूहों ने क्षेत्रीयता के बारे में अपनी जागरूकता बढ़ाई।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3vpJL2K
https://bit.ly/2TosxVr
https://bit.ly/3uuIw15
https://bit.ly/2SzGnno
https://bit.ly/3wxVRqG https://bit.ly/3oZolY4

चित्र संदर्भ
1. एक लिआंगझू संस्कृति का मॉडल (3400 से 2250 ईसा पूर्व) प्राचीन शहर जो एक खाई से घिरा हुआ है उसका एक चित्रण (wikimedia)
2. ऑस्ट्रोनेशियन विस्तार 3500 ईसा पूर्व से 1200 ईस्वी तक का एक चित्रण (wikimedia)
3. भूसे से चावल अलग करती भारतीय महिलाओं का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • ले मोर्ने के तट पर, शानदार भ्रम उत्पन्न करता है मॉरीशस
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:16 PM


  • भार‍तीय फ़ास्ट फ़ूड व् स्‍ट्रीटफूड चाट की बढ़ती लोकप्रियता
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:12 AM


  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id