शास्त्रीय भारतीय नृत्य की तीन श्रेणियां है नृत्त, नृत्य एवं नाट्य

जौनपुर

 06-05-2021 09:32 AM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

भारत में रंगमंच की उत्पत्ति का स्त्रो त नाट्यशास्त्रो को माना जाता है, यह भारतीय संस्कृशति में रंगमंच और नृत्य की केंद्रीय भूमिका को दर्शाता है। नाट्यशास्त्रा की रचना भरत नाम के मुनि द्वारा की गयी थी,माना जाता है कि इन्हेंन नाट्य की शिक्षा भगवान ब्रह्मा जी द्वारा दी गयी थी। नाट्यशास्त्र संभवतः दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे व्यापक रंगमंच और नृत्य की कृति है, और यह आज भी भारत में रंगमंच और नृत्य के शास्त्रीय रूपों की नींव रखती है।नृत्य शरीर के विभिन्नी अंगों की गतिविधि, मुख और नयनों के माध्यहम से भावों की अभिव्यिक्त्ति का संयोजन है। यह सदियों से चली आ रही एक पारंपरिक गतिविधि है, जिसमें संगीत के साथ धार्मिक, पौराणिक कथाओं या इनसे संबंधित पात्रों या शास्त्री य साहित्य से संबंधित विषयों को विस्ताकर से प्रस्तु त किया जाता है।नृत्यश को वास्तसव में तीन श्रेणियों क्रमश: नृत्ता, नृत्य और नाट्य में विभाजित किया गया है। आईये इनको विस्तार में समझें:

नृत्ति:
भावाभिनयहीनं तु नृत्तजमित्ययभिधीयतेअभिनय
और भाव रहित नृत्तयन को नृत्तस कहा जाता है। ताल और लय के साथ शुद्ध नृत्तनन क्रिया को नृत्तत कहा जाता है।नृ्त्तम अर्थात शुद्ध नृत्य, जिसमें शरीर की सुंदर गतिविधियों के माध्यम से लय की प्रस्तुति की जाती है। यह हमेशा उन मनोदशा, भाव और रस को दर्शाता है, जो नृत्य के लिए गाए जाने वाली रचनाओं में अंतर्निहित होते हैं। यह अपने शुद्ध सौन्दधर्य के लिए महत्वपूर्ण है। नृत्त् की प्रस्तुति चेहरे के भावों पर जोर नहीं देती है। इसमें कदमों की प्रस्तुसति की प्रमुखता होती है। इसमें ताल और समय के बीच तालमेल के लिए लय और ताल प्रमुख मार्गदर्शक कारक होते हैं। अभिनय दर्पण रस भाव को उद्घाटित किए बिना शारीरिक गतिविधियों के रूप में नृ्त्य को परिभाषित करता है।

नृत्य:
रस भाव व्यंकजनादियुक्तंप नृत्यंप मितीयते

रस भाव व्यंकजन युक्तं नर्त्त‍न क्रिया नृत्यस कहलाती है। नृत्यव के अंतर्गत ताल लय पर अंग संचालन के साथ भाव का समन्व य होता है। जब नाट्य और नृत्तव दोनों मिलते हैं तो यह नृत्यच बन जाता है अर्थात किसी भी शब्दह का अभिनय जब ताल और लय के साथ किया जाता है तो वह नृत्यृ कहलाता है।नृत्यि कदमों का कार्य और अभिनय का संयोजन होता है। यह रस और मनोवैज्ञानिक अवस्था से संबंधित है। हस्तन, अंग, भौंह, होंठ आदि से संबंधित अंगिका अभिज्ञान नृ्त्य में बहुत महत्वपूर्ण होती हैं। यह नृत्य के व्याख्यात्मक पहलू को भी दर्शाता है जहां हाथ के इशारे और चेहरे के भाव प्रदर्शन, गीत के बोल के अर्थ को दर्शाते हैं। नर्तक के भाव का प्रमुख महत्व है, इसलिए इसे नृत्तत की नकल करने वाला पहलू भी माना जा सकता है।

नाट्य:
नाट्य तन्नावटकं चैव पूज्यंऔ पूर्वकथायुतम्
प्राचीन कथा एवं चरित्र पर आधारित अभिनय नाट्य कहलाता है, जिसे जनमानस में सम्मालन प्राप्त हो। नाट्य का तात्प र्य अभिनय और भाव, रस और अभिज्ञान की संयुक्त अभिव्यक्ति से है। नाट्य शब्द की उत्पत्ति मूलत: नट शब्दय से हुई है, जिसका अर्थ है गति और नृत्य या अभिनय। इसे लयाल, इसाई और नाटक के संयोजन के रूप में भी माना जा सकता है, अर्थात, साहित्य, संगीत और नाटक। इस प्रकार नाट्य नृत्य और संगीत या लय और अभिनय या नृ्त्तञ और नृत्य के माध्यम से कहानी कह रहा है। नृत्य के प्राथमिक मानकों के साथ नृत्तम, नृत्य और नाट्य की गतियों को हमेशा सामांजस्यस में होना चाहिए। भाव के साथ संयोजन में नृत्तन में पाया जाने वाला लय नृत्यय बन जाता है, जो इशारों और क्रियाओं के साथ संयुक्त होने पर नाट्य बन जाता है। नाट्य अंत में प्रभावशाली होने के साथ-साथ तभी प्रभावी होगा जब नृत्य की शारीरिक गतिविधियों और अभिन्न भावों के बीच सामंजस्य हो। सभी महान नर्तक अपने प्रत्येक प्रदर्शन में तीनों का सही मिश्रण प्रदर्शित करते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/2Sivoi9
https://bit.ly/3vxQ8R9
https://bit.ly/2SjPrgb
https://bit.ly/3t6I5JG

चित्र संदर्भ :-
1. नृत्य का एक चित्रण (Wikimedia, Unsplash)
2. नृत्यांगना का एक चित्रण (Unplash)
3 .नृत्यांगना का एक चित्रण (Unplash)



RECENT POST

  • दैनिक जीवन सहित इंटीरियर डिजाइन में रंगों और रोशनी की भूमिका
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:10 AM


  • पानी के बाहर भी लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं, उभयचर मछलियां
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • हिन्दू देवता अचलनाथ का पूर्वी एशियाई बौद्ध धर्म में महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:39 AM


  • साहसिक गतिविधियों में रूचि लेने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय हो रही है माउंटेन बाइकिंग
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:50 PM


  • शैक्षणिक जगत में जौनपुर की शान, तिलक धारी सिंह महाविद्यालय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:28 AM


  • लोकप्रिय पर्व लोहड़ी से जुड़ी लोकगाथाएं एवं महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:47 PM


  • अनुचित प्रबंधन के कारण खराब हो रहा है जौनपुर क्रय केन्द्रों पर रखा गया धान
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 07:02 AM


  • प्राचीन काल से ही कवक का औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     12-01-2022 03:29 PM


  • लिथियम भंडारण की कतार में कहां खड़ा है भारत
    खनिज

     11-01-2022 11:29 AM


  • व्यंजन की सफलता के लिए स्वाद के साथ उसका शानदार प्रस्तुतीकरण भी है,आवश्यक
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     10-01-2022 07:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id