महामारी में उत्पन्न हो रहे तनाव को कम करने में सहायक सिद्ध हुआ ध्यान और योग अभ्यास

जौनपुर

 27-04-2021 06:46 PM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग नियमित रूप से योग का अभ्यास करते हैं, उन्होंने पिछले वर्ष राष्ट्रीय तालाबंदी के दौरान तनाव और चिंता के निचले स्तर का अनुभव किया। कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित लगभग 10 प्रतिशत लोगों में लंबे समय तक सांस लेने में तकलीफ, रक्त के थक्के, सिरदर्द, मतली, मांसपेशियों में दर्द, और थकान जैसे लक्षणों को देखा गया, जो लगभग कोरोनावायरस के सकारात्मक परीक्षण के बाद हफ्ते, महीनों, संभवत: सालों तक दिखाई दिया। योग शिक्षक और योग चिकित्सक (प्रमाणित चिकित्सक जो विशिष्ट शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों को संबोधित करने के लिए योग का उपयोग करते हैं) लंबे समय से कोविड से संक्रमित रोगियों के साथ काम कर रहे हैं ताकि उन्हें तनाव और दर्द कम करने, गतिशीलता बनाए रखने और सांस लेने में आसानी हो और अब विज्ञान उनके समर्थन के लिए शुरू हो रहा है। योग मुद्राओं और प्राणायाम के लगातार अभ्यास से फेफड़ों की वायु प्रवाह, वायु क्षमता, सहनशक्ति और कार्यक्षमता बढ़ती है। पीछे झुकने वाले आसन छाती को खोलते हैं, फेफड़े और हृदय दोनों कार्यों में सुधार करते हैं। ऊपरी पीठ झुकने और छाती के खुलने वाले आसन अस्थमा के हमलों के दौरान साँस छोड़ना में होने वाली कठिनाइयों से राहत दिलाती है। आगे झुकने और पीठ के निचले हिस्से को झुकाने वाला आसन अधिक सांस लेने में कठिनाइयों को कम करता है।
एक सामान्य योगाभ्यास तनाव, शारीरिक तनाव और मांसपेशियों की जकड़न को कम करता है और पैरासिम्पेथेटिक (Parasympathetic)तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करके अच्छी तरह से होने की समग्र भावना को बढ़ाता है। हमारे शरीर में रक्त दो रूपों में ऑक्सीजन (Oxygen) को ले जाता है, बहुमत हीमोग्लोबिन (Haemoglobin) से बंधा होता है और शेष रक्त (प्लाज्मा (Plasma)) के जलीय चरण में विघटित हो जाता है। भंग अंश ऑक्सीजन के आंशिक दबाव पर निर्भर है। जैसे-जैसे आंशिक दबाव बढ़ता है, ऑक्सीजन का भंग अंश बढ़ता जाता है। इससे यह पता चलता है कि कान में रक्त ऑक्सीजन संतृप्ति स्तर में आसन और प्राणायाम का काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है।कोविड-19 रुग्णता और मृत्यु दर के पीछे प्राथमिक चालक विषाणु के लिए एक विस्तारित अति उत्तेजक मेजबान प्रतिक्रिया पाया गया है, जो शरीर के माध्यम से फैलता है जिससे व्यापक ऊतक विनाश होता है और अंततः तीव्र श्वसन संकट संलक्षण होता है। ध्यान और योग प्रथाओं के संभावित विरोधी भड़काऊ, विरोधी तनाव, और संक्रामक विरोधी गुणों पर शोध करके दशकों से व्यवहार स्वास्थ्य अनुसंधान का एक प्रचलित क्षेत्र रहा है, लेकिन नव निवारक उपायों और उपचार की तलाश के लिए महामारी के दौरानमुड़ना अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। 2000 के दशक की शुरुआत में एक खोज यह थी कि सूजन को तंत्रिका परिसर, केंद्रीय और परिधीय तंत्रिका तंत्र के एक प्रमुख घटक की उत्तेजना के माध्यम से नियंत्रण में लाया जा सकता है। यह संरचना मनोसामाजिक तनाव की प्रतिक्रियाओं को भी नियंत्रित करती है। अध्ययनों से पता चला है कि ध्यान, साथ ही योग योनि स्वर को बढ़ाने में सक्षम है। केंद्रीय योनि स्वर प्रतिक्रिया को लक्षित करने के अलावा पूर्व-शोथसाइटोकिन्स (Cytokines) के परिसंचारी स्तर विभिन्न प्रकार के पूरक अभ्यास से प्रभावित होते हैं। साइटोकिन के कुछ प्रभाव को बैठ कर ध्यान, श्वास अभ्यास, और योग आसन प्रथाओं से संबंधित सहानुभूति तंत्रिका तंत्र सक्रियण को कम कर सकते हैं। एक अध्ययन में पाया गया है कि 6 सप्ताह के लिए 20 मिनट का मानसिक ध्यान के परिणाम स्वरूप पूर्व-शोथजीन (Gene) की महत्वपूर्ण गिरावट और पूर्व-शोथ गतिविधि की महत्वपूर्ण कमी देखी गई है। इसके अलावा, जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव पूरक प्रथाओं में पाया गया है।
एक अध्ययन में यह प्रदर्शित किया गया था कि 90 मिनट के योगिक आसन तनन जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली में दो महत्वपूर्ण रोगाणुरोधीपेप्टाइड्स (Peptides)सत्व प्रोटीन (Protein) अणुओं की अभिव्यक्ति को बढ़ाने में सक्षम है जो कोविड-19 के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे श्वसन कोशिकाओं में अत्यधिक अभिव्यक्त होते हैं। योग चिकित्सा को साइटोकाइनरिसेप्टर्स (Cytokine receptors) और मंत्र-आधारित ध्यान को कम करने में भी सक्षम पाया गया है और योग आसन प्रथाओं के सकारात्मक प्रभाव को भी देखा गया है। वे अल्जाइमर (Alzheimer) रोग से जुड़े अमाइलॉइड-बी (Amyloid-b) प्रोटीन के पूर्व-शोथसाइटोकिनऔर चयापचय के स्तर को नियंत्रित करते हैं। ध्यान अभ्यास भड़काऊ जीन की अभिव्यक्ति को कम करने का भी समर्थन करते है।कोविड-19 के लिए एक संभावित उपचार के रूप में प्रस्तावित एक नव पदार्थ मेलाटोनिन (Melatonin) है। मेलाटोनिन के शारीरिक प्रभाव में शरीर के अधिकांश कोशिकाओं और अंगों पर एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-वायरल, एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-संक्रामक और प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले कार्यों का एक प्रभावशाली सरणी होता है। कोविड-19 महामारी के दौरान प्रासंगिक तनाव से संबंधित लक्षणों की गंभीरता को कम करने के लिए योग काफी महत्वपूर्ण कारक है। इन कोविड-19 संबंधित चरम तनावों को कम करने के लिए विभिन्न प्रकार की ध्यान तकनीकों के व्यापक मनोवैज्ञानिक प्रभावों को देखना महत्वपूर्ण है। विभिन्न आबादी में आशाजनक निष्कर्ष दिखाने वाले संकेतक में उदास मन, चिंता और जीवन की गुणवत्ता शामिल है।


संदर्भ :
https://bit.ly/3sMpr9D
https://bit.ly/3sPwE90
https://bit.ly/3aFXudk
https://bit.ly/3njywFL


चित्र सन्दर्भ:

1.योगाभ्यास का एक चित्रण (Unsplash)
2.योगाभ्यास का एक चित्रण (Unsplash)
3.योगाभ्यास का एक चित्रण(freepik)


RECENT POST

  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id