Post Viewership from Post Date to 06-Feb-2021
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2971 79 0 0 3050

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

कैसे किया जाता है बृहदकाय सब्जियों का उत्‍पादन?

जौनपुर

 01-02-2021 12:42 PM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

कई बार आपने स्‍थानीय मेलों में बृहद आकार के फल, फूल और सब्‍जियां देखी होंगी, यह अपने सामान्‍य आकार से काफी बड़े होते हैं। कई माली आकार में सबसे बड़ी सब्जियां और फूल उगाने की प्रतियोगिता करते हैं। 50 किलो गोभी और एक ऐसे कद्दू के बारे में सोचें जो एक दिन में 12 किलो बढ़ता हो। ये बृहद्काय सब्जियां संयोग से नहीं होती हैं; बल्‍कि विशेष योजना और देखभाल से इन्‍हें तैयार किया जाता है। जौनपुर शहर भी अपनी नेवार प्रजाति की मूली के लिए प्रसिद्ध है जो कि चार से छह फीट तक लंबी होती है। इसका प्रमुख कारण इस क्षेत्र से होकर गुजरने वाली गोमती नदी है जिससे सिंचाई हेतु पर्याप्‍त पानी उपलब्‍ध हो जाता है। यहां की मूली जब दूसरे जिलों में जाती है तो उसे देखने के लिए भीड़ लग जाती है। लोग इस मूली को उपहार के रूप में देते हैं। किंतु हर गुजरते वक्‍त के साथ इस मूली के प्रति किसानों का रूझान घटता जा रहा है जिसके परिणामस्‍वरूप जो पहले 15 से 17 किलो तक वजन की होती थी आज 5 से 7 किलो तक में सिमट गयी है।
इस मूली की खेती कुछ विशेष क्षेत्रों में ही होती थी, उसमें से अधिकांश क्षेत्र में मकान बना दिए गए हैं। जिस कारण जगह सिमट गयी है। इस प्रकार की मूली को लगाने के लिए विशेष परिश्रम और देखरेख की आवश्‍यकता होती है, किंतु किसानों को इसकी उचित लागत एवं अपेक्षित प्रोत्साहन न मिलने के कारण, इनका इसके प्रति रूझान कम हो गया। वहीं अब किसान कम समय में ज्यादा सब्जियां उत्पादन देने वाली फसल पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि इस मूली की फसल की देखभाल बच्चों की तरह करनी पड़ती है किन्तु बाजार में आने के बाद इसकी मूल लागत मिलना भी कठिन हो गया। प्रारंभ में कृषि विभाग व अन्य संस्थायें इसके लिए किसानों को पुरस्कृत कर उनका उत्साह बढ़ाने का काम करती थी किंतु इन संस्थाओं का रुझान भी खत्म होने लगा है, परिणामस्‍वरूप किसानों ने मूली की खेती पर विशेष नहीं दिया जिससे इसका आकार तथा वजन कम होकर 7 किलो तक सिमट गया।
इस प्रकार की सब्‍जियों को उगाने के लिए विशेष प्रशिक्षण, गहन पूर्व तैयारी, और बहुत सारे धैर्य की आवश्‍यकता होती है। यदि आप इस प्रकार की सब्‍जी उगाने का सोच रहे हैं तो इससे पूर्व कुछ शोध करें और तय करें कि आप किस बृहद्काय सब्‍जी की किस्म को उगाना चाहते हैं। इन सब्‍जियों को उगाने के लिए निम्‍न बिंदुओं को ध्‍यान में रखा जा सकता है:
सही बीज का चयन:
एक बृहद्काय फल, फूल या सब्‍जी को उगाने के लिए दुर्लभ बीज की तलाश होती है। आप आरंभ करने के लिए निम्‍न में से कुछ बीजों का चयन कर सकते हैं:
गोभी: उत्तरी बृहद्काय गोभी (Northern Giant Cabbage) (लगभग 45 किग्रा)
गाजर: जापानी शाही लंबी गाजर (Japanese Imperial Long Carrot) (12+ इंच लंबी)
ककड़ी: बृहद्काय जैपेलिन ककड़ी (Mammoth Zeppelin Cucumber) (लगभग 7 किग्रा)
लौकी: बृहद्काय लंबी लौकी (Giant Long Gourd) (120 इंच)
प्याज: केल्‍सी मीठा बृहद्काय प्याज (Kelsae Sweet Giant Onion) (लगभग 6 किग्रा)
काली मिर्च: उच्‍च वजनदार संकर काली मिर्च (Super Heavyweight Hybrid Pepper) (लगभग 0.22 किग्रा))
कद्दू: अटलांटिक बृहद्काय कद्दू (Atlantic Giant Pumpkin) (लगभग 200 से 400 किग्रा)
स्क्वैश: शो किंग जाइंट ग्रीन स्क्वैश (Show King Giant Green Squash) (लगभग 200 किग्रा)
सूरजमुखी: धूसर धारी वाले बृहद्काय सूरजमुखी (Grey Stripe Giant Sunflower) (2-फुट ऊँचा)
टमाटर: पुराना कोलोसस हीरलोम टमाटर पुराना कॉलॉसस हीरलोम टमाटर (Old Colossus Heirloom Tomato) (लगभग 1 किग्रा)
तरबूज: कैरोलिना क्रॉस (विशाल) तरबूज (Carolina Cross (Giant) Watermelon) (लगभग 90 किग्रा)
बड़ी सब्जियों को उगाने का एक अन्य विकल्प के रूप में आप अपने द्वारा उगायी गयी सबसे बड़ी सब्‍जी के बीज को चुन सकते हैं, हालांकि यह संकर के साथ काम नहीं करते हैं।
उर्वरक:
इस प्रकार की सब्‍जियों को उगाने के लिए पोषक तत्‍व से भरपूर सूखी मिट्टी होनी चाहिए, सर्दियों से पहले नाइट्रोजन के साथ-साथ अधिक से अधिक कार्बनिक पदार्थों को मिलाकर मिट्टी को संशोधित करना एक एक अच्‍छा विकल्‍प होगा। वसंत ऋतु में, मिट्टी की गहराई से खुदाई करें, विशेष रूप से अगर गाजर जैसी कंदमूल सब्जियां उगा रहें हैं, इन्‍हें अपनी जड़ों के विकास के लिए बहुत ढीली मिट्टी की आवश्यकता होती है। रोपाई से पहले मिट्टी में खाद मिलाएं, यदि आप अपनी सब्‍जी के प्रति संजिदा हैं तो इसे उगाने से पहले मिट्टी का परीक्षण कराएं और किसी भी पोषक तत्व और सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी की भरपाई करें। बृहद्काय सब्जियां जल्दी से उगने की प्रवृत्ति रखते हैं, इसलिए उन्हें बहुत सारे पोषकतत्‍व की आवश्यकता होती है। रोपण के समय पर डाले गए धीमी गति से कार्य करने वाले जैविक उर्वरक तब कार्य करते हैं जब पौधों को भोजन की आवश्‍कता होती है। यह मिट्टी को स्वस्थ रखेगा और इससे कीट की समस्याएं दूर होंगी। यदि आप कद्दू या टमाटर का चयन करते हैं तो इसके लिए आपको उर्वरक के रूप में पोटेशियम (Potassium) और फास्फोरस (phosphorus) के उच्‍च मात्रा की आवश्‍यकता होगी वहीं यदि आप गोभी जैसी पत्तेदार सब्जी उगाते हैं, तो आपको उच्च नाइट्रोजन (Nitrogen) की आवश्‍यकता होगी। बड़े कद्दू, स्क्वैश और तरबूज की किस्मों को सप्ताह में एक बार तरल उर्वरक की आवश्यकता होती है, जबकि छोटी जड़ वाली फसलों को इस प्रकार के नित्‍य पोषण की थोड़ा कम आवश्यकता होती है। बृहद्काय सब्जियों को पानी की उच्‍च मात्रा की आवश्‍यकता होती है। सामान्‍य सब्‍जियों की तुलना में इसमें अधिक गहराई तक पानी डालना होगा, अत्‍यधिक गीली मिट्टी से भी सब्जियां खराब हो सकती हैं। अत: सिंचाई में संतुलन बनाए रखें।
प्रतियोगियों के साथ अनुभव का साझाकरण करें:
कीट और बीमारियां पौधों में तीव्रता से बढ़ती हैं और पूरी फसल को बर्बाद कर सकती हैं, खासकर जब फल लगना प्रारंभ हुए हों। अपने पौधों की रोजाना जांच करें और किसी भी समस्या का तुरंत उपचार करें। कोशिश करें कि खराब हिस्‍से को हाथ से हटा दें, क्योंकि रसायनों का उपयोग पौधे के विकास को बाधित कर सकता है। यदि आप बृहद्काय सब्जियां उगाने के आदि हैं तो अपने स्‍थानीय मेलों में भाग लें और अपने प्रतियोगियों से बात करें। उनमें से कुछ संकोची होंगे लेकिन कई अपने ज्ञान के साथ बहुत खुले और उदार होंगे और आपके साथ खुशी से अपनी तकनीक पर चर्चा करेंगे।
ब्रिटेन (Britain) के विशाल-सब्जी उत्पादकों के लिए, 2020 एक विंटेज (vintage) वर्ष रहा है। सितंबर में इस साल के ग्रो शो दौरे (Grow Show tour ) पर तीन विश्व रिकॉर्ड बनाए गए: दुनिया की सबसे भारी लाल गोभी (31.6kg), दुनिया का सबसे लंबा सेलसीफी (salsify) (5.6 मीटर) और दुनिया का सबसे लंबा चुकंदर (8.6 मीटर)। इस महीने, हैपशायर (Hampshire) के लिमिंगटन (Lymington ) के इयान (Ian) और स्टुअर्ट पाटन (Stuart Paton) ने यूके (UK) के सबसे भारी कद्दू को उगाया, जिसका वजन 1,176.5 किलोग्राम था। लंबे समय तक, विशाल-वनस्पति उत्पादकों ने गंभीरता से लेने के लिए संघर्ष किया। मुख्य बागवानी शो में, सब्जी उत्पादक दो श्रेणियों में प्रतिस्पर्धा करते हैं: "गुणवत्ता" सब्जी श्रेणियां और विशाल-वनस्पति प्रभाग। क्वालिटी-वेजिटेबल लॉट (quality-vegetable lot ) में विशाल-सब्जी उत्पादकों के बारे में बताया जा सकता है। ये विशाल-सब्जी उत्पादक पैसे के लिए नहीं, बल्कि प्रसिद्ध‍ि के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं: हालांकि अमेरिका (America) में विशाल-कद्दू का प्रदर्शन अधिक आकर्षक होता है, ब्रिटेन में शायद ही कोई यहां 50 पौंड से अधिक या पुरस्कार राशि में जीतता है। आप बृहद्काय सब्जियां भी खा नहीं सकते हैं। कौन 30 फीट गाजर खाना चाहता है? यह बहुत ही सख्‍त होगा। (ज्यादातर समय, सब्जियों को स्थानीय किसानों द्वारा जानवरों के चारे के लिए, या चटनी में उपयोग किया जाता है।) प्रसिद्धि‍ के साथ बृहद्काय सब्जी उगाने वाले अपने आनंद के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/39wu5lH
https://bit.ly/3pBaGFO
https://bit.ly/3tbIiMX
https://bit.ly/3j7Spha
https://bit.ly/2M97l2A
चित्र संदर्भ:
मुख्य तस्वीर में जौनपुर से विशाल मूली की प्रजातियों को दिखाया गया है। (प्रारंग)
दूसरी तस्वीर में विशाल सब्जियों को दिखाया गया है। (प्रारंग)
तीसरी तस्वीर में विशाल मूली को दिखाया गया है। (प्रारंग)
अंतिम तस्वीर में विशाल मूली को दिखाया गया है। (प्रारंग)


***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • अंतरिक्ष मौसम की पृथ्वी के साथ परस्पर क्रिया और इसका पृथ्वी पर प्रभाव
    जलवायु व ऋतु

     22-10-2021 08:24 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में फूलों की उपयोगिता
    बागवानी के पौधे (बागान)

     21-10-2021 08:27 AM


  • लाल केले की बढ़ती लोकप्रियता महत्व तथा विशेषताएं
    साग-सब्जियाँ

     21-10-2021 05:44 AM


  • व्यवसाय‚ उद्यमिता और अप्रवासियों के बीच संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     20-10-2021 09:50 AM


  • मुहम्मद पैगंबर के जन्मदिन मौलिद के पाठ और कविताएँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-10-2021 11:35 AM


  • पूरी तरह से मांसाहारी जीव है, टार्सियर
    शारीरिक

     17-10-2021 12:06 PM


  • परमाणु ईंधन के रूप में थोरियम का बढ़ता महत्व और यह यूरेनियम से बेहतर क्यों है
    खनिज

     16-10-2021 05:32 PM


  • भारत-फारसी प्रभाव के एक लोकप्रिय व्यंजन “निहारी” की उत्पत्ति और सांस्‍कृतिक महत्व
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-10-2021 05:16 PM


  • दशहरे का संदेश और मैसूर में त्यौहार की रौनक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-10-2021 06:06 PM


  • संपूर्ण धरती में जानवरों और पौधों के आवास विखंडन से प्रभावित हो रही है जैविक विविधता
    निवास स्थान

     13-10-2021 06:00 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id