विभिन्‍न धार्मिक ग्रन्‍थों में ब्रह्माण्‍ड की उत्‍पत्ति सिद्धान्‍त

जौनपुर

 01-01-2021 12:52 PM
शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

अक्सर हम सभी के मन में ब्रह्मांड की उत्पत्ति को लेकर हजारों सवाल आते हैं जैसे कि जीवन की शुरुआत कैसे हुई? चेतना क्या है? डार्क मैटर (dark matte), डार्क एनर्जी (dark energy) और गुरुत्वाकर्षण क्या है? आदि। इस तरह के सवाल उठना लाजमी भी है क्योंकि हम सभी इंसान और इंसानों में जिज्ञासा होती ही है अपने अस्तित्व से जुड़े सवालों के जबाव जानने की। ब्रह्मांड की उत्पत्ति के इस रहस्य को सुलझाने के लिये कई प्रयास किये गये। इसमें से सबसे प्रभावशाली सिद्धांत था बिग बैंग थ्योरी )Big bang theory). इस सिद्धांत के अनुसार, ब्रह्मांड लगभग 13.8 अरब साल पहले सिमटा हुआ था। इसमें हुए एक विस्फोट के कारण इसमें सिमटा हर एक कण फैलता गया जिसके फलस्वरूप ब्रह्मांड की रचना हुई। यह घटना तेजी से फैलने वाले गुब्बारे की तरह थी, इस धमाके में अत्यधिक ऊर्जा का उत्सजर्न हुआ। यह ऊर्जा इतनी अधिक थी जिसके प्रभाव से आज तक ब्रह्मांड फैलता ही जा रहा है। प्रारंभ में, ब्रह्मांड में केवल ऊर्जा थी, इस ऊर्जा में से कुछ कणों में परिवर्तित होना शुरू हुआ, जो हाइड्रोजन (Hydrogen) और हीलियम (Helium) जैसे हल्के परमाणुओं में इकट्ठे हुए। इस तरह से हाइड्रोजन, हीलियम आदि के अस्तित्त्व का आरंभ होने लगा था और अन्य भौतिक तत्व बनने लगे थे। इस थ्योरी से वैज्ञानिक ब्रह्मांड से जुड़े कई सवालों की व्याख्या करने में सफल हो पाये जैसे कि बड़े पैमाने पर अंतरिक्ष-समय की उल्लेखनीय समतलता क्या है और ब्रह्मांड के विपरीत पक्षों पर आकाशगंगाओं का वितरण कैसे हुआ आदि?
परन्तु कुछ सवाल ऐसे भी थे जो अनसुलझे थे जैसे कि इस महाविस्फोट के लिये ऊर्जा कहां से आई? ब्रह्मांड की उत्पत्ति ऊर्जा के एक रहस्यमय रूप के अस्तित्व पर निर्भर करती है जो लंबे समय से गायब थी और अचानक से अस्तित्व में आ गई। वैज्ञानिक इस सवाल का जबाव देने में असमर्थ थे कि महाविस्फोट के लिये ऊर्जा कहां से आई, इस विस्फोट के क्या कारण थे? इसके बाद एक नयी अवधारणा का विकास हुआ, जिसके अनुसार यह संभव है कि पहले से मौजूद ब्रह्मांड के विखंडन से हमारा ब्रह्मांड अस्तित्व में आया होगा अर्थात मौजूद ब्रह्मांड के विखंडन से हुई उससे ही शायद महाविस्फोट के लिये ऊर्जा प्राप्त हुई होगी। इस अवधारणा को ‘बिग बाउंस’ (Big Bounce) कहा गया। इस नयी अवधारणा से ‘बिग बाउंस’ सिद्धांत को बल मिलता है जो हमारे ब्रह्मांड के जन्म के बारे में बतलाता है। इस विचार के अनुसार, ब्रह्मांड का जन्म न केवल एक बार हुआ है, बल्कि ये संभवतः संकुचन और विस्तार के अंतहीन चक्रों में कई बार उत्पन्न हो चुका है। ब्रह्मांड में विस्तार और संकुचन की प्रक्रिया चलती रहती है और मौजूदा विस्तार इसका एक चरण मात्र है। बिग बाउंस ज्ञात ब्रह्मांड की उत्पत्ति के लिए एक परिकल्पित ब्रह्मांड विज्ञान मॉडल है। यह मूल रूप से बिग बैंग के चक्रीय मॉडल या ऑसिलेटरी ब्रह्मांड (oscillatory universe) व्याख्या के एक चरण के रूप में सुझाया गया था, जहां नये ब्रह्मांड संबंधी घटना पुराने ब्रह्मांड के पतन का परिणाम है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह "चक्रीय" सिद्धांत न केवल महाविस्फोट को समझाएगा, बल्कि अन्य ब्रह्मांडीय रहस्यों के साथ-साथ डार्क मैटर, डार्क एनर्जी और क्यों ब्रह्मांड का अभी भी विस्तार हो रहा है जैसे कई बड़े अनसुलझे रहस्यों से परदा उठायेगा।
विभिन्‍न धार्मिक समूहों द्वारा भी ब्रह्माण्‍ड की उत्‍पत्ति के संबंध में भिन्‍न-भिन्‍न मत दिए गए हैं. इनमें से कुछ वैज्ञानिकों द्वारा दिए गए सिद्धान्‍तों को स्‍वीकार करते हैं, तो कुछ बिग बैंग सिद्धान्‍त के साथ अपने सिद्धान्‍तों का सामांजस्‍य बैठाने का प्रयास कर रहे हैं तो वहीं कुछ इसे अस्वीकार भी कर रहे हैं. धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान में ब्रह्मांड की उत्पत्ति, विकास और अंत का धार्मिक दृष्टिकोण से विवरण दिया गया है। इसमें ब्रह्माण्‍ड की उत्‍पत्ति की कल्‍पना, उसका वर्तमान स्‍वरूप और अंत से संबंधित विश्‍वास शामिल हैं. धार्मिक पौराणिक कथाओं में विभिन्न परंपराएं हैं जो यह बताती हैं कि यह सब कैसे और क्यों हुआ और इसका क्या महत्व है? धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान दुनिया के संदर्भ में ब्रह्मांड की आकाशीय परिस्थितियों का वर्णन करता है जिसमें लोग सामान्‍यत: धर्म के सात आयामों अनुष्ठान, अनुभव और भावना, कथा और पौराणिकता, सिद्धांत, नैतिक, सामाजिक और सामग्री, जैसे अन्य आयामों में ध्‍यान केंद्रित करते हैं। धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान में ब्रह्माण्‍ड का निर्माण देवताओं द्वारा किया गया है.
एस्ट्रोनॉमी (Astronomy) और इसी तरह के क्षेत्रों के अध्ययन के परिणामों से ज्ञात हुआ है कि धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान, वैज्ञानिक ब्रह्मांड विज्ञान से भिन्न है और भविष्य में दुनिया की भौतिक संरचना और ब्रह्मांड में इसका स्‍थान, इसकी संरचना और भावी पूर्वानुमान भिन्न हो सकते हैं। धार्मिक ब्रह्माण्ड विज्ञान का दायरा उस वैज्ञानिक ब्रह्माण्ड विज्ञान (भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान) की तुलना में अधिक समावेशी है, धार्मिक ब्रह्माण्ड विज्ञान अनुभवात्मक अवलोकन, परिकल्पना के परीक्षण और सिद्धांतों के प्रस्तावों तक सीमित नहीं है। धार्मिक ब्रह्माण्ड विज्ञान में भारत में बौद्ध, हिंदू और जैन धर्म की; चीन (China) में बौद्ध धर्म, ताओवाद और कन्फ्यूशीवाद की, जापान (Japan) में शिंटोवाद की और अब्राहम के विश्वासों, जैसे यहूदी धर्म, ईसाई धर्म और इस्लाम की मान्यताएँ शामिल हैं। धार्मिक ब्रह्माण्ड विज्ञान प्राय: मेटाफ़िज़िकल सिस्टम (metaphysical systems) के औपचारिक तर्क जैसे कि प्लैटोनिज़्म (Platonism), नियोप्लाटोनिज़्म (Neoplatonism), ज्ञानवाद, ताओवाद, कबला, वूक्सिंग (Wuxing), या होने की महान श्रृंखला में विकसित हुआ है।

बाइबिल
प्राचीन इस्राएलियों के अनुसार ब्रह्मांड एक सपाट डिस्क के आकार (flat disc-shaped ) की पृथ्वी से बना था जो पानी के ऊपर तैर रही थी इसके ऊपर स्‍वर्ग और नीचे अधोलोग था. जीवित मनुष्‍य पृथ्‍वी पर रहता था और मृत्‍यू के उपरांत अधोलोक में चला जाता था, अधोलोक नैतिक रूप से तटस्थ था; केवल हेलेनिस्टिक समय में (c.330 ईसा पूर्व के बाद) यहूदियों ने ग्रीक विचार को अपनाना शुरू कर दिया और इसे दुष्कर्मों के लिए सजा का स्थान मानना शुरू कर दिया, और यह कि धर्मी लोग स्वर्ग में जीवन का आनंद लेंगे। इस अवधि में भी पुराने तीन-स्तरीय ब्रह्माण्ड विज्ञान को व्यापक रूप से स्थानिक पृथ्वी की ग्रीक अवधारणा द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था जिसे अंतरिक्ष में कई संकिंद्रिक स्वर्गलोक के केंद्र में प्रसुप्त कर दिया गया था। 22 नवंबर, 1951 को पोंटिफिकल एकेडमी ऑफ साइंसेज (Pontifical academy of sciences) की बैठक में पोप पायस XII (Pope Pius XII) ने घोषणा की कि बिग बैंग सिद्धांत निर्माण की कैथोलिक अवधारणा (Catholic Concept) के साथ टकराव नहीं करता है। कुछ रूढ़िवादी प्रोटेस्टेंट (Protestant) ईसाई संप्रदायों ने भी बिग बैंग सिद्धांत का स्वागत किया है, जो निर्माण के सिद्धांत की ऐतिहासिक व्याख्या का समर्थन करते हैं; हालाँकि, यंग (Young) अर्थ निर्माण के अनुयायी, जो उत्पत्ति की पुस्तक की बहुत शाब्दिक व्याख्या की वकालत करते हैं, सिद्धांत को अस्वीकार करते हैं।

इस्लाम:

इस्लाम में माना जाता है कि अल्‍लाह ने ब्रह्मांड बनाया, जिसमें पृथ्वी का भौतिक वातावरण और मानव भी शामिल हैं। इस्लामिक एरिया स्टडीज़ (Islamic Area Studies) के क्योटो बुलेटिन (Kyoto Bulletin) के लिए लिखते हुए, हस्लिन हसन और अब हाफ़िज़ मात तुह ने लिखा कि ब्रह्मांड विज्ञान पर आधुनिक वैज्ञानिक विचार कुरान के ब्रह्मांड संबंधी शब्दों की व्याख्या करने के तरीके पर नए विचार पैदा कर रहे हैं। विशेष रूप से, कुछ आधुनिक-मुस्लिम समूहों ने अल-समामा शब्द की व्याख्या करने की वकालत की है, जिसे पारंपरिक रूप से आकाश और सात आकाश दोनों के संदर्भ में माना जाता है, इसके बजाय ब्रह्मांड को समग्र रूप से संदर्भित करता है। अहमदिया समुदाय के प्रमुख मिर्ज़ा ताहिर अहमद ने अपनी पुस्तक रहस्योद्घाटन, तर्कशक्ति, ज्ञान और सत्य पर जोर देते हुए कहा कि कुरान में बिग बैंग सिद्धांत की भविष्यवाणी की गई थी।

बौद्ध:

बौद्ध धर्म का मानना है कि, ब्रह्मांड का कोई प्रार‍ंभिक बिंदु नहीं है और न ही इसका कोई अंत है। बौद्ध धर्म के अनुसार धरती में मौजूद हर अस्तित्व, शाश्वत है। यह मानते में कि कोई रचनाकार भगवान नहीं है। बौद्ध धर्म ने ब्रह्मांड को अविरल और हमेशा प्रवाहमान माना है। ब्रह्माण्ड विज्ञान बौद्ध धर्म के समसरा (Samsara) (मृत्यु और पुनर्जन्म चक्र जिसमें भौतिक दुनिया में जीवन बंधा हुआ है) सिद्धांत की नींव है। इनका विश्वास है कि सांसारिक अस्तित्व का पहिया या चक्र पुनर्जन्म और पुनर्मृत्यु पर कार्य करता है, जिसमें जीव का बार-बार जन्म होता है और बार-बार मृत्यु। प्रारंभिक बौद्ध परंपराओं में, समसरा ब्रह्माण्ड विज्ञान में पांच चीजें शामिल थी जिनके माध्यम से अस्तित्व के पहिये को पुनर्नवीनीकृत किया जाता था। इसमें नर्क (निर्या), भूखे भूत (प्रेतास), जानवर (तिर्यक), इंसान (मनुष्य), और देवता (स्वर्गीय देव) शामिल थे। बाद की परंपराओं में, इस सूची में असुरों को भी जोड़ा गया।

हिन्‍दू:

हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान के अनुसार, ब्रह्मांड को चक्रीय रूप से बनाया गया और नष्ट किया गया है। यह ब्रह्मांड विज्ञान समय को चार युगों में विभाजित करता है, जिनमें से वर्तमान काल कलियुग है। हिंदू वैदिक ब्रह्माण्ड विज्ञान के अनुसार, ब्रह्मांड की कोई शुरुआत नहीं है, क्योंकि इसे अनंत और चक्रीय माना जाता है। अंतरिक्ष और ब्रह्मांड का न तो प्रारंभ है और न ही अंत है, बल्कि यह चक्रीय है। पौराणिक हिंदू ब्रह्माण्ड विज्ञान के अनुसार, कई ब्रह्मांड हैं, प्रत्येक अराजकता से जन्म लेता है, बढ़ता है, क्षय होता है और अततः फिर से जन्म लेने के लिए अराजकता में मर जाता है। ब्रह्मा का एक दिन 4.32 बिलियन वर्ष के बराबर होता है जिसे कल्प कहा जाता है। प्रत्येक कल्प को चार युग में विभाजित किया गया है। ये युग कृत (या सतयुग), त्रेता, द्वापर और कलियुग हैं। ऋग्वेद ब्रह्मांड विज्ञान भी कई सिद्धांतों को प्रस्तुत करता है। उदाहरण के लिए हिरण्यगर्भ सूक्त में कहा गया है कि एक सुनहरा बच्चा ब्रह्मांड मं पैदा हुआ था और वह ही इसका निर्माणकर्ता था, जिसने पृथ्वी और स्वर्ग की स्थापना की। जैन:

जैन ब्रह्माण्ड विद्या को अनंत या प्रारब्ध के रूप में विद्यमान एक अशक्त इकाई के रूप में लोका या ब्रह्माण्ड मानता है। जैन ग्रंथों में ब्रह्मांड के आकार का वर्णन किया गया है, जैसे कि एक व्यक्ति पैरों के साथ खड़ा है और उसकी कमर पर आराम कर रहा है। यह ब्रह्मांड, जैन धर्म के अनुसार, शीर्ष पर संकीर्ण है, मध्य में व्यापक है और एक बार फिर नीचे की ओर व्यापक हो जाता है।
बौद्ध और जैन ब्रह्माण्ड विज्ञान की तरह हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान, सभी अस्तित्व को आवर्तनशील मानता है। अपनी प्राचीन आधार के साथ, हिंदू ग्रंथ कई ब्रह्मांड सिद्धांतों का प्रतिपादन और चर्चा करते हैं। हिंदू संस्कृति इस विविधता को ब्रह्मांडीय विचारों में स्वीकार करती है। वैकल्पिक सिद्धांतों में ब्रह्माण्ड को सृजनात्मक रूप से सृजित और नष्ट किया गया है, जिसमें ईश्वर, या देवी, या कोई भी निर्माता नहीं हैं, सुनहरे अंडे या गर्भ (हिरण्यगर्भ), से स्व-निर्मित हुआ है। वैदिक साहित्य में कई ब्रह्माण्ड विज्ञान परिकल्‍पनाएं शामिल हैं. हिंदू पुराणों से यह दृश्य एक शाश्वत ब्रह्मांड विज्ञान का है, जिसमें समय की कोई पूर्ण शुरुआत नहीं है, बल्कि यह एक ब्रह्मांड के बजाय अनंत और चक्रीय है, जो एक बिग बैंग से उत्पन्न हुआ है। हालांकि, हिंदू धर्म के विश्वकोश, कथा उपनिषद 2:20 का उल्लेख करते हुए कहते हैं कि बिग बैंग सिद्धांत मानवता को याद दिलाता है कि सब कुछ ब्राह्मण से आया है जो "परमाणु से सूक्ष्म है, सबसे बड़ा है।" इसमें कई "बिग बैंग्स" और "बिग क्रंचेस" शामिल हैं जो एक चक्रीय तरीके से एक दूसरे का अनुसरण करते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3hxuMxt
https://en.wikipedia.org/wiki/Religious_cosmology
https://bit.ly/3pDU8wK
चित्र संदर्भ:
मुख्य तस्वीर नया साल मुबारक कहती है। (Pixabay)
दूसरी तस्वीर में हबल स्पेस टेलीस्कोप दिखाया गया है। (Wikimedia)
तीसरी तस्वीर में ब्रह्मांड को दिखाया गया है। (Wikimedia)
आखिरी तस्वीर बिग क्रंच दिखाती है। (Wikimedia)


RECENT POST

  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id