रोशनी से भरी सेलिब्रिटीस की दुनिया के मानसिक प्रभाव

जौनपुर

 10-10-2020 03:34 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

फिल्मी दुनिया को देखकर ऐसा लगता है कि काश! हमारी भी जिंदगी ऐसी होती, लेकिन इनकी जिंदगी इतनी भी आसान नहीं होती जितनी दिखती है। क्योंकि हमेशा लाइमलाइट (Limelight) में जीने वाले ये सेलिब्रिटी (Celebrity) हमेशा मानसिक तनाव और दबाव से घिरे रहते हैं। ये सभी किसी न किसी प्रकार के दबाव से ग्रस्त रहते हैं, और यह दबाव ही उनके मानसिक तनाव का कारण बनता है। इन पर हमेशा ही अपनी सार्वजनिक छवि को बनाये रखने का दबाव बना ही रहता है। जब वे तनाव से भरी परिस्थितियों में तालमेल बिठा पाने में असमर्थ हो जाते हैं, तो ऐसे में उनका आत्मविश्वास का कम हो जाना स्वाभाविक है, क्योंकि अंतत: वो भी हमारी तरह से एक इंसान ही हैं और यही आत्मविश्वास की कमी एक दिन मानसिक तनाव का रूप ले लेता है। हम शायद कल्पना भी नहीं कर सकते हैं कि ग्लैमर (Glamour) और रोशनी से भरी इस दुनिया के उनके ऊपर किस सीमा तक दबाव होता हैं, यहां तक कि यह कई बार हमारे पसंदीदा अभिनेताओं, गायकों और हास्य कलाकारों की जान भी ले लेता है।
सिनेमा जगत में मानसिक दबाव और सामाजिक दबाव सेलेब्रिटी के लिए आम है। ये हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। इनके जीवन के बारे के हर कोई जानना चाहता है। ये क्या खाते हैं, क्या पहनते हैं, कैसे रहते हैं? इन सब सवालों का जवाब सभी को चहिये। जिस कारण कैमरे इनका पीछा कभी नहीं छोडते, फिर ये चाहे अपने कुत्ते को टहलने ले जा रहे हो या एक कप कॉफी पी रहे हो या तलाक ही ले रहे हो, इनकी निजी जिंदगी के बारे में जानने के लिये लोग इनके पीछे ही पड़ जाते हैं। ना चाह कर भी इन्हे ये सब सहन करना ही पड़ता है। इसका सीधा असर इनकी निजी जिंदगी पर होता है। यदि आप पर भी हर दिन कैमरे से नजर रखी जाये, आपके जीवन के हर पहलू को सार्वजनिक समझ लिया जाये तो आप भी तनाव ग्रस्त हो जायेंगे। इसके अलावा ये सेलेब्रिटी कड़ी मेहनत के बाद अच्छी हिट फिल्मों की उम्मीद करते हैं। परंतु फिल्में हिट नहीं होने पर इन पर कर्ज या अन्य दबाव बन जाते हैं, जिनके बीच रह पाना काफी कठिन होता है, जिस वजह से ये मानसिक बीमारियों जैसे तनाव, चिंता, और अशांति का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में कुछ सेलेब्रिटी सुसाइड (Suicide) करने तक का रास्ता अपना लेते हैं।
हाल में सुशांत सिंह राजपूत मौत ने सभी को हिला कर रख दिया। क्योंकि ऊपर से देखने में तो यही लगता था कि सुशांत सिंह राजपूत एक सफल अभिनेता हैं, इन्होने फिल्म जगत में अपनी एक पहचान बना ली है और आगे भी इनका भविष्य उज्ज्वल होगा। परंतु किसी को नहीं पता था कि वे कई महीनों से मानसिक तनाव से पीड़ित थे। सुशांत सिंह राजपूत (21 जनवरी 1986 - 14 जून 2020) एक सफल भारतीय अभिनेता थे। राजपूत ने अपने करियर की शुरुआत टेलीविजन धारावाहिकों से की थी। उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 2013 में आई फ़िल्म 'काय पो चे' से की। इसके बाद उन्होंने शुद्ध देसी रोमांस, पीके, डिटेक्टिव ब्योमकेश बक्शी, एम॰ एस॰ धोनी: द अनटॉल्ड स्टोरी में काम किया, जिसके लिए उन्हें सराहा गया। वास्तविक जीवन में वे काफी हंसमुख थे। परंतु वो फिल्म जगत से होने वाले मानसिक तनाव से जुझ रहे थे। सुशांत के अलावा और भी कई सेलेब्रिटी है जिन्होने मानसिक तनाव के कारण आत्महत्या कर ली। सितंबर 1996 में, सिल्क स्मिता ने भी असफता के डर से आत्महत्या कर ली थी, इनके अलावा जिया खान, दिव्या भारती, परवीन बॉबी जैसे सितारे भी इस सूची में शामिल हैं। कुछ समय पहले बॉलिवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने एक टीवी इंटरव्यू में माना था कि वे काफी लंबे समय तक डिप्रेशन की शिकार रहीं थी। इलियाना ने एक इंटरव्यू में स्वीकार किया था कि वो बॉडी डिसमॉर्फिक डिसऑर्डर (Body Dysmorphic Disorder (BDD)), के कारण तनाव का शिकार रही हैं। कई सेलेब्रिटी ऐसे मानसिक रोग का इलाज करा कर ठीक हो जाते हैं, परंतु कई बार इससे बीमारी गंभीर हो जाती है, जो बाद में खुदकुशी का रूप ले लेती है। इस सब से एक सवाल यह भी पैदा होता है कि क्या सेलिब्रिटी मानसिक बीमारी के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं? हालांकि ऐसा भी नहीं है कि मानसिक बीमारियां मशहूर हस्तियों को आम लोगों की तुलना में ज्यादा प्रभावित करती है, सब स्पॉटलाइट (Spotlight) हमेशा उन पर रहती है, हम उनके चिंता और तनाव से भरे अनुभवों के बारे में ज्यादा सुनते हैं। कहते है कि उनका अपना जीवन उनका अपना नहीं होता। उन्हे अपनी प्रसिद्धि बनाये रखने के लिये काफी कुछ झेलना भी पड़ता हैं। जिस वजह से उन पर अपनी छवि को बनाये रखने और असफल होने का दबाव बना रहता है, जो बाद में मानसिक तनाव का रूप ले लेता है। कुछ कलाकार ऐसे भी होते है जो सफलता पाना चाहते हैं, वे इसे हासिल करने के लिए दिन रात काम करते हैं, लेकिन फिर जब सफलता मिलती है तो वो इससे कभी दूर भी नहीं होता चाहते हैं। उन पर एक जनून सवार हो जाता है कि कैसे भी अपनी प्रसिद्धि को बनाये रखे जिस वजह से भी कई मशहूर हस्तियां तनाव का शिकार हो जाती हैं, जैसे कि एल्विस प्रेस्ले(Elvis Presley) (रॉक एंड रोल के बेताज बादशाह) और कर्ट कोबेन (Kurt Cobain) (एक अमेरिकी गीतकार और संगीतकार), ये वे उदाहरण है जो अपनी जिंदगी में बहुत सफल तो हुये परंतु इसे बनाये रखने की कोशिश में उलझ कर रहे गये और अंनत: मृत्यु को प्राप्त हो गये।

संदर्भ:
https://www.psychologytoday.com/us/blog/genius-and-madness/200903/the-psychological-consequences-fame-0
https://thriveworks.com/blog/mental-health-effects-of-celebrities/
https://www.indiatoday.in/india-today-insight/story/the-dark-side-of-fame-1689357-2020-06-15
चित्र सन्दर्भ:
पहले चित्र में एक हस्ती का चित्रण है। (youtube)
दूसरे चित्र अवसाद कैसे महसूस होता है की कल्पना है। (schlegpics)
तीसरा चित्र में एक आरामदायक सेटिंग में तनाव का चित्रण है। (publicdomainimages)



RECENT POST

  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM


  • आधुनिक युग में संस्कृत की ओर बढ़ती जागरूकता और महत्व
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id