गहरी धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थीं गांधी जी की माता पुतलीबाई

जौनपुर

 02-10-2020 03:51 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

हर साल हमारा देश 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाता है। गांधी जी को जहां देश की स्वतंत्रता के लिए उनके अथक प्रयास के लिए जाना जाता है, वहीं वे अपनी अहिंसावादी नीति और आदर्शवादी गुणों के लिए भी जाने जाते हैं। किंतु क्या आप यह जानते हैं कि गांधी जी के प्रभावी व्यक्तित्व की प्रेरणा कौन हैं? गांधी जी ने अपने मूल्यों और आदर्शों की प्रेरणा का स्रोत अपनी माता पुतलीबाई को माना। गांधी जी एक भारतीय गुजराती हिंदू मोध बनिया परिवार से थे, जिनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को करमचंद उत्तमचंद गांधी और पुतलीबाई के घर हुआ।
वह अपनी माँ की धार्मिक विचार प्रक्रिया और विचारधाराओं से गहरे प्रभावित थे। स्नातक होने के बाद, गांधी जी ने लंदन जाकर कानून की पढ़ाई करने का फैसला किया। यह विचार गांधी जी और उनके बड़े भाई लक्ष्मीदास दोनों को तो पसंद आया किंतु उनकी माँ और उनकी पत्नी इस विचार के प्रति सहज नहीं थी। उस समय गांधी जी की माता की सबसे बड़ी चिंता पश्चिमी संस्कृति थी, जो मांस खाने, नशा करने और महिलाओं के सम्पर्क में रहने को प्रोत्साहित करती थी। जब कानून की पढ़ाई के लिए वे इंग्लैंड जाने लगे तो उनकी माता ने प्रतिबद्धता और अपने प्रति प्रेम को दर्शाने के लिए गांधी जी से तीन प्रतिज्ञाएं लेने को कहा, जिसके अंतर्गत वे विदेश में मांस नहीं खायेंगे, शराब या तंबाकू का सेवन नहीं करेंगे और किसी महिला से कोई सम्बंध नहीं रखेंगे। इन वादों को पूरा करने का भरोसा दिलाने के बाद ही उन्हें लंदन की यात्रा करने की अनुमति प्राप्त हुई, और गांधी जी ने इन वादों को पूरा भी किया। उन्होंने कहा कि, ‘मेरी मां ने मेरे स्मृति पटल पर जो उत्कृष्ट छाप छोड़ी है, वह संतत्व है।‘ वे अपने जीवन में अनेकों लोगों से प्रभावित हुए लेकिन आध्यात्मिक विकास में उनकी मां पुतलीबाई का प्रभाव या योगदान उन्होंने सबसे ऊपर माना। उनकी माता आध्यात्मिक आकांक्षी थी तथा उन्होंने इस बात को बरकरार रखा कि प्रेम का सबसे बड़ा रूप दूसरे के लिए स्वयं का त्याग करना है।
गांधी जी के शब्दों में, ‘वह गहरी धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थीं’। उन्होंने बताया कि कैसे उनकी माता ने अपने जीवन में भक्ति को सर्वोपरि रखा, जो विभिन्न कठोर उपवासों और धार्मिक अनुष्ठानों के रूप में प्रकट हुए या दिखायी दिये। उनके जीवन में धर्म कोई अलग भाग नहीं था और न स्वयं गांधी जी के लिए। वे याद करते हैं कि उनके पास राजनीतिक चीजों में सामान्य ज्ञान की एक मजबूत नस थी और इसके लिए उनके समुदाय में मांग की गई थी। गांधीजी की माँ पुतलीबाई का धर्म प्रणामी सम्प्रदाय था। प्रणामी संप्रदाय वैष्णववाद का 16वीं शताब्दी ईसा पूर्व का रूप है, जिसका अनुसरण आज मुख्य रूप से गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान, सिंध, पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में लगभग 50 लाख से 100 लाख लोगों द्वारा किया जा रहा है।
गांधी की मां प्रणामी संप्रदाय की आजीवन अनुयायी थीं और चूंकि गांधीजी अपनी मां के बहुत करीब थे, इसलिए उन पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव था। प्रणामी धर्म के कई भाग, जहां श्रीकृष्ण की भागवत और गीता पर आधारित हैं, वहीं यह पवित्र कुरान से इस्लाम के कई सिद्धांतों को भी शामिल करता है। प्राणामियों का मुख्य ग्रन्थ या पुस्तक 'तारतम विद्या' है, जिसका 12 अध्याय का पाठ उल्लेखनीय है। तारतम एक संस्कृत शब्द है, जो दो शब्दों से मिलकर बना है, तार और तम। यह इस ब्रह्मांड के ऊपर और इससे भी परे मौजूद ज्ञान को इंगित करता है। तारतम एक ऐसा अभिन्न ज्ञान है, जो अक्षर ब्रह्मांड और सर्वोच्च प्रभु की नाशवान दुनिया और अभेद्य इकाई के बीच अंतर को दर्शाता है। तारतम सागर श्री कृष्ण प्रणामी धर्म का प्रमुख ग्रंथ है। इसमें महामति प्राणनाथ के उपदेशों को विक्रम संवत 1715 में लेखन के रूप में उतारा गया। प्रणामी संप्रदाय के अनुयायी इसे कुलजम स्वरूप, तारतम वाणी, श्री मुखवाणी और श्री स्वरूप साहेब नाम से भी जानते है। यह एक विशाल संकलन है, जिसमें कुल 14 ग्रंथ, 527 प्रकरण व 18,758 चौपाइयां हैं। इस वाणी के प्रारंभिक चार ग्रंथों - रास, प्रकाश, षट्ऋतु और कलश में हिंदू पक्ष का ज्ञान है। प्रणामी सम्प्रदाय एक ऐसा समुदाय है, जो सर्वोच्च सत्य भगवान ‘राज्जी’ पर विश्वास करता है। संप्रदाय के संस्थापक श्री देवचंद्र जी महाराज (1581-1655) का जन्म सिंध प्रांत में भारत के उमरकोट गाँव (अब पाकिस्तान) में हुआ था। बचपन से ही, वह संत प्रवृत्ति के थे। 16 साल की उम्र में, उन्होंने दुनिया को त्याग दिया और ब्रह्म-ज्ञान (दिव्य ज्ञान) की खोज में कच्छ के भुज और बाद में जामनगर चले गए। देवचंद्रजी ने प्रणामी सम्प्रदाय नामक धर्म की एक नई धारा खोजने के लिए ठोस आकार और रूप देने का काम किया। वे जामनगर में बस गए, जहाँ उन्होंने वेद, वेदांत ज्ञान और भागवतम् को सरल भाषा में समझाया। इन्होंने तारतम नामक दिव्य ज्ञान की सहायता से लोगों को उनके वास्तविक स्वरूप के बारे में बताया। उनके अनुयायियों को बाद में सुंदरसत या प्रणामी के रूप में जाना जाने लगा। प्रणामी सम्प्रदाय के प्रसार का श्रेय उनके सबसे प्रिय शिष्य और उत्तराधिकारी, महामति श्री प्राणनाथ जी को जाता है, जो जामनगर राज्य के दीवान केशव ठाकुर के पुत्र थे। उन्होंने धार्मिक उपद्रव के आदर्शों को फैलाने के लिए ओमान, इराक और ईरान सहित पूरे भारतीय उपमहाद्वीप और अरब जगत की यात्रा की। प्रणामी को 'धामी' के रूप में भी जाना जाता है, जो हिंदू धर्म के अंतर्गत एक वैष्णववाद उप-परंपरा है, जो भगवान कृष्ण पर केंद्रित है। यह परंपरा 17वीं शताब्दी में पश्चिमी भारत में सामने आई। मुगल साम्राज्य के पतन के बाद यह परंपराएं बढ़ीं, औरंगजेब द्वारा गैर-मुस्लिमों के धार्मिक उत्पीड़न के मद्देनजर, हिंदू विद्रोह ने नए राज्यों का नेतृत्व किया। बुंदेलखंड के ऐसे ही एक राज्य के राजा छत्रसाल ने प्राणनाथ का संरक्षण किया।
प्रणामी परंपरा ने सर्वोच्च सत्य श्री कृष्ण पूजा परंपरा में शामिल होने के लिए ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्रों का स्वागत किया। रूपांतरण दीक्षा के अंतर्गत, प्राणनाथ नए सदस्यों को एक साथ भोजन करने के लिए आमंत्रित करेंगे, चाहे वे किसी भी सनातन पृष्ठभूमि से आए हों। अपने उपदेशों को धर्मान्तरितों की पृष्ठभूमि से जोड़ने के लिए हिंदू ग्रंथों का हवाला देकर वे प्रणामी विचारों को भी समझाते हैं।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Pranami_Sampraday
https://en.wikipedia.org/wiki/Pranami
https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%A4%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A4%AE_%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A4%B0
https://mettacenter.org/gender-eyes/gandhi-had-a-mother-daily-metta/
https://www.timesnownews.com/education/article/three-promises-young-gandhi-made-to-his-mother-to-get-permission-for-his-higher-education-in-london/498258

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में गाँधी जी और उनकी माँ पुतली बाई के चित्रों को दिखाया गया है। (Prarang)
दूसरे चित्र में गाँधी जी की माँ के धर्म संप्रदाय (प्रणामी सम्प्रदाय) के इष्ट श्री कृष्ण, प्रणामी सम्प्रदाय का मंदिर और प्रणामी धर्म का विस्तार करने के लिए ज्ञात राजा प्राणनाथ का चित्र दिखाया गया है। (Prarang)
तीसरे चित्र में अपनी माँ के साथ गांधी जी के बचपन चित्रण है। (Publicdomainpictures)
चौथे चित्र में गाँधी जी के पिता और माता की छवियाँ चित्रित हैं। (Prarang)
पांचवें चित्र में श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर दिखाया गया है, जो मध्य प्रदेश में स्थित है। (Flickr)



RECENT POST

  • मोहम्‍मद के जन्‍मोत्‍सव मिलाद से जूड़े अध्‍याय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 09:59 PM


  • कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने में चुनौती साबित हो रहा है जल संकट
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 12:32 AM


  • दशानन की खूबियां
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:38 AM


  • आश्चर्य से भरपूर है, बस्तर की असामान्य चटनी छपराह
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:59 AM


  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM


  • कृत्रिम वर्षा (Cloud Seeding): बादल एवम्‌ वर्षा को नियंत्रित करने का कारगर उपाय
    जलवायु व ऋतु

     21-10-2020 01:06 AM


  • मुगलकालीन प्रसिद्ध व्‍यंजन जर्दा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 08:47 AM


  • नौ रात्रियों का पर्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id