विष्णु की प्रतिमाएं

जौनपुर

 22-07-2020 08:36 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

भारतीय कला में मूर्तियाँ अत्यंत ही महत्वपूर्ण हैं, इन मूर्तियों में अनेकों देवी देवताओं आदि का अंकन किया गया है जिसमे हमें हिन्दू, बौद्ध और जैन देवी देवताओं की मूर्तियाँ देखने को मिलती हैं। इन मूर्तियों को विभिन्न शैलियों से निर्मित किया गया है जैसे मथुरा कला शैली, सारनाथ कला शैली, गुप्त कला शैली,. प्रतिहार कला शैली तथा परमार कला शैली आदि। हिन्दू देवताओं के मूर्ती परंपरा की बात करें तो विष्णु भगवान् का मूर्तिशास्त्र में अनेकों विभिन्न प्रकार के विवरण हमें देखने को मिलते हैं। विष्णु की मूर्तियाँ अनेकों प्रकार से विकसित हुयी हैं तथा ये मूर्तियाँ विष्णु के विभिन्न अवतारों पर आधारित हैं जिन्हें की दशावतार के नाम से जाना जाता है। गुप्त काल को हिन्दू कला का स्वर्ण युग माना जाता है, यह वही काल है जब भारतीय हिन्दू मंदिर परंपरा की शुरुआत होती है जिसके उदाहरण हमें साँची के मंदिर संख्या 17 से देखने पर मिल जाते हैं, इसके अलावां नाचना कुठार, ललितपुर के देवघर आदि से भी इस काल के कला का विकास देखने को मिलता है। हिन्दू मूर्तियों का विकास मौर्य साम्राज्य से होना शुरू हो चुका था जिसका अनुपम उदाहरण मौर्य कालीन बलराम की प्रतिमा है। कुशाण काल के दौरान भी हिन्दू प्रतिमाशास्त्र का विकास बड़े पैमाने पर हुआ जिसका उदहारण हमें विभिन्न मूर्तियों से देखने को मिल जाता है, मथुरा कला के दौरान शिवलिंग तथा अन्य मूर्तियों का विकास बड़े पैमाने पर हुआ। यह गुप्त काल ही था जब हिन्दू मूर्ती कला का विकास अपने चरम पर पहुंचा, भूमरा का एक मुखी शिवलिंग, अहिक्षेत्र से प्राप्त गंगा और यमुना की प्रतिमाएं आदि इस काल के कला का एक अनुपम और महत्वपूर्ण उदाहरण पेश करने का कार्य करती है। दशावतार के मंदिर में बनी अनेकों प्रतिमाएं इस काल की कला के विषय में अभूतपूर्व उदाहरण पेश करते हैं। चौथी शताब्दी ईस्वी के पहले तक वासुदेव-कृष्ण की पूजा विष्णु की तुलना में कहीं अधिक हुआ करती थी और यही कारण है की इसके पहले की विष्णु की मूर्तियाँ प्रकाश में बहुत ही सीमित संख्या में आई हैं। गुप्त काल के दौरान ही विष्णु के मूर्तिशास्त्र का विकास होना शुरू होता है। इसी दौरान विष्णु की चतुरानन प्रतिमा का भी विकास हुआ। चतुरानन अर्थात चार भुजाओं वाला। विष्णु को चार मुखों वाला भी मूर्ती शास्त्र में दिखाए जाने की परंपरा की भी शुरुआत होती है, बैकुंठ विष्णु, वराह अवतार, मत्स्य अवतार आदि प्रतिमाओं का विकास होता है। विष्णु के प्रतिमाओं में नरसिंह की प्रतिमा तथा कच्छप या कछुए के रूप में दिखाया गया है, विष्णु के निवास स्थान को छीर सागर के रूप में भी जाना जाता है और विष्णु छीर सागर में शेषनाग के ऊपर विराजित होते है, मूर्ती शास्त्र में इससे जो प्रतिमा सम्बंधित है वह है शेषासई विष्णु की प्रतिमा। विष्णु को पैर के निशान के रूप में भी प्रस्तुत किया जाता है तथा इस निशान को विष्णुपाद के रूप में जाना जाता है। विष्णु को मुख्य रूप से शंख, चक्र, गदा और पद्म धारण किये हुए दिखाया जाता है। चतुर्मुखी विष्णु को बैकुंठ विष्णु के नाम से भी जाना जाता है जिसमे विष्णु के चार मुख का अंकन किया जाता है तथा इनके आस पास नायिकाओं, नायकों तथा गन्धर्वों आदि का भी अंकन किया जाता है तथा इस प्रकार की मूर्ती में विष्णु को खड़े हुए दिखाया जाता है तथा इनमे 4 से 8 भुजाओं का अंकन किया जाता है। विष्णु के वाहन गरुण का अंकन भी विष्णु की प्रतिमाओं पर किया जाता है। नरसिंह की प्रतिमा में विष्णु को पुरुष आकृति का ही दिखाया जाता है परन्तु इसमें उनके मुख को सिंह के मुख की तरह प्रदर्शित किया जाता है। विष्णु की इस तरह की प्रतिमाओं में मुख्य रूप से हिरण्याक्ष वध का अंकन किया जाता है। नरसिंह की मूर्तियों में विष्णु को 4 भुजाओं के साथ प्रदर्शित किया जाता है तथा इन मूर्तियों में आयुध के रूप में चक्र, गदा, नाखून आदि का अंकन किया जाता है। वाराह प्रतिमा में विष्णु का अंकन जंगली सूकर के रूप में किया जाता है जिसमे विष्णु को भू देवी को अपने सींगो पर उठाते हुए दिखाया जाता है। विष्णु की एक मात्र प्रतिमा जो विष्णु के सभी अवतारों को एक साथ प्रदर्शित करती है को विश्वरूप की प्रतिमा के रूप में जाना जाता है।

सन्दर्भ :
https://en.wikipedia.org/wiki/Vishvarupa
https://vedicfeed.com/symbols-of-lord-vishnu/
https://en.wikipedia.org/wiki/Hindu_art#Development_of_the_iconography_of_Vishnu
https://en.wikipedia.org/wiki/Vaikuntha_Chaturmurti
https://en.wikipedia.org/wiki/Narasimha
https://en.wikipedia.org/wiki/Varaha
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में दशावतार मंदिर (देवगढ़, ललितपुर) में स्थापित अनंतसई विष्णु की प्रतिमा को दिखाया गया है। (Flickr)
दूसरे चित्र में क्रमशः सारनाथ, मथुरा और गुप्त शैली में बनायीं गयी भगवान विष्णु की प्रतिमाओं को दिखाया गया है। (Prarang)
तीसरे चित्र में गुप्त काल में बनायीं गयी विष्णु प्रतिमाओं को दृश्यांवित किया गया है। (Prarang)
चौथे चित्र में मौर्यकालीन मुद्रा और मूर्तिकला में बलराम छवि दिखाई गयी है। (Prarang)
पांचवे चित्र में (दाएं और बाएँ) अहिछत्र गंगा, जमुना और भूमरा की एकमुखी शिवलिंग का चित्र है। (Prarang)
छठे चित्र में चतुरानन विष्णु की देव प्रतिमाओं को दिखाया गया है। (Prarang)
सातवें चित्र में भगवन विष्णु की चतुर्मुखी प्रतिमा को दिखाया गया है। (Prarang)
आठवें चित्र में बैकुंठ विष्णु को देवी लक्ष्मी के साथ गरुण पर सवार दिखाया गया है। (Publicdomainpictures)
नौवें चित्र में भगवान् विष्णु की नरसिंह अवतार की मूर्ति प्रदर्शित की गयी है। (Wikimedia)
दसवें चित्र में भगवान् विष्णु के विराट स्वरूप (विश्वरूप) और देवगढ़ (ललितपुर) में स्थापित शेषनाग पर सवार भगवान् विष्णु की प्रतिमाओं को दिखाया गया है। (Prarang)


RECENT POST

  • कर्मयोगी कृष्ण के विविध स्वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     11-08-2020 09:54 AM


  • क्षमतानुसार दान देने पर केंद्रित है, पीटर सिंगर का विचार प्रयोग ‘द लाइफ यू कैन सेव’
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     10-08-2020 06:45 PM


  • भारत में सबसे बड़ी ताजे पानी की झील
    नदियाँ

     09-08-2020 03:34 AM


  • क्या पक्षियों को पालतू बनाना उचित है?
    पंछीयाँ

     08-08-2020 06:05 PM


  • महाभारत और मुगल काल का लोकप्रिय खेल है चौपड़ या चौसर
    हथियार व खिलौने

     07-08-2020 06:25 PM


  • क्या रहा मनुष्य और उसकी इन्द्रियों के अनुसार, अब तक प्रारंग और जौनपुर का सफर
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     07-08-2020 06:27 PM


  • क्या है, कृषि क्षेत्र में मशीनीकरण का मतलब ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     06-08-2020 09:30 AM


  • गोमती नदी के ऊपर बने शाही पुल का इतिहास
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     05-08-2020 09:30 AM


  • तंदूर का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     04-08-2020 08:45 AM


  • दुनिया में सबसे अलग जनजाति है
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     02-08-2020 05:36 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id