नकारात्मक प्रभाव से बचते हुए, किस प्रकार देखा जाए सूर्यग्रहण

जौनपुर

 21-06-2020 10:05 AM
जलवायु व ऋतु

जब चन्द्रमा, सूर्य और पृथ्वी के मध्य से गुजरता है तो आसमान काला हो जाता है, सितारे चमक उठते हैं और लाखों लोग ये नज़ारा देखने को ऐसे आतुर हो जाते हैं मानो उनके लिए एक खगोलीय कार्यक्रम प्रसारित किया जा रहा हो। इस नज़ारे (सूर्यग्रहण) में सूरज को सीधे देखने का एकमात्र सुरक्षित माध्यम विशेष सौर फिल्टर को माना जाता है। इन विशेष फिल्टरों का उपयोग ग्रहण के चश्मे और हाथ से पकड़े गए सौर दर्शकों (Handheld Solar Viewers) के रूप में किया जाता है।

ये सौर फिल्टर्स या ग्रहण देखने के लिए चश्में बड़ बॉक्स स्टोर्स (Box Stores), इलेक्ट्रॉनिक्स दुकान और ऑनलाइन खरीदारी के माध्यम से उब्लब्ध होते हैं। ग्रहण को देखने के लिए आप ऐसे चश्मों को देखें जो आईएसओ 12312-2 (ISO 12312-2) प्रमाणीकरण की विशेषता रखते हों। ग्रहण के दौरान सूर्य को अनुचित रूप से देखना अंधेपन या रेटिना (Retina) के जलने का एक प्रमुख कारण हो सकता है। इससे बच्चों और युवा वयस्कों को सबसे ज्यादा खतरा होता है क्योंकि तेज रोशनी और सूरज से निकलने वाले विकिरण से आंख का ऊतक गर्म हो सकता है और पक सकता है। उम्र बढ़ने की प्रक्रिया वृद्ध लोगों में एक प्राकृतिक फ़िल्टरिंग (Natural Filtering) प्रभाव प्रदान कर सकती है और रेटिना क्षति के जोखिम को कम कर सकती है।

आइये जानते हैं - ग्रहण 101 में, नासा ने ग्रहण को देखने के लिए क्या हिदायतें दी हैं:
• खुली आँखों से सूरज की तरफ नहीं देखना है।
• घर में बनाये गये फिल्टर या साधारण धूप के चश्मे का उपयोग न करें, यहां तक कि बहुत गहरे धूप के चश्में का भी नहीं।
• ग्रहण देखने के लिए विशेष उद्देश्य वाले सौर फिल्टर, जैसे कि ग्रहण चश्मा (Eclipse glasses) या हाथ में पकडे जाने वाले सौर दर्शक (Handheld Solar Viewers) का उपयोग करें।
• फ़िल्टर निर्देशों को पढ़ें और उनका पालन करें और ग्रहण के किसी भी चरण में बच्चों की देखरेख करें।
• एक कैमरा, टेलीस्कोप, दूरबीन या अन्य किसी भी ऑप्टिकल डिवाइस के माध्यम से सूरज को न देखें और इन उपकरणों के साथ कभी भी सौर फिल्टर का उपयोग न करें, क्योंकि केंद्रित सौर किरणें उन्हें तो नुकसान पहुंचाएंगी साथ ही आंखों की गंभीर चोट का भी कारण बन सकती हैं।
• उपयोग से पहले अपने सौर फिल्टर का निरीक्षण करें, यदि इस पर कोई खरोंच या ये क्षतिग्रस्त है, तो फ़िल्टर को फेंक दें और नए फ़िल्टर का उपयोग करें।
• पिनहोल प्रक्षेपण सूर्य को अप्रत्यक्ष रूप से देखने का एक सुरक्षित तरीका है।

आइए एक नज़र डालें कि ग्रहण को सुरक्षित रूप से देखने के लिए घरेलू सामग्री के साथ एक सरल पिनहोल प्रोजेक्टर (Pinhole Projector) कैसे बनाया जाए।

सन्दर्भ:
1. https://www.youtube.com/watch?v=vLODPPFsZdA
2. https://www.youtube.com/watch?v=V_gawVCQ0cI
3. https://bit.ly/2Ygj7v3



RECENT POST

  • औषधीय गुणों के साथ रेशम उत्पादन में भी सहायक है, शहतूत की खेती
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     30-10-2020 04:16 PM


  • भारत में लौह-कार्य की उत्पत्ति
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-10-2020 05:43 PM


  • पंजा शरीफ में भी मौजूद है पैगंबर मुहम्मद साहब कदम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     29-10-2020 09:50 AM


  • मोहम्‍मद के जन्‍मोत्‍सव मिलाद से जूड़े अध्‍याय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 09:59 PM


  • कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने में चुनौती साबित हो रहा है जल संकट
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 12:32 AM


  • दशानन की खूबियां
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:38 AM


  • आश्चर्य से भरपूर है, बस्तर की असामान्य चटनी छपराह
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:59 AM


  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id