भारत में केशविन्यास का इतिहास और विकास

जौनपुर

 25-05-2020 09:50 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

ऐतिहासिक रूप से, बालों को आकर्षण और शक्ति से जुड़ा हुआ माना जाता है। शायद ही दुनिया में कहीं भी भारत की तरह केशश्रृंगारशाला में कल्पना, विचार और कलात्मकता को प्रयुक्त किया गया हो। केवल आम आदमी या महिला ही नहीं, बल्कि देवताओं को भी उनके अनूठे केशों से पहचाना जाता है। जबकि शिव जी और पार्वती जी को उनकी उलझी हुई जटाओं से संदर्भित किया जाता है। वहीं प्रारंभिक कला बुद्ध के बालों को घुंघराले रूप में दर्शाते हैं। केशश्रृंगारशाला दैनिक जीवन का हिस्सा था। सामाजिक समारोहों और कार्यों जैसे विशेष अवसरों पर, पुरुषों और महिलाओं दोनों ने विस्तृत केशविन्यास करते थे। इसी तरह, "नाट्य शास्त्र", प्रदर्शन कला पर एक प्राचीन भारतीय ग्रंथ, जिसमें यह भी उल्लेख किया गया है कि महिलाओं ने भौगोलिक क्षेत्रों के अनुसार केशविन्यास को अपनाया था। जबकि मालवा की युवा महिलाओं ने घुँघराले बाल रखना शुरू कर दिया, गौड़ा की महिलाओं ने अपने बालों को एक शीर्ष में बांधना या बालों को ढँकना शुरू कर दिया था।

केशविन्यास पत्थर और टेराकोटा की मूर्तियों, चित्रों और सिक्कों में अच्छी तरह से चित्रित हैं। यद्यपि अभिजात वर्ग और किसानों दोनों के बीच केशविन्यास आम था, लेकिन कुछ विद्वानों का मानना है कि केवल कुलीन वर्गों के द्वारा अपने बालों को दूसरों से अलग करने के लिए विभिन्न शैलियों में अपने बालों को व्यवस्थित किया जाता था। निम्न पंक्तियों में विभिन्न अवधियों से महत्वपूर्ण केशविन्यास पर प्रकाश डाला गया है:
प्रोटोहिस्टेरिक काल (Protohistoric period)
हड़प्पा सभ्यता के दौरान केशविन्यास काफी प्रचलन में था, जो मोहनजोदड़ो, हड़प्पा, कालीबंगन, धोलागिरि, राखीगढ़ी और बनवाली सहित विभिन्न हड़प्पा स्थलों पर मौजूद पुरावशेषों से स्पष्ट है। कालीबंगन और मोहनजोदड़ो से यह भी पाया गया कि हड़प्पा वासियों ने कंघों का इस्तेमाल किया था। एक अंडाकार के आकार का तांबे का दर्पण कथित तौर पर कालीबंगन और राखीगढ़ी से उत्खनन किया गया था। पुराने समय में भी महिलाएं अपने बालों की उतनी ही देखभाल करती थीं जितनी अब करती हैं। कुछ मृण्मूर्ति की वस्तुओं से पता चलता है कि महिलाओं द्वारा अपने बालों को घुँघराले रूप में या उन्हें पीछे की ओर चोटी के रूप में बांध कर व्यवस्थित किया जाता था, या उन्हें फूलों या फूलों के आकार के गहने से सजाया जाता था। वहीं पुरुषों को उनके बालों में कंघी करके दिखाया गया है। पुरुषों द्वारा अपने बालों को या तो छोटे काटकर या चोटिबंध रूप में बांधा जाता था।

मौर्य काल
मौर्यकालीन टेराकोटा के आंकड़े, उस अवधि की पत्थर की मूर्तियों की तुलना में अध्ययन के लिए एक बेहतर तस्वीर प्रदान करते हैं। पटना से पाई गई एक नर की मृण्मूर्ति में बालों को पीछे की ओर सिर पर पट्टिका के साथ स्पष्ट लकीरों में चित्रित किया गया था। "अर्थशास्त्र (आर्थिक नीति पर एक प्राचीन थीसिस और चाणक्य (एक दार्शनिक) द्वारा लिखित संस्कृत में सैन्य रणनीति),” महिलाओं के केशों को बीच की मांग में प्रचलित दो केशविन्यास के रूप में उल्लेखित करता है। एक में, बालों को चोटी में व्यवस्थित किया गया था जबकि दूसरे में सिर मुंडा हुआ था। एक "यक्षी" बिहार के दीदारगंज से एक हिंदू देवता की महिला सहभागी है, जो एक सुंदर केशविन्यास के साथ सबसे अच्छे टुकड़ों में से एक है। उनके बालों को पीछे की ओर गांठ में बांधा हुआ था।

सुंग-सातवाहन काल
सुंग कला में सरलता और स्वदेशी चरित्र की विशेषता है। मूर्तियां विशेष रूप से सांची, भरहुत और अमरावती में स्तूप और अजंता, करला, भजा और कन्हेरी में चट्टानों को काटकर गुफाएँ जैसी विशाल संरचनाओं से जुड़ी हैं। भरहुत की मूर्तियों में महिलाओं को पगड़ी पहने हुए एक शीर्ष गाँठ में व्यवस्थित बालों के साथ दिखाया गया है। एक अनुसूची बोधि वृक्ष की श्रद्धा में महिलाओं के समूह को विशेष रूप से केशविन्यास किए हुए दिखाया गया है।

कुषाण काल
कुषाण काल में विभिन्न मूर्तिकला परंपराओं के उद्भव को देखा गया था। उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद जिले के श्रृंगवेरपुरा से कुषाण कला का एक बढ़िया टुकड़ा, शिव जी के माथे में तीसरी आँख में चित्रित किया गया है, साथ ही उनके बालों को 12 पट्टी के ऊर्ध्वाधर जटाओं के साथ चित्रित किया गया है। आमतौर पर, महिलाओं के बालों को पीछे की तरफ ढीली गाँठ में बांधा जाता था।

गुप्त काल
इस अवधि के दौरान निर्मित किए गए मृण्मूर्ति और महीन चुने की मूर्तियों में केशविन्यास के कुछ उत्कृष्ट उदाहरण देखे जा सकते हैं। पार्वती जी की एक मृण्मूर्ति में उनको घुँघराले बालों के साथ चित्रित किया गया है। इस समय के केशविन्यासों को दो बेहद लोकप्रिय शैली विदेशी और स्वदेशी मूल में वर्गीकृत किया जा सकता है। विदेशी मूल में, छोटे बाल हुआ करते थे, जो कभी-कभी सामने की ओर से तने हुए शानदार लटों में बनाए जाते थे। जबकि स्वदेशी शैली में, लंबे बालों को या तो ऊँची या नीची गांठ में बाँधकर बनाया जाता था।

मध्यकालीन युग
मध्य प्रदेश के खजुराहो मंदिरों में चित्रित चंदेला अवधि के दौरान, महिलाएं अपने बालों को जुड़े और चिगन्स (chignons) में बनाना पसंद करती थीं। कई मामलों में, महिलाओं द्वारा नीची ढीली चोटी करते हुए भी दर्शाया था। बालों की बनावट का सबसे पुराना ज्ञात चित्रण लगभग 30,000 साल पहले की “चोटी” है। इतिहास में महिलाओं के बाल अक्सर विस्तृत रूप से और सावधानीपूर्वक विशेष तरीके से सजाए जाते थे। मध्य युग तक रोमन साम्राज्य के समय से, ज्यादातर महिलाएं अपने बालों को स्वाभाविक रूप से बढ़ने देती हैं। 15 वीं शताब्दी के अंत और 16 वीं शताब्दी के बीच, माथे पर बहुत ऊँची बारीक रेखा आकर्षक मानी जाती थी।

वहीं नाट्य शास्त्र के अनुसार, प्रदर्शन कला पर प्राचीन भारतीय पाठ में महिलाओं द्वारा अक्सर उनके क्षेत्रीय स्थानों के अनुसार केशविन्यास किया जाता था। जहां गौड़ा की महिलाएं अपने बालों को एक शीर्ष गाँठ या पट्टिका में बनाकर रखती थी, मालवा की महिलाएं अक्सर घुँघराले किए हुए केशविन्यास रखती थी। कुछ विद्वानों का यह भी मानना है कि इस क्षेत्र के अलावा, केशविन्यास आर्थिक वर्गों के बीच अंतर करने का एक तरीका था। धनी महिलाएं अन्य वर्गों से खुद को अलग करने के साधन के रूप में विस्तृत केशविन्यास का उपयोग करती थी। लोकप्रिय धारणा के विपरीत कि पुरुष केशविन्यास जैसी चीजों की परवाह नहीं करते हैं और मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा ही अपने बालों की देख रेख की जाती है। जबकि कुछ सूत्रों के अनुसार, विभिन्न दृश्य अभ्यावेदन में, मोहनजोदड़ो के शैलखटी ‘सुलतान पादरी’ को एक दिलचस्प केशविन्यास के साथ दिखाया गया है, जिसमें उन्होंने बालों को बीच से भाग देकर एक पट्टी से पीछे की ओर बांधा हुआ था। वहीं जेल लगाकर घुमावदार केशविन्यास, जो पुरुषों द्वारा अभी भी उपयोग किया जाता है, संभवतः कुषाण काल से आए हैं, जिसको गंधार कला प्रारूप में बनी मूर्तियों में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

चित्र (सन्दर्भ):
1. मुख्य चित्र में शुंग कालीन मूर्ति को दिखाया गया है , जिसमें एक महिला के बालों की डिज़ाइन दिख रही है। (Freepik)
2. दूसरे चित्र में मध्य में शंकर और पार्वती जटाधारण किये हुए हैं वही अन्य चित्र सिंधु घाटी सभ्यता में केश श्रृंगार को प्रदर्शित कर रहें हैं। (Prarang)
3. तीसरे महात्मा बुद्ध की केश दिख रही हैं। (wallpaperflare)
4. चौथे चित्र में मौर्यकालीन केश श्रृंगार का प्रतीत्व है। (Prarang)
5. पांचवे चित्र में गुप्तकालीन केश सजा है। (Prarang)
6. अंतिम चित्र में शंगु कालीन मूर्ति चित्र हैं। (Prarang)
संदर्भ :-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Hairstyle
2. https://indianexpress.com/article/india/india-news-india/tightly-wound-to-knotted-a-history-of-indian-hairstyles/
3. https://gulfnews.com/entertainment/arts-culture/hairstyles-from-ancient-and-medieval-india-1.1653120
4. https://www.edtimes.in/ancient-indian-hairstyles-are-still-being-used-in-modern-times/



RECENT POST

  • शाश्वत प्रतीक्षा का प्रतीक है नंदी (बैल)
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:09 AM


  • शिल्पकारों के कलात्मक उत्साह को दर्शाती है पेपर मेशे (Paper mache) हस्तकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:53 AM


  • इत्र उद्योग में जौनपुर का गुलाब
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:18 PM


  • अंतरिक्ष की निरंतर निगरानी के महत्व को रेखांकित करते हैं, क्षुद्रग्रह हमले
    खनिज

     30-06-2020 06:59 PM


  • परी कथा से कम नहीं है- भारतीय आभूषणों का इतिहास
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:20 AM


  • क्या है, फिल्म शोले के गीत महबूबा से जुड़ा दिलचस्प तथ्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:15 PM


  • जौनपुर की अपनी प्राचीन पाक कला
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 09:25 AM


  • भाषा का उपयोग केवल मानव द्वारा ही क्यों किया जाता है?
    व्यवहारिक

     26-06-2020 09:25 AM


  • कांटो भरी राह से डिजिटल स्वरूप तक सूप बनाने की पारंपरिक हस्तकला का सफर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     25-06-2020 01:30 PM


  • धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व रखता है, आंवला
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-06-2020 11:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.