क्या है, ख़याल संगीत का जौनपुर से सम्बन्ध

जौनपुर

 02-05-2020 07:00 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

जौनपुर के अंतिम शासक हुसैन शाह ने गंधर्व की उपाधि धारण की और हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की शैली 'ख्याल' के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने कई नए रागों (धुनों) की भी रचना की। उनके सबसे उल्लेखनीय रागों में मल्हार-स्यामा, गौर-स्यामा, भोपाल-स्यामा, हुसैनी या जौनपुरी-असावरी (जिसे जौनपुरी के नाम से जाना जाता है) और जौनपुरी-बसंत शामिल हैं। शास्त्रीय संगीत के चार प्रमुख रूपों में से एक 'ठुमरी' को ख्याल शैली से ही विकसित किया गया है। ख़याल या ख्याल भारतीय उपमहाद्वीप में शास्त्रीय गायन की एक आधुनिक शैली है, जिसका नाम एक अरबी या फारसी शब्द से आया है जिसका अर्थ है 'कल्पना'। ख़याल को नियामत खान ( उपनाम सदारंग) और उनके भतीजे फिरोज खान (उपनाम अदारंग) द्वारा प्रसिद्ध किया गया था, दोनों ही संगीतकार मोहम्मद शाह रंगीले (1719-1748) के दरबार में थे।

माना जाता है, कि उस समय खयाल शैली पहले से ही मौजूद थी, हालाँकि उस रूप में नहीं जिस रूप में आज है। कुछ संगीतकारों ने संगीत की छह शैलियों क़ौल (Qaul), क़लबाना (Qalbana), नक्श (Naqsh), गुल (Gul), तराना (Tarana) और खयाल के निर्माण के लिए प्रसिद्ध संगीतकार अमीर खुसरो को श्रेय दिया किन्तु इसकी पुष्टि पूर्ण रूप से नहीं हुई है। सदारंग और अदारंग की रचनाओं का विषय उर्दू प्रेम-कविता पर आधारित होता था। खयाल के शैलीगत प्रतिपादन से संगीतकारों की विभिन्न बाद की पीढ़ियों द्वारा घराना व्यवस्था उत्पन्न हुई। घरानों में ख़याल पेश करने के अलग-अलग तरीके हैं। जैसे रचना के शब्दों पर कितना ज़ोर देना है और किस तरह से उन्हें उच्चारित करना है। कब स्थायी और अंतरा को गाना है, कब शुरुआत में अलाप लेना है और कब बोल-अलाप गाना है आदि। 20 वीं सदी के जाने-माने ख़यालिया (ख़याल गायक) में अमीर खान, भीमसेन जोशी, गंगूबाई हंगल, हीराबाई बरोडेकर, रोशन आरा बेगम, राजन साजन मिश्रा, कुमार गंधर्व, मल्लिकार्जुन मंसूर, फैयाज खान, शराफत हुसैन आदि शामिल हैं।

ख़याल लघु गीतों (दो से आठ पंक्तियों) के एक भंडार पर ही आधारित है तथा इन गीतों को बंदिश कहा जाता है। हर गायक आम तौर पर एक ही बंदिश को अलग तरह से प्रस्तुत करता है, केवल विषय और राग एकसमान होते हैं। ख़याल बंदिश आमतौर पर उर्दू/हिंदी के संस्करण या कभी-कभी फ़ारसी, भोजपुरी, पंजाबी, राजस्थानी या मराठी के संस्करण में भी रचित होते हैं। इन रचनाओं में विविध विषयों को शामिल किया गया है, जैसे कि रोमांस या दिव्य प्रेम, राजाओं या देवताओं की स्तुति, ऋतुएँ, भोर और शाम, भगवान कृष्ण की शरारतें आदि। उनमें प्रतीकात्मकता और कल्पना भी हो सकती है। बंदिश को दो भागों में विभाजित किया जाता है- स्थायी या अस्थायी और अंतरा। स्थायी या अस्थायी को अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह राग के मधुर रूप को दर्शाता है। स्थायी अक्सर निचले सप्टक (Octave) और मध्य सप्टक के निचले आधे हिस्से से नोट्स (Notes) का उपयोग करता है। जबकि अंतरा ऊपरी सप्तक के शीर्ष पर चढ़ता है और नीचे उतरने से पहले स्थायी भाग से वापस जुड़ जाता है। इसके साथ हारमोनियम या तार वाले वाद्ययंत्र जैसे कि सारंगी, आदि का उपयोग किया जाता है ताकि जब गायक वाक्यांशों या उसके कुछ हिस्सों के छोटे रूपांतरों का उपयोग करते हुए, सांस लेने के लिए रुकता है, तो राग-निर्माण में निरंतरता बनी रहे। संगीत में थाप देने के लिए तबले का प्रयोग किया जाता है। वाद्ययंत्र बजाने वालों द्वारा तालबद्ध पैटर्न (Patterns) की एक विस्तृत विविधता का उपयोग किया जा सकता है। खयाल कलाकार आमतौर पर एकताल, झूमरा, झपताल, तिलवाड़ा, तीनताल, रूपक और अदाचौताल का उपयोग करते हैं। एक विशिष्ट खयाल प्रदर्शन में दो गीतों का उपयोग किया जाता है - बडा ख़याल या महान ख़याल, जोकि विलाम्बित लय में अधिकांश प्रदर्शन में शामिल होता है, और एक छोटा ख़याल जो तेज गति (द्रुत लय) में, गीत के समापन के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह आमतौर पर एक ही राग में होता है, लेकिन ताल अलग-अलग होती है।

खयाल अब उत्तर भारतीय शास्त्रीय संगीत का सबसे प्रमुख रूप है। यह शब्द फारसी भाषा की 'कल्पना' से आया है, क्योंकि यह कलाकार को ध्रुपद नामक पुरानी मुखर शैली की तुलना में आशुरचना और गायन स्वतंत्रता के लिए अधिक अवसर प्रदान करता है। एक सक्षम कलाकार आसानी से दो या चार पंक्तियों को अपने प्रदर्शन में एक घंटे से भी अधिक समय तक खींच सकता है, लेकिन फिर भी, खयाल चुने हुए राग (मधुर संरचना) के संगीत व्याकरण का कड़ाई से पालन करने की माँग करता है। इसकी उत्पत्ति संगीत के विद्वानों के बीच विवाद का विषय है, लेकिन कई इसे 14 वीं शताब्दी के गीत का एक रूप जिसे कव्वाली कहा जाता है, मानते हैं। कव्वाली उत्तर भारत के सूफियों (इस्लामिक मनीषियों) के गीतों की भक्ति शैली है। कई स्रोतों ने खयाल को ध्रुपद की तुलना में अधिक 'रोमांटिक (Romantic)' गीत शैली के रूप में उद्धृत किया है। खयाल लगभग एकल गाया जाता है, हालांकि अब गायक को समर्थन स्वर प्रदान करने की प्रवृत्ति बढ़ रही है। परंपरागत रूप से, इस शैली के लिए मधुर संगत सारंगी है लेकिन अब हारमोनियम जैसे उपकरणों को देखना सामान्य है।

ख़याल संगीत के जुड़ा प्रारंग का अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

चित्र(सन्दर्भ):
1. ‘
रागमाला’, 18 वीं शताब्दी का लघु चित्रण है जिसमें उस समय के और भूतकाल के उस्तादों की एक साथ काल्पनिक महफ़िल दिखाई देती है। शीर्ष पंक्ति में बाएं से दाएं: तानसेन, फिरोज खान 'अदरंग', निअमत खान 'सदरंग' और नीचे की पंक्ति में बाएं से दाएं: करीम खान (हैदराबाद के दरबार में जाने वाले अदरंग के शिष्य), और निजाम के दरबार में एक प्रसिद्ध संगीतकार करीम खान के पुत्र खुशाल खान 'अनूप' दिखाई देते हैं। (Wikipedia Commons)
2. असावरी रागिनी, रागमाला पेंटिंग (Wikimedia)
3. अंतिम चित्र में ख्याल प्रस्तुत करते हुए कलाकारों को दिखाया गया है। (Youtube)
सन्दर्भ:
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Khyal
2. https://www.darbar.org/article/highly-ornamented-song-an-introduction-to-khayal-vocal-music/46



RECENT POST

  • औषधीय गुणों के साथ रेशम उत्पादन में भी सहायक है, शहतूत की खेती
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     30-10-2020 04:16 PM


  • भारत में लौह-कार्य की उत्पत्ति
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-10-2020 05:43 PM


  • पंजा शरीफ में भी मौजूद है पैगंबर मुहम्मद साहब कदम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     29-10-2020 09:50 AM


  • मोहम्‍मद के जन्‍मोत्‍सव मिलाद से जूड़े अध्‍याय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 09:59 PM


  • कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने में चुनौती साबित हो रहा है जल संकट
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 12:32 AM


  • दशानन की खूबियां
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:38 AM


  • आश्चर्य से भरपूर है, बस्तर की असामान्य चटनी छपराह
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:59 AM


  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id