जौनपुर में श्वेत क्रांती

जौनपुर

 09-04-2017 12:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
देश की अर्थव्यवस्था व रोजगार के दृष्टिकोण से पशुओ का एक अहम योगदान है| श्वेत क्रांति के बाद देश मे एक नयी ऊर्जा का संचार हुआ था| श्वेत क्रांति का श्रेय डॉ. वर्गीस कुरियन को जाता है| जिन्होंने अमूल के जरिये देश में दुग्ध व्यापार एवं उत्पाद को ऊपर पहुँचाया| जौनपुर के पशुधन की सम्पूर्ण संख्या पर यदि नज़र डाली जाए तो मुख्य आंकड़े सामने आते हैं वह यह हैं – गाय की संख्या 1 लाख 87 हज़ार, 2 लाख 5 हज़ार भैंस तथा 2 लाख ९६ हज़ार भेड़- बकरी व सुअर| जिले मे प्रतिदिन 5 मीट्रिक लीटर दुग्ध का उत्पाद होता है| जिले मे 41 पशु चिकित्सालय, 69 गर्भधानी केंद्र, 58 दूध संस्थायें हैं तथा दुग्ध शीत घर की व्यवस्था 25000 लीटर प्रतिदिन की है| सम्पूर्ण पशुधन से करीब 1 लाख व्यक्ति को रोजगार लाभान्वित होता है|

RECENT POST

  • भारतीय ऊन उद्योग का एक संक्षिप्त विवरण
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:13 PM


  • सर्दियों के मौसम में नटखट पशुओं की मस्ती
    व्यवहारिक

     16-12-2018 11:34 AM


  • जानवरों को मृत्यु के बाद भी जीवित रखने की एक कला, चर्मपूरण
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-12-2018 01:27 PM


  • ‘चपाती’ (रोटी) का एक स्वादिष्ट और रोचक इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:00 PM


  • आखिरकार क्या है पासपोर्ट, इसका क्या उपयोग है, और कैसे इसे बनवाया जाए?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-12-2018 11:08 AM


  • जीवाणु और विषाणु के मध्य अंतर
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 12:01 PM


  • अपराध तहकीकात में उपयोगी साबित होता हुआ डीएनए फिंगरप्रिंटिंग
    डीएनए

     11-12-2018 11:34 AM


  • स्‍वादों में एक विशिष्‍ट पांचवे स्‍वाद वाले शिताकी मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 11:14 AM


  • महान अर्थशास्त्री चाणक्य का ज्ञान
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     09-12-2018 10:00 AM


  • सर्दियों की पसंदीदा मटर को जानें बेहतर
    साग-सब्जियाँ

     08-12-2018 10:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.