क्या होता है, विभिन्न धर्मों में प्रयुक्त होने वाले मण्डल (Mandala)

जौनपुर

 12-01-2020 10:00 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

मण्डल (Mandala) संस्कृत भाषा से लिया गया एक शब्द है जिसका अर्थ एक संकेन्द्रिक आरेख या वृत्त से है, जिसका विभिन्न धर्मों में आध्यात्मिक और धार्मिक महत्व है। यह शब्द हिंदू मूल का है और ऋग वेद में काम के वर्गों के नाम के रूप में प्रयुक्त होता है। वज्रयान बौद्ध धर्म की तिब्बती शाखा में, मंडलों को बालूचित्रों में विकसित किया गया है। मंडल अनुत्तरयोग तंत्र ध्यान प्रथाओं का भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

मण्डल प्रतीकों का एक आध्यात्मिक या अनुष्ठानात्मक ज्यामितीय विन्यास है। हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म या जापानी धर्मों में शिंटोवाद (Shintoism)(विरोधाभास, कामी या वास्तविक के मामले में जापानी धर्म) का एक नक्शा (देवताओं का प्रतिनिधित्व करने वाला) है। आम तौर पर "मंडल" किसी भी आरेख या ज्यामितीय पैटर्न के लिए एक सामान्य शब्द बन गया है, जो प्रतीकात्मक रूप से ब्रह्मांड का प्रतिनिधित्व करता है जो हमें हमारे मन और शरीर के भीतर और बाहर फैली अनंत शक्ति से हमारे संबंध को दर्शाता है।

अधिकांश मंडलों का मूल रूप एक वर्ग है जिसमें एक केंद्र बिंदु के साथ एक चक्र और चार द्वार हैं। प्रत्येक द्वार एक टी (T) के सामान्य आकार में है, जिसमें अक्सर दीप्तिमान संतुलन होता है और ये द्वार दिशाओं के घोतक होते हैं। वैदिक अनुष्ठान के दिन नवग्रह मण्डल जैसे मण्डल का उपयोग करते हैं। मंडलों का उपयोग बौद्ध धर्म में भी किया जाता है। विभिन्न आध्यात्मिक परंपराओं में, मण्डलों को एक आध्यात्मिक मार्गदर्शक के रूप में, एक पवित्र स्थान की स्थापना के लिए और ध्यान और समाधी प्रवर्तन के लिए एवं चिकित्सकों द्वारा ध्यान केंद्रित करने के लिए सहायता के रूप में नियोजित किया जाता है।

अर्थात आसान शब्दों में कहा जाए तो मण्डल एशियाई संस्कृतियों में एक आध्यात्मिक और अनुष्ठानात्मकता का प्रतीक है। इसे दो अलग-अलग तरीकों से समझा जा सकता है: बाह्य रूप से ब्रह्मांड के दृश्य प्रतिनिधित्व के रूप में या आंतरिक रूप से कई प्रथाओं के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में जो कि कई एशियाई परंपराओं में शामिल हैं। हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म में, मान्यता यह है कि मंडल में प्रवेश करने और उसके केंद्र की ओर बढ़ने से, आपको लौकिक प्रक्रिया के द्वारा ब्रहमाण्ड में दर्द और पीड़ा से ख़ुशी और आनंद की और निर्देशित किया जा रहा है।

ड्रीम कैचर्स (Dream Catchers) और एडल्ट कलरिंग बुक्स (Adult Colouring Books) से लेकर फ्लैश टैटूज़ (Flash Tattoos) तक, मण्डल को एक दशक तक पॉप कल्चर (Pop Culture) का महत्वपूर्ण तत्त्व माना जा सकता है लेकिन ये अलंकृत पैटर्न (Pattern) सिर्फ सुंदरता ही नहीं अपितु एक सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व भी रखते हैं। मण्डल सांस्कृतिक रूप से एक ब्रह्मांडीय आरेख के रूप में पूर्णता का प्रतिनिधित्व करने के लिए हैं और हमें याद दिलाने के लिए हैं कि हम अनंत का एक हिस्सा हैं और दुनिया हमारे मन और शरीर दोनों के भीतर और बाहर निहित है।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Mandala
2. https://www.invaluable.com/blog/what-is-a-mandala/
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://www.flickr.com/photos/anokarina/24495689877
2. https://www.piqsels.com/en/public-domain-photo-fymhp
3. https://www.piqsels.com/en/public-domain-photo-fjlwj



RECENT POST

  • भारतीय सेना में भर्ती के लिए आवश्यक है कठिन परिश्रम और आवश्यक शारीरिक दक्षता
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-02-2020 11:40 AM


  • क्या कृत्रिम बारिश हो सकती है हमारे लिए एक वरदान?
    जलवायु व ऋतु

     26-02-2020 04:25 AM


  • क्या जौनपुर सहित सम्पूर्ण भारत में उपयोगी सिद्ध होगी फेशियल-रिकग्निशन (Facial Recognition) प्रणाली?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     25-02-2020 03:00 PM


  • इंसान और जानवर, कौन किसके घर में सेंध लगा रहा है?
    स्तनधारी

     24-02-2020 03:00 PM


  • जीवन का सार सिखाती एक लघु फिल्म – “द एग (The Egg)”
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-02-2020 03:30 PM


  • त्रिशूल का अन्य संस्कृतियों में महत्व
    हथियार व खिलौने

     22-02-2020 01:30 PM


  • रहस्यमयी गाथाओं को समेटे है जौनपुर का त्रिलोचन महादेव मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-02-2020 11:30 AM


  • मेट्रोपॉलिटन म्यूज़ियम ऑफ़ आर्ट (Metropolitan Museum of Art) में संरक्षित है जौनपुर की जैन कल्पसूत्र पाण्डुलिपि
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     20-02-2020 12:00 PM


  • संक्रामक रोगों के खिलाफ कैसे लड़ता है टीकाकरण
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     19-02-2020 11:00 PM


  • जौनपुर का शाही किला और धार्मिक सहिष्णुता का फारसी लेख
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-02-2020 01:20 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.