इस साल, कैसा रहा जौनपुर के साथ प्रारंग का सफर?

जौनपुर

 31-12-2019 02:52 PM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

प्रारंग द्वारा 2017 में अपनी स्थापना के बाद से विशेष रूप से जौनपुर के लोगों के लिए अभी तक 781 लेख प्रस्तुत किये गये हैं। प्रारंग ने पिछले 365 दिनों में विशेष रूप से जौनपुर के नागरिकों के लिए 2019 के वर्ष में हर दिन 1 लेख प्रस्तुत किया है।

हमारे समस्त लेख विषयों की एक विशाल श्रृंखला पर आधारित हैं जो कि डिजिटल शिक्षा के माध्यम से आदर्श नागरिक बनाने के लिए चित्र, शब्द और महत्वपूर्ण डाटा (Data) को संग्रहित करके हमारे शहर जौनपुर की अपनी स्थानीय भाषा में प्रस्तुत किये गये हैं। साथ ही आप प्रारंग के जौनपुर शहर वाले लिंक पर जाकर शहर के प्रमुख व्यवसाय, सरकारी कार्यालयों या सुविधाओं (जैसे - बैंकिंग, डाकघर, आदि) की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। साथ अपने जिले के समस्त आकड़े और विवरण को भी प्राप्त कर सकते हैं। इन सभी जानकारियों को अभी देखने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करें।

https://jaunpur.prarang.in/

जौनपुर पर हमारी पोस्ट को 2019 के दौरान कुल 17,415 लाइक्स (Likes) मिले।
प्रारंग के फेसबुक पेज (Facebook Page) पर वर्तमान में जौनपुर के करीब 8,800 उपभोक्ता हैं जो जौनपुर शहर के अनुमानित हिंदी और उर्दू बोलने वाले इंटरनेट सब्सक्राइबर बेस (Internet Subscriber Base) 35,651 के 24% से अधिक हैं।

हमारे प्राथमिक पाठक 18-34 की उम्र के बीच रहे हैं जो हमारे कुल पाठकों का 80% हिस्सा है, हमारे कुल सब्सक्राइबर्स में से 87% पुरुष पाठक हैं।

प्रारंग के समस्त लेख पढने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।

वर्ष 2019 के प्रत्येक माह के लोकप्रिय लेख
जनवरी
रामायण और महाभारत में उल्लेखित वर्तमान मल्लाह जनजाति
फरवरी
बौद्ध काल में मछिका खंड के नाम से जाना जाता था मछलीशहर
मार्च
164 साल से सभी को ललचाती है जौनपुर की ये खास इमरती
अप्रैल
पुरानी तस्वीर में जौनपुर के पुल का एक अद्भुत दृश्य
मई
अन्नदाता कहे जाते है नोबेल पुरस्कार विजेता- नॉर्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Norman Ernest Borlaug)
जून
जनसँख्या वृद्धि नियंत्रण में महिलाओं का योगदान
जुलाई
पटसन भू–वस्त्र की बढ़ती उपयोगिता
अगस्त
जौनपुर की प्रसिद्ध मूली – जौनपुरी नेवार
सितम्बर
कैसे होता था गोह का प्रयोग किला चढ़ाई में?
अक्टूबर
भारत के सबसे लोकप्रिय और मनभावक रेल मार्ग
नवम्बर
अटाला मस्जिद के समान है खालिस मिखलीस मस्जिद
दिसम्बर
मस्जिदों में पाए जाने वाले मेहराब का इतिहास और उत्पत्ति



RECENT POST

  • शाश्वत प्रतीक्षा का प्रतीक है नंदी (बैल)
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:09 AM


  • शिल्पकारों के कलात्मक उत्साह को दर्शाती है पेपर मेशे (Paper mache) हस्तकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:53 AM


  • इत्र उद्योग में जौनपुर का गुलाब
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:18 PM


  • अंतरिक्ष की निरंतर निगरानी के महत्व को रेखांकित करते हैं, क्षुद्रग्रह हमले
    खनिज

     30-06-2020 06:59 PM


  • परी कथा से कम नहीं है- भारतीय आभूषणों का इतिहास
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:20 AM


  • क्या है, फिल्म शोले के गीत महबूबा से जुड़ा दिलचस्प तथ्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:15 PM


  • जौनपुर की अपनी प्राचीन पाक कला
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 09:25 AM


  • भाषा का उपयोग केवल मानव द्वारा ही क्यों किया जाता है?
    व्यवहारिक

     26-06-2020 09:25 AM


  • कांटो भरी राह से डिजिटल स्वरूप तक सूप बनाने की पारंपरिक हस्तकला का सफर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     25-06-2020 01:30 PM


  • धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व रखता है, आंवला
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-06-2020 11:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.