कार्बन उत्सर्जन भी है, जलवायु परिवर्तन का एक कारक

जौनपुर

 07-12-2019 11:17 AM
जलवायु व ऋतु

जलवायु परिवर्तन के प्रभावों में आर्थिक, सामाजिक, स्वास्थ आदि सम्मिलित है तथा यह पृथ्वी के पारिस्थितिकी तंत्र के लिए भी एक बहुत ही बड़ी खतरे की घंटी है। जलवायु परिवर्तन के एक कारक में कार्बन उत्सर्जन भी है जो की हमारे स्वास्थ के लिए एक खतरनाक जहर का कार्य करता है। इस लेख में हम कार्बन उत्सर्जन के बढ़ने के कारण और इसके प्रभावों के बारे में पढेंगे और साथ ही साथ यह भी की यह कैसे रोजगार के प्रतिकूल कार्य करता है।

कार्बन गैसों का उत्सर्जन खाद्य, इंधन, विनिर्मित वस्तुओं, लकड़ी, सड़कों, भवनों, गाड़ियों, कल कारखानों आदि के माध्यम से उत्सर्जित किया जाता है। इस प्रकार से निकले हुए कार्बन को कार्बन पदचिन्ह के नाम से जाना जाता है। कार्बन उत्सर्जन से ग्रीन हाउस गैसों का भी प्रभाव पृथ्वी के वायुमंडल पर पड़ता है यह कारण है की जिससे पृथ्वी का तापमान एक वेग के साथ बढता है। कार्बन के वायुमंडल में अधिकता के कारण व्यक्ति विभिन्न बीमारियों से ग्रसित हो जाता है और ऐसे माहौल जहाँ पर कार्बन की अधिकता ज्यादा है में सांस लेना तक दूभर हो जाता है।

अभी हाल ही के एक रिपोर्ट से पता चला है की भारत में कार्बन उत्सर्जन की प्रक्रिया अमेरिका और चीन से भी ज्यादा है जो की एक अत्यंत ही सोचनीय विषय है। 2018 में भारत में कार्बन उत्सर्जन की गति करीब 4.8 प्रतिशत की गति से बढ़ी है, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है की इस वृद्धि के बावजूद भी प्रति व्यक्ति उत्सर्जन यहाँ पर वैश्विक औसत के केवल 40 प्रतिशत पर कम है इस हिसाब से भारत का प्रति व्यक्ति उत्सर्जन दर 7 फीसद है और अमेरिका की उत्सर्जन दर 14 फीसद है। भारत में कोयला एक प्रमुख श्रोत है बिजली के बनाने का ऐसे में कोयले के कारण एक बड़ी संख्या में कार्बन का उत्सर्जन होता है। पेरिस क्लाइमेट अग्ग्रिमेंट के तत्वाधान में भारत ने यह निर्णय लिया है की 2030 तक इस दर को 30 फीसद तक कम कर दिया जाएगा।

जलवायु परिवर्तन का रोजगार और श्रम पर बड़ा प्रभाव देखने को मिलेगा। इस जलवायु परिवर्तन से बेरोजगारी और गरीबी बढ़ सकती है। हांलाकि ,बेरोजगारी बढ़ने के कई आंकड़े हैं लेकिन इस कार्बन उत्सर्जन और ग्रीन हाउस गैस के होने से कई ऐसे भी व्यापार हैं जो बड़ी संख्या में वृद्धि करेंगे जो की निम्नवत हैं। पुनर्चक्रण एक ऐसा उद्योग है जो की ऐसी स्थिति में एक मील का पत्थर साबित हो रहा है। इस प्रकार से पुनर्चक्रण के माध्यम से जलवायु परिवर्तन की गति को धीमा किया जा सकता है ऐसे में यह एक अहम् उद्योग है। पुनर्चक्रण में कचरे में से विभिन्न वस्तुओं को अलग अलग कर के उनसे दूसरे वस्तुओं के निर्माण को ही पुनर्चक्रण कहते है। इ गाड़ियाँ दूसरी ऐसी उद्योग हैं जो की इस प्रकार के माहौल के लिए अत्यंत ही सटीक हैं। अक्षय बिजली का निर्माण करना भी एक अन्य वुयापार है जो की इस माहौल के लिए उत्तम है। इनके अलावां हवा जल आदि के भी संरक्षण आदि जैसे स्टार्टअप के लिए यह एक ऐसा मौक़ा है जिसपर कार्य किया जा सकता है और जो लोगों के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Carbon_footprint
2. https://qz.com/india/1581665/indias-carbon-emissions-growing-faster-than-us-china-says-iea/
3. https://www.uncclearn.org/sites/default/files/inventory/wcms_122181.pdf
4. https://news.harvard.edu/gazette/story/newsplus/business-opportunities-from-climate-change/
5. https://www.inc.com/maureen-kline/climate-change-a-26-trillion-growth-opportunity.html
6. https://bit.ly/2DwH7yQ



RECENT POST

  • जौनपुर की अद्भुत मृदा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:37 PM


  • आईएसएस को आपकी छत से देखा जा सकता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     04-07-2020 07:22 PM


  • भारत के दलदल जंगल
    जंगल

     03-07-2020 03:16 PM


  • शाश्वत प्रतीक्षा का प्रतीक है नंदी (बैल)
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:09 AM


  • शिल्पकारों के कलात्मक उत्साह को दर्शाती है पेपर मेशे (Paper mache) हस्तकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:53 AM


  • इत्र उद्योग में जौनपुर का गुलाब
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:18 PM


  • अंतरिक्ष की निरंतर निगरानी के महत्व को रेखांकित करते हैं, क्षुद्रग्रह हमले
    खनिज

     30-06-2020 06:59 PM


  • परी कथा से कम नहीं है- भारतीय आभूषणों का इतिहास
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:20 AM


  • क्या है, फिल्म शोले के गीत महबूबा से जुड़ा दिलचस्प तथ्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:15 PM


  • जौनपुर की अपनी प्राचीन पाक कला
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 09:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.