पुनर्जागरण काल में इटली के कुछ महत्वपूर्ण कलाकार और उनकी कृतियाँ

जौनपुर

 10-11-2019 02:51 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

1.माइकल एंजेलो - माइकल एंजेलो चरम पुनर्जागरण युग के इतालवी मूर्तिकार (Italian Sculptor), चित्रकार, वास्तुकार और कवि थे जो फ्लोरेंस गणराज्य में पैदा हुए थे। उन्होंने पश्चिमी कला के विकास पर एक अद्वितीय प्रभाव डाला था। उन्हें उनके जीवनकाल के दौरान सबसे महान जीवित कलाकार माना जाता था, उसके बाद से उन्हें सर्वकालीन महानतम कलाकारों में से एक के रूप में वर्णित किया गया है।

माइकल एंजेलो की कला के कुछ उदहारण निम्नांकित है-
(a)मडोना ऑफ़ द स्टैअर्स (Madonna Of the Stairs) -
मडोना ऑफ़ द स्टैअर्स, कासा बुओनरोटी, फ्लोरेंस (Casa Buonarroti, Florence ) में माइकल एंजेलो द्वारा बनाया गया रिलीफ स्कल्पचर या उच्चावच मूर्तिकला(Relief Sculpture) का एक उदहारण है।

(b)मुज़ेज या मूसा (Muses) - मूसा रोम के विनकोली (Vincoli) में सैन पिएत्रो के चर्च में रखी गयी एक मूर्ति है, जिसे 1505 में पोप जूलियस II ने अपनी कब्र के लिए अधिकृत किया था।

(c)पिएटा (Pieta) - कला के इस प्रसिद्ध कार्य में क्रूसिफ़िकेशन (Crucifixion) के बाद अपनी माँ मैरी (Mother Mary) की गोद में यीशु (Jesus) के शरीर को दर्शाया गया है। यह विषय उत्तरी मूल का है। माइकल एंजेलो की पिएटा की व्याख्या इतालवी मूर्तिकला में अभूतपूर्व है। यह एक महत्वपूर्ण कार्य है क्योंकि यह प्रकृतिवाद के साथ शास्त्रीय सौंदर्य के पुनर्जागरण के आदर्शों को संतुलित करता है।

(d)सिस्टिन चैपल की छत (Ceiling Of Sistine Chapel) – 1508 और 1512 के बीच माइकल एंजेलो द्वारा चित्रित सिस्टिन चैपल (सिस्टिन चैपल वेटिकन सिटी में, पोप के आधिकारिक निवास, एपोस्टोलिक पैलेस में एक चैपल है।) की छत, उच्च पुनर्जागरण कला की आधारशिला है। इस लेख का मुख्य चित्र भी इसी कलाकृति से लिया गया है।

(e)द लास्ट जजमेंट (The Last Judgement) और डोनी टोंडो (Doni tondo) - द लास्ट जजमेंट वेटिकन सिटी में सिस्टिन चैपल की पूरी वेदी दीवार (Altar Wall) को कवर करते हुए बनाया गया एक फ्रेस्को चित्र है। यह मसीह के दूसरे आगमन और भगवान द्वारा अंतिम और शाश्वत निर्णय का चित्रण है। परिपक्व माइकल एंजेलो द्वारा एकमात्र जीवित समाप्त पैनल पेंटिंग द डोनी टोंडो या डोनी मैडोना है।

2.लेओनार्दो द विंची (Leonardo Da Vinci) - द विंची पुनर्जागरण काल के एक इतालवी बहुमुखी प्रतिभा वाले कलाकार थे। इनके रुचि क्षेत्रों में आविष्कार, ड्राइंग, पेंटिंग, मूर्तिकला, वास्तुकला, विज्ञान, संगीत, गणित, अभियांत्रिकी, साहित्य, शरीर रचना विज्ञान, भूविज्ञान, खगोल विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और कार्टोग्राफी शामिल थे। उन्हें व्यापक रूप से सभी समय के महानतम चित्रकारों में से एक माना जाता है।

(a)ईसा मसीह का बाप्तिस्म (The Baptism Of Christ) - ईसा मसीह का बाप्तिस्म 1475 के आसपास इतालवी पुनर्जागरण चित्रकार एंड्रिया डेल वेरोकियो के स्टूडियो में समाप्त हुई एक पेंटिंग है। आम तौर पर इसका श्रेय उनके शिष्य लियोनार्डो दा विंची को दिया जाता है।

(b)द वर्जिन ऑफ द रॉक्स (The Virgin Of The Rocks) - द वर्जिन ऑफ द रॉक्स, लियोनार्दो दा विंची द्वारा की दो कलाकृतियों के नाम है, जो एक ही विषय पर बनायीं गयी हैं।

(c)द अनाउन्शीएसन (The annunciation) – इस पेंटिंग का विषय कैथोलिक और पूर्वी रूढ़िवादी उत्सव से है जो आर्चएंजेल गेब्रियल (Archangle Gabriel) द्वारा वर्जिनमैरी की घोषणा कि वह गर्भ धारण करेगी और यीशु की माँ बनेगी यीशु (जोकि यहूदी मसीहा और ईश्वर के पुत्र होंगे)। गेब्रियल ने मैरी को अपने बेटे का नाम यीशु रखने को कहा, जिसका अर्थ "YHWH अर्थात मुक्ति" है।

(d)अंतिम भोज (द लास्ट सपर, The Last Sapar) - माना जाता है कि यह काम 1495-96 के आसपास शुरू किया गया था। पेंटिंग अपने प्रेषितों के साथ यीशु के अंतिम भोज दृश्य पर आधारित है। 3.डोनटेलो (Dontello) - डोनाटो डि निकोलो डि बेटो बाड़ी, जिन्हें डोनटेलो के रूप में जाना जाता है, पुनर्जागरण काल के इतालवी मूर्तिकार थे। इन्होंने पत्थर, कांस्य, लकड़ी, मिट्टी, प्लास्टर और मोम के साथ काम किया।

(a)गट्टामेल्टा की इक्वेस्ट्रियन स्टैच्यू (The Equestrian Statue of Gattamelata ) - गैटलमेलटा की इक्वेस्ट्रियन स्टैच्यू इटली के प्रारंभिक पुनर्जागरण कलाकार डोनटेलो द्वारा बनायी गयी एक मूर्ति है। यह मूर्ति "गट्टामेल्टा" के रूप में पहचाने जाने वाले नरनी के पुनर्जागरण नेता इरास्मस (the Renaissance condottiero Erasmo da Narni ) को प्रदर्शित करती है, जिन्होंने ज्यादातर वेनिस गणराज्य के तहत सेवा की।

(b)सैंट जॉन इंजीलवादी (St. John the Evangelist) - पुनर्जागरण के दौरान कलाकारों के लिए इंजीलवादी एक लोकप्रिय विषय थे। डोनटेलो ने अपनी प्रस्तुति में एक बूढ़े व्यक्ति जॉन की के रूप में इस परंपरा से को निभाया है।

चित्र सन्दर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Michelangelo
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Leonardo_da_Vinci
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Donatello



RECENT POST

  • औषधीय गुणों के साथ रेशम उत्पादन में भी सहायक है, शहतूत की खेती
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     30-10-2020 04:16 PM


  • भारत में लौह-कार्य की उत्पत्ति
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-10-2020 05:43 PM


  • पंजा शरीफ में भी मौजूद है पैगंबर मुहम्मद साहब कदम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     29-10-2020 09:50 AM


  • मोहम्‍मद के जन्‍मोत्‍सव मिलाद से जूड़े अध्‍याय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 09:59 PM


  • कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने में चुनौती साबित हो रहा है जल संकट
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 12:32 AM


  • दशानन की खूबियां
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:38 AM


  • आश्चर्य से भरपूर है, बस्तर की असामान्य चटनी छपराह
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:59 AM


  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id