2021 तक आम लोग भी कर सकेंगे अंतरिक्ष की यात्रा

जौनपुर

 03-10-2019 01:53 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

यदि आप नई-नई जगह घूमने के शौकीन हैं तो आपके लिए एक खुशखबरी है। अब आप अंतरिक्ष में भी घूमने के लिए जा सकते हैं, बस इसके लिए आपको अपनी जेब थोड़ी अधिक ढीली करनी होगी। भारत ने 2021 तक अपने स्वयं के रॉकेट (Rocket) का उपयोग करके लोगों को अंतरिक्ष में भेजने की योजना बना ली है, जिससे अंतरिक्ष अनुसंधान और मिशन का भविष्य काफी रोमांचक होने वाला है। इसके बारे में स्वयं भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष के. सिवन ने 21 सितंबर को बताया है।

साथ ही उन्होंने कहा कि चन्द्रयान-2 के ‘लैंडर विक्रम’ (Lander Vikram) को चंद्रमा की सतह पर धीमी लैंडिग (Landing) कराने की इसरो की योजना बेशक पूरी नहीं हो सकी हो लेकिन इसका ‘गगनयान' मिशन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। वहीं उनका कहना है कि चन्द्रयान-2 का ऑर्बिटर (Orbiter) 7.5 वर्षों तक डेटा देता रहेगा। वैसे अगर देखा जाए तो चंद्रमा मिशन की सभी प्रौद्योगिकियां धीमी लैंडिंग को छोड़कर सटीक साबित हुई हैं। भारत के लिए गगनयान मिशन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह देश की विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षमता को बढ़ाएगा।

अब यदि बात करें अंतरिक्ष पर्यटन की तो यह कुछ नया नहीं है। ब्रैनसन, जिन्होंने विश्व की पहली वाणिज्यिक "स्पेसलाइन (Spaceline)" के रूप में वर्जिन गेलेक्टिक (Virgin Galactic) की स्थापना की, वे कुछ दशकों पहले से ही इसके बारे में बात कर रहे हैं। वर्जिन गेलेक्टिक को पहले ही अपने विमान व्हाइटकेनाइट टू (WhiteKnight Two) और स्पेसक्राफ्ट स्पेसशिप टू (SpaceShip Two) पर उड़ान भरने के लिए 60 देशों के 600 से अधिक लोगों का आरक्षण मिल चुका है। इस वर्ष मई में, ब्रैनसन ने घोषणा की कि वर्जिन गेलेक्टिक के विकास और परीक्षण कार्यक्रम ने पर्याप्त रूप से उन्नति प्राप्त कर ली थी जिस कारण स्पेसलाइन कर्मचारियों और अंतरिक्ष वाहनों को मोजावे, कैलिफोर्निया से स्पेसपोर्ट अमेरिका, न्यू मैक्सिको में अपने वाणिज्यिक परिचालन मुख्यालय में स्थानांतरित किया गया।

स्पेसएक्स (SpaceX) ने पहले ही 2023 तक चंद्रमा के लिए भुगतान की जाने वाली यात्राओं के बारे में बात करना शुरू कर दिया है। लेकिन फिलहाल केवल संपन्न वर्ग के लोग ही इसका टिकट खरीद सकते हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग इसे लेने को तैयार होंगे, या इसकी कीमतें कितनी गिरेंगी क्योंकि प्रत्येक उड़ान की लागत काफी उच्च होगी। लेकिन वास्तविकता में 2019 आखिरकार, वह वर्ष हो सकता है जब अंतरिक्ष पर्यटन का सपना विकसित हो जाएगा। चार अलग-अलग अमेरिकी कंपनियां वर्ष के अंत तक अंतरिक्ष यात्राओं को शुरू कर सकती हैं।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2o4qk26
2. https://bit.ly/2nS257j
3. https://www.wired.co.uk/article/spacex-blue-origin-space-tourism



RECENT POST

  • परिवहन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगी कृत्रिम बुद्धिमत्ता अर्थात AI
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:37 AM


  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id