जौनपुर में व्यवसाय

जौनपुर

 03-04-2017 12:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
व्यक्तियों की मूलभूत ज़रूरतों का निर्वहन होना प्रत्येक देश की आर्थिक अवस्था को प्रदर्शित करता है। रोजगार व जीवनयापन के आँकड़ों को समझने के लिये गाँवों व शहरों का अध्ययन महत्वपूर्ण है। जौनपुर जिले कि पूरी जनसंख्या का 32% भाग किसी ना किसी प्रकार के रोजगार से लाभान्वित है तथा बाकी कि बची 68% की जनसंख्या मे बच्चे, बुज़ुर्ग, या बेरोजगार शामिल हैं। जिले में कृषी रोजगार का मुख्य साधन है जिसे कि करीब 9 लाख लोग करते हैं, बाकी के बचे रोजगार के साधनो मे सरकारी व गैर सरकारी नौकरियाँ, लघु व वृहद उद्योग सम्मिलित हैं, जिनमे कालीन व्यापार, चमड़ा व्यापार, लकड़ी का काम, लोहे का काम, तथा सरकारी नौकरियाँ जिले मे कृषी व्यवसाय के बाद मुख्य हैं।

RECENT POST

  • मोर के जीवन से जुड़े तथ्य और मिथक
    पंछीयाँ

     25-04-2019 07:00 AM


  • क्या सच में थे पौराणिक कथाओं के दो अद्भूत पक्षी गंडबेरुंड और सिमुर्ग़?
    पंछीयाँ

     24-04-2019 07:30 AM


  • क्‍या जौनपुर के लिए पाइप्ड गैस कनेक्शन (Piped Gas Connection) है एक अच्‍छा विकल्‍प?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     23-04-2019 07:00 AM


  • शर्की सल्तनत के समय में जौनपुर और ज़फ़राबाद की शिक्षा प्रणाली और विद्वान
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     22-04-2019 07:39 AM


  • ईस्टर (Easter) के दिन ईश्वर को समर्पित संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-04-2019 06:32 PM


  • क्या सच में अकबर द्वारा सुनाई गयी थी जौनपुर के काजी को मौत की सजा?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     20-04-2019 10:00 AM


  • क्यों मनाया जाता है ईसाई त्यौहार ईस्टर (Easter)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:29 AM


  • श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:08 AM


  • जौनपुर का काजी और जुम्मन की मनोरंजक लोककथा
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-04-2019 12:27 PM


  • जाने सल्तनत काल में किस प्रकार संगठित की जाती थी जौनपुर सरकार
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:08 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.