जौनपुर के पुल पर आधारित किपलिंग की कविता ‘अकबर का पुल’

जौनपुर

 20-06-2019 11:15 AM
ध्वनि 2- भाषायें

रडयार्ड किपलिंग (Rudyard Kipling) ब्रिटिश भारत के प्रसिद्ध लेखकों और कवियों में से एक हैं। ब्रिटिश काल में उन्होनें जंगल बुक (Jungle Book) और अन्य भारतीय कथाओं या उपन्यासों को लिखा। उनके द्वारा लिखी गयी कविताओं में अकबर का पुल (Akbar's Bridge) भी शामिल है। आपके लिये यह जानना रोमांचकारी होगा कि यह कविता वास्तव में जौनपुर के एक पुल पर आधारित है। लगभग 20 साल पहले एक भोपाली फिल्म निर्देशक की लघु फिल्म में भी इस कविता को संदर्भित किया गया था। जौनपुर में गोमती नदी पर बना यह पुल मुगल साम्राज्य की एक महत्वपूर्ण संरचना है। किपलिंग ने जब अकबर के इस पुल को देखा तो इस पुल के निर्माण की रोचक कहानी को जानने के लिये वे बहुत उत्साहित हुए और अंततः इस पुल का इतिहास जानने के बाद उन्होनें इस पुल के निर्माण पर एक कविता लिखी।

इस पुल का निर्माण मुनीम खान (सूबेदार) ने अकबर के आदेशानुसार किया था। कहा जाता है कि अकबर की कोई संतान न होने के कारण उसने पुत्र प्राप्ति के लिये एक मस्जिद बनाने का निर्णय किया ताकि इस भेंट से अल्लाह उस पर खुश हों और उसे उसकी महारानी जोधा बाई द्वारा एक पुत्र की प्राप्ति हो। लेकिन तभी उसे एक विधवा द्वारा यह बात पता चली कि उसके अधिकारी मस्जिद के निर्माण के लिये गरीब कारीगरों और श्रमिकों से जबरन पैसे वसूल रहे हैं। उसने अकबर को कहा कि यदि मस्जिद की जगह लोगों के लिये एक पुल का निर्माण किया जाये तो इससे अल्लाह वास्तव में खुश होगा और इस प्रकार पुल का निर्माण कार्य शुरू किया गया।

इस कविता का अभी तक कोई हिंदी अनुवाद उपलब्ध नहीं है किंतु इसका पहला हिंदी अनुवाद इस लेख में दिया जा रहा है, जो निम्नलिखित है:

JELALUDIN MUHAMMED AKBAR, Guardian of Mankind,
Moved his standards out of Delhi to Jaunpore of lower Hind,
Where a mosque was to be builded, and a lovelier ne’er was planned;
And Munim Khan, his Viceroy, slid the drawings 'neath his hand.

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत के संरक्षक,
अपने मोर्चे को दिल्ली से हटाकर निचले हिंद में जौनपुर की ओर ले गये,
जहाँ एक मस्जिद का निर्माण किया जाना था, इस प्रकार की खूबसूरत योजना पहले नहीं बनाई गई थी;
उनके सूबेदार मुनीम खान ने इस मस्जिद का चित्र स्वयं अपने हाथों से बनाया।

(High as Hope upsheered her out-works to the promised Heavens above.
Deep as Faith and dark as Judgment her unplumbed foundations dove.
Wide as Mercy, white as moonlight, stretched her forecourts to the dawn;
And Akbar gave commandment, "Let it rise as it is drawn")

उनका यह कार्य जन्नत से भी श्रेष्ठ और खुबसूरत था।
इसकी विशाल नींव उनके अटूट विश्‍वास और गूढ़ न्‍याय के समान मज़बूत थी।
दया के रूप में विस्तृत, चांदनी के समान उज्ज्वल, सुबह तक अपनी चांदनी को अग्र प्रांगण में फैलाती थी;
और अकबर ने आज्ञा दी, "जैसा यह चित्रित है वैसा ही इसे बनाया जाए।"

Then he wearied-the mood moving-of the men and things he ruled,
And he walked beside the Goomti while the flaming sunset cooled,
Simply, without mark or ensign-singly, without guard and guide,
Till he heard an angry woman screeching by the river-side.

उसने अपनी प्रजा और उन चीजों जिन पर उसका नियंत्रण था, को स्थानांतरित करने हेतु सोचा,
और वह सूर्यास्त होने पर गोमती नदी के किनारे चल पड़ा,
सरलता से बिना किसी पताका, संरक्षक या मार्गदर्शक के,
तभी उन्होंने नदी के किनारे एक महिला को गुस्से में चिल्लाते हुए सुना।

'Twas the Widow of the Potter, a virago feared and known,
In haste to cross the ferry, but the ferry-man had gone.
So she cursed him and his office, and hearing Akbar's tread,
(She was very old and darkling) turned her wrath upon his head.

वह एक कुम्हार की विधवा थी, जिसकी कर्कश आवाज डरावनी और जानी पहचानी थी
वह नदी पार करने के लिये शीघ्रता से नाव की ओर बढ़ी, किंतु तब तक वह नाविक जा चुका था।
इसलिए वह उस नाविक और उसके कार्य को कोसने लगी और तभी उसने अकबर के कदमों की आवाज को सुना,
(वह बहुत बूढ़ी थी) और उसने अपना क्रोध अकबर पर उतार दिया।

But he answered-being Akbar-"Suffer me to scull you o'er."
Called her "Mother," stowed her bundles, worked the clumsy scow from shore,
Till they grounded on a sand-bank, and the Widow loosed her mind;
And the stars stole out and chuckled at the Guardian of Mankind

लेकिन अकबर ने उसे जवाब दिया कि- "तुम अपने क्रोध को मुझ पर उतार सकती हो।"
अकबर ने उसे माँ बुलाया, उसकी गठरी को बटोरा, एक बेडौल नाव लेकर उसे नदी पार करवायी,
जब तक वे दूसरे तट पर नहीं उतरे, तब तक विधवा अपने होश गंवा चुकी थी;
और अब तक आकाश में तारे आ चुके थे जो इंसानियत के इस संरक्षक पर हँसते प्रतीत हो रहे थे

"Oh, most impotent of bunglers! Oh, my daughter's daughter's brood
Waiting hungry on the threshold; for I cannot bring their food,
Till a fool has learned his business at their virtuous grandma’s cost,
And a greater fool, our Viceroy, trifles while her name is lost!

"ओह, घपलेबाजों के सबसे शक्तिहीन व्यक्ति! ओह, मेरी बेटी की बेटी के बच्चे
दहलीज़ पर भूखे इंतज़ार कर रहे हैं, जिनके लिये मैं उनका भोजन नहीं ले जा सकती
जब तक एक मूर्ख इस बुढ़िया द्वारा अपना काम ठीक से करना ना सीख ले
और एक बड़ा मूर्ख, हमारा सूबेदार, निरर्थक समय बरबाद करता है जब तक कि उसका (महिला) नाम कहीं खो ना जाये!

"Munim Khan, that Sire of Asses, sees me daily come and go
As it suits a drunken boatman, or this ox who cannot row.
Munim Khan, the Owl's Own Uncle-Munim Khan, the Capon's seed,
Must build a mosque to Allah when a bridge is all we need!

“मुनीम खान, जो कि मूर्खों का राजा है, मुझे रोज़ाना यहां आते-जाते देखता है
यह जगह एक शराबी नाविक के तो हित में है, और इस बैल के भी, जो नाव नहीं चला सकता।
मुनीम खान, उल्लू का चाचा-मुनीम खान, वह कायर पुरूष
अल्लाह के लिये एक मस्जिद का निर्माण करना चाहता है जब कि सबको एक पुल की आवश्यकता है!

"Eighty years I eat oppression and extortion and delays-
Snake and crocodile and fever, flood and drouth, beset my ways.
But Munim Khan must tax us for his mosque whate'er befall;
Allah knowing (May He hear me!) that a bridge would save us all!

"अस्सी साल मैं जुल्म और जबरन वसूली सहन कर रही हूं
सांप और मगरमच्छ और बुखार, बाढ़ और सूखा मेरे जीवन का हिस्सा बन गये हैं।
लेकिन मुनीम खान अपनी मस्जिद के लिए हम पर कर लगा रहा है;
अल्लाह जानता है (काश वह मुझे सुन सके) कि पुल का निर्माण हम सभी को मुश्किलों से बचाएगा।"

While she stormed that other laboured and, when they touched the shore,
Laughing brought her on his shoulder to her hovel's very door.
But his mirth renewed her anger, for she thought he mocked the weak;
So she scored him with her talons, drawing blood on either cheek.

जब उसने अधिक क्रोध किया और जब वे किनारे पर पहुंचे,
तो अकबर हंसते हुए उसे अपने कंधे पर उठाकर उसकी झोंपड़ी के दरवाजे पर ले गये।
लेकिन अकबर की खुशी ने उसके गुस्से को और अधिक बढ़ा दिया, क्योंकि उसे लगा कि वह एक निर्बल का मज़ाक उड़ा रहे हैं।
इसलिए उसने अकबर के गाल पर अपने नाखून से खून निकाल दिया।

Jelaludin Muhammed Akbar, Guardian of Mankind,
Spoke with Munim Khan his Viceroy, ere the midnight stars declined-
Girt and sworded, robed and jewelled, but on either cheek appeared
Four shameless scratches running from the turban to the beard.

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत का संरक्षक
अपने सूबेदार मुनीम खान से आधी रात के सितारे ढलने पर बोले
घावों और आभूषणों से लदे थे अकबर, लेकिन दोनों गालों पर
पगड़ी से दाढ़ी तक चार शर्मसार कर देने वाली खरोंचे दिखायी दे रही थीं।

"Allah burn all Potters' Widows! Yet, since this same night was young,
One has shown me by sure token, there was wisdom on her tongue.
Yes, I ferried her for hire. “Yes," he pointed, "I was paid."
And he told the tale rehearsing all the Widow did and said.

“अल्लाह ने सभी कुम्हारों की विधवाओं को क्रोधित किया! मगर इस ही रात में,
एक निश्चित निशानी के द्वारा मुझे एक ऐसी विधवा ने दिखाया गया है, कि उसकी ज़ुबान पर सत्य था।
हां, मैंने किराये पर उसे पार लगाया। "हाँ," उन्होंने कहा, "मुझे भुगतान किया गया।"
और उन्होंने फिर से वही दोहराया जो उस विधवा ने किया और कहा।

And he ended, "Sire of Asses-Capon-Owl's Own Uncle-know
I-most impotent of bunglers-I-this ox who cannot row-
I-Jelaludin Muhammed Akbar, Guardian of Mankind-
Bid thee build the hag her bridge and put our mosque from out
thy mind."

और वह यह कहते हुए चुप हुए कि मूर्खों के महाराज, उल्लू के चाचा, जानो
मैं-घपले बाजों का सबसे शक्तिहीन व्यक्ति हूं, मैं यह बैल हूं जो किसी को पार नहीं लगा सकता।
मैं, जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत का संरक्षक
तुम्हें आदेश देता हूं कि उस औरत के पुल का निर्माण करो।
और हमारी मस्जिद को अपने दिमाग से निकाल दो।"

So 'twas built, and Allah blessed it; and, through earthquake, flood, and sword,
Still the bridge his Viceroy builded throws her arch o'er Akbar's Ford!

इस प्रकार इसका निर्माण हुआ और अल्लाह ने इसे आशीर्वाद दिया और भूकंप, बाढ़ और युद्ध से ग्रसित होने के बाद भी उनके सूबेदार ने इस पुल का निर्माण किया जिस पर अकबर के किले के समान मेहराब बनाये गये हैं!

संदर्भ:

1. https://bit.ly/2WPEsHH
2. https://ww w.poetryloverspage.com/poets/kipling/akbars_bridge.html


RECENT POST

  • एक्यूमेनोपोलिस (Acumenopolis) की अवस्था में कैसी दिखेगी धरती?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     23-10-2019 01:09 PM


  • शीतला चौकिया धाम में बसी जौनपुर की आस्था
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-10-2019 10:00 AM


  • बिजली के खर्च को कैसे करें कम?
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     21-10-2019 11:53 AM


  • किस पदार्थ को कितना समय लगता है विघटित होने में
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     20-10-2019 10:00 AM


  • शिकार के अभाव में मानव भक्षी बनता तेंदुआ
    स्तनधारी

     19-10-2019 11:47 AM


  • क्यों होता है समुद्री पानी नमकीन
    समुद्र

     18-10-2019 10:51 AM


  • जौनपुर का त्रिलोचन महादेव मंदिर है शिव भक्ति का केंद्र
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-10-2019 10:42 AM


  • खाद्य सुरक्षा और कृषि सहकारी का आपस में संबंध
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     16-10-2019 12:31 PM


  • अधिकतर अनुष्ठानों में उपयोग किये जाते हैं खील, बताशे, और खिलौने
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-10-2019 12:29 PM


  • खरोष्ठी लिपि का इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-10-2019 02:43 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.