जौनपुर का ऐतिहासिक ‘जौनपुर क्लब था पहले इंग्लिश क्लब’

जौनपुर

 13-06-2019 10:35 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

ब्रिटिश भारत में कई ऐसी चीजों की स्थापना हुई जिससे भारतियों को काफी फायदा हुआ, जिनमें से एक जिमखाना भी है। जिमखाना एक प्रकार का सामाजिक क्लब (Club) होता है जिसका इतिहास ब्रिटिश औपनिवेशिक काल तक जाता है और इसमें आमतौर पर टेनिस (Tennis) और बैडमिंटन कोर्ट (Badminton Court), और बिलियर्ड्स (Billiards) आदि के खेल के लिए कमरे और एक भोजन कक्ष होता है और यह स्थानीय अभिजात वर्ग के मिलने-जुलने की जगह होती है। जिमखाना में हर कोई प्रवेश नहीं कर सकता है। इसमें प्रवेश करने के लिए सदस्यता लेनी पड़ती है, जिसका मूल्य काफी अधिक होता है, इसलिए यहाँ सिर्फ अभिजात वर्ग के लोग ही जा सकते हैं।

भारत के कई विभिन्न शहरों में विद्रोह से पहले कुछ बहुत भव्य क्लबों की स्थापना की गई थी, क्लबों से पहले एक शहर में सभा के लिए बैठक स्थल गिरजाघर और कॉफी-शॉप (Coffee Shop) हुआ करते थे। जौनपुर में भी एक ऐतिहासिक क्लब ‘इंग्लिश क्लब’ (English Club) है। इस क्लब की स्थापना सन्‌ 1879 में हुई और इसमें उस समय कुछ ख़ास भारतियों जैसे बाबू त्रिभुवन सहाय इत्यादि को ही आने की इजाज़त थी वरना मुख्यतया अंग्रेज़ ओहदेदार यहां बैडमिंटन, टेबल टेनिस इत्यादि खेलने के लिए आया करते थे। यहां पर एक स्विमिंग पूल (Swimming Pool) भी हुआ करता था जिसमें पानी वहाँ के एक कुऐ से लाया जाता था।

वर्तमान में यहाँ टेबल टेनिस रूम, कुआँ और एक मस्जिद का वजूद बचा है। विरासत इमारत होने के कारण इसे तोड़ा नहीं जा सकता है, जबकि इसको आगे बढ़ाया जा सकता है। कुछ का कहना है कि इस क्लब में मौजूद मस्जिद को किसी मुस्लिम अंग्रेज कलेक्टर ने नमाज़ पढ़ने के लिए बनवाया था जबकि लखौरी ईंट की बनी होने के कारण यह अनुमान लगाया जाता है कि यह मस्जिद पहले से बनी हुई थी जिसका इस्तेमाल वहाँ के मुसलमान अधिकारी नमाज़ पढ़ने के लिए किया करते थे। भारत की स्वतंत्रता के बाद 1952 में इसका नाम इंग्लिश क्लब से बदल के ‘जौनपुर क्लब’ रख दिया गया और इसके क़ानून इत्यादि में भी बदलाव किया गया।

जौनपुर में जौनपुर क्लब के अलावा और कई अन्य क्लब भी मौजूद हैं, जिनमें से एक जौनपुर गोमती लायंस क्लब (Jaunpur Gomti Lions Club) और एक रोटरी क्लब ऑफ जौनपुर (Rotary Club of Jaunpur) है। जौनपुर गोमती लायंस क्लब हर दिन स्थानीय लोगों की जरूरतों को पूरा करता है क्योंकि वे समुदाय की सेवा करने में विश्वास रखते हैं। इस क्लब की स्थापना दृष्टिहीनता को दूर करने के लिए 1917 में की गई थी। नेत्र रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के साथ-साथ ये दृष्टि स्क्रीनिंग (Vision Screening) का आयोजन, अस्पतालों और क्लीनिकों में दवा वितरित करना आदि कार्य करते हैं। इसके अलावा ये पर्यावरण की देखभाल, भूखे और ज़रूरत मंद वरिष्ठों और विकलांगों को भोजन भी देते हैं।

संदर्भ :-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Gymkhana
2. https://www.youtube.com/watch?v=Oc8AU4Ez43Y
3. https://www.hamarajaunpur.com/2018/06/blog-post.html
4. https://www.e-clubhouse.org/sites/jaunpurgomti/
5. https://www.facebook.com/Rotary-Club-Of-Jaunpur-700932746628743/
6. https://www.openthemagazine.com/article/essay/class-race-and-the-colonial-clubs-of-india
7. http://www.bonvoyageurs.com/2014/02/08/delhi-gymkhana-club/



RECENT POST

  • खाद्य यादों में सभी पांच इंद्रियां शामिल होती हैं, इस स्मृति को बनाती समृद्ध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:17 AM


  • जौनपुर सहित यूपी के 6 जिलों से गुज़रती पवित्र सई नदी, क्यों कर रही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष?
    नदियाँ

     25-05-2022 08:18 AM


  • जंगलों की मिटटी में मौजूद 500 मिलियन वर्ष पुरानी विस्तृत कवक जड़ प्रणालि, वुड वाइड वेब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:38 AM


  • चंदा मामा दूर के पे होने लगी खनिज संसाधनों के लिए देशों के बीच जोखिम भरी प्रतिस्पर्धा
    खनिज

     23-05-2022 08:47 AM


  • दुनिया का सबसे तेजी से उड़ने वाला बाज है पेरेग्रीन फाल्कन
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:53 PM


  • क्या गणित से डर का कारण अंक नहीं शब्द हैं?भाषा के ज्ञान का आभाव गणित की सुंदरता को धुंधलाता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:05 AM


  • भारतीय जैविक कृषि से प्रेरित, अमरीका में विकसित हुआ लुई ब्रोमफील्ड का मालाबार फार्म
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:57 AM


  • क्या शहरों की वृद्धि से देश के आर्थिक विकास में भी वृद्धि होती है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:49 AM


  • मिट्टी से जुड़ी हैं, भारतीय संस्कृति की जड़ें, क्या संदर्भित करते हैं मिट्टी के बर्तन या कुंभ?
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:49 AM


  • भगवान बुद्ध के जीवन की कथाएँ, सांसारिक दुःख से मुक्ति के लिए चार आर्य सत्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id