सूरीनाम देश का बैथक गण संगीत है भारतीय

जौनपुर

 19-05-2019 10:00 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

रामदेव चैतो और उनका लोकप्रिय संगीत पूर्वी यूपी, बिहार और दक्षिण अमेरिका के बीच एक 150 साल पुराना संबंध रखता है, जब गिरमिटिया मजदूर यहां से दक्षिण अमेरिका और पश्चिम देशों में ब्रिटिश औपनिवेशिक कृषि श्रमिकों के रूप में चले गए थे।

कासेको (Kaseko) शब्द संभवतः फ्रांसीसी अभिव्यक्ति कैसर ले कॉर्प्स (French expression casser le corps )(जिसका अर्थ शरीर को तोड़ना है) से लिया गया है, जिसका उपयोग गुलामी के दौरान बहुत तेज नृत्य को इंगित करने के लिए किया गया था। कासेको यूरोप, अफ्रीका और अमेरिका से प्राप्त कई लोकप्रिय और लोक शैलियों का एक संलयन है। यह तालबद्ध रूप से जटिल है, जिसमें स्कर्तजी (Skratji) (एक बहुत बड़ा बास ड्रम) और स्नेयर ड्रम (Snare drums), साथ ही साथ सैक्सोफोन (Sexophone) , तुरही (trumpet ) और कभी-कभी ट्रॉम्बोन (Trombone) सहित ताल वाद्य यंत्र हैं। गायन एकल और गाना बजानेवालों दोनों का हो सकता है। गाने आम तौर पर कॉल-एंड-रिस्पांस (Call and Response) होते हैं, जैसे किवाना क्षेत्र से क्रेओल लोक शैली है।


कासेको पारंपरिक एफ्रो-सूरीनाई कवीना संगीत (Afro-Surinamese kawina music) से उभरा, जो कि 1900 की शुरुआत में पारामारिबो में एफ्रो-सूरीनामी के स्ट्रीट संगीतकारों (Afro-Surinamese street musicians) द्वारा इस्तेमाल किया गया था। यह 1930 के दशक में उत्सव के दौरान विकसित हुआ जिसमें बड़े बैंड, विशेषकर पीतल के बैंड का इस्तेमाल किया गया था, और इसे बिग पोकी (बड़ा ड्रम संगीत) कहा जाता था। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, जैज (jazz), कैलीप्सो (calypso) और अन्य विधाएं लोकप्रिय हो गयी, जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका से रॉक एंड रोल (Rock and Roll) ने जल्द ही विद्युतीकृत उपकरणों के साथ अपना प्रभाव छोड़ा।

सूरीनाम में भारतीय संगीत दक्षिण एशिया के प्रवासियों के साथ पहुंचा। इसमें मूल रूप से धंतल, तबला, सितार, हारमोनियम और ढोलक के साथ बजने वाले लोक संगीत शामिल थे, बाद में तस्मा ड्रम भी शामिल हो गया था। संगीत में ज्यादातर हिंदू गाने थे जिन्हें भजन कहा जाता था, साथ ही कुछ गाने फिल्मी भी थे। टैन गायन शैली सूरीनाम और गुयाना में भारतीय समुदाय के लिए अद्वितीय है।


सूरीनाम में रिकॉर्ड किया गया भारतीय संगीत रामडीव चैतो द्वारा 1958 में द स्टार मेलोडीज़ ऑफ़ द रामदेव चैतो की रिलीज़ के साथ शुरू हुआ। (रामडीव चैतो एक सूरीनाम के कलाकार और हारमोनियम वादक थे, जिन्होंने 1976 में द किंग ऑफ सूरीनाम उर्फ द स्टार मेलोडीज ऑफ द रामडीव चैतो के नाम से एक बैथक गण एल्बम जारी किया था।) चैतो बहुत लोकप्रिय हो गए (उनका संगीत, जो स्वभाव से धार्मिक था) ने भविष्य के कलाकारों पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा। हालाँकि, 1968 तक चैत्य के बाद कोई भी बहुत सफल नहीं हुआ, जब द्रोपती ने लेट्स सिंग एंड डांस (Let’s Sing And Dance) जारी किया, जो धार्मिक गीतों का एक एल्बम था, जो आज भी बेहद लोकप्रिय है।


सन्दर्भ:
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Ramdew_Chaitoe
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Music_of_Suriname
3. https://www.youtube.com/watch?v=Ozpxo-y56iA
4. https://www.youtube.com/watch?v=_71WH_zfzhE&feature=youtu.be
5. https://www.youtube.com/watch?v=jajJ6HnmjnY
6. https://www.youtube.com/watch?v=jSLcOboQVDM



RECENT POST

  • लुप्त होता भारत का प्राचीन खेल गिल्ली डंडा
    हथियार व खिलौने

     19-09-2019 11:52 AM


  • फसलों के प्रति स्यूडोमोनस बैक्टीरिया का दोहरा स्वभाव
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     18-09-2019 11:02 AM


  • जौनपुर की इमरती से मिलती–जुलती मिठाई है जलेबी
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-09-2019 11:02 AM


  • कई जानकारियां प्राप्त हो सकती हैं एक डीएनए परीक्षण से
    डीएनए

     16-09-2019 01:27 PM


  • आखिर क्यों मनाया जाता है, अभियन्ता (इंजीनियर्स) दिवस
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:00 PM


  • जौनपुर में भी हुआ था सत्ता के लिए लोदी राजवंश में संघर्ष
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:00 AM


  • जौनपुर में फव्वारे लगाने से बढ़ सकती है शहर की शोभा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-09-2019 01:32 PM


  • जौनपुर से गुजरने वाली गोमती नदी में भी पायी जाती हैं, शार्क मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैमरा ऑब्स्क्योरा के द्वारा बनाया गया था 1802 में अटाला मस्जिद का छायाचित्र ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 04:24 PM


  • मोहर्रम की प्रचलित प्रथा है ततबीर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:15 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.