श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद

जौनपुर

 18-04-2019 11:08 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

श्रमण परम्परा से तात्पर्य उन महत्वपूर्ण प्रतिकात्मक धारणाओं तथा व्यवहार से है ,जिसे विभिन्न समाज तथा समूह ने आगे बढाया । श्रमण एक प्राचीन धार्मिक आन्दोलन था जो एक वैदिक धर्म की शाखा के रूप में उभरा जिसने साथ ही साथ कई अन्य धार्मिक आन्दोलन जैसे जैन तथा बौद्ध धर्म को भी जन्म दिया । श्रमण का अर्थ ‘साधक’ से है जिसकी शूरूआत 800-600 ईसा पूर्व में हुई । एक दार्शनिक समूह द्वारा ब्राहमण समाज की धारणाओं को न मानते हुए अध्यात्मिक स्वतंत्रता के मार्ग को प्रदर्शित किया गया ।

बौद्ध तथा जैन धर्म में हमे कई समानताएं देखने को मिलती है । महावीर और बुद्ध समकालीन थे लेकिन दोनों शिक्षकों के मिलने का कोई प्रमाण नहीं मिलता। लेकिन महावीर के शिष्यों द्वारा बुद्ध से पूछे गये प्रश्नों का प्रमाण उनके सूत्र पीटक में मिलता है । बौद्ध धर्म ग्रंथ में यह प्रमाण भी मिलता है कि कुछ पहले अनुयायी वास्तव में जैन थे जो "रूपांतरित" हुए, लेकिन बुद्ध द्वारा उनकी जैन पहचान और प्रथाओं को बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित किया गया जैसे कि भिक्षा देना। वैशाली की बात की जाये तो यह वह जगह है जहाँ बुद्ध ने अपने अंतिम उपदेश का प्रचार किया और जहां महावीर का जन्म हुआ था। समकालीन, इतिहासकारों से हमे यह भी पता चलता है की दोनों राजा बिम्बिसार से मिले थे।

बौद्ध और जैन धर्म में सामान्य शब्द
• श्रमण
• निर्वाण
• अरिहंत
• धम्म (संस्कृत: धर्म)
• आचार्य (आदेशों के प्रमुख)
• सूत्र (संस्कृत: सूत्र) (शास्त्र)
• इंद्र / शंकर (देवताओं के प्रमुख)

विभिन्न अर्थों के साथ उपयोग किए जाने वाले शब्द:
• पुद्गल
• सिद्ध

सामान्य प्रतीक:
• प्रतिमा, पद चिन्ह
• स्तूप
• धर्म-चक्र
• स्वस्तिक
• त्रिरत्न
• अष्ट-मंगल

निष्क्रिय जीवन
जैन धर्म में भिक्षुओं के लिए निष्क्रिय जीवन आवश्क था। बौद्ध धर्म में, चीन, जापान, कोरिया और वियतनाम में भिक्षु शाकाहारी थे, हालांकि सख्त शाकाहार की आवश्यकता नहीं थी। मठ परम्परा के अनुसार भीख मांगते समय भिक्षु वह सब ग्रहण कर सकता है जो उसके कटोरे में मौजूद हो, परन्तु यदि भिक्षु जानते थे कि उनके लिए विशेष रूप से एक जानवर को मार दिया गया है या उन्होंने जानवर को मार डाला है तो दिए गये मांस को खाने की मनाही थी। सामान्य तौर पर, बौद्ध धर्म में जीवित प्राणियों को मारने का इरादा आम था , जबकि जैन इसकी उपेक्षा करते थे और सभी हत्याओं से बचते थे।

कुछ और अन्य समानतायें
हमे दोनों ही धर्मो में कोई रचनाकार या इश्वर का प्रमाण नहीं मिलता।जैन तथा बौद्ध धर्म के अनुसार महावीर तथा बौद्ध दोनों ही धर्म के संस्थापक नही थे बल्कि सत्य के खोजकर्ता थे ।
5 उपदेश
• अहिंसा
• सत्य
• ब्रह्मचर्य
• अस्तेय (चोरी न करना)
• जैन धर्म में पाँचवाँ उपवाक्य है अपरिग्रह गैर-भौतिकवाद, भौतिक चीज़ों के प्रति अनासक्ति।बौद्ध धर्म में पाँचवाँ उपदेश नशीले पेय और नशीले पदार्थों से परहेज़ है जो लापरवाही की ओर ले जाते हैं।

चौथी सभा
महावीर तथा बुद्ध ने भिक्षुओं, ननों, पुरुषों को रखने और महिलाओं को रखने के लिए चौगुनी सभा की स्थापना की।

वृक्ष
जैन धर्म में पौधों को जीवन शक्ति और आत्मा माना जाता है। बाद में बौद्ध शिक्षाओं में एक स्पष्ट रेखा खींची गई थी जहाँ बौद्ध ब्रह्मांड विज्ञान में मनुष्य, पशु, देव और अन्य खगोलीय प्राणी शामिल थे, लेकिन पौधे नहीं थे। हालांकि, कुछ संकेत हैं कि यह बाद का विकास हो सकता है और प्रारंभिक बौद्धों ने पौधों को कुछ हद तक भावुक और असंवेदनशील के बीच का सीमावर्ती मामला माना। जैन धर्म और बौद्ध धर्म दोनों के अनुसार, पौधे एक-संकाय (काइइंड्रिया, जिविटाइंड्रिया) हैं अल्पविकसित जीवन का एक रूप। वैज्ञानिक अनुसंधान है जो पौधों में न्यूरोबायोलॉजी और संभावित संवेदना के कुछ संभावित सबूत दिखा रहा है।

निष्कर्ष
जब हम बुद्ध और महावीर या फिर बौद्ध और जैन धर्म के बीच समानता की तुलना करते हैं, तो यह संभव है कि शुरुआती बौद्ध धर्म में मतभेद कम थे। उदाहरण के लिए, बौद्ध धर्म ने अहिंसा पर कम जोर दिया, क्योंकि बौद्ध लेखन में देखा जा सकता है कि मांस खाने को जायज ठहराया जाता था । यह संभव है कि शुरुआती बौद्ध लोग शाकाहार पर अधिक जोर देते थे क्योंकि इसके अतिरिक्त राजा अशोक भी थे जो भोजन के लिए जानवरों की हत्या को धीरे-धीरे समाप्त करना चाहते थे।

सन्दर्भ:
1. https://bit.ly/2Pi1HYN
2. https://bit.ly/2KNGEyH



RECENT POST

  • अन्नदाता कहे जाते है नोबेल पुरस्कार विजेता- नॉर्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Norman Ernest Borlaug)
    बागवानी के पौधे (बागान)

     23-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक शानदार वन्य जीव - बारहसिंगा
    स्तनधारी

     22-05-2019 10:30 AM


  • फिजी भेजे गए थे भारत से लाखों गिरमिटिया श्रमिक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-05-2019 10:30 AM


  • संक्षेप में भार‍तीय क्रिकेट का क्रमिक इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     20-05-2019 10:30 AM


  • सूरीनाम देश का बैथक गण संगीत है भारतीय
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में रोजगार सृजन की कुंजी हो सकती है कृषि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     18-05-2019 09:30 AM


  • कृषि कैसे भारत के आर्थिक विकास में है सहायक?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • भारत में उर्दू साहित्य का भविष्य पतन की ओर हो रहा अग्रसर
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक दुर्लभ पक्षी हरगीला
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • मुस्लिम देश इंडोनेशिया की डाक टिकटों में रामायण की छाप
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.