जलियांवाला बाग हत्याकांड का गांधी जी पर प्रभाव

जौनपुर

 12-04-2019 07:00 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

13 अप्रैल 1919 जलियांवाला बाग हत्याकांड जिसे अमृतसर हत्याकांड के नाम से भी जाना जाता है, इस घटनाक्रम ने राष्ट्रव्यापी रूप में सभी पर एक गहरा प्रभाव छोड़ा और साथ ही इस हत्याकांड का महत्वपूर्ण प्रभाव महात्मा गाँधी पर भी हुआ। इस हत्याकांड के बाद उन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ कई ठोस कदम उठाए। जलियांवाला बाग हत्या कांड ने भारतीय राष्ट्रवादियों को स्वतंत्रता के मार्ग पर ला खड़ा कर दिया था।

प्रथम विश्व यूद्ध के दौरान महात्मा गांधी ने भारत के लिए आंशिक स्वायत्तता जीतने की उम्मीद में सक्रिय रूप से अंग्रेजों का समर्थन किया था, लेकिन अमृतसर हत्याकांड के बाद वह आश्वस्त हो गए कि भारत को पूर्ण स्वतंत्रता के अतिरिक्‍त और कुछ भी स्वीकार नहीं करना चाहिए। शुरुआत में अमृतसर में हुए जलियांवाला हत्याकांड की खबर महात्मा गाँधी को तीन प्रमुख स्त्रोतों से प्राप्त हुई जोकि काफी मिश्रित रूप में थी। पूरे एक महीने बाद घटना की जानकारी स्पष्ट होने पर उन्होंने सत्याग्रह सम्मेलन का आयोजन करवाया तथा साथ ही उन्होंने वायसराय (Viceroy) से पंजाब में अशांति मार्शल लॉ के प्रशासन और मार्शल लॉ ट्रिब्यूनल (Martial law tribunal) द्वारा पारित किए गए वाक्यों को संशोधित करने के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच की मांग की।

ऐसा प्रतीत होता है कि रवींद्रनाथ टैगोर को गांधी जी से पहले पंजाब के हत्याकांड के बारे में सारी जानकारी प्राप्त हो चुकी थी। 7 जून से पहले ही यंग इंडिया (Young India) में उनके द्वारा नाइटहुड (Knighthood) की उपाधि को त्यागने का पत्र प्रकाशित हो चुका था। 21 जुलाई को जब महात्मा गांधी जी ने रौलट एक्ट (Rowlatt act) के खिलाफ नागरिक अवहेलना को रोका तब उन्होंने केवल किचलू और सत्यपाल के खिलाफ किए गए कानूनी मुकदमें के बारे में अपनी जानकारी का वर्णन किया। अप्रैल से जुलाई तक के मूलपाठ से संकेत मिलता है कि 1919 के अगस्त महीने तक पंजाब के "भयावह घटना” की जानकारी उन्हें बहुत कम थी। जब महात्मा गांधी को पंजाब में प्रवेश करने से रोकने वाले प्रतिबंधात्मक आदेश को 15 अक्टूबर को वापस ले लिया गया। वह तुरंत लाहौर गए और वहां उनका विशाल अभिनंदन किया गया। 4 नवंबर को उन्होंने जलियांवाला बाग का दौरा किया। साथ ही वे बार-बार जांच की प्रगति पर अपनी राय व्यक्त कर रहे थे ।

वायसराय को भेजे हुए अपने पत्र के दो महीने बाद गांधी जी ने ब्रिटिशों पर अपनी रुचि को छोड़ दिया और मानेकत्रिपुन्नम (अश्विन की पूर्ण रात्रि) की तीर्थयात्रा में भाग ले लिया। इस बात पर कोई संदेह नहीं है कि 1919 की घटनाओं के बाद गांधी जी में काफी बदलाव आ गया था। इसके अलावा गांधी जी का अंग्रेजों के प्रति अपने दृष्टिकोण में भी काफी बदलाव आ गया था।

संदर्भ :-

1. https://www.mytutor.co.uk/answers/6269/A-Level/History/How-significant-was-the-Amritsar-Massacre/


RECENT POST

  • अन्नदाता कहे जाते है नोबेल पुरस्कार विजेता- नॉर्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Norman Ernest Borlaug)
    बागवानी के पौधे (बागान)

     23-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक शानदार वन्य जीव - बारहसिंगा
    स्तनधारी

     22-05-2019 10:30 AM


  • फिजी भेजे गए थे भारत से लाखों गिरमिटिया श्रमिक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-05-2019 10:30 AM


  • संक्षेप में भार‍तीय क्रिकेट का क्रमिक इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     20-05-2019 10:30 AM


  • सूरीनाम देश का बैथक गण संगीत है भारतीय
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में रोजगार सृजन की कुंजी हो सकती है कृषि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     18-05-2019 09:30 AM


  • कृषि कैसे भारत के आर्थिक विकास में है सहायक?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • भारत में उर्दू साहित्य का भविष्य पतन की ओर हो रहा अग्रसर
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक दुर्लभ पक्षी हरगीला
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • मुस्लिम देश इंडोनेशिया की डाक टिकटों में रामायण की छाप
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.