वाशिंगटन डीसी के म्यूजियम में भी देखे जा सकते हैं भारतीय कालीन

जौनपुर

 08-04-2019 07:30 AM
स्पर्शः रचना व कपड़े

भारतीय चित्रकला में मुगल लघु चित्रशैली एक महत्वपूर्ण स्थान रखती है। मुगल शैली से भारत में प्रगतिशील तत्वों का प्रवेश हुआ जिसने चित्रकला के क्षेत्र में काफी उन्नति की थी। अकबर और जहाँगीर के शासनकाल में भारत के कालीन निर्माण में फ़ारसी कला का प्रभाव स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अमेरिका(America) के वाशिंगटन डीसी (Washington D.C.) के टेक्सटाइल म्यूजियम (Textile Museum) तथा नेशनल गैलरी (National Gallery) में भी ऐसे कालीन मौजूद हैं।

भारतीय कालीन का इतिहास भारत में मुगल वंश(1526-1858) से काफी निकटता रखता है। भारत में कालीन का उपयोग काफी जीवंत और तीव्र रहा है, हालांकि मुख्य रूप से मौसमी कारणों की वजह से कालीनों का उपयोग इतना व्यापक रूप से नहीं किया गया। भारतीय करघों पर बुने हुए कालीनों के प्रकारों में हम स्पष्ट रूप से हेरात में बने फ़ारसी प्रतिरूप की झलक देख सकते हैं, लेकिन उनके रंगों में मूल डिज़ाइन (Design) का पालन नहीं किया जाता था।बल्कि पुष्प-सम्बंधित तथा पशु-सम्बंधित रूपांकन से बने इंडो पर्शियन(Indo-Persian) कारपेट का उदहारण मिलता है। मुगल कारीगरों द्वारा विकसित कि गई इस शैली में पर्शियन(Persian) रूपांकन के पारंपरिक चित्रण से भिन्न प्राकृतिक विभक्ति का उदाहरण ज्यादा मिलता है।

कालीन का स्वर्ण युग जहाँगीर के शासनकाल में विकसित हुआ , उनके शासनकाल में कालीन में प्राकृतिक रूप से प्रचुर पुष्प शैली का उपयोग किया गया। इन कालीनों की मूल कला पर्शियन कालीनों से प्रेरित थी परन्तु उसके साथ और उन्हें सुंदर फूलों की कलियों (गुलाब, बकाइन, बेलफ्लॉवर (Bellflowers), बनफशा, लिली (Lily)) और जंगली जानवरों (मगरमच्छ, बाघ, गैंडे, हाथी, साथ ही ड्रेगन (Dragons)) से अलंकृत किया गया था। यह शैली अगले सम्राट शाहजहाँ के समय तक परिपक्वता के अपने चरम पर पहुंच गई। शाहजहाँ के शासनकाल के दौरान कई शानदार कालीनों का निर्माण किया गया था।

तकनीकी रूप से भारतीय कालीन काफी उत्कृष्ट हैं और इसमें इस्तेमाल की जाने वाली फारसी गाँठ एक बहुत ही उच्च घनत्व वाली होती है, जिसकी लंबाई लगभग 12,000 से 19,000 गाँठे प्रति वर्ग डेसीमीटर (Decimeter) होती है। इन कालीनों में इस्तेमाल किए जाने वाला ऊन अक्सर इतना पतला होता है कि इसे रेशम के लिए भी लिया जा सकता है। रेशम के कालीन दुर्लभ होते हैं और अत्यधिक उच्च गाँठ घनत्व तक फैलते हैं।

वहीं ज्यामितीय पैटर्न पर बने हुए कालीन आमतौर पर बेहतर होते हैं। एक ज्यामितीय योजना से बनी कालीन उसके डिजाईन को क्रमिक रूप से प्रकट करती है और उसके बनावट को एक विचार देती है। पैनल पैटर्न (Panel Patterns) को सावधानी से प्रबंधित ना किए जाने पर वे मोटे हो जाते हैं। भारत के कालीन रंग-सामंजस्य से परिपूर्ण और खिले हुए होते हैं और वे धूप में फूलों के बिस्तर के समान चमकते हैं। भारतीय कालीन को लंदन(London) के भारतीय कार्यालय की इमारत व्हाइटहॉल (Whitehall) के संग्रहालय में देख सकते हैं, यह संग्रहालय जनता के लिए खुला है।

टेक्सटाइल म्यूजियम में 17 वीं शताब्दी का 82 x 88 सेमी के आकार का कालीन देख सकते हैं। जिसमें लाल पृष्ठभूमि के ऊपर दो बड़े हाथियों की अत्यंत प्राकृतिक लड़ाई के चित्र को दर्शाया गया है। कालीन के डिजाइन में हाथियों का समावेश भारतीय कलात्मक अभिव्यक्ति की एक विशिष्ट आकृति पहिचान है, और गाँठ वाले कालीनों के उत्पादन में आसानी से पहचाने जाने योग्य प्रतीक का प्रतिनिधित्व करता है। यह कालीन शिल्प कौशल की गुणवत्ता, बहुत स्पष्ट रूप से परिभाषित डिज़ाइन, उपयोग किए गए उत्कृष्ट ऊन और उज्ज्वल रंगों के कारण बहुत आकर्षित दिखता है।

नैशनल गैलरी, वाशिंगटन (National Gallery, Washington) में 180 x 300 सेमी के आकार वाली प्राकृतिक और फूलों की सजावट से डिजाइन की गई 17 वीं शताब्दी की कालीन है। इस कालीन में सटीक पैटर्न के साथ व्यवस्थित जानवरों के डिजाइनों की एक श्रृंखला है। लाल पृष्ठभूमि के साथ विभिन्न सुंदर फूल और फूलों की टहनियां है और वहीं कई जानवरों को चित्रित किया गया है। वहीं विवरण में एक आदमी को एक बड़े हाथी के ऊपर चढ़ा हुआ दिखाया गया है।

संदर्भ :-
1.https://bit.ly/2G7iURR

2. Curatola Giovanini, Oriental Carpets, Simon &Schuster A Division of Gulf and Western Corporation, 1982
3. चित्र सन्दर्भ;-https://in.pinterest.com/pin/605734218603896182/?lp=true


RECENT POST

  • अन्नदाता कहे जाते है नोबेल पुरस्कार विजेता- नॉर्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Norman Ernest Borlaug)
    बागवानी के पौधे (बागान)

     23-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक शानदार वन्य जीव - बारहसिंगा
    स्तनधारी

     22-05-2019 10:30 AM


  • फिजी भेजे गए थे भारत से लाखों गिरमिटिया श्रमिक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-05-2019 10:30 AM


  • संक्षेप में भार‍तीय क्रिकेट का क्रमिक इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     20-05-2019 10:30 AM


  • सूरीनाम देश का बैथक गण संगीत है भारतीय
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में रोजगार सृजन की कुंजी हो सकती है कृषि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     18-05-2019 09:30 AM


  • कृषि कैसे भारत के आर्थिक विकास में है सहायक?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • भारत में उर्दू साहित्य का भविष्य पतन की ओर हो रहा अग्रसर
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक दुर्लभ पक्षी हरगीला
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • मुस्लिम देश इंडोनेशिया की डाक टिकटों में रामायण की छाप
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.